Health and Fitness

मीट खरीदने से पहले ज़रूर जान लें ये 6 बातें

Thursday, October 12 2017

मीट खरीदने से पहले ज़रूर जान लें ये 6 बातें

अक्सर हमनें देखा है कि डॉक्टर्स मीट ना खाने की सलाह देते हैं खासतौर पर उन लोगों को जिन्हें डायबिटीज या ह्रदय संबंधी बीमारी हो लेकिन जो लोग शारीरिक मेहनत ज्यादा करते हैं जैसे खिलाड़ी या फिर मजदूर उनको मीट का सेवन जरूर करना चाहिए। जैसा कि हम सब जानते हैं कि मीट में बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है लेकिन प्रोटीन के अलावा कई और भी ऐसी चीजें पायी जाती है जो शरीर के संतुलन को बनाने के लिए जरूरी हैं। इसलिए मीट खरीदने का सही तरीका हमें पता होना चाहिए ताकि सारे न्यूट्रीएंट हमें मिल सकें। हरी साग-सब्‍जी हो या फर चाहे मीट-मछली, अगर आपने उसे ताजा नहीं खाया तो आपको तमाम बीमारियां घेर सकती हैं। चिकन पकाने और खाने का हेल्‍दी तरीका और अगर मीट की बात करें तो यह फ्रेश होना बेहद जरुरी है। तो आइये हम आपको मीट कैसे खरीदें उसके छह तरीके बताते हैं।

1.

मीट का रंग चेक करें: मांस के रंग से उसकी ताजगी का पता चल जाता है। मुर्गे का मीट सफ़ेद या हल्का गुलाबी रंग का होता है. मांस पर हरे रंग के धब्बे नहीं होने चाहिए और ना ही ब्लड के थक्के होने चाहिए। अगर हम रेड मीट की बात करें तो वह चटक लाल रंग का होता है अगर उसमें हवा भरी गई है तो वह हल्का भूरा हो जाता है। यह भी एक अच्छी क्वालिटी का मांस होता है और इसे आप लम्बे समय तक अपने फ्रिज में रख सकते हैं।

2.

खूशबू चेक करें: मुर्गे के मांस में कुछ ख़ास तरह की खूशबू नहीं होती है, कभी कभी उसमें से अजीब तरह की सुगंध आती है लेकिन रेड मीट में एक खासतौर की सुगंध आती है। आपको बता दें कि ताजे मीट में कभी किसी तरह कि तीक्ष्ण खुशबू नहीं आती है।

3.

टेक्स्चर चेक करें: पोल्ट्री मीट में मसल्स फाइबर साफ़ साफ़ दिखने चाहिए और जब आप मीट को छुएं तब वह चिपचिपा नहीं होना चाहिए और ना ही उसमें से पानी निकलना चाहिए। जब उसे काटा जाय तो रेड मीट की चर्बी का रंग पीला नहीं होंना चाहिए, अगर इस तरह का मीट है तब आप समझ लें की वह ताजा है।

4.

स्किनलेस मीट लें: ध्यान रखिये मीट लेते समय उसकी स्किन को निकलवा दें क्योंकि स्किन में बहुत ज्यादा कैलोरी होती है जिससे आपको ह्रदय संबंधी दिक्कतें हो सकती हैं।

5.

खाद्य रक्षा पैमाना सुनिश्चित करें: याद रखें आप जहां से भी मीट लें तो आप चेक करें कि वह दुकान फूड्स सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथोरिटी ऑफ़ इंडिया यानी FSSAI से प्रमाणित हो जिससे की खाद्य सुरक्षा के सारे पैमाने आपको मिलें।

6.

मीट के बारे में पता लगाएं: मीट खरीदते समय इस बात का जरूर ध्यान दें की वह मीट कहाँ से आया है यानी किस जानवर का वह मीट है कहीं वह मीट किसी बीमार जानवर तो नहीं है। आपको यह सलाह दी जाती है कि आप उस मीट के बारे में सारी डिटेल अवश्य लें। याद रखें मीट में बहुत अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं बशर्ते सही मीट को ही खरीदें और उसका सही तरीके से इस्तेमाल करें।

ऑफिस में ये 10 चीज़ें करें ताकि आप बीमार न पड़े

Thursday, October 12 2017

ऑफिस में ये 10 चीज़ें करें ताकि आप बीमार न पड़े

आप प्रतिदिन अपना कितना समय ऑफिस में बिताते हैं? आठ? दस?बारह घंटे खैर, इस बात पर चुप रहना ही बेहतर है। तो यह बात बहुत ही सामान्य बात है कि जो समय आप ऑफिस में बिताते हैं उसका आपके स्वास्थ्य पर बहुत प्रभाव पड़ता है। आप क्या खाते हैं, कितने घंटे बैठते हैं और आप किन चीज़ों को स्पर्श करते हैं, इन सब बातों का बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। यदि आपको आश्चर्य हो रहा है कि आप अक्सर बीमार क्यों पड़ जाते हैं तो उसका उत्तर हम आपको देते हैं: आप एक अस्वस्थ प्रोफेशनल लाइफ की ओर बढ़ रहे हैं। नहीं, चिता न करें। आपको अपना जॉब बदलने की आवश्यकता नहीं है। केवल अपनी जीवनशैली में थोडा परिवर्तन करना होगा। और हम पर विश्वास कीजिये, आपको जल्द ही अच्छा महसूस होने लगेगा। यहाँ हम आपको बताते हैं कि आपको क्या करना चाहिए स्वच्छ हवा में सांस लें हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा वर्ष 2015 में किये गए अध्ययन के अनुसार, "ऑफिस के वातावरण के कारण कभी कभी ऑक्यूपेशनल एलर्जीस हो जाती हैं। कार्पेट, ऑफिस के फर्नीचर या पेंट के प्रति संवेदनशीलता होने के कारण कभी कभी सिर दर्द या रैशेस जैसी समस्याएं हो सकती हैं।" इसके अलावा वेंटीलेशन (हवा का आवागमन) कम होने के कारण और ताज़ी हवा न मिलने के कारण दम घुटने जैसा महसूस होता है।

फेफड़ो को थोड़ा आराम दें

हालाँकि इस बारे में आप बहुत अधिक परिवर्तन नहीं कर सकते परन्तु आप अपने फेफड़ों को थोडा आराम दे सकते हैं। आपको केवल इतना करना है कि 10 मिनिट का समय निकालें और ऑफिस के कैंपस में थोडा वॉक करें। ऐसे स्थाओं पर वॉक करें जहाँ आसपास हरियाली हो। यदि आपको आसपास कोई पेड़ नहीं दिखता तो केवल बाहर खड़े रहें और गहरी साँसे लें।

बहुत अधिक समय तक बैठे न रहें

जी हाँ, हम समझाते हैं कि आप अपने काम में बहुत अधिक व्यस्त है। इसके अलावा नियमित अंतराल पर ब्रेक भी नहीं लिया जा सकता। परन्तु डेस्क पर बहुत अधिक लम्बे समय तक बैठे रहने से आपको बहुत नुकसान हो सकता है। अध्ययन कहता है ये नॉर्थवेल हेल्थ सिस्टम, न्यूयॉर्क, यू.एस.ए. के प्रबंध निदेशक (एम.डी.) रोबर्ट ग्राहम द्वारा वर्ष 2015 में किये गए अध्ययन के अनुसार "पूरे दिन में चलना बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसे लोग जो डेस्क पर बैठकर काम करते हैं उन्हें स्वास्थ्य से संबंधित खतरों से बचने के लिए दिन में कम से कम दो घंटे अवश्य चलना चाहिए। इसलिए अपना स्वास्थ्य अच्छा रखने के लिए आपको इन चीजों का ध्यान रखना चाहिए।

मांसपेशियों को स्ट्रेच करें

लम्बे समय तक बैठे रहने से स्वास्थ्य को बहुत नुकसान होते हैं। परन्तु इसके लिए आप क्या करेंगे? इसके लिए आप तीन मिनिट का वॉशरूम ब्रेक ले सकते हैं। आप वॉशरूम जाएँ, मांसपेशियों को स्ट्रेच करें और उनमें गति लायें तथा कुछ जंप्स करें (कूदे)। ऐसा करने से आपको फायदा होगा और आप स्वस्थ रहेंगें।

अपनी आँखों को थोडा आराम दें

क्या होता है जब आप लम्बे समय तक कंप्यूटर की स्क्रीन को देखते रहते हैं? सिरदर्द। और केवल इतना ही नहीं इससे आपकी आँखों पर भी प्रभाव पड़ता है। वेबमेड में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार : कंप्यूटर के कारण आँखों पर तनाव आता है।

सिरदर्द की समस्या

इससे सिरदर्द, ध्यान केंद्रित करने में समस्या और लाइट के प्रति संवेदनशीलता बढ़ना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।" अत: इससे बचने के लिए कंप्यूटर को लगभग एक हाथ दूर रखें। यदि आप पढ़ नहीं पा रहे हैं तो आँखों पर जोर न डालें। केवल फॉन्ट का साइज़ बढ़ाएं। इससे आप सिरदर्द से बचे रहेंगे। कॉफ़ी? नहीं, धन्यवाद! आपको कैफीन पसंद है? सॉरी, परन्तु आपको इसके सेवन को सीमित करना होगा। जी हाँ, हम समझते हैं कि ये बहुत मुश्किल काम है। परन्तु आपको यह करना होगा। जो लोग ऐसा करना प्रारंभ करते हैं वे कॉफ़ी से दिन की शुरुआत न करें। ऐसा करने से आपको समस्या हो सकती है। इसलिए कॉफी को बाय कहें।

पानी पिएं

आप कॉफी की जगह एक एक गिलास पानी पीयें। और जब भी आप कॉफ़ी पीना चाहें तो इसमें चीनी अधिक मात्रा में न डालें। इसमें क्रीम भी न मिलाएं। इसके अलावा कॉफ़ी का एक चार्ट बनायें और इसे अपने डेस्क पर चिपका लें। इससे आप ध्यान रख पायेंगे कि आप कितने कप कॉफ़ी पी रहे हैं। इससे आपका स्वास्थ सही रहेगा।

पोजीशन बदलते रहें

अगर आप एक जगह बैठे रहते है तो आपको कई समस्याएं हो सकती है। आपका शरीर बीमार हो सकता है। ऐसा अक्सर देखने में आता है कि एक जगह बैठकर काम करने वाले लोग जल्दी बीमार हो जाते है। इसलिए आप अपने बैठने की पोजीशन को बदलते रहें।

Vaseline और Vitamin E सीरम लगा कर रातभर में ही पाएं बेदाग स्‍किन

Wednesday, October 11 2017

Vaseline और Vitamin E सीरम लगा कर रातभर में ही पाएं बेदाग स्‍किन

चेहरे पर भला कोई कितनी क्रीम और लोशन लगाएगा इसलिये आज हम आपको एक ऐसी नेचुरल क्रीम बनाना सिखाएंगे, जिसको लगाने से चेहरे के दाग धब्‍बे कम होना शुरु हो जाएंगे। यह क्रीम एक ओवरनाइट सीरम है, जो स्‍किन को अंदर से पोषण पहुंचाती है और इसी के साथ ही दाग धब्‍बे भी मिटाती है। सिर्फ 3 रात तक लगाएं ये फेस मास्‍क, स्‍किन लगने लगेगी ऐसी... जिनके चेहरे पर झुर्रियां हैं वह भी इसे लगा सकती हैं। इस क्रीम के कोई साइड इफेक्‍ट नहीं हैं इसलिये इसको एक बार जरुर ट्राई करें। यदि हम बात करें पेट्रोलियम जैली की तो यह भारत में बहुत से घरों में यूज़ होता है, जो कि रूखी त्‍वचा, फटे पैरों और हाथों, होंठो तथा सुंदरता बढाने के लिये प्रयोग किया जाता है। इससे आप अपने गालों को मुलायम बना सकते हैं। यूज़ करना काफी सेफ होता है यानी आप इसे स्‍किन पर बिना किसी दिक्‍कत के लगा सकती हैं। छोटे बच्‍चों को जब डायपर से रैश हो जाते हैं तो मम्‍मियां घाव और जलन से बच्‍चों को बचाने के लिये इसे लगाती हैं। यह जैली त्‍वचा में नमी भरती है और स्‍किन को सुंदर दिखाती है।

ऐसे लगाएंगी आलू का रस तो चेहरा दिखेगा साफ और गोरा

यदि आप बात करें विटामिन ई की तो यह प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र है जो आप रात में सोने से पहले शरीर पर लगा सकती हैं। साथ ही यह त्‍वचा में कोलाजेन का विकास करता है, यानी की यह त्‍वचा में लचीलापन लाता है। इससे आंखों के आस पास की फाइन लाइंस और झुर्रियां गायब होती हैं। इसीलिये हम आपको अपनी नाइट क्रीम में विटामिन ई की गोली मिलाने के लिये बोल रहे हैं। आपको विटामिन ई की गोलियां आराम से बाहार में मिल जाएंगी जिसे आप तोड़ कर क्रीम में मिक्‍स कर सकती हैं। विटामिन ई कैप्‍सूल के अलावा अगर आप अपने आहार में विटामिनयुक्‍त चीजें भी शामिल करें जैसे, तेल, गेंहू, हरे साग, चना, जौ, खजूर, चावल के मांढ, क्रीम, बटर, स्‍प्राउट तो समझ लीजिये कि सोने पर सुहागा है। क्‍या आप जानती हैं कि स्‍किन सीरम ये त्वचा के अंदर तक जाता है, जबकि मॉश्चराइजर सिर्फ त्वचा की ऊपरी सतह पर ही काम करता है। अगर क्रीम और अन्य लोशन की तुलना में सिरम की बात करें तो इसमें बहुत कम मात्रा में थिक्निंग एजेंट होते हैं जैसे एसेंश्यिल ऑयल सिरम में अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। सीरम हमेशा रात को सोने से पहले ही लगाया जाना चाहिये, जिससे यह आराम से स्‍किन को फायदा पहुंचा सके।

सिर्फ पांच स्टेप्स में इस फेसिअल को घर पर ही करें

Wednesday, October 11 2017

सिर्फ पांच स्टेप्स में इस फेसिअल को घर पर ही करें

फेसिअल से चेहरे की क्लींजिंग और मसाज दोनों हो जाता है और इसलिए इसे कुछ समय के अंतराल में करवाते रहना चाहिए ताकि आपके चेहरे पर चमक बनी रहे और आपकी त्वचा भी सही रहे। फेसिअल के लिए सैलून जाना पड़ता है या फिर घर पर भी काफी मशक्कत हो जाती है इसलिए ज़्यादातर यह देखा गया है कि महिलाएं इसे स्किप कर देती हैं। एवरग्रीन ब्‍यूटी रेखा के ये है ब्‍यूटी, फिटनेस और मेकअप सीक्रेट फेसिअल के फायदे जानते हुए भी महिलाएं इसकी तैयारी को लेकर परेशान हो जाती हैं और अक्सर फेसिअल नहीं करतीं। इस प्रक्रिया को हल्का और हर महिला के लिए सुविधाजनक बनाने के लिए हम यहाँ पर पांच स्टेप में फेसिअल करने के बारे में बताएँगे। इन पांच स्टेप को घर पर एक के बाद एक करें और आपकी त्वचा में 24 घंटे के अन्दर बदलाव नज़र आयेगा।शुरुआत करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपके पास सभी सामग्री हो और फिर घर पर ही आप फेसिअल कर सकती हैं।

चेहरे को साफ करें:

सबसे पहले चेहरे को साफ करना होगा। आप अपने चेहरे को घर पर रहकर कैसे साफ करेंगे यह इस बात पर निर्भर करता है कि वर्तमान में आपकी त्वचा किस हालत में है। अगर आपके चेहरे पर मेकअप है तो पहले आप इसे नारियल तेल की मदद से हटा लें और उसके बाद चेहरे को पानी से धो लें। चेहरे की सफाई नारियल पानी से सही होती है। शहद से भी चेहरा अच्छे से साफ होता है। गाल, सर और पूरे चेहरे पर क्लीन्सर गोलाई में घुमा कर लगायें और इसे 10 मिनट तक छोड़ दें। इसे साफ टिश्यू से पोछ लें। उस टिश्यू को दुबारा फेसिअल के दौरान इस्तमाल ना करें।

आराम से एक्स्फोलिएट करें:

दूसरे स्टेप में आपको चेहरे पर स्क्रब लगाना है। आप घर पर ही स्क्रबर बना सकती हैं या फिर मार्किट से भी ले सकती हैं। ज़्यादा देर तक चेहरे पर स्क्रब नहीं करें क्यूंकि इससे त्वचा खराब हो सकती है। स्क्रब लेकर चेहरे पर अच्छी तरह से मसाज करें। नाक के पास और होठों के नीचे अच्छे से स्क्रब करें। स्क्रब करने के 8 से 10 मिनट बाद चेहरे को धो लें।

स्टीम पर समय दें:

तीसरे स्टेप में स्टीम की बारी आती है। यह थोड़ा कठिन लग सकता है पर इससे आपको काफी आराम मिलेगा। स्टीम फेसिअल का अभिन्न अंग है और आप इसे स्किप ना करें। गर्म पानी पतीले में डाल लें और एक तौलिया साथ में रखें। तौलिये से सर को ढकें और गर्म पानी के स्टीम को अन्दर लें। इससे आपके चेहरे पर थोड़ा पसीना होगा पर इससे चेहरे को फायदा होगा। स्टीम लेने के 6 से 8 मिनट बाद अगले स्टेप के लिए तैयार हो जायें जिसे कहते हैं टोनिंग।

टोनिंग:

ट्वीज़र की मदद से पूरे चेहरे से ब्लैकहैड और वाइटहेड निकाल लें। अगर आपके चेहरे पर कील मुहांसे हैं तो उनपर ट्वीज़र का इस्तमाल ना करें। ऐसा करने के बाद चेहरे को अच्छी तरह से पोंछ लें। अब चेहरे पर कॉटन की मदद से टोनर लगा लें। अंत में फेस मास्क लगायें: एक बार फेस टोनिंग हो जाए तो आखिरी स्टेप है फेस मास्क लगाना। फेस मास्क के लिए आप अपनी मनपसंद ब्रांड के साथ जा सकते हैं या फिर पल्पी फ्रूट को चुनें जो आपकी त्वचा को भी सूट करता हो। गाढ़ा फेस पैक बना कर पूरे चेहरे पर लगा लें और अगले 20 मिनट तक रिलैक्स करें। इस मास्क को पूरी तरह से सूखने दें और उसके बाद धो लें। सूखे मास्क को धो लें और उसके बाद पूरे चेहरे पर गुलाबजल लगा लें। आपके फेसिअल की प्रक्रिया ख़त्म हो चुकी है और अब 24 घंटे का इंतज़ार करें और चेहरे पर असर महसूस करें।

विश्व मोटापा दिवस आज: इन 11 सूपर फूड को खा कर करें मोटापे की छुट्टी

Wednesday, October 11 2017

विश्व मोटापा दिवस आज: इन 11 सूपर फूड को खा कर करें मोटापे की छुट्टी

मोटापा कोई बीमारी नहीं है बल्‍कि यह हर बीमारी की शुरुआत है। यह एक ऐसा अभिशाप है जिससे अगर मुक्‍ती ना पाया गया तो यह कल को आपकी जान भी ले सकता है। आज विश्‍व ओबेसिटी दिवस है इसलिये जरुरी है कि आप इस बीमारी के बारे में अच्‍छी तरह से जान लें। विश्व मोटापा विरोधी दिवस मनुष्य के मोटापा रोकने की ओर पहल है। WHO के अनुसार दुनिया भर में एक अरब 20 करोड़ लोग मोटे लोगों की श्रेणी में हैं। भारत में शायद ढ़ाई करोण लोग इस समस्‍या से जूझ रहे हैं। विश्व मोटापा दिवस मोटापे की समस्या को कम करने के लिए मनाया जाता है। डायटिंग के चक्‍कर में दिन भर खाती हैं सलाद तो, झेलिये ये नुकसान ओबेसिटी से लड़ने के लिये जरुरी है कि आप अपनी डाइट को हेल्‍दी रखें। इसलिये आज हम आपको कुछ ऐसे 11 आहार बताएंगे जिसे खाने के बाद आपका वजन कम होने लगेगा। ओटमील अपने दिन की अच्‍छी शुरुआत करने के लिये नाश्‍ते में ओटमील खाएं। इसमें हाई फाइबर होता है जिसको खा कर पेट अधिक समय तक भरा-भरा रहता है। इसको खाने से ब्‍लड शुगर नहीं बढता। इसमें दालचीनी पाउडर मिला कर खाएंगे तो वजन कंट्रोल में रहेगा।

अंडा

अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो रोज दो अंडे जरुर खाइये। अंडे में प्रोटीन और अमीनो एसिड पाया जाता है। यह शरीर का मैटाबॉलिज्‍़म बढाता है जिससे पतले होने में मदद मिलती है। अंडे को खाने से कोलेस्‍ट्रॉल भी बढता है, तो ऐसे में अंडे का सफेद भाग ही खाएं तो बेहतर होगा।

चुकंदर

यह मैग्नीशियम का एक उत्कृष्ट स्रोत है। यह एक यौगिक है जो स्थिर रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। यदि आपको बार बार भूख लगती है तो अपने खाने मे बीटरूट जरुर शामिल करें क्‍योंकि यह भूख को दबाता है।

सेब

सेब में लो कैलोरी होती है तथा फाइबर भरा हुआ होता है। इसमें एंजाइम होता है, जो भोजन को पचाने में मददगार होता है और इसको खाने से पेट भी देर तक भरा रहता है। अगर भूंख लगी हो तो आप दिनभर में कम से कम 2-3 सेब आराम से खा सकते हैं, इससे कोई नुकसान नहीं होगा।

ग्रीन टी

यह एंटीऑक्‍सीडेंट का स्रोत होता है। साथ ही यह फैट को बर्न करती है और शरीर के मैटाबॉलिज्‍म को भी बढाती है। अगर आप रोजाना दो-तीन कम ग्रीन टी के पिएंगी तो आप बैड कोलेस्‍ट्रॉल से राहत पा सकती हैं।

अदरक

क्‍या आप जानते हैं कि अदरक किस तरह से वजन कम करने में लाभकारी होता है। यह आपके पेट को खराब होने से बचाता है साथ ही कोल्‍ड और कफ से मुक्‍ती भी दिलाता है। अदरक के जूस में पावरफुल एंजाइम्स होते हैं जो ज़्यादा फैट को अवशोषित कर कोशिकाओं को अक्षम कर देते हैं, और इससे वजन कम होता है।

मिर्च

यह शरीर में व्याप्त अवांछित कैलोरी जलाने में मददगार साबित हो सकती है। मिर्च गरम होती है और इसको खाने से व्‍यक्‍ति का चेहरा लाल पड़ जाता है तब शरीर से पसीने के रुप में एक प्रकार का रसायन निकलता है जो खाने को गरमी में बदल कर शरीर से बाहर करता है। इस प्रकार की डाइट मोटे लोगों के बड़े काम की होती है जिसके असर से शरीर में खाना बिना रुके ही बर्न हो जाता है।

दालचीनी

एक चुटकी दालचीनी आपके भूख को रोक सकती है। स्‍टडी के अनुसार यह बताया गया है कि जो लोग अपने भोजन में दालचीनी प्रयोग करते थे वह उन लोगो की तुलना में जो दालचीनी का प्रयोग नहीं करते थे, वजन कम किया।

संतरा

संतरे खा कर आप अपने शरीर का मेटाबॉलिज्‍म तेज बना सकते हैं। इसमें ढेर सारा विटमिन सी होता है जो कि फैट लॉस करने के लिये एक बहुत ही जरुरी चीज़ है। अगर आप अपनी तोंद को कम करना चाहते हैं तो रोजाना स्‍नैक टाइम में दो संतरे तो जरुर ही खाएं।

पालक

आप चाहें तो डाइट मे पालक या पालक का जूस ले सकते हैं। पालक के जूस में प्रोटीन और एंटी-ओक्सीडेंट्स की अधिकता होती है जिससे मैटाबोलिक रेट काफी हद तक बढ़ती है और शरीर का वजन जल्दी कम करने में मदद मिलती है।

अलसी

अलसी के बीज का प्रयोग वजन कम करने, कोलेस्ट्रोल की नियंत्रित करने और ब्लड शुगर के लिए भी लाभ पाने के लिए किया जाता है। अलसी के बीज में उच्च मात्रा में फाइबर होता है, जो कि वजन को कम करने में मदद करता है।

पीएम मोदी से शादी करने की जिद में धरने पर बैठी है ये महिला, 1 महीने से है भूख हड़ताल पर

Wednesday, October 11 2017

पीएम मोदी से शादी करने की जिद में धरने पर बैठी है ये महिला, 1 महीने से है भूख हड़ताल पर

जीं हां एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एक महिला हमारे देश के पीएम नरेंद्र मोदी से शादी करने के लिए धरने पर बैठी है। आइए जानते है जयपुर की रहने वाली है ये महिला दरअसल आपको बता दें कि शांति शर्मा नाम कि ये महिला जयपुर की और इसकी उम्र 45 वर्ष है। शांति पिछले 1 महीने से धरने पर बैठी हुई है और उनकी मांग है कि वो मोदी जी उनसे से शादी करें। 2 करोंड़ का खुद देगी दहेज शांति शर्मा कहती है कि अगर माननीय पीएम उनसे शादी करेगे तो वो 2 करोड़ का दहेज भी देने को तैयार है। दरअसल इनके पति ने 1989 में इनको छोड़ दिया था इसके बाद शादियों के कई प्रस्ताव आने के बाद भी इन्होने शादी नहीं की। मोदी जी कि लिए धड़कता है दिल इस महिला का कहना है कि उनको लगता है कि मोदी जी एक ऐसे इंसान है जो उसको समझ सकते है। शांति शर्मा ने कहा कि उनका दिल सिर्फ मोदी जी के लिए ही धड़कता है। पुश्तैनी जमीन बेंचकर देंगी दहेज के पैसे पूछने पर इस महिला ने बताया कि वो 2 करोड़ रुपए का इंतजाम अपनी पुश्तैनी जमीन बेंचकर करेंगी। मोदी जी से शादी करने के लिए वो ऐसे ही भूख हड़ताल पर बैठी रहेंगी।

18 साल के लड़के ने बनाई ब्रेस्ट कैंसर को खत्म करने वाली ब्रा

Wednesday, October 11 2017

18 साल के लड़के ने बनाई ब्रेस्ट कैंसर को खत्म करने वाली ब्रा

आप तो जानते ही होंगे कि कम उम्र के लड़के हमेशा अपने स्कूल और खेलकूद में ही लगे रहते है। अक्सर देखा जाता है कि कुछ लड़के मोबाइल और लैपटॉप में समय गुजारते है तो कुछ दिन भर अपनी ही जिंदगी में मस्त रहते है। कई बार देखने में आता है कि 18 साल तक के बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता और वो हमेशा अपने दोस्तो के साथ ही घूमते फिरते रहते है। ये ऐसी उम्र होती है जिसमें बच्चे अक्सर कई गलतियां भी करते है। लेकिन भी नहीं कह सकते कि हर बच्चे ऐसा ही होगा क्योंकि एख लड़के ने अभी हाल ही में एक ऐसा काम किया है जो अमूमन उसकी उम्र के बच्चे नहीं करते है। इस बच्चे ने अपनी छोटी सी उम्र में ही एक ऐसी चीज बनाई है जो कि कैंसर तक को मात दे सकती है। आइए जानते है कि कौन है लड़का और इसने क्या बनाया है.... ब्रेस्ट कैंसर से बचाएगी ये ब्रा मैक्सिको में रहने वाले 18 साल के जूलियन ने एक ऐसी ब्रा बनाई है जो बनाई है जो इस समय की महिलाओं की सबसे गंभीर समस्या के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायक है। दरअसल इस समय महिलाओं में सबसे ज्यादा समस्या ब्रेस्ट कैंसर की है। जूलियन ने एक ब्रेस्ट कैंसर से बचने के लिए ये ब्रा बनाई है जो कि महिलाओं के लिए वरदान साबित होगी। 13 साल के जूलियन के मां को हुआ था ब्रेस्ट कैंसर जूलियन ने जिस कारण ये ब्रा बनाई है उसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण है। दरअसल जब जूलियन 13 साल के थे तब इनकी मां को ब्रेस्ट कैंसर हुआ था और डाक्टरों ने तो ये भी कह दिया था कि उनकी मां अब नहीं बचेगी। उनकी मां के ब्रेस्ट का कैंसर एक महीने में एक चावल के दाने से बढ़कर गोल्फ की बॉल की इतना हो गया था। एक घंटे पहननी है ये ब्रा इस ब्रा की खासियत ये है कि इसको पहनने से आपका ब्रेस्ट कैंसर खत्म हो जाएगा और अगर होने वाला होगा तो पता चल जाएगा। इस ब्रा को आपको रोज नहीं पहनना है बल्कि आपको इस ब्रा को सिर्फ एक हफ्ते में एक बार पहनना है। ऐसा करने से आप इस गंभीर और जानलेवी बीमारी से बची रहेगी। तीन दोस्तो ने मिलकर बनाई ये ब्रा इस ब्रा को बनाने में जूलियन और उसके तीन दोस्तो ने मदद की है। इसको आप स्मार्ट ब्रा भी कह सकते है। इस ब्रा को पहनने के बाद पता चलता है कि ये ब्रा आपके ब्रेस्ट का टेंपरेचर, कलर और टेक्सचर नापती है। इसके बाद अगर आपके ब्रेस्ट में कोई भी खतरा होता है तो ये आपको सावधान कर देती है। स्मार्टफोन में मिलेगा एलर्ट इस ब्रा की खासियत ये है कि आप इस ब्रा को पहनने के बाद अगर आपके ब्रेस्ट में कुछ भी दिक्कत होगी तो ये आपके ब्रेस्ट को चेक करके आपके स्मार्टफोन में इसका एलर्ट सेंड कर देगा जिसके बाद आप अवेयर हो सकते है। आपको एलर्ट मिलते ही आप इसका जल्द इलाज करा सकते है। ब्रा में लगे है 200 सेंसर इस ब्रा में नई टेक्नॉलॉजी के चलते 200 सेंसर भी लगाए गए हैं जो होने वाली गतिविधियों का अपडेट देता है। अगर आपको ब्रेस्ट कैंसर होने वाला होगा या कोई और बीमारी होने वाली होगी तो आपको इसका पता चल जाएगा।

टेस्‍टी तरीके से वजन कम करना है तो पिएं ग्रीन टी स्‍मूदी

Wednesday, October 11 2017

टेस्‍टी तरीके से वजन कम करना है तो पिएं ग्रीन टी स्‍मूदी

आज कल जो भी वजन कम कर रहा है वह अपनी डाइट में ग्रीन टी को जरुर शामिल करता है। हम सब जानते हैं कि ग्रीन टी के कई फायदे हैं। बाजार में अनेकों प्रकार की ग्रीन टी उपलब्ध हैं जो कि फ्लेवर और कैफीन में अलग - अलग प्रकार की हैं। ग्रीन टी मेटाबॉलिज्‍म को बढाती है जिससे मोटापा कम करने में मदद मिलती है। ग्रीन टी जिसे कुछ लोग हरी चाय भी कहते हैं अनेक प्रकार से स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक है। जब आप ग्रीन टी पीते हैं तो आपको पता होता है कि यह आपका वजन कम करेगी, त्‍वचा को चमकदार बनाएगी और बालों को मजबूती देगी। इसके सेवन से हमारे शरीर की गंदगी भी बाहर निकलती है। अगर आप वजन कम करने के चक्‍कर में बहुत ज्‍यादा ग्रीन टी पीते हैं तो यह आपको नुकसान भी पहुंचा सकती है। वैसे आज हम यहां पर ग्रीन टी के नुकसान के बारे में बात करने नहीं आए हैं बल्‍कि इससे स्‍मूदी कैसे बनेगी इसके बारे में बात करेंगे। अगर आपको ग्रीन टी का वही फीका स्‍वाद अब खराब लगने लगा है लेकिन फिर भी आपको उसे पीना है तो परेशान ना हों। ग्रीन टी पीने का सही तरीका और सही समय क्या है? ग्रीन टी भी एक डिलीशियस ड्रिंक बन सकती है। आप चाहें तो इससे बड़ी ही टेस्‍टी स्‍मूदी बना कर सुबह नाश्‍ते में पी सकते हैं। जी हां, मोटापा कम करने के लिये नाश्‍ता करना बहुत ही जरुरी है क्‍योंकि नाश्‍ता ना करने से मेटाबॉलिज्‍म धीमा पड़ जाता है। नाश्‍ते में ऑइली और जंक फूड ना खा कर आपको फलों और सब्‍जियों से मिली जुली स्‍मूदी पीनी चाहिये। अगर स्‍मूदी में आप ग्रीन टी मिला लें तो सोने पर सुहागा हो जाएगा। जी हां ग्रीन टी को भी स्‍मूदी में डाला जा सकता है। यह स्‍मूदी आपको तमाम तरह के हेल्‍थ बेनिफिट देगी इसलिये इसे एक बार जरुर ट्राई करे। आपको कोई बताने की जरुरत नहीं है कि स्‍मूदी में ही सब्‍जियां डालने से कितना फायदा मिलता है। इसलिये इस स्‍मूदी में हम पालक डालेंगे, जिसमें आयरन काफी मात्रा में भरा होता है। जिन लोंगो को सब्‍जी खाना पसंद नहीं है वो स्‍मूदी में डाल कर इसका सेवन कर सकते हैं। इससे आपको भरपूर मात्रा में फाइबर और एंटी ओक्सिडेंट्स मिलते हैं। सबसे बड़ी बात इसे बनाने में दस मिनट से ज्यादा नहीं लगते हैं और आपको मजेदार स्वाद मिलता है। गोभी, ब्रोकोली, पालक, आदि जैसे सब्जियां सम्मिलित करने से, आपको कई पोषक तत्वों को अपने शरीर में अवशोषित करने में मदद मिलेगी। यह स्‍मूदी आपको तमाम तरह के हेल्‍थ बेनिफिट देगी इसलिये इसे एक बार जरुर ट्राई करे। आइये जानते हैं इसे बनाने की विधि - आइये जानते हैं इसे बनाने की विधि - बनाने में समय- 10 मिनट कितने लोंगो के लिये- 1 सर्विंग सामग्री- 100 मिलीलीटर / 1 कप बनी हुई ठंडी ग्रीन टी 100 ग्राम / एक मीडियम साइज का केला 30 ग्राम / 1 कप बेबी पालक 1 चम्मच नारियल का तेल 1 चम्मच शहद टॉपिंग्स (वैकल्पिक) 1/2 मनपसंद बेरी 1 सर्विंग प्रोटीन पावडर

कैसे बनाएं ग्रीन टी स्‍मूदी-

सभी सामग्रियों को 30-45 सेकेंड के लिये मिक्‍सर में चलाएं। जब देंखे की मिश्रण पूरी तरह से घुल चुका है तो इसे िगिलााामें निकालें। लें।लेंलेलस सकाकन टी स्‍मूदी तैयार है सर्व करने के लिये।

इन 4 कारणों की वजह से शादी के पहले नहीं करनी चाहिये क्रैश डाइट

Wednesday, October 11 2017

इन 4 कारणों की वजह से शादी के पहले नहीं करनी चाहिये क्रैश डाइट

शादी की प्‍लानिंग बनाना बड़ी ही महनत का काम है और वे लड़कियां जो खासकर दुल्हन बनने वाली हैं उनके लिये तो समझो वजन कम करना एक बड़ा चैलेज है। कसरत करने और सही डाइट प्‍लान फॉलो ना करने की बजाए महिलाएं तुरंत स्‍लिम होने के लिये क्रैश डाइट करने लगती हैं। लेकिन यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है और लंबे समय के लिये इससे सफलता नहीं मिलती। वे कभी सुबह का नाश्ता छोड़ देती रही हैं, तो कभी लंच स्किप कर देती हैं। जो क्रैश डाइट लेती हैं उन्‍हें शादी के बाद हार्मोन और स्किन से संबंधित बीमारियों की शिकार होना पड़ता है।

क्‍या होती है क्रैश डाइट?

क्रैश डाइट एक तरीका है जिसमें कैलोरी का सेवन कम किया जाता है, जिससे कम समय में वजन कम हो सके। पूरा खाना खाने के बजाए केवल सूप या फल पर गुजारा करना पड़ता है। दिनभर खुद को भूखा रखना क्रैश डाइट में ही शामिल है। हर इंसान को लगभग 1200-1500 के बीच की कैलोरीज़ खानी पड़ती है। पर वे लोग जो क्रैश डाइट करते हैं वो केवल 600-800 कैलोरी तक ही खाते हैं। जरूरत से ज्यादा वजन कम करने पर थकान, चिड़चिड़ापन, हार्मोन्स में बदलाव, थकी त्वचा, आंखों के नीचे काले घेरे होने जैसी समस्याएं सामने आती हैं। आप अपने शरीर को पूरा पोषण नहीं दे पाती अगर आप दिनभर भूखी रहेंगी तो आपके हार्मोन्‍स पर उसका सीधा असर पड़ेगा। साथ ही इम्‍यूनिटी घटेगी जिससे 10 तरह की बीमारियां लगेगी। शरीर में हीमोग्लोबिन कम होने लगता है, जिससे एनीमिया की समस्या होती है। नतीजा कमजोरी और थकान। चेहरे से चमक गायब हो जाएगी फैट और कार्ब ना खाने की वजह से आंखों के नीचे थकान और सूजन दिखाई देने लगेगी। साथ ही बालो की मजबूती चली जाएगी। आपका वजन तुरंत ही बढ़ जाएगा जब आप ढंग से पूरी कैलोरीज़ नहीं लेंगी तो आपकी बॉडी को काम करने के लिये मासपेशियों की टिशू से एनर्जी लेनी पड़ेगी। ऐसे में आपके शरीर से फैट नहीं बल्‍कि मसल घटेगा, जिससे मेटाबॉलिज्‍म धीमा हो जाएगा। और फिर जब आप नॉर्मल खाना खाएंगी तब आपका वजन झट से और तेजी से बढ़ जाएगा। हमेशा हेल्‍दी खाएं आपको दिनभर 1200-1500 कैलोरी तक खानी होगी। मिठाई और जंक फूड खाइये मगर थोडा सा। दोपहर के खाने में खासतौर से स्प्राउट्स व सलाद लें। दिन में दूध पिएं। सुबह नाश्ते में भीगे बादाम, दूध व कॉर्न फ्लेक्स खाएं। मैदे वाली चीजो से दूर रहें। एक घंटे रेगुलर एक्सरसाइज जरूर करें।

अल्झाइमर से बचने के लिए किसी भी कीमत पर खाएं ये 5 चीजें

Wednesday, October 11 2017

अल्झाइमर से बचने के लिए किसी भी कीमत पर खाएं ये 5 चीजें

अल्झाइमर अधिक गंभीर रोग है, जिसमें लोग खुद को और उनके परिवेश के बारे में सब कुछ भूल जाते हैं। यह रोग धीरे-धीरे अधिक सामान्य हो रहा है। इस रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 21 सितंबर को विश्व अलझाइमर दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह प्रगतिशील है, यानी, लक्षण धीमे हैं और बढ़ते रहते हैं। व्यक्ति पहले सामान्य चीजों को भूल सकता है और वह अपने परिवार को, अपने घरों और यहां तक कि सामान्य चीजों को भी भूल जाते हैं। ऐसा मस्तिष्क में तंत्रिका क्षति के कारण होता है, जिसे अक्सर एपीलोपोप्रिटिन ई नामक एक प्रोटीन के कारण होता है जो मस्तिष्क में प्लेग बनाता है। अल्जाइमर रोग के लिए कोई ज्ञात इलाज नहीं है। हालांकि इस रोग से लड़ने के लिए कुछ सावधानी बरती जा सकती है। एक स्वस्थ आहार कुछ हद तक इस रोग से लड़ने में मदद कर सकता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि जो हम खाते हैं वह अक्सर हमारे दिल और हमारे दिमाग को प्रभावित करता है। एक अच्छी डायट अल्जाइमर रोग को 53 फीसदी तक कम कर सकती है। अल्जीमर रोग से बचने के लिए डायट में यह चीजें शामिल होनी चाहिए।

1) हरी पत्तेदार सब्जियां

विटामिन ए और सी युक्त हरी पत्तेदार सब्जियां अल्जाइमर के लिए बहुत प्रभावी होती हैं। पालक, काले और कोलार्ड जैसी सब्जियां बेहद स्वस्थ होती हैं और डॉक्टर प्रति सप्ताह कम से कम 6-7 बार इन्हें खाने की सलाह देते हैं। जो लोग नियमित रूप से इन सागों को खाते हैं उनकी मानसिक स्थिति में सुधार होता है और सोचने-समझने की शक्ति बढ़ती है।

2) बेरी

बेरी, विशेष रूप से ब्लूबेरी अल्जाइमर के इलाज के लिए बहुत प्रभावी है। यह स्मृति हानि को रोकती है और मस्तिष्क के स्वास्थ्य में सुधार करती है। ये मस्तिष्क के संज्ञानात्मक कार्य को भी सुधार करती है।

3) अनाज

साबुत अनाज खाने से यह सुनिश्चित होता है कि आपका आहार अन्य आवश्यक पोषक तत्वों में समृद्ध है, जो आपके शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखते हैं। प्रसंस्कृत खाद्य को आपके दिमाग का सबसे बड़ा दुश्मन कहा जाता है।

4) बीन्स

बीन्स में खूब फाइबर पाए जाते हैं, जो ग्लूकोज लेवल को स्थिर करते हैं और आपके मस्तिष्क में ऊर्जा को बढ़ाते हैं। यह मस्तिष्क को स्थिर करता है और इसके कामकाज को ठीक से काम करने देता है।

5) ओलिव ऑयल

यह स्वस्थ तेलों में से एक है जिसे आप अपनी डायट में शामिल कर सकते हैं। तेल में मौजूद घटक मस्तिष्क के संज्ञानात्मक कार्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। यह स्मृति में सुधार भी करता है और आपको अल्जाइमर रोग से दूर रखने में मदद करता है।

इन 3 औंरतों के कारण बापू ने मरते दम तक नहीं पहने थे कपड़े

Thursday, November 2 2017

इन 3 औंरतों के कारण बापू ने मरते दम तक नहीं पहने थे कपड़े

» इन 3 औरतों के कारण बापू ने मरते दम तक नहीं पहने थे कपड़े इन 3 औरतों के कारण बापू ने मरते दम तक नहीं पहने थे कपड़े Life Updated: Thursday, November 2, 2017, 17:43 [IST] Subscribe to Boldsky गांधी जी का पूरा जीवन वैसे तो दुखों से भरा हुआ रहा है। उन्होने देश को आजाद कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। सत्य, अहिंसा और धर्म मके रास्ते पर चलते हुए उन्होने अंग्रेजों को भारत से भगाकर ही दम लिया था। आपने गांधी जी के कई आंदोलनों के बारे में तो अवश्य ही सुना होगा। इन्ही में से एक था चंपारण आंदोलन। आपको बता दें कि इस आंदोलन को अब 100 साल पूरे हो चुके हैं लेकिन गांधी जी के लिए ये सफर आसान नहीं था। जब वे चंपारण आए थे तो यहां के आम लोग उन्‍हें जानते भी नहीं थे। चंपारण आंदोलन के शुरुआती दिनों में बापू को कई प्रकार का संशय था। आपने बापू को जब देखा तो अक्सर धोती में ही देखा होगा। क्या आप जानते है कि इसके पीछे भी एक कारण था। दरअसल इसके पीछे क्या बात है कि बापू ने मरते दम तक सिर्फ धोती ही पहनी थी। आइए जानते है.... चंपारण से जाने का मिला नोटिस बापू जब चंपारण का आंदोलन कर रहे थे तब उनको बहुत परेशान किया जा रहा था। ऐसे में उनको कई तरह की परेशानियों और प्रताड़नाओं का सामना करना पड़ा था। बापू ने तब भी जब उनकी बात ना मानी और आंदोलन में अडिग रहे तब सरकार के द्वारा उनको चंपारण से जाने का नोटिस आया था। इस दरगाह में जमीन से 2 इंच ऊपर तैरता है पत्थर, जानिए कहां है ये मजार ऑफिसरों ने मना किया गांधी जी ने जब मुजफ्फरपुर के कमिश्वर और एक आला अधिकारी से मुलाकात की तो उन लोगों ने इस बात को यहीं खत्म करने को कहा और चंपारण आंदोलन समाप्त करके किसानों की मदद करने को मना किया गया। बापू ने उनकी बातें मानने से मना किया और आगे बढ़ते रहे। सत्याग्रह की शुरुआत इसके साथ उन लोगों की बातें ना मानकर बापू ने किसानों के लिए सत्याग्रह आंदोलन की शुरुआत कर दी। इन दोनो अधिकारियों ने बापू को जब धमकाया तब ये बातें तीन औरतों को पता थी। और ये औरतें ही इसकी गवाह थी। औरतों के पास नहीं थे कपड़े सत्याग्रह और चंपारण के आंदोलन के दौरान जो हुआ इसकी गवाही के लिए तीन औरतों को आना था। उन औरतों के पास आने के लिए साड़ी नहीं थी। उन तीनों के पास सिर्फ एक ही साबुत साड़ी थी। ऐसी समस्या होने के बात गवाही पर संकट के बादल उमड़ रहे थें जो कि बहुत जरूरी थी। एक एक करके आई औरतें इसके बाद जो हुआ वो हमारे आपको सोचने पर मजबूर कर देगा। दरअसल उन औरतों ने पहले तो आने से मना कर दिया फिर एक औरत आई जिसके पास साड़ी थी। उसकी गवाही के वो औरत वापस घर गई और दूसरी को अपनी साड़ी दी। ऐसे करके एक ही साड़ी पहन कर उन तीनों ने गवाही दी। इस बात को देखकर गांधी जी को काफी बड़ी धक्का लगा। बापू ने कपड़ें ना पहनने की ली शपथ इसके बाद बताया गया ही गांधी जी ने देखा की उनके देश की जनता का कितना बुरा हाल है। गांधी जी ने कही कि वो भी आज के बाद कपड़े त्याग करके केवल धोती ही पहनेंगें। तब से लेकर अपने मरते दम तक बापू ने सिर्फ धोती ही पहनी। English summary When and why did Gandhi decide to wear dhoti The whole life of Gandhiji is full of sorrows. He had left no stone unturned in liberating the country. While walking on the path of truth, non-violence and religion, he had to take the British away from India. Please Wait while comments are loading...

जीभ पर जमी सफेद परत को जल्‍द करें साफ, पढ़े ये घरेलू नुस्‍खे

Thursday, November 2 2017

जीभ पर जमी सफेद परत को जल्‍द करें साफ, पढ़े ये घरेलू नुस्‍खे

» जीभ पर जमी सफेद परत को जल्‍द करें साफ, पढ़े ये घरेलू नुस्‍खे जीभ पर जमी सफेद परत को जल्‍द करें साफ, पढ़े ये घरेलू नुस्‍खे Wellness Published: Thursday, November 2, 2017, 15:30 [IST] Subscribe to Boldsky जीभ यानि जुबान, जो आपको स्वाद का आभास कराती है, सिर्फ स्वाद पर ही इसकी पकड़ नहीं, बल्कि आपकी सेहत से जुड़े राज भी यह जानती है। जी हां, जीभ के रंग के आधार पर आप भी जान सकते हैं कि आपकी सेहत ठीक है या नहीं। और अगर नहीं है तो आपको अपनी बीमारी के बारे में भी पता चल सकता है। मुंह की सफाई के नाम पर ज्यादातर लोग सिर्फ दांतों की सफाई करते हैं। ऐसे में वह जीभ पर जमी सफेद परत को साफ करना भूल जाते हैं। जीभ की सफाई पर ध्यान देना उतना ही जरूरी है जितना कि दांतों को साफ करना। अगर आप जीभ की गंदगी को साफ नहीं करेंगे तो इससे आपके मुंह से बदबू आने लगेंगी। यूं तो उन लोगों की सफेद जीभ पर सफेद परत नज़र आना बहुत कॉमन है जो बहुत ज्यादा स्मोतकिंग या शराब का सेवन करते हैं, जिनको डीहाइड्रेंशन हो गया हो या हाई फीवर या फिर ऐसे लोग भी जो खाना कम और एंटीबायोटिक दवाइयां ज्यादा खाते हैं। ध्यान रहें, जिन लोगों की जीभ हर वक्त सफेद ही रहती है तो, आपको डॉक्टंर को दिखाना बहुत जरूरी है क्योंकि यह किसी फंगल इंफेक्श्न का संकेत भी हो सकता है। आज हम आपको बताएंगे कि आप किन घरेलू तरीकों से अपनी जीभ को साफ कर सकते हैं। 1. नमक जीभ पर जमी परत को साफ करने के लिए आप नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं। थोड़ा सा नमक अपनी जीभ कर रखें फिर टूथब्रश की मदद से स्क्रब की तरह रगड़े। ऐसा एक हफ्ते तक नियमित रूप से करें। 2. प्रोबायोटिक्स इसके लिए आप प्रोबायोटिक्स कैप्सूल के पाउडर को निकाल कर थोड़े से पानी में मिलाएं। रोज़ की तरह ब्रश करें उसके बाद इस पानी से कुल्ला करें। इसके बाद एक गिलास पानी पीएं। इसको रोज़ करें। इसके साथ आपने खाने में दही खाएं। 3. वेजिटेबल ग्लिसरीन अपनी जीभ पर थोड़ा वेजिटेबल ग्लिसरीन लगाएं फिर टूथब्रश की मदद से स्क्रब की तरह रगड़े। उसके बाद गर्म पानी से मुँह धो दें। इसे दिन में दो बारे करें जब तक आपकी जबान फिर से गुलाबी ना हो जाये। 4. आयल पुल्लिंग रोज़ सुबह ब्रश करने से पहले 1 बड़ा चम्मच नारियल तेल मुँह में भरे और पूरे मुँह अच्छे से घुमाएं। इसे 15 मिनट तक करें या तब तक करें जब तक तेल दूधिया न हो जाए। इसके बाद इसे थूक दें और गर्म पानी से कुल्ला करें। इसे रोज़ करें। आयल पुल्लिंग आप तिल के तेल के साथ भी कर सकते हैं। 5. हाइड्रोजन पेरोक्साइड एक भाग हाइड्रोजन पेरोक्साइड लें और उसे 2 भाग पानी में मिलाएं। अब सॉफ्ट टूथब्रश पर इसे लगाएं और धीरे धीरे स्क्रब करें। इसके बाद इसे थूक दें और पानी से अच्छे से कुल्ला करें। इसे हफ्ते में 3-4 दिन करें। याद रहे हाइड्रोजन पेरोक्साइड आपको निगलना नहीं है। 6. एलोवेरा इसमें एंटीबैक्‍टरियल और एंटी इन्‍फिलिमेट्री गुण होते हैं, जो सफेद जीभ को साफ करने की क्षमता रखता है। मुंह में एलोवेरा जैल ले कर कुछ देर रखें और बाद में उगल दें। इसे आप हफ्ते में दो बार करें। 7. हल्दी हल्दी एक ऐसा मसाला है जिससे जीभ की सफेद परत का इलाज किया जा सकता है। इसके लिए हल्दी पाउडर में थोड़ा सा नींबू का रस मिला लें। इस पेस्ट को जीभ पर मलें। उंगली से मसाज जैसे करें। कुछ देर मसाज करने के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें। इसे रोज़ करें। इसके साथ आप 1/2 चम्मच हल्दी पानी में मिला कर उसे कुल्ला भी कर सकते हैं। 8. बेकिंग सोडा बेकिंग सोडा में नींबू का रस मिला कर उससे जीभ साफ करें। इससे जीभ पर चिपकी गंदगी निकल जाएगी। इसे रोज़ करें। 9. नीम एक कप पानी में 1 चम्मच सूखे नीम के पत्तों को मिला दें। फिर उस पानी को उबाल लें, जब यह लगभग 1/2 कप न हो जाए, तब इसे ठंडा करें। उसके बाद इसी पानी से कुल्ला करें। इसके बाद साफ़ पानी से किल्ला कर लें। इसे तब तक करे जब तक परेशानी ख़त्म ना हो जाए। 10. दही यह एक प्रोबायोटिक पदार्थ है जो बैक्टीआरिया और फंगस दोनों का खात्मा करने में मदद करता है। इसे अपनी डेली डाइट में शामिल जरूर करें। English summary Home Remedies for a White-Coated Tongue You can try home remedy for coated tongue. For example, lemon and salt paste not only helps whiten the teeth, but also cleans the coated tongue. Story first published: Thursday, November 2, 2017, 15:30 [IST] Nov 2, 2017 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...