Entertainment news Updates

Movie Review: Tera Intezaar has a jumbled plotline that lacks logic and fails to connect

Friday, December 1 2017

Movie Review: Tera Intezaar has a jumbled plotline that lacks logic and fails to connect

While a horde of films of Sunny Leone released in 2016 like MASTIZAADE, ONE NIGHT STAND, BEIIMAAN LOVE, in 2017 the actress was often spotted only in special dance numbers in some popular films. However, this time around, resuming her role as a lead actress, Sunny Leone is expected to scorch the screens with Arbaaz Khan in TERA INTEZAAR. With a new pairing on board, let's find out if the film manages to entice the audience or not. The story revolves around Raunak [Sunny Leone] who is on a desperate hunt for the love of her life Veer [Arbaaz Khan] who has been missing from two days. In a bid to find him, Raunak comes across a form of an exorcist [Sudha Chandran] who is referred to her by her sister and brother-in-law [Hanif Noyda]. Raunak goes on to reveal all the details about her story to the exorcist, about how she came across Veer who is a painter and had made her painting even before she met him. As they fall in love amidst beachy locations, Raunak being a gallery owner who also organizes exhibitions, expresses her desire to exhibit Veer’s paintings to the world. To crack a deal she sets up his meeting with her gallery’s permanent clients Vikram [Arya Babbar] who does business with his partners who are his girlfriend Alina [Bhani Singh] and Bobby [Salil Ankola]. Veer, who doesn’t want his work to be misused, quite reluctantly decides to show one of his works to the business partners headed by Vikram but this only leads to further drama in Raunak’s life. A sudden attack by the partners, who become greedy to acquire all of Veer’s works that are apparently worth millions, leaves Raunak unconscious after which Veer goes missing. The rest of the film revolves around Raunak’s desperate attempt to find the truth behind Veer’s mysterious disappearance and also the disappearance of Vikram and his business partners. With scenic locations as a backdrop for musicals and the sexy scenes of Sunny Leone, the story written by Anwarullah Khan is too dishevelled. While the screenplay written by Raajeev Walia in the first half is haphazard, the second half looks half-baked. The editing [again by Raajeev Walia] ruins the experience of watching the film as many scenes seem disconnected from each other. In an attempt to show two parallel tracks simultaneously, one where the four business partners are stranded in a jungle where they encounter bizarre experiences, and on the other, Sunny Leone aimlessly running and roaming around the streets, the scenes fail to establish a connection within the first half hour leaving one extremely confused. Although the makers attempted to create a good amount of suspense in the plot, they have failed to retain logic in the story. The film also deals with a few supernatural elements and a series of twists that forms the climax. But it just seems unbelievable and has multiple loopholes. The direction [Raajeev Walia] fails to impress. The titillating scenes are few and fail to ignite the required romance on screen. They look forced in a desperate attempt to act as a crowd puller. The dialogues aren’t impactful and are unintentionally funny. The film also tries to switch between genres ranging from love story to action to horror but fails to hook you to the story. Talking about performances, the main leads Arbaaz Khan and Sunny Leone try their best but fail to portray any chemistry. Sunny Leone’s performance is decent and she does a fair job considering that the role is quite different from her previous films. Arbaaz Khan too manages to do a decent job but his character is quite blurry. Arya Babbar, Bhani Singh and other actors seem to be a part of ‘ham-fest’ whereas Sudha Chandran’s role in the film seems to have taken a cue or two from her daily drama TV soaps. Not giving out too many details, TERA INTEZAAR that tries to be a love story is set against the backdrop of ‘supernatural’ elements and hence has also tried to make use of VFX. It fails however miserably to say the least. The cinematography by Johny Lal is strictly average. Probably the only saving grace for TERA INTEZAAR are few of its romantic tracks. While ‘Mehfooz’ falls in the usual romantic genre and retains the soft music feel that seems to be the current flavour of the generation, ‘Abhagi Piya’ and ‘Khali Khali Dil’ too add to the soothing atmosphere. However, the Punjabi flavoured dance number ‘I am a sexy Barbie girl’ is devoid of Sunny Leone’s usual charm. On the whole, TERA INTEZAAR has a jumbled plotline that lacks logic and fails to establish any connect. It neither succeeds in telling a supernatural story nor does it manage to act as a quintessential love story. struggle to survive. Tera Intezaar 1.5

Tlabung, Zodin leh Chawnpuia MUP member a thlawnin mit endiksak

Friday, December 1 2017

Tlabung, Zodin leh Chawnpuia MUP member a thlawnin mit endiksak

Tlabung, Zodin leh Chawnpuia MUP member a thlawnin mit endiksak By 16 views Tlabung Progressive Society leh Tlabung Sub-Divisional Hospital \angkawpin nimin khan Tlabunga MUP unit pathum – Tlabung, Zodin leh Chawnpuia MUP member mi 10 \heuh, a thlawnin an mit an endiksak a. Heta inentir tura kal, MUP member-te hi Tlabung Progressive Society-in an kal leh hawna tur a tumsak vek a, Tlabung Sub-Divisional Hospital-a Ophthalmic Assistant, Malsawmtluangi’n an mit hi khawl hmanga en sakin, mit \ha lo leh upa zualte chu a thlawna damdawi pek nghal an ni.

Traffic Management Coordination Committee-in Garage nei vek tura hun a pek tawp ta

Friday, December 1 2017

Traffic Management Coordination Committee-in Garage nei vek tura hun a pek tawp ta

Traffic Management Coordination Committee-in Garage nei vek tura hun a pek tawp ta By 21 views Vawiin hi Aizawl khawpui tawt lutuk tihziaawmna atana Traffic Management Coordination Committee-in lirthei neitu zawng zawng, Garage nei vek tura hun a pek tawp ni a ni a, hemi bawhzui tura din, Working Group Committee chuan nakzan dar 8 a\angin Garage nei leh nei lo a enfiah \an dawn. Working Group Committee hi vawiin chawhnu khan Traffic SP Pisa-ah an Chairman, Pu Lalbiakzama hovin an \hukhawm a, an ruahman dan chuan Working Group Committee member 5-in Traffic Police leh Transport Enforcement Team hovin Garage nei leh nei lo hi nakzan a\angin an enfiah \an dawn a ni. Zonet zawhna chhangin Pu Lalbiakzama chuan, Garage ni lova lirthei dahte chu pawisa chawitir zel an ni dawn tih a sawi a. Motor chhia, kawng sira dah chu dan kalh a nih avangin hnuh sawn zel a nih tur thu leh Garage ni lova lirthei dahte chu zan khatah cheng 500 zel chawitir an nih tur thu sawiin, motor neitute chu a dahna \ha tak nei vek tura ngen an ni tih a sawi. Aizawl khawpui chhunga Local Council hrang hrang, an huam chhunga Garage nei leh nei lo enfiah tura tih an nih chungchangah veng tam zawkin an zir chianna la thehlut lo mah se, sorkar thuchhuak hi khauh taka bawhzui a nih tur thu, Pu Lalbiakzama chuan a sawi bawk. Traffic Management Coordination Committee Chairman, Pu R. Lalzirliana chuan December ni 1 a\anga Aizawla motor nei zawng zawng, Garage nei vek tura tih chu khauh taka ken kawh a ni dawn tih a lo sawi tawh a. Kum 1 vel kal ta a\ang khan Garage neih chungchang hi puan a nih tawh thu leh he thupek ngai pawimawh hian mi tam takin Garage an neih tawh thu te, la nei ve lo pawh eng emaw zat an awm tih hriat a nih thu sawiin, Garage nei ve thei lote pawh mi dang ta luah mai tura beisei an ni tih a sawi. Pu R. Lalzirliana chuan, sorkar thuchhuak hi sorkar tan ni lovin, mipui tan a ni tih mipuiten hrethiam se a duh thu sawiin, Aizawl khawpuiah Traffic Jam avangin mipuiten hun an paih nasa a, Aizawl khawpui chu nuam zawka siam turin mipuiten mawhphurhna an nei tih a sawi a ni. Puan tawh \hin angin, Traffic Management Coordination Committe chuan Aizawla lirthei nei zawng zawng chu kumin November ni 30 ral hma ngeia garage nei turin nikum October ni 1 khan a lo hriattir tawh a ni.

Anurag Kashyap: My opinion will not solve Padmavati issue - PINKVILLA

Friday, December 1 2017

Anurag Kashyap: My opinion will not solve Padmavati issue - PINKVILLA

Anurag Kashyap: My opinion will not solve Padmavati issue Anurag Kashyap: My opinion will not solve Padmavati issue Anurag Kashyap talks about the controversies related to film Padmavati. Written By I.A.N.S Mumbai Published: December 1, 2017 08:08 pm 59296 reads 0 comments Filmmaker-actor Anurag Kashyap, who is vocal about the right to freedom of speech and expression, says his opinion will not provide a solution to the problems faced by the team of Sanjay Leela Bhansali's film "Padmavati". During the trailer launch of his upcoming film "Mukkabaaz" on Friday, he was asked about his opinion on "Padmavati", which is being slammed for "distorting historical facts" about the Rajput queen. "My opinion will not solve the issue. I do not think anything about this issue. In fact, I wonder why the media is thinking about it," Anurag told IANS here. "I think media is the most irresponsible community right now. Why are they asking the same question to all of us and collecting our opinion on the same? Has it solved the issue? In a way, constant talk on the topic is creating more fear in our mind. "Fear is something those groups (referring to Karni Sena and others) are trying to create. By asking the question, media did not solve the issue but paid attention to some regional groups. They are taking advantage of it," he added. As a filmmaker, the "Udta Punjab" co-producer has often locked horns with the Central Board of Film Certification. Should "Padmavati" be shown to the Karni Sena to resolve the issue? Anurag said: "I am not the one to think about it. But consistently talking about the issue, created an atmosphere of fear."

Project Pushpak-in Mizorama an hna thawh Golden Jubilee lawm

Saturday, December 2 2017

Project Pushpak-in Mizorama an hna thawh Golden Jubilee lawm

Project Pushpak-in Mizorama hna an thawh kum 50 tlinna, Golden Jubilee chu nimin tlai khan Aizawl Lammualah an lawm a, CM, Pu Lal Thanhawla’n a hmanpui. Project Pushpak-in Mizoram tana hna ropui tak tak an lo thawh tawh avangin an chungah Mizo mipuite an lawm tih sawiin, Pu Lal Thanhawla chuan, Mizoram hmasawnna atana an hnathawh chu Mizo thinlunga thil langsar ber pawl a ni reng tawh dawn tih a sawi. Project Pushpak hian kum 1967 May a\ang khan Mizoramah hna an thawk \an a. Hetih chhung hian Mizoramah kawngpui Kilometre 3,600 a thui an siam a, lei, metre 2,200 an dawh tawh a. Tun thleng hian Chief Engineer 21 an awm tawh a, an hnathawh \hat avanga chawimawina an dawn tawh zingah Kirti Chakra 4, Padma Shree 1 leh Shaurya Chakra 23 a tel a ni. Nimin tlaia Project Pushpak hnathawh kum 50 tlin lawmnaah hian Assam Rifles, BSF leh Mizoram sorkar-a mi pawimawh \hahnem tak an tel a ni.

OIKOS Little Angels-in Science Fair cum Art & Craft Expo buatsaih

Friday, December 1 2017

OIKOS Little Angels-in Science Fair cum Art & Craft Expo buatsaih

OIKOS Little Angels-in Science Fair cum Art & Craft Expo buatsaih By 3 views Tuikhuahtlang-a OIKOS Little Angels School-in vawiin a\ang khan anmahni school-ah ni hnih chhung awh tur, Science Fair cum Art & Craft Expo an buatsaih a, zirlaiten an thiam thilte an pho lang a. Science Fair-ah hian pawl 4 atanga pawl 8 inkar zirlaite chu group-ah in\henin, science thiamna hmanga an thil siam chi hrang hrang an entir a ni. He Fair tlawhtuten zirlaite thil tih zinga an duh leh \ha an tih ber an thlang dawn a, vote hmu \ha pathum chu lawmman – certificate leh tangka hlan an ni dawn a ni.

हवाई टिकट भेज प्रॉपर्टी डीलर को पटना से बुलाया फरीदाबाद, गोली मारकर जंगल में फेंका शव

Saturday, December 2 2017

हवाई टिकट भेज प्रॉपर्टी डीलर को पटना से बुलाया फरीदाबाद, गोली मारकर जंगल में फेंका शव

फरीदाबाद(अनिल राठी): पटना से फरीदाबाद में एक प्रॉपर्टी डीलर को बुलाकर हत्या करने का मामला सामने आया है। हत्यारे युवक को मृत समझकर फरीदाबाद के जंगलों में छोड़ आए थे। गोली लगने के बाद मरने से पहले घायलावस्था में युवक ने पुलिस और पटना में अपने एक मित्र को फोन कर बचाने की गुहार लगाई, लेकिन फरीदाबाद पुलिस की तरफ से उसे कोई मदद नहीं मिली। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम करवा लिया गया है।परिजनों ने आरोप लगया कि फरीदाबाद पहुंचने पर उन्होंने 6 घंटे तक पुलिस को संपर्क कर जंगल की लोकेशन बताई लेकिन पीड़ितों की मदद करने की बजाय पाली पुलिस चौकी इंचार्ज सिर्फ परिजनों को बरगलाता रहा। हत्यारों ने प्रॉपर्टी डीलर को फरीदाबाद आने के लिए मोबाइल फोन से हवाई जहाज का टिकट भेजा था। जानकारी के अनुसार मूलरुप से पटना बिहार निवासी प्रवीण प्रॉपर्टी डीलर का काम करता था। प्रवीण ने अपने ही जिले के रहने वाले वरुण सिंह से उसने एक जमीन 1करोड़ 36 लाख रुपए में खरीदी थी। प्रवीण ने वरुण की पूरी पेमेंट भी कर दी थी लेकिन रजिस्ट्री कराने का समय आया तो वरुण भाग गया। श्रवण कुमार ने बताया कि इस पर प्रवीण ने वरुण के खिलाफ मामला दर्ज करवा दिया। उसी रंजिश में वरुण ने प्रवीण को उसके मोबाइल पर हवाई जहाज का टिकट भेजकर दिल्ली बुलाया और कोई दूसरी जगह या पैसे देने की बात कही। उसके बाद वरुण और उसके साथी अजय यादव ने फरीदाबाद में पाली-सूरजकुंड रोड जंगलों में जाकर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। हालांकि गोली लगने के बाद भी प्रवीण काफी देर जिंदा रहा। उसने घायल अवस्था में पटना में अपने एक मित्र को फोन किया और बचाने की गुहार लगाई। वहीं मृतक के साले रंजीत ने बताया कि वह सेलुलर कंपनी में काम करता है। उसने प्रवीण के मोबाइल की लोकेशन निकालकर वह लगातार पाली पुलिस चौकी इंचार्ज से संपर्क करता रहा लेकिन उसकी तरफ से कोई मदद नहीं मिली। अगर पुलिस की मदद मिल जाती तो प्रवीण की जान बचाई जा सकती थी।

अनुज लोया ने मोहित शाह का नाम लेने वाले उस पत्र की प्रति मुझे दिखाई थी जिसमें लिखा था, अगर कभी कुछ हो गया तो

Saturday, December 2 2017

अनुज लोया ने मोहित शाह का नाम लेने वाले उस पत्र की प्रति मुझे दिखाई थी जिसमें लिखा था, अगर कभी कुछ हो गया तो

अनुज लोया ने मोहित शाह का नाम लेने वाले उस पत्र की प्रति मुझे दिखाई थी जिसमें लिखा था, ”अगर कभी कुछ हो गया तो…”: द कारवां को एक करीबी दोस्‍त का संदेश News अनुज लोया ने मोहित शाह का नाम लेने वाले उस पत्र की प्रति मुझे दिखाई थी जिसमें लिखा था, ”अगर कभी कुछ हो गया तो…”: द कारवां को एक करीबी दोस्‍त का संदेश नवंबर को द कारवां को एक ईमेल मिला। भेजने वाले ने खुद को मरहूम जज बीएच लोया के बेटे अनुज लोया का दोस्‍त बताया था। उसने लिखा है कि 30 नवंबर को उसकी अनुज से बातचीत हुई थी। अनुज ने उन्‍हें फरवरी 2015 को लिखे अपने उस पत्र की प्रति दिखाई थी जो जज लोया की बहन के पास उन्‍होंने छोड़ रखी थी। जज की मौत से जुड़ी संदिग्‍ध परिस्थितियों पर अपनी स्‍टोरी में द कारवां ने यही पत्र प्रकाशित किया था। पत्र में लिखा था, ”यदि मुझे या मेरे परिवार के सदस्‍यों के साथ कुछ भी होता है, तो षडयंत्र में लिप्‍त मुख्‍य न्‍यायाधीश मोहित शाह और अन्‍य उसके लिए जिम्‍मेदार होंगे।” जिस दोस्‍त ने द कारवां से संपर्क किया था, उसे चिंता थी कि अनुज अब दबाव में है। उसने बताया कि अनुज ने उससे कहा था कि ”अगर उसके परिवार को कोई भी नुकसान होता है” तो ”मीडिया या ऐसे किसी शख्‍स को जो कुछ कर पाने में सक्षम हो,” इस पत्र के बारे में उसे खबर कर देनी चाहिए। हमें 29 नवंबर को एक अन्‍य मेल मिला। भेजने वाले का दावा था कि वह अनुज लोया है। मेल से संलग्‍न एक पत्र में उसने लिखा है, ”मुझे, मेरी बहन और मेरी मां को इस तथ्‍य पर कोई संदेह नहीं कि मेरे पिता दिल का दौरा पड़ने से ही गुज़रे हैं, किसी दूसरी वजह से नहीं।” हमने उसका जवाब देते हुए उसे अपनी पहचान पुष्‍ट करने को कहा, लेकिन अब तक उसका कोई जवाब नहीं आया है। इसीलिए हम अब तक यह पुष्‍ट नहीं कर सके हैं कि पत्र उसी ने भेजा था और उसमें उसकी भावनाएं ही व्‍यक्‍त थीं। जज लोया की मौत पर द कारवां में छपी सिलसिलेवार कहानियों (जिसके बाद से लोया परिवार के कई सदस्‍य लापता हैं) के करीब हफ्ते भर बाद टाइम्‍स ऑफ इंडिया में एक ख़बर आई जिसमें बताया गया कि अनुज ने बॉम्‍बे उच्‍च न्‍यायालय की मुख्‍य न्‍यायाधीश मंजुला चेल्‍लूर से मिलकर यह बताया था कि ”परिवार को पिता की मौत की परिस्थितियों के बारे में कोई शिकायत या शुबहा नहीं है।” इस ख़बर में यह नहीं बताया गया था कि अनुज ने कैसे संपर्क किया या कि किसने इस मुलाकात को मुमकिन बनाया। हमने 2015 वाले पत्र और अभी मिले हालिया पत्र पर किए गए दस्‍तखत का मिलान किया। शुरुआत में यह जानकार थोड़ी परेशानी हुई कि दोनों अलग थे। करीब से देखने पर पता चला कि दोनों एक जैसे थे लेकिन नए पत्र पर किया गया दस्‍तखत करीब 90 अंश के कोण पर मुड़ा हुआ था। अनुज की एक फोटो हमने देखी जिसमें वे दाएं हाथ से पूल खेलते दिखते हैं। इसका मतलब कि वे संभवत: दाएं हाथ से ही सारे काम करते हैं। इससे यह पता चलता है कि दस्‍तखत करते वक्‍त नए वाले पत्र के ठीक सामने वे नहीं बैठे हुए थे बल्कि कुछ इस मुद्रा में बैठे थे कि दस्‍तखत करते वक्‍त उनकी बांह पन्‍ने के लम्‍बवत् थी। उनके दोस्‍त के मुताबिक वे 4 नवंबर तक अनुज के संपर्क में रहे, ”जब उसने मुझे बताया कि उसका फोन टूट गया है। उसने मेरा नंबर मुझसे मांगा था।” इस आखिरी संवाद तक अनुज ने अपने दोस्‍त को ऐसा कोई संकेत नहीं दिया था कि 2015 के पत्र में उसने जो भावनाएं ज़ाहिर की थीं वे बदल गई हैं या फिर वे उस चेतावनी को वापस ले रहे हैं जो उन्‍होंने पत्र में लिखी थी ”अगर कहीं कुछ हो जाए”। अब इस बात के तीन हफ्ते बाद द कारवां को भेजी उनकी चिट्ठी में अनुज ने जो लिखा है, उसकी कोई संगति खोज पाना मुश्किल दिखता है, ”मैं अपने पिता के मित्रों, सहकर्मियों और अन्‍य माननीय जजों द्वारा मेरे परिवार को दी गई सांत्‍वना की ईमानदारी को महसूस कर सकता हूं।” दोस्‍त का ईमेल बताता है कि वह अनुज ओर उसके परिवार के अन्‍य लोगों से संपर्क करने की नाकाम कोशिश कर चुका था। उसने लिखा, ”मैं अनुज लोया का बहुत करीबी दोस्‍त हूं। मैंने उससे संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उनके परिवार के किसी भी सदस्‍य का नंबर नहीं लग रहा है।” (हमने दोस्‍त का नाम उसकी निजता और सुरक्षा के मद्देनज़र न छापने का निर्णय किया है)। ईमेल आगे कहता है, ”मैं बस इतना जानना चाहता हूं कि मेरा दोस्‍त महफ़ूज़ है या नहीं औश्र इस बारे में कोई भी सूचना सराहनीय होगी।” बाद में इस दोस्‍त ने फोन पर हमारे साथ हुई बातचीत में बताया कि वह और अनुज ”कोई पांच छह साल से दोस्‍त हैं। और मैं उसके घर पर प्रोजेक्‍ट आदि काम के लिए अकसर जाता रहता था। मैं उसके पिता को भी जानता था। मैं जानता था कि वे वे बेहद ईमानदार शख्‍स थे और वे रिश्‍वत लेने जैसा कोई काम नहीं करेंगे।” उसने बताया कि लोया ”एक अच्‍छे व्‍यक्ति थे। मुझे याद है कि एक बार हम लोग देर रात तक एक प्रोजेक्‍ट पर काम करते रहे थे। मैंने उन्‍हें कहा भी नहीं लेकिन वे अपने आप मुझे आधी रात छोड़ने के लिए आए।” दोस्‍त ने बताया कि अनुज ने पिता की मौत के बाद परिवार में मोहित शाह के आने का ज़िक्र उससे किया था। 2015 के अपने पत्र में अनुज ने लिखा था कि उसने शाह को ”डैड की मौत के संबंध में सब कुछ बता दिया था और उनसे एक जांच आयोग बैठाने की भी बात कही थी।” दोस्‍त ने बताया कि जब अनुज ने उसे शाह के घर आने के बारे में बताया तब वह ”काफी डरा हुआ” दिख रहा था। उसने याद करते हुए बताया कि अनुज ने तब उसे बताया था कि शाह ने कहा था, ”जांच करने लायक कोई बात नहीं है। दिल का दौरा पड़ने से यह हुआ है।” दोस्‍त ने बताया, ”अनुज इसे मानने को राज़ी नहीं था।” उसने दोस्‍त से यह बात कही थी और इस बात पर ज़ोर दिया था कि ”बाद में वह इस मामले को देखेगा।” इस घटना ने अनुज पर इतना गहरा असर डाला कि ”वह मेरे साथ इंजीनियरिंग पढ़ रहा था और उसने पढ़ाई छोड़ दी, वह अपने पिता की राह पर चलना चाहता था सो उसने कानून की पढ़ाई शुरू कर दी।” हमें 29 नवंबर को भेजे पत्र में अनुज होने का दावा करने वाला शख्‍स लिखता है, ”मैं जानता था कि मेरे पिता ही हुई है, किसी और कारण से नहीं।” उसने लिखा है, ”मैं जानता हूं कि मेरे पिता को उनके एक सहकर्मी की कार में अस्‍पताल ले जाया गया था।” इस व्‍यक्ति ने यह भी कहा कि उसे ”मेरे पिता की दुखद मौत के संबंध में आपके द्वारा प्रकाशित दो लेखों के आलोक में उठे विवाद की भी जानकारी है।” उसने लिखा, ”मेरे पिता की मौत के वक्‍त और भावनात्‍मक दबाव के उस दौर में कुछ लोगों ने बेशक मेरे दिमाग में पिता की मौत की वजह को लेकर भ्रम पैदा किया। उसके बाद हालांकि जब मैंने तथ्‍य जुटाए, तब मुझे अहसास हुआ कि मेरे पिता की मौत वास्‍तव में दिलका दौरा पड़ने से हुई थी और उस दुर्भाग्‍यपूर्ण अवधि में उनके साथ बने रहे सहकर्मियों के तमाम प्रयासों के बावजूद उन्‍हें नहीं बचाया जा सका।” महीने भर पहले तक अनुज ने अपने दोस्‍त को, जो कि उस पत्र का राज़दार था, नहीं बताया था कि अपने पिता की मौत को लेकर संदेह उसके मन से जा चुका है और दोस्‍त को अब इस पत्र के बारे में मीडिया को बताने की कोई ज़रूरत नहीं है। इन दो संदेशों को आपस में मिलाकर समझना मुश्किल है या फिर यह कल्‍पना करना कि महीने भर से कम की अवधि में आखिर ऐसा क्‍या हुआ होगा जिसने अनुज के नज़रिये में यह बदलाव ला दिया। अनुज के दोस्‍त ने बताया कि उसने टाइम्‍स ऑफ इंडिया की वह रिपोर्ट पढ़ी जिसमें कहा गया है कि ”उसके पिता की मौत के साथ कोई समस्‍या नहीं थी और वह आगे उसके बारे में पड़ताल नहीं चाहता था।” उसने बताया, ”इसीलिए मुझे समझ नहीं आ रहा कि आखिर चल क्‍या रहा है? क्‍या उस पर दबाव डाला गया है?” यह दोस्‍त ”शनिवार से उससे संपर्क करने की कोशिश कर रहा है। शनिवार से ही उसका फोन नहीं लग रहा है।” उसने बताया, ”यहां तक कि उसके दादा से भी संपर्क नहीं हो पा रहा है और उसकी बुआ जो वीडियो में थीं, उनका फोन भी संपर्क क्षेत्र से बाहर बता रहा है।”

मौत से पहले जज लोया ने लॉ कॉलेज के अपने बैचमेट से कहा था: ”मैं इस्‍तीफ़ा देना चाहता हूं; गांव जाकर खेती कर लूंगा लेकिन एक गलत फैसला नहीं दूंगा”

Saturday, December 2 2017

मौत से पहले जज लोया ने लॉ कॉलेज के अपने बैचमेट से कहा था: ”मैं इस्‍तीफ़ा देना चाहता हूं; गांव जाकर खेती कर लूंगा लेकिन एक गलत फैसला नहीं दूंगा”

27 नवंबर को लातूर बार असोसिएशन के सदस्‍यों ने लातूर की जिला अदालत से जिला कलेक्‍टर के कार्यालय तक एक मार्च निकाला और जज लोया की मौत की जांच कराने संबंधी एक ज्ञापन सौंपा। द कारवां को दिए एक इंटरव्‍यू में मरहूम जज के बैचमेट, वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता और बार असोसिएशन के पूर्व अध्‍यक्ष उदय गवारे ने याद करते हुए बताया कि सोहराबुद्दीन केस की सुनवाई के दौरान लोया ने उनके समक्ष ”दबाव में होने” की बात स्‍वीकारी थी। गवारे कहते हैं कि उस दौर में ”मैंने पहली बार देखा कि बृजमोहनजी इतने ज्‍यादा तनाव में थे वरना वे आम तौर से खुशमिजाज़ रहते थे।” मरहूम जज लोया लातूर के निवासी थे। वे वहां बार असोसिएशन के सदस्‍य रह चुके थे और दस साल वकालत कर चुके थे, जिसके बाद उनकी नियुक्ति जज के रूप में हुई। गवारे ने द कारवां को बताया कि कोर्ट की छुट्टियों के दौरान लोया लातूर आते थे और बार असोसिएशन के अपने पूर्व सहकर्मियों से बात करते थे। गवारे याद करते हैं कि 2014 की दिवाली में लोया जब लातूर आए तब उन्‍होंने कहा था कि सोहराबुद्दीन केस की सुनवाई में उन पर दबाव पड़ रहा है। गवारे के मुताबिक लोया ने कहा था, ”मैं इस्‍तीफा देना चाहता हूं। मैं गांव जाकर खेती कर लूंगा, लेकिन मैं गलत फैसला नहीं दूंगा।” द कारवां को जानकारी मिली है कि लोया ने एक और वकील दोस्‍त से इस मसले पर काफी लंबी बातचीत की थी। उनके उस दोस्‍त से जब द कारवां ने संपर्क किया तो वे बोले, ”मेरे पास तमाम साक्ष्‍य यह दिखाने के लिए हैं कि उनके ऊपर दबाव था।” लेकिन उन्‍होंने आगे कहा, ”मैं इस बारे में केवल किसी जांच अधिकारी के सामने मुंह खोलूंगा।” लातूर बार असोसिएशन की आम सभा ने 25 नवंबर को संकल्‍प पारित किया कि उसने ”एकमत से निर्णय” लिया है कि लोया की मौत से जुड़ी ”संदिग्‍ध परिस्थितियों” में जांच की मांग की जाए। संकल्‍प में बार असोसिएशन ने जज की मौत की जांच ”सुप्रीम कोर्ट/हाइ कोर्ट के एक स्‍वतंत्र आयोग” से करवाने की मांग की है। दो दिन बाद बार के सदस्‍यों ने जिला कलेक्‍टर के दफ्तर तक मार्च निकाला और भारत के राष्‍ट्रपति के नाम संबोधित एक ज्ञापन सौंपा। बार असोसिएशन के ज्ञापन में कहा गया है कि जज लोया की मौत के ”इर्द-गिर्द मौजूद संदेह””न्‍यायपालिका के लिए स्‍वस्‍थ्‍स स्थिति नहीं है”। ज्ञापन कहता है कि ”न्‍यायिक प्रणाली का हिस्‍सा होने के नाते हम महसूस करते हैं कि प्रासंगिक अवधि में एक जज के बतौर काम करते हुए उनके ऊपर पड़े दबाव और उनकी कथित अप्राकृतिक मौत की पारदर्शी जांच किया जाना अनिवार्य है।” बार के सदस्‍यों ने बताया कि एक किलोमीटर लंबी पदयात्रा में बार के कुछ सौ लोगों ने हिस्‍सा लिया। मरहूम जज की मौत की संदिग्‍ध परिस्थितियों पर उनके परिवार की चिंताओं को स्‍वर देने वाली निरंजन टाकले की सिलसिलेवार खोजी रिपोर्टों के द कारवां में प्रकाशन के बाद हुआ निकला मार्च और ज्ञापन कानूनी बिरादरी की ओर से की गई पहली सामूहिक पहल है। बार असोसिएशन अकेले राष्‍ट्रपति को ही ज्ञापन नहीं भेज रहा है। असोसिएशन के अध्‍यक्ष पाटील ने द कारवां को बताया कि ”ज्ञापन की प्रतियां भारत के मुख्‍य न्‍यायाधीश, मुख्‍य न्‍यायाधीश और संसद में विपक्ष के नेता को भी भेजी जाएंगी।” पाटील ने बताया, ”यदि एक स्‍वतंत्र जांच नहीं बैठायी गई तो बार आगे की कार्रवाई पर फैसला करेगा। अगर इसका कोई नतीजा नहीं निकला तो हम उच्‍च न्‍यायालय में एक रिट याचिका डाल देंगे।” गवारे ने भी द कारवां को बताया कि बार असोसिएशन का संकल्‍प कहता है कि ”एक जांच होनी ही चाहिए…।””हम किसी पर उंगली नहीं उठा रहे हैं।” लोया के बेटे अनुज की मुलाकात से संबंधित समाचार- जिसमें उसने कहा है कि उसके पिता हुई और उसे ”न्‍यायपालिका के उन सदस्‍यों में पूरी आस्‍था है जो (लोया) के साथ थे”- के आलोक में लातूर बार असोसिएशन ने 29 नवंबर को प्रतिक्रिया में एक प्रेस वक्‍तव्‍य जारी किया। वक्‍तव्‍य कहता है कि अनुज ”घटना के वक्‍त प्रत्‍यक्ष रूप से मौजूद नहीं था… मौत से जुड़े सवाल अनुत्‍तरित हैं।” इसमें कहा गया है कि ”अगर इस मामले में जांच शुरू होती है, तो उनके परिवार को कई किस्‍म की प्रताड़नाएं झेलनी पड़ सकती हैं। हो सकता है इसी वजह से उसने ऐसा बयान दिया है क्‍योंकि जांच को रोकने के लिए छाले जा रहे दबाव में वह आ गया है।” अनुज की चिट्ठी के संबंध में छपी ख़बर पर गवारे ने द कारवां से कहा: देखिये लोयाजी का बच्चा अनुज अभि तो अकेला है। उस को पूरी उसकी जिंदगी गुज़ारनी है। उसकी माताजी को जिंदगी गुज़ारनी है। क्योंकि उसका छत्र जो था पिताजी का, वह चला गया। और ऐसे हालात में अगर हर दिन, हर कदम को, धोखा होगा, कोइ गुंडे उनके पीछे होंगे, तो यह तो कहने वाला है, कि मेरे पिताजी का कुछ नहीं, छोड दो। मुझे तो जीने दो। ये बात बोल के उसने चीफ जस्टिस को जाकर बात बोली।

Here are all the details of Taimur Ali Khan's first birthday in the family palace

Saturday, December 2 2017

Here are all the details of Taimur Ali Khan's first birthday in the family palace

feedback language follow us on Home » News » Bollywood » Here are all the details of Taimur Ali Khan’s first birthday in the family palace Here are all the details of Taimur Ali Khan’s first birthday in the family palace Bollywood Hungama News Network By Bollywood Hungama News Network Dec 2, 2017 - 1:52 pm IST A year ago, on December 20, Kareena Kapoor Khan and Saif Ali Khan , welcomed their little bundle of joy into the world with the arrival of Taimur Ali Khan. Now for the past couple of weeks the media has been buzzing with rumours of what the little munchkin’s first birthday will be like. With reports ranging from a quiet family affair to a lavish bash, the media machinery have just about proposed every kind of celebration. Finally clearing the air about Taimur Ali Khan’s first birthday, the toddler’s grandfather Randhir Kapoor stated that the entire family will be present for the party that will be held at Khan’s palatial residence in Pataudi. Further talking about the functions itself, the veteran actor added that a weeklong celebration is being planned that will see everyone from the family in attendance. Later adding about the excitement the entire family has about Taimur’s first birthday, the senior Kapoor stated that from Taimur’s grandmother, Sharmila Tagore to Karisma Kapoor and her kids Samaira and Kiaan Raj everyone is pretty thrilled about the week long celebrations. While the family will fly down to the palace a week before the celebrations start, the guest list for the bash will also include Shah Rukh Khan along with AbRam, and Karan Johar and his twins Yash and Roohi. If that wasn’t all Randhir Kapoor also revealed that Taimur’s elder sister Sara Ali Khan will also be there for the bash along with Ranbir Kapoor .

Solar panels may have sparked forest fire - Radio New Zealand

Sunday, December 3 2017

Solar panels may have sparked forest fire - Radio New Zealand

Solar panels may have sparked forest fire 10:31 am today Fire crews remain at the scene of a forest fire near Motueka, believed to have been started by a bank of solar panels near a house. Photo: RNZ / Rebekah Parsons-King; Principal rural fire officer Ian Reade said the fire in the Motueka Valley started just after midday yesterday and spread into a steep hillside of pine trees. About 50 firefighters and forestry crews helped fight the blaze and three helicopter crew worked throughout the afternoon. "We're still trying to determine how the fire actually happened, but it does appear that it started near a bank of solar panels that were on a grassy space." Mr Reade said conditions were very dry in the area, with spring grass growth now rapidly drying off.

(Video) Former Judges of the Higher Judiciary PB Sawant and BG Kolse-Patil Demand an Independent Inquiry into the Death of Judge Loya

Sunday, December 3 2017

(Video) Former Judges of the Higher Judiciary PB Sawant and BG Kolse-Patil Demand an Independent Inquiry into the Death of Judge Loya

By The Caravan | 3 December 2017 Previous Next Print | E-mail | Single Page Two retired judges of the higher judiciary—former Supreme Court justice PB Sawant, and former Bombay High Court justice BG Kolse-Patil—have joined a growing chorus of support for an investigation into the death of the judge BH Loya. In separate interviews with The Caravan , the two judges have demanded an independent inquiry into the suspicions raised by Loya’s family. “This matter needs a thorough investigation,” Sawant told The Caravan. “Otherwise, the truth will not come out,” he said. Kolse-Patil emphasised the necessity for an independent investigation “if the Supreme Court or the high court wants to save the integrity of the judiciary.” “A Supreme Court-monitored commission should be appointed” to probe Loya’s death, he said. “It should have minimal involvement of the government machinery.” Three days after The Caravan ’s reports on judge Loya’s mysterious death, AP Shah, a former chief justice of the Delhi High Court, became the first member of the judiciary to demand an enquiry into Loya’s death. Shah told The Wire that the late judge Loya, “was a senior member of the district judiciary and not enquiring into the allegations made by the family, not addressing their grievances would send a very wrong signal to the judiciary, particularly the lower cadre.” BH Marlapalle, another retired judge of the Bombay High Court, shared Shah’s concerns regarding the implications that a failure to conduct an investigation may have on morale of the lower judiciary. In a letter to Manjula Chellur , the present chief justice of Bombay High Court, dated 21 November, Marlapalle sought “an investigation by an SIT” by registering The Caravan ’s reports “as a PIL petition.” He noted that this “will certainly make the subordinate court judges to believe that they are not orphans.” In the circumstances surrounding Loya’s death, Kolse-Patil noted that it was necessary that “judges should work like gods.” “The country needs it today,” he said. “Independent judiciary is a must.” The retired Supreme Court justice Sawant further noted that it was necessary for “independent personnel to investigate this matter without fear and favour.” More From This Section