क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण

» क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण Wellness Published: Tuesday, March 6, 2018, 10:02
कभी कभी लोगों के हाथ पैर ठंडे पड़ जाते हैं जिससे उनका ध्यान भंग होता है और वो किसी काम को ठीक से नहीं कर पाते हैं। कम तापमान के कारण आपके पैर ठंडे पड़ सकते हैं लेकिन इसके और भी दूसरे कारण होते हैं जिनका जिक्र हम इस लेख में करने जा रहें हैं। 1- रेनॉड रोग:
जी हाँ यह बात सही है कि कम तापमान के कारण ही हाथ और पैर ठंडे पड़ जाते हैं लेकिन जब आपके पैर सुन्न होते हैं तो इसे रेनॉड रोग कहते हैं। इसमें आपकी धमनियों में ब्लड फ्लो धीमा हो जाता है। लगभग 5% अमेरिकन में यह रोग होता है। 2- हाइपोथायरॉइडिज्म:
जब थायरॉइड ग्लैंड थायरॉइड हॉर्मोन को पर्याप्त मात्रा में नहीं बनाती है तो यह समस्या होती है। आपको बता दें कि इसी हॉर्मोन से शरीर का तापमान और ऊर्जा नियंत्रित होती है और पर्याप्त मात्रा में इन होर्मोंस के ना बनने की वजह से आपके हाथ पैर ठंडे पड़ सकते हैं। 3- नर्व डैमेज:
खराब ब्लड फ्लो, टॉक्सिक पदार्थों का ज्यादा होना, धमनियों में सूजन होना और विटामिन बी 12 की कमी का होना ही नर्व डैमेज होने के कारण होते हैं। इससे आपके पैर सुन्न पड़ सकते हैं और ठंडे भी हो सकते हैं। 4- एनीमिया:
आपका ब्लड आपके शरीर में ऑक्सीजन को पहुंचाने का काम करता है। एक तरह से यह इंधन जैसा काम करता है लेकिन अगर आपको एनीमिया है जिसमें आपका ब्लड ठीक से अपना काम नहीं करता है और आपके हाथ, पैर ठंडे पड़ जाते हैं। 5- ज्यादा पसीना निकलना:
पसीने की ग्रंथियों के ज्यादा एक्टिव होने की वजह से आपका अधिक पसीना निकलता है और इस वजह से आपके शरीर का तापमान कम हो जाता है और आपके पैर ठंडे पड़ने लगते हैं। ज्यादा मात्रा में पसीना निकलने की बीमारी को हाइपरहिड्रोसिस कहते हैं। आपको बता दें कि ज्यादा पसीने का निकलना मीनोपॉज और हाइपरथायरॉइडिज्म के लक्षण होते हैं। 6- ज्यादा धूम्रपान और एल्कोहल का सेवन:
आमतौर पर आपकी ब्लड वेसल्स आपके नर्व तक न्यूट्रीयेंट्स पहुंचाती है लेकिन जब आप धूम्रपान करते हैं तो ब्लड वेसल्स संकुचित हो जाती है जिससे आपकी नर्व कमजोर होने लगती है। इसी तरह आधे से ज्यादा लोग जो एल्कोहल का सेवन करते हैं उन्हें न्यूरोपैथी की समस्या होती है जिससे उनकी नर्व डैमेज हो जाती है और हाथ, पैर ठंडे पड़ जाते हैं। 7- डायबिटीज:
न्यूरोपैथी का डायबिटीज एक बहुत बड़ा कारण है। आपको बता दें कि 26.4% टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों को न्यूरोपैथी की समस्या होती है क्योंकि डायबिटीज की वजह से हार्ट की समस्या होती है जिसमे ब्लड फ्लो ठीक से नहीं होता है और पैर ठंडे पड़ जाते है जिसकी वजह से दर्द भी होता है। हेल्दी लाइफ के माध्यम से आप हाइपरटेंशन और डायबिटीज को नियंत्रित करके पैरो के ठंडे होने को रोक सकते हैं। 8- दवाइयों का इस्तेमाल करना:
अगर बहुत ज्यादा समय तक एंटी-बायोटिक का इस्तेमाल करते हैं तो इसके सेवन से आपको कई सारे साइड इफेक्ट्स हो सकते है। ऐसा होने पर आप डॉक्टर से संपर्क जरुर करें नहीं तो आपको न्यूरोपैथी हो सकती है। ऐसे ही जब कैंसर सेल्स को मारने के लिए कीमोथेरेपी की जाती है तो उसमें भी नर्व डैमेज होती है जिससे न्यूरोपैथी की समस्या हो सकती है। इसलिए इस वजह से भी आपके हाथ पैर सुन्न और ठंडे पड़ सकते हैं। 9- विटामिन की कमी:
विटामिन B12, B6 और विटामिन B9 (फोलिक एसिड) आपके शरीर में नए ब्लड सेल्स का निर्माण करते हैं। अगर इन विटामिन की कमी होगी तो आपको एनीमिया होने की संभावना हो सकती है और सही मात्रा में ब्लड आपके पैरो तक नहीं पहुँच पाता है जिससे वे ठंडे हो जाते हैं। आपको बता दें कि विटामिन बी खासतौर पर B12 नर्व के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इन विटामिन्स की कमी को पूरा करने के लिए आपको अंडे, मीट, मछली और प्रोटीन युक्त फूड्स का सेवन करना चाहिए। Related Articles