Health and Fitness

एगलैस चॉकलेट केक रेसिपी : घर पर कैसे बनाएं – एगलैस चॉकलेट केक

Tuesday, November 14 2017

एगलैस चॉकलेट केक रेसिपी : घर पर कैसे बनाएं – एगलैस चॉकलेट केक

मिल्‍क पाउडर : 1 कप चीनी : 1 कप कोकोआ पाउडर - 2 टेबलस्‍पून ताजा क्रीम : 1 कप दूध : 1 कप बेकिंग पाउडर : 1 टेबलस्‍पून सोडा :1/2 टेबलस्‍पून घी टॉपिंग के लिए चॉकलेट चिप्‍स How to Prepare 1. एक बड़े बर्तन में मैदा लें। 2. इसमें दूध और चीनी मिलाएं। 3. अब इसमें कोकोआ पाउडर और कॉफी पाउडर डालें। 4. ताजा क्रीम और दूध मिलाएं। 5. स्‍मूद होने तक इसे अच्‍छी तरह से मिक्‍स करें। 6. अब इसमें बेकिंग पाउडर और सोडा मिक्‍स करें। 7. स्‍मूद होने तक इसे अच्‍छी तरह से मिक्‍स करें। 8. बेकिंग ट्रे पर घी लगाएं। 9. इस घोल को घी लगी ट्रे पर डाल दें। 10. इससे पहले ओवन को 10 मिनट के लिए प्री हीट पर रख दें। 11. केक को मोल्‍ड में डालकर ओवन में 170 डिग्री सेल्‍सियस के तापमान पर 45 से 50 मिनट के लिए रख दें। 12. पकने पर इसे ओवन से बाहर निकाल लें। 13. केक के ऊपर चॉकलेट चिप्‍स डालें। 14. अब केक को वापिस 10 मिनट के लिए ओवन में रख दें। 15. इसके तैयार होने के बाद टूथपिक को केक के बीच में डालें। अगर टूथपिक साफ निकलती है तो इसका मतलब है कि केक पूरी तरह से पक चुका है। 16. केक को मोल्‍ड में से निकाल लें और 15 मिनट के लिए इसे ठंडा होने के लिए रख दें। 17. केक को काटकर सर्व करें। Instructions 1.केक में ताजी क्रीम और मलाई का प्रयोग करें। मक्‍खन का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 2. इसमें डालडा घी नहीं डाला गया है ताकि ये हल्‍का रहे। 3. घोल में गुठलियां नहीं बननी चाहिए। 4· बेकिंग ट्रे पर घी और तेल अच्‍छी तरह से लगाएं। 5. स्‍टेप्‍स – कैसे बनाएं एगलैस चॉकलेट केक Nutritional Information सर्विंग साइज़ - 1 कैलोरी - 260.8 कार्बोहाइड्रेट - 40.2g शुगर - 25.4g

बाल दिवस...भारत ही नहीं बल्कि इन देशों में भी मनाया जाता है बाल दिवस

Tuesday, November 14 2017

बाल दिवस...भारत ही नहीं बल्कि इन देशों में भी मनाया जाता है बाल दिवस

Life » बाल दिवस...भारत ही नहीं बल्कि इन देशों में भी मनाया जाता है बाल दिवस बाल दिवस...भारत ही नहीं बल्कि इन देशों में भी मनाया जाता है बाल दिवस Life Updated: Tuesday, November 14, 2017, 17:19 [IST] Subscribe to Boldsky जैसा कि आप सभी जानते है कि 14 नवंबर का दिन भारत में चाचा नेहरु के जन्मदिन के लिए जाना जाता है। इस दिन को चिल्ड्रेंस डे के रुप में भारत में मनाया जाता है। आपको बता दें कि चाचा नेहरु के जन्मदिन पर ही बाल दिवस मनाया जाता है। दरअसल इसके पीछे एक कहानी छिपी हुई है। हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री श्री जवाहर लाल नेहरू थे और उनको बच्चे बहुत पसंद थे। इसी कारण वो बच्चों में अक्सर रहा करते थे। बच्चों के प्रति इनके स्नेह के कारण ही बच्चे इनको चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे। आज आपको बताएंगे कि भारत के अलावा भी कई ऐसे देश है जहां पर बाल दिवस मनाया जाता है। जी हां दरअसल यहां अलग अलग तारीख को बाल दिवस मनाया जाता है। आज आपको इन देशों के बारे में बताएंगे। आइए जानते है कि वो कौन से देश है जहां पर बाल दिवस मनाया जाता है। बांग्लादेश आपको बता दें कि भारत के अलावा पड़ोसी देश बांग्लादेश में भी बाल दिवस मनाया जाता है। यहां पर बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान के जन्‍मदिन 17 मार्च को बाल दिवस के तौर पर देश भर के स्‍कूलों में सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। भारत की तरह यहां पर भी आज सार्वजनिक अवकाश रहता है। चीन बांग्लादेश ही नहीं बल्कि चीन में भी बाल दिवस मनाया जाता है। यहां पर बाल दिवस 1 जून को मनाया जाता है और इस दिन स्कूलो में छुट्टी रहती है। इस दिन सरकारी और गैरसरकारी कार्यालय भी यहां पर बेद रहते है ताकि बच्चे और बड़े साथ में इस दिन की खुशी मना सकें। इस दिन स्कूलों और कॉलेजों में मौज मस्ती के साथ साथ कई कार्यक्रम भी होते है। इस दिन यहां पर जो सरकारी कर्मचारी है वो बच्चों को अपने पैसों से उपहार देते है। नेपाल हमारे पड़ोसी मुल्क नेपाल में भी बाल दिवस मनाया जाता है। यहां पर इसका आयोजन नेपाली कैलेंडर के अनुसार भद्र 29 को बाल दिवस मनाया जाता है। यह दिन अगस्‍त-सितंबर में पड़ता है। यहां पर ये दिवस राज माता रत्‍ना राज्‍य लक्ष्‍मी देवी शाह के जन्मदिन के अवसर पर मनाया जाता है। पाकिस्तान हमारे देश कभी हिस्सा रहा पड़ोसी देश पाकिस्तान भी बाल दिवस मनाता है। यहां पर ये दिन 1 जुलाई को उन बच्चों की याद में मनाया जाता है। जो आर्मी स्कूल पेशावर के बच्चे आतंकी हमले में मारे गए थे। इस दिन बच्चों और उनके माता पिता के लिए स्कूलों में कार्यक्रम रखे जाते है और बच्चों के हक की बात की जाती है। श्रीलंका बाल दिवस श्री लंका में भी मनाया जाता है। ये यहां पर 1 अक्टूबर को आयोजित किया जाता है। इस दिन श्री लंका में हर स्कूल में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है। बच्चे स्कूलों में इस दिन मस्ती करते है। English summary Children's Day celebrates in Different Countries As you all know that the day of November 14 is known for the birthday of uncle Navaru in India. This day is celebrated in India in the form of Children's Day. Let us know that Children's Day is celebrated on the birthday of uncle Navaru. Please Wait while comments are loading...

सीताफल खाने से पास भी नहीं आती है कैंसर जैसी बीमारियां

Tuesday, November 14 2017

सीताफल खाने से पास भी नहीं आती है कैंसर जैसी बीमारियां

मधुमेह » सीताफल खाने से पास भी नहीं आती है कैंसर जैसी बीमारियां सीताफल खाने से पास भी नहीं आती है कैंसर जैसी बीमारियां Diabetes Updated: Tuesday, November 14, 2017, 14:44 [IST] Subscribe to Boldsky Pumpkin, सीताफल | Health benefits | आयुर्वेद भी मानता है सीताफल को रामबाण | Boldsky आपके शरीर का निरोग रहना आपके लिए बहुत जरूरी होता है। आपके लिए ये बहुत आवश्यक है कि आपको खतरनाक बीमारियों से बचना है। इस समय कैंसर से लेकर दिल की बीमारियां बिल्कुल आम बात हो गई है। लोगो में आसानी से ये बीमारी आपको देखने को मिल जाएगी। इससे बचने के लिए आपको खानपान पर ध्यान देना आवश्यक है। आज आपको एक फल सीताफल की खूबियों के बारे में बताएंगें। जो इन बीमारियों से आपको दूर रखता है। मीठे और स्वादिष्ट फलों में से एक शरीफा या सीताफल खाना सेहत के लिए बहुत फायदेंमंद होता है। औषधीय गुणों से भरपूर सीताफल का सेवन कई बीमारियों को दूर करता है। पेट की गर्मी से परेशान रहते है तो इन घरेलू उपाय से करें इसका इलाज रोजाना सीताफल खाने से आप कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से बचे रह सकते है। आइए जानते है रोजाना सीताफल खाने के अनगिनत फायदे है। आइए जानते है इसको खाने से आपको इसके अलावा क्या लाभ हो सकते है। पढ़िए कैंसर कैंसर एक खतरनाक बीमारी है। ये एक जानलेवा बीमारी है। एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर सीताफल शरीर को फ्री रैडिकल्स से लड़ने में मदद करता है। इस कारण आपको कैंसर जैसी समस्याएं नहीं होती है। इसको खाना आपके लिए फायदेमंद है। मोटापा इसको खाने से आपको मोटापे की समस्या नहीं होती है। सीताफल में पाई जाने वाली कैलरी शर्करा मेटाबोलिस्म को बढाती है इससे आपको भूख में कंट्रोल मिलता है। जिससे आपक पेट सही रहता है और आपको मोटापे जैसी समस्साएं नहीं होती है। खून की कमी के लिए अगर आपके शरीर में खून की कमी है तो आपको शरीफे का सेवन करना चाहिए। इसमें आयरन होता है जो आपके शरीर में खून की मात्रा को बढ़ाता है। इससे आप स्वस्थ रहते है। हड्डियां मजबूत इसके सेवन से आपकी हड्डियों संबंधी समस्याएं खत्म हो जाएंगी। आपको बता दें कि इसमें कैल्शियम और मैग्नीशियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इस कारण आपको इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि ऐसे आपकी हड्डियां मजबूत हो जाती है। प्रेग्नेसी आपको बता दें कि अगर आप गर्भ से है तो आपके लिए इसका सेवन किसी औषधि से कम नहीं है। इसका आपको नियमित सेवन करना चाहिए। इससे भ्रूण के शरीर का सही से विकास होता है। आंखों की रोशनी सीताफल का रोजाना सेवन आपके आंखों की रोशनी बढाती है। इससे आपकी आंखो मे लगा चश्मा भी उतर जाएगा और आपको अगर डिप्रेशन की समस्या रहती है तो ये आपको इससे इससे निकालने में मदद करता है। दांतों और मुंह की बीमारी आपके दातों और मुंह मे अगर कोई समस्या है तो आपके लिए इसके छिलके काफी फायदा पहुचाने वाले है। इसके छिलकों को दांत में रगड़ने से खून आना, बदबू, सूजन इत्यादि कम हो जाती है। डायबिटीज आपको अगर शुगर की समस्या है तो ये सीताफल का सेवन आपके लिए काफी फायदेमंद है। इसमें लो कैलरी और एंटी हाइपर ग्लाइसेमिक के गुणों के कारण इससे शुगर कंट्रोल में रहती है। इसके सेवन से आपका शुगर नॉर्मल रहता है। पाचन तंत्र आपको बता दें कि सीतफल का इस्तेमाल आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है। यह आंतों से टोक्सिन को बाहर निकाल कर पाचनतंत्र को स्वस्थ रखता है। जिससे सीने में जलन, एसिडिटी, छालों और गैस जैसी प्रॉब्लम दूर होती है। इसलिए इसका सेवन जरूर करें और स्वस्थ रहें। दिल की बीमारियां आपको अगर किसी भी तरह की दिल से संबधित समस्याएं है तो आपको सीताफल का सेवन करना चाहिए। इससे आपको दिल की गंभीर समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा। ये एक असरदार घरेलू इलाज है। इसका सेवन आप जरूर करें। English summary 10 Amazing Health Benefits Of Custard Apple It is very important for you to be healthy for your body. It is very important for you to avoid dangerous diseases. At this time from cancer to heart diseases has become very common. Please Wait while comments are loading...

स्ट्रीट फूड है पसंद! तो खाने से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल

Tuesday, November 14 2017

स्ट्रीट फूड है पसंद! तो खाने से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल

डाइट-फिटनेस » स्ट्रीट फूड है पसंद! तो खाने से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल स्ट्रीट फूड है पसंद! तो खाने से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल Diet Fitness Published: Tuesday, November 14, 2017, 15:27 [IST] Subscribe to Boldsky इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, पुसा (आईएचएम) ने हालही में पूरे दिल्ली के स्ट्रीट फूड जैसे गोलगप्पे और मोमोज़ के कुछ सैंपल लिए थे। जिन्हे लैब में टेस्ट करने के बाद यह पता चला कि इसमें ईकोली नामकबैक्टीरिया पाया गया है। ईकोली के शरीर में जाने से दस्त या गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी बीमारियां होती हैं। गैस्ट्रोएंटेराइटिस एक ऐसी बिमारी जिसमें पेट या आंतों में सूजन हो जाती है। ईकोली बैक्टीरिया ज्यादातरस्ट्रीट फूड में पाया जाता है फिर वह कटे हुए फल हों या अन्य कोई खाद्य पदार्थ। यह बैक्टीरिया ज्यादातर गर्मी के मौसम में ज्यादा पनपता है। मुँह में पानी लाने वाले 20 स्ट्रीट फ़ूड इसीलिए आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहें हैं जिससे आप गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी से बच सकते हैं। क्योंकि स्ट्रीट फ़ूड ऐसा खाना है जिसे आप लंबे समय तक नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं। और कई लोग ऐसे हैं जिन्हें यह खाना बहुत पसंद होता है और जब उनके सामने यह फ़ूड आता है तो वे बिना कुछ सोचे समझे बस खाने लग जाते हैं। तो आज हम आपको आपको कुछ ऐसी टिप्स देने जा रहें हैं जिन्हें ध्यान में रखने से आप बीमार भी नहीं होंगे और स्ट्रीट फ़ूड का मज़ा भी ले सकेंगे। 1. प्लेट को साफ करें: जब कभी भी अगर आप बाहर खाना खाएं तो इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि जिस भी बर्तन या प्लेट में खाना खाने जा रहें हैं, वह साफ़ हो। और अगर वह साफ़ नहीं है तो उसे वहीँ टिशू पेपर से साफ़ करें या दूसरी साफ़ प्लेट मांगे। 2. आस पास देखें सड़क पर खाना खाने से पहले यह जरूर देखने कि जहां खाना बन रहा है वह साफ़ है की नहीं। और जो भी सब्ज़ी या अन्य मसाले उसमें डाले जा रहें हैं वह ठीक है की नहीं। क्यों कि अगर कोई भी चीज़ गंदगी से मिल कर आपके भोजन में जायेगी। वह आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह होगी। 3. जूस कैसा है अक्सर लोग घर से बाहर निकलते हैं तो एक बार जूस जरूर पीते हैं। ऐसी दुकाओं से जूस पीते वक़्त यह जरूर देखें कि जूस निकालने के बाद वह जिस जग में डाल रहा है वह साफ़ हो। और यह भी देखें कि जूस निकालने से पहले वह जग साफ़ पानी दे धो रहा है कि नहीं, क्योंकि अक्सर उनकी दूकान में पानी से भरा एक टब रखा रहता है जिसमें वे जग धो देते हैं। 4. कटे हुए फल ना खाएं गर्मियों में सड़क के किनारे कटे खरबूजे, आम, तरबूज, और पपीता मिलता है और लोग इन्हे बड़े चाव से खाते हैं। लेकिन हमारा यह सुझाव है कि ऐसा बिलकुल ना करें। ऐसे फल खाने से कई तरह की आपको बीमारी दे सकते हैं। क्योंकि कटे हुए फल को तुरंत फ्रिज में करना चाहिए। नहीं तो इनमें बैक्टीरिया पनप जाते हैं। 5. बर्फ से बचें सड़क पर मिलने वाले पिए पदार्थ ना पीएं खास कर वह जो गर्म हों। क्योंकि ऐसा कुछ भी आप अगर पीते हैं तो उसमें बैक्टीरिया होने की सम्भाना ज्यादा होती है। यही नहीं उसे ठंडा करने के लिए उसमें बर्फ डाल देते हैं और यह भारतीय रेस्तरां में बहुत होता है। तो ऐसे पिए पदार्थ को बिलकुल ना पियें। 6. चाय आप कहीं पर भी पी सकते हैं फिर चाहे वहां गंदगी ही क्यों ना हो। ऐसा इस लिए है क्योंकि चाय में पड़ने वाला पानी, दूध, चीनी सब कुछ गर्म किया जाता है। और इस उसमें किसी भी तरह के बैक्टीरिया नहीं होते हैं। 7. सफाई देखें क्या वो दुकानदार गंदा पुराना चाक़ू इस्तेमाल कर रहा है या चोप्पिंग में दरारे हैं। तो ऐसी जगह पर खाना ना खाएं। क्यों ऐसी जगह खाना खाने से आप बीमार पड़ सकते हैं। तो किसी साफ़ जगह को ढूढ़े और वह खाएं। 8. वहीँ खाएं जहाँ स्थानीय लोग खाते हैं अगर आप सड़क पर घूम रहें हैं और किसी दूकान पर कोई भी स्थानीय ग्राहक खाना नहीं खा रहें है तो इसका मतलब है यहाँ कुछ गड़बड़ है। अगर आप किसी नए शहर में स्ट्रीट फ़ूड ढूढ़ रहें हैं तो हमेशा ऐसी जगह जाएँ। जहाँ स्थानीय लोग ज्यादा हों। इसका एक मतलब तो यह कि यहाँ का खाना अच्छा है और दूसरा कि हो सकता है यहाँ आपको खाने के पैसे कम देने पड़े। 9. सॉस खाने से बचे तो अगर आप बाहर खाना खा रहें हैं तो चटनी और सॉस आपको मिल रहा है तो उसे ना खाएं। चटनी और सॉस ज्यादातर समोसे, चोमिने और मोमोज़ के साथ मिलते हैं। जिन्हें कैसे बनाया गया है यह आपको भी नहीं पता होगा। इसलिए उसे खाने से पहले इस बात का ध्यान जरूर रखें। English summary Shocking News: How Unhygienic is the Street Food We Love To Eat? Always, always look at the utensils you're being served in. If you see traces of oil or dirt then ask for a fresh one. Or at least take a disinfectant wipe or tissue and wipe the plate clean. Story first published: Tuesday, November 14, 2017, 15:27 [IST] Nov 14, 2017 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...

मीट ना खाने से आपके शरीर पर पड़ सकता है ये असर

Tuesday, November 14 2017

मीट ना खाने से आपके शरीर पर पड़ सकता है ये असर

Published: Tuesday, November 14, 2017, 13:30 [IST] Subscribe to Boldsky इस विषय पर काफी बहस हो चुकी है कि मांस खाना सेहत के लिए अच्छा है या नहीं। आपने शायद ऐसी कई बातें सुनी होंगी कि जो लोग शाकाहारी होते हैं उनका सेहत कैसा होता है। हालांकि ऐसी अफवाहों में काफी सच्चाई भी है। यही वजह है कि मांस खाने के पीछे के वास्तविक साइंस के बारे में हमें अच्छे से जानना चाहिए। कई साइंटिफिट स्टडी में पाया गया है कि सभी तरह के मीट और मछली में सैचुरेटेड फैट पाया जाता है और इससे कोलेस्ट्रॉल भी बढ़ता है। इसकी वजह से हृदय संबंधी बीमारियां पैदा होती है। जबकि शाकाहारी भोजन में सैचुरेटेड फैट कम होता है। स्टडी में यह भी साबित हुआ है कि जो लोग शाकाहारी भोजन करते हैं उनका कोलेस्ट्रॉल लेवल घटता है और हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा भी कम रहता है। इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि यदि आप मांस नहीं खाते हैं तो आपके शरीर पर इसका क्या असर पड़ सकता है। 1- वजन घटता है- मांस छोड़ने वाले लोगों का वजन लगभग 10 पाउंड तक कम हो सकता है। उन्हें अपनी कैलोरी बढ़ने की चिंता नहीं होगी और उन्हें ज्यादा वर्कआउट की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। शाकाहारी भोजन सबकुछ परफेक्ट रखने में मदद करता है। 2- पेट में प्रोटेक्टिव बैक्टीरिया बढ़ते हैं- एक स्टडी में पता चला है कि जो लोग शाकाहारी भोजन करते हैं उनके पेट में ज्यादा प्रोटेक्टिव बैक्टीरिया पाये जाते हैं। जबकि मीट खाने वाले लोगों में इसका अभाव होता है। इसलिए मांस न खाने का एक फायदा यह भी है। 3-आपकी त्वचा स्वस्थ दिखती है: शाकाहारी भोजन करने वालों की स्किन पर ज्यादातर पिंपल, ब्लैकहेड्स नहीं दिखायी देते हैं। यदि आप मांस की जगह फल और सब्जियां खाते हैं तो ये सारी दिक्कतें अपने आप गायब हो जाएंगी। 4- आप ज्यादा एनर्जेटिक रहते हैं: मांस न खाने वाले लोगों में एक महत्वपूर्ण चीज यह देखी गई है कि वे दिन में कम थकान महसूस करते हैं। शाकाहारी भोजन केवल वजन बढ़ने और शरीर के विषाक्त पदार्थों को ही नियंत्रित नहीं करता है बल्कि इससे आप खुद को हल्का भी महसूस करते हैं। 5-हृदय रोगों का खतरा कम होता है: रेड मीट खाने से हृदय रोगों का खतरा सबसे ज्यादा होता है। रेड मीट में मौजूद कार्निटिन के केमिकल रिएक्शन के कारण हमारे हार्ट पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। 6-कोलेस्ट्रॉल एक तिहाई कम हो जाता है: यदि आप मांस खाना बंद कर देते हैं तो आपके ब्लड में कोलेस्ट्रॉल का लेवल घट जाता है। इसकी तुलना आप कोलेस्ट्रॉल कम करने की दवा से भी कर सकते हैं। 7-जीन बेहतर कार्य करता है: यदि आप मीट खाने की बजाय सब्जियां खाएं तो आपका जीन काफी बेहतर होगा। यह शरीर के कार्य को सामान्य करने में मदद करता है। 8-पोषण की कमी हो सकती है: यदि आप मांस खाना बंद कर देते हैं तो आपके शरीर में आयोडीन, आयरन, विटामिन डी और बी 12 की कमी हो सकती है। फिर आपको इन पोषक तत्वों से युक्त सप्लिमेंट्स को लेकर इनकी कमी को पूरा करना पड़ेगा। 9-आप अपना टेस्ट सेंस खो सकते हैं: जिंक हमारी जीभ के टेस्ट सेंसेशन के लिए एक आवश्यक तत्व है। रेड मीट और ओइस्टर में अधिक मात्रा में जिंक पाया जाता है। लेकिन शाकाहारी भोजन करने वाले किसी अन्य स्रोत से जिंक ग्रहण कर सकते हैं। 10-मसल्स बनने में समय लगता है: मांसपेशियों को मजबूत रखने के लिए प्रोटीन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। प्लांट प्रोटीन काम शुरू करने में अधिक समय लेते हैं। न्यूट्रिशिएनिस्ट शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों को वर्क आउट के बाद उचित मात्रा में प्रोटीन लेने की सलाह देते हैं। English summary These Things Will Happen To Your Body If You Don't Eat Meat Saturated fat is present in all meats and fish, while a vegetarian diet does not control cholesterol and is low in saturated fat. Story first published: Tuesday, November 14, 2017, 13:30 [IST] Nov 14, 2017 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...

पेट की गर्मी से परेशान रहते है तो इन घरेलू उपाय से करें इसका इलाज

Tuesday, November 14 2017

पेट की गर्मी से परेशान रहते है तो इन घरेलू उपाय से करें इसका इलाज

तंदुरुस्‍ती » पेट की गर्मी से परेशान रहते है तो इन घरेलू उपाय से करें इसका इलाज पेट की गर्मी से परेशान रहते है तो इन घरेलू उपाय से करें इसका इलाज Wellness Updated: Tuesday, November 14, 2017, 12:15 [IST] Subscribe to Boldsky Stomach gas , 8 ways to get rid of gas | पेट में गैस और जलन के ये 8 रामबाण नुस्खें | Boldsky आपके शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा पेट होता है। अगर आपका पेट खराब रहता है तो आपकी तबियत भी सही नहीं रहती है। पेट की जलन आपके लिए काफी परेशान करने वाली होती है। आज हम इस पर बात करेंगे तथा कुछ घरेलू इलाज भी बताएँगे। पेट की गर्मी कई कारणों से होती है और इससे कई प्रकार की बीमारी भी होती है। ज के ज़माने में हम कभी कभी खाने पीने में ध्यान नही देते है और हमे कई बिमारिय घेर लेती है। पेट की बीमारी अक्सर दूषित खाना खाने से होता है। पेट की गर्मी भी तब होता है जब हम खाने में की गलत चीज़ खा लेते है। आज हम इसके घरेलू लाज के बारे में बात करेगें। इसका इलाज आप घर पर ही कर सकते है। इसके लिए आपको बाहर की दवा लाने की आवश्यकता नही है। आइए जानते है पेट की जलन में काम आने वाले घरेलू उपाय... अरहर की दाल अगर आपको पेट की गर्मी की समस्या परेशान कर रहे है तो आपको परेशान नहीं होना है। इसके लिए आपको अरहर की दाल की सहारा लेना है। इसके लिए आपको अरहर की दाल को पीसकर पीना है। ऐसा करने से आपको पेट की जलन से आराम मिल जाएगा। सब्जियों में लगे बैक्टीरिया से होती है खतरनाक बीमारियां, ऐसे करें इनकी सफाई हल्दी से गरारा आपकी इस समस्या को खत्म करन के लिए आपको हल्दी और पानी मिलाकर इससे गरारा करना है। इससे आपको पेट की जलन से आराम मिल जाएगा। ये एक असरदार घरेलू उपाय है। काला नमक और नींबू पानी आपके पेट के लिए काला नमक वैसे भी बहुत उपयोगी माना गया है। आपको बता दें कि अगर आपको पेट की जलन की समस्या है तो आपको काला नमक और नीबूं पानी मिलाकर आपको पीने से इसमे आराम मिल जाएगा। इससे आपके पेट का पाचन भी सही रहेगा। छाछ, नारियल या गन्ने का जूस आपको बता दे कि आपको अदर लिवर संबंधी समस्या हो जाए तो आपको इसके लिए पेट और लिवर तो स्वस्थ रखने के लिए छाछ, नारियल या गन्ने का जूस का सेवन करना चाहिए। इससे आपको इन सारी समस्याओं से आराम मिलेगा। नीम का दातून अगर आपको हमेसा ये समस्या रहती है तो आपको इसके लिए अपने रोजाना की दिनचर्या में नीम की दातून करना शुरु कर देना चाहिए। नीम आपके शरीर से गर्मी को बाहर निकालने में मदद करती है। ये आपके लिए काफी फायदेमंद है। गुनगुना पानी आपको बता दें कि इसके लिए आपको गुनगुना पानी भी काफी फायदा करता है। अगर आपको ये समस्या है तो आप इसका सेवन करें। अगर आप इसके साथ नीबूं का इस्तेमाल करते है तो ये आपको ज्यादा फायदा पहुंचाएगा। नारियल पानी पेट की गर्मी को तुरंत शांत करने के लिए आपको नारियल पानी का सेवन करना चाहिए इससे आपको तुरंत आराम मिल जाएगा। ये आपके लिए किसी रामबाण से कम नही है। इसके नियमित सेवन से आपको पेट की गर्मी की समस्या नहीं होगी। गुड़ का पानी अगर आपके गले में सूजन आ गई है या आपके पेट में गर्मी है तो आपको गुड़ का पानी पीने से इन दोनो समस्याओं से आराम मिलता है। तो आपको इसका सेवन जरूर करना चाहिए। बबूल की छाल आपके पेट की गर्मी को शांत करने के लिए आप आयुर्वेदिक औषधि का भी इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए आपको बबूल की छाल का प्रयोग करना है ये बहुत फायदेमंद औषधि होती है। आपको इसकी छाल को पीसकर पानी में मिलाकर कु्ल्ला करना है ऐसा करने से आपको इससे तुरंत आराम मिल जाएगा। ठंडी चीजों का करें सेवन आपको बता दें कि आपको अगर पेटी की गर्मी से हमेशा के लिए राहत चाहिए तो आपको इसके लिए ठंडी चीजों का सेवन करना चाहिए। इसके लिए आपको नारियल पानी, नीबू, और शहद जैसी चीजें इस्तेमाल करना चाहिए। English summary Home Remedies To Treat Stomach Heat The most important part of your body is the stomach. If your stomach is bad then your health is also not good. Stomach irritation is very distressing for you. Today we will talk about it and tell you some home remedies Please Wait while comments are loading...

जानिए किस ब्लड ग्रुप के लोगों को कौन सी बीमारी का खतरा ज्यादा रहता है?

Monday, November 13 2017

जानिए किस ब्लड ग्रुप के लोगों को कौन सी बीमारी का खतरा ज्यादा रहता है?

Published: Monday, November 13, 2017, 19:00 Health Risks according to Blood Group | ब्लड ग्रुप से पहचानें बिमारियों का खतरा | Boldsky आपका ब्लड ग्रुप आपके बारे में सब कुछ बताने के साथ साथ यह भी बताता है कौन सा ब्लड ग्रुप आपके लिए कितना खतरनाक हो सकता है। आप अपने ब्लड ग्रुप से यह भी जान सकते हैं कि आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर क्या समस्याएं हो सकती हैं। इसलिये अपने ब्लड ग्रुप के बारे में जानकारी का होना बहुत ही ज्यादा जरुरी है। बहुत से लोगों को अपने ब्लड टाइप के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है क्योंकि ब्लड डोनेट करते समय आपको अपने ब्लड ग्रुप के बारे में जानकारी होनी चाहिए। समय रहते सही ब्लड का मिलना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यदि आपका ब्लड ग्रुप O है तो आपको ब्लड क्लाटिंग होने का खतरा कम होता है। जो लोग A, B, और AB ग्रुप के होते हैं उनमे लगभग 30% ज्यादा इसकी समस्या रहती है। ब्लड ग्रुप AB वालों को 20% ज्यादा ब्लड क्लाटिंग की दिक्कत होती है। O पॉजिटिव या नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं कम होती हैं और उनमे गैस्ट्रिक कैंसर का खतरा भी कम होता है। A और AB ब्लड ग्रुप वाले लोगों को यह फायदा होता है कि उनमें पेप्टिक अल्सर की संभावना O ब्लड ग्रुप वाले लोगों से कम होती है। O ब्लड ग्रुप वाले लोगों में लगभग 23% कम ह्रदय की बीमारी होने की संभावना होती है। अगर हम स्टडी की बात करते हैं तो इसके अनुसार AB और B ब्लड ग्रुप वाले लोगों को स्वास्थ्य संबंधी ख़तरा ज्यादा होता है। जो लोग O ब्लड ग्रुप के होते हैं उनमें पैंक्रियाटिक कैंसर का खतरा कम होता है जबकि ग्रुप A वाले को 32% और AB वाले लोगों को 51% इसके होने का खतरा होता है। टाइप B वाले लोगों में इस पैंक्रियाटिक कैंसर के होने की संभावना लगभग 72% होती है। ब्लड ग्रुप AB वाले 23% तो ग्रुप B वाले लोग 11% ह्रदय संबंधी बीमारी से ग्रसित होते हैं। A, B और AB ग्रुप वाले लोगों में पेट का कैंसर O ब्लड ग्रुप वाले लोगों की तुलना में कम होता है। अध्ययन में यह पाया गया है कि O ब्लड ग्रुप की तुलना में ग्रुप A और B वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना ज्यादा होती है। एक अध्ययन में यह पाया कि 500 लोगों में से जो लोग AB ब्लड ग्रुप वाले होते हैं वो बाकी ब्लड ग्रुप वाले लोगों की तुलना में अपने स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा परेशान रहते हैं। English summary Which Blood Group Are You? Find Out The Health Conditions That Could Affect You Based On This Find out the health condition that youre at risk based on the blood group you belong to! Story first published: Monday, November 13, 2017, 19:00 [IST] Nov 13, 2017 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...

डेली ड्रिंक करने वाले, इन सुपरफूड्स से रखे लीवर को स्‍वस्‍थ

Monday, November 13 2017

डेली ड्रिंक करने वाले, इन सुपरफूड्स से रखे लीवर को स्‍वस्‍थ

Updated: Monday, November 13, 2017, 17:53 हमारे स्‍वास्‍थ्‍य में लिवर की अहम भूमिका होती लेकिन एल्‍कोहल का ज्‍यादा सेवन करने की वजह से इसको नुकसान पहुंच सकता है। लिवर शरीर से हानिकारक तत्‍वों को बाहर निकालकर, हार्मोंस को तोड़ता है, रक्‍त को साफ करता है, वसा को पचाता है और जरूरी मिनरल्‍स और विटामिंस को बचाकर रखता है। लिवर को शरीर का सबसे ज्‍यादा काम करने वाला अंग भी कहा जा सकता है। हवा और खाने में प्रदूषक तत्‍वों और विषाक्‍त पदार्थों की मौजूदगी के कारण लिवर को स्‍वस्‍थ रख पाना मुश्किल हो गया है। लिवर के लिए बेहतर फूड्स बादाम बादाम विटामिन ई का स्रोत होते हैं जो फैटी लिवर की बीमारी से बचाता है। इसके अलावा ये ह्रदय के लिए भी फायदेमंद होता है। केला केले में पोटाशियम प्रचुर मात्रा में होता है। केले से पाचन तंत्र दुरुस्‍त रहता है और धातु और विषाक्‍त पदार्थ रिलीज़ करता है जिससे लिवर बेहतर तरीके से कार्य कर पाता है। ब्‍लूबैरीज़ ब्‍लूबैरीज़ में बीमारियों से लड़ने वाले तत्‍व होते हैं। डार्क चॉकलेट, ऑलिव और बेर से लिवर रोग के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है। कॉफी कॉफी के फायदे और नुकसान दोनों ही होते हैं लेकिन रिसर्च में सामने आया है कि रोज़़ 2 से 3 कप कॉफी पीने से लिवर कैंसर का खतरा कम रहता है। ग्रीन टी ग्रीन टी में कैटेचिन नामक एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो कई तरह के कैंसर जैसे लिवर कैंसर आदि से रक्षा करता है। जड़ी-बूटियां ऐसी कई जड़ी-बूटियां और मसाले हैं जो लिवर कैंसर से बचाते हैं। दालचीनी, जीरा, करी पाउडर, ऑरेगैनो, रोज़मैरी आदि लिवर के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होती हैं। ओटमील ओटमील में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है जिससे पेट भरा हुआ महसूस करता है। रिसर्च में सामने आया है कि इससे लिवर संबंधी रोगों से भी बचा जा सकता है। कच्‍ची सब्जियां कच्‍ची सब्‍जियां जैसे बीट्स, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, गाजर, फूलगोभी, ककड़ी, और पत्तेदार सब्जियां लिवर की सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं। पालक पालक में प्रचुर मात्रा में ग्‍लुटाथिओन नामक एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जिससे लिवर को सुचारु रूप से कार्य करने में मदद मिलती है। आप चाहें तो पालक को कच्‍चा या सलाद के रूप में खा सकते हैं।

आपकी अंगुलियों का आकार आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ कहता है, जानिए कैसे?

Monday, November 13 2017

आपकी अंगुलियों का आकार आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ कहता है, जानिए कैसे?

Life » आपकी अंगुलियों का आकार आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ कहता है, जानिए कैसे? आपकी अंगुलियों का आकार आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ कहता है, जानिए कैसे? Life Updated: Monday, November 13, 2017, 12:11 क्या आप जानते हैं कि आपकी अंगुलियों का आकार आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ कहता है? रिसर्च करने वालों का कहना है कि यह ना केवल आपके व्तक्तित्व के बारे में बताती हैं, बल्कि ये आपके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में भी बताती हैं। आपको अपनी अंगुलियों का आकार देखना है और हम आपको बताते हैं कि इसका आपके लिए क्या मतलब है। तो आगे बढ़ें और पढ़ें अंगुलियों के आकार और प्रकार के बारे में... टाइप ‘ए’ फिंगर आप उदास रहते हैं और आपको अकेलापन पसंद है। आप अपनी भावनाएं भी छुपाते हैं। कई बार ऐसा होता है कि आप इतना स्वतंत्र और मजबूत दिखाते हैं जितना आप वाकई मैं हैं नहीं। आप भावनात्मक रूप से मूर्ख हैं और जब आप लोगों के पास जाते हैं तो आप उनके लिए बहुत अच्छे होते हैं। आपको झूँठ, धोखा और फरेब पसंद नहीं है। टाइप ‘ए’ फिंगर आप आसानी से अपनी भावनाएं दिखाते नहीं हैं, आप स्ट्रॉंग दिखते हैं लेकिन यह आपके विपरीत है। आप अभिमानी या एक विलक्षण व्यक्तित्व के आदमी हो सकते हैं। इसके अलावा, आप ना चाहते हुये भी दिये गए कार्य को करने में कोई समस्या महसूस नहीं करते हैं। टाइप ‘बी’ फिंगर आप लोगों से खुलने से पहले थोड़ी उलझन महसूस करते हैं। आप एक वफादार व्यक्ति हैं। आप जिसे प्यार करते हैं उसकी पूरी देखभाल करते हैं। हालांकि लोग आपके बारे में नहीं सोचते हैं क्यों कि आप बेहद संवेदनशील व्यक्ति हैं। ऐसा इसलिए हैं क्यों कि आप एकदम कुंठित तरीके से काम करते हैं और ऐसी चीजों को नज़रअंदाज करते हैं जिनसे अन्य लोग हर्ट हो सकते हैं। टाइप ‘बी’ फिंगर इसके अलावा, आप जब अकेले होते हैं तो अच्छा दिखाने की कोशिश करते हैं, लेकिन सच्चाई कुछ और है, आप हर्ट होने से डरते हैं। आपमें आत्म-नियंत्रण की अच्छी शक्ति है जहां आप शांत रह सकते हैं। टाइप ‘सी’ फिंगर आप ऐसे व्यक्ति हैं जिसे आसानी से मनाया जा सकता है। आप किसी से शिकायत नहीं रखते हैं, आप ऐसी चीजों को भूल जाते हैं जो आपको नाराज कर सकती हैं। आप दूसरों की भावनाओं का भी सम्मान करते हैं। टाइप ‘सी’ फिंगर दूसरों से लड़ाई के समय, आपका अहंकार बहुत अधिक रहता है। लेकिन लड़ाई के बाद आप ही सबसे पहले माफ़ी मांगते हैं। आप अपनी समस्यायें और भावनाएं अपने तक ही रहना चाहते हैं। कुल मिलाकर आप एक दयालु व्यक्ति हैं।

दुनिया जीतने वाले सिकंदर ने भारत के इस फकीर के सामने झुकाया था सिर

Monday, November 13 2017

दुनिया जीतने वाले सिकंदर ने भारत के इस फकीर के सामने झुकाया था सिर

Life » दुनिया जीतने वाले सिकंदर ने भारत के इस फकीर के सामने झुकाया था सिर दुनिया जीतने वाले सिकंदर ने भारत के इस फकीर के सामने झुकाया था सिर Life Updated: Monday, November 13, 2017, 16:42 सिकंदर के बारे मे भला कौन नहीं जानता होगा। आपको तो पता ही होगा की सिकंदर पूरे विश्व को जीतने निकला था। एक समय ऐसा भी आया कि उसने समस्त संसार पर विजय प्राप्त भी कर ली थी। आज हम इसके बारे में बात करेंगे कि सिकंदर कौन था। आपको बता दें कि सबकुछ जीतने के बाद जब उसने भारत की तरफ रुख किया था। सिकंदर ने भारत के एक फकीर के बारे में सुन रखा था। वो इस फकीर से मिलने की इच्छा रखता था। इस फकीर के बारे में मशहूर था कि वो किसी को भी अपनी बाते मनवा लेता था। जीत के गुरुर में जब सिकंदर इस फकीर से मिलने पहुंचा तो कुछ ऐसा हुआ कि वो सिकंदर जीवन भर नहीं भूल पाया होगा। दरअसल अपनी जीत के कारण सिकंदर को घमंड हो गया था। आखिर क्यों भारत को माना जाता है कामसूत्र का जन्मदाता, कितनी सच है ये बात लेकिन जब वो उस फकीर के पास पहुंचा तो फकीर ने सिकंदर का घमण्ड दो मिनट तोड़ दिया था। आइए जानते है इस फकीर और सिकंदर के बारे में ये सच्ची घटना.. फकीर का नाम डायोजिनीस था आपको बता दें कि सिकंदर जिस फकीर से मिला था उसका नाम डायोजिनीस था। ऐसा कहा जाता था कि ये फकीर हमेशा अपने आप में ही मस्त रहता था। हमेशा वो ध्यानमग्न ही रहता था। ये बात जब सिकंदर को पता चली तो उसने फकीर से मिलने की इच्छा जाहिर की थी। इतिहास के ऐसे लोग जो मरने के बाद भी कमाते है करोड़ों डॉलर फकीर के पास जब पहुंचा सिकंदर सिकंदर इस फकीर के पास पहुंचा तो फकीर ने उससे एक सवाल किया कि तुम क्या कर रहे हो और आगे क्या करना चाहते हो। सिकंदर इस बात का जवाब देते हुए कहा कि वो एशिया महाद्वीप जीतने जा रहा है। क्योंकि वो समस्त संसार को जीतने के लिए निकला है। फकीर ने पूंछा एक सवाल सिकंदर की बात सुनकर फकीर ने उससे एक सवाल पूंछा की समस्त संसार जीत के तुम क्या करोगें। इस बात को सुनकर सिकंदर ने कही कि वो इसके बाद आराम करेगा। तब फकीर ने कहा कि इसके लिए संसार जीतने की क्या आवश्यकता है। आराम तो तुम ऐसे भी कर सकते हो। देखो मै तो दिनभर आराम करता हूं। इतना कहने के बाद फकीर हंसने लगा। गुस्से से लाल हो गया सिकंदर फकीर की बात सुनकर गुस्से में सिकंदर बोला कि तुम शायद मेरे बारे में जानते नहीं हो। मैने पूरे संसार को जीता है। मै एक महान इंसान हूं शायद तुम मेरे हाथों से मरना चाहते हो। फकीर ने दिया ये जवाब फकीर ने कहा कि तुम एक महान इंसान हो ही नहीं सकते हो। तुम भी हम सबकी तरह एक साधारण से मनुष्य हो। अगर तुम महान हो तो मेरी एक बात का जवाब दे दो। ये बात सुनकर थोड़ा शांत होते हुए सिकंदर ने फकीर से सवाल पूंछने के लिए कहा। सवाल सुनकर फंस गया सिकंदर फकीन कहा कि अगर तुम किसी ऐसे रेगिस्तान में फंस जाओ जहां पानी की एक बूंद भी ना हो और तुम प्यास से मरने वाले हो तब कोई तुम्हारे पास एक ग्लास पानी लेकर आए तो पानी के बदले में तुम क्या दोगे। ये सुनकर सिकंदर सोच में पड़ गया। सिकंदर ने ये कहा सिकंदर ने कहा कि वो एक ग्लास पानी के बदले में अपना आधा राज पाठ दे देगा। फकीर ने कहा कि उसने फिर भी पानी ना दिया तो क्या करोगे तो वो बोला कि जान बचाने के लिए वो अपना सारा राजपाठ उसको दे देगा। तब फकीर ने कहा कि तुम्हारा राज पाठ एक गिलास पानी की कीमत का भी नही है फिर इसके लिए क्यों परेशान हो। इसके लिए तुमको घमंड क्यों है। सिकंदर घमंड टूट गया फकीर की ये बात सुनकर सिकंदर का घमंड टूट गया और वो फकीर के पैरो में गिर गया और अपनी गुस्ताखी के लिए माफी मांगी। English summary story of Alexander the great and a naked fakir Who does not know well in Alexander's time. You must know that Alexander went out to win the whole world. It was also one time that he had conquered all over the world. Today we will talk about Alexander. Please Wait while comments are loading...

अगर सर्दियों में बाजरा नहीं खाया, तो क्‍या खाया?

Monday, November 13 2017

अगर सर्दियों में बाजरा नहीं खाया, तो क्‍या खाया?

Published: Monday, November 13, 2017, 16:00 हर जगह का अपना एक स्‍पेशल फूड होता है, जिसे खाने के अलग ही फायदें होते हैं, आमतौर पर हम अऩाज, गेहूं या चावल खाते हैं। इनके अलावा लेकिन कई ऐसे अनाज भी हैं जो बहुत न्यूट्रिशंस से भरपूर होते हैं लेकिन हम उन्हें डायट में शामिल नहीं करते। इनमें से एक है बाजरा। बाजरे को ज्‍वार के नाम से भी जाना जाता है, राजस्‍थान, पंजाब और हरियाणा का प्रमुख अनाज है बाजरा, वहां लोग प्रमुखता से बाजरा खाना पसंद करते हैं। बाजरे की खींच हो या बाजरे का सोगरा (रोटी) इसके अलावा बाजरे का सूप या राबड़ी, इसमें मौजूद गुणकारी गुण न सिर्फ आपको तंदुरुस्‍त बनाएं रखता है बल्कि सर्दियों में आपकी इम्‍यूनिटी बढ़ाएं रखता है। आइए जानते है बाजरे के चमत्‍कारी फायदे। बाजरे के फायदे- बाजरा ग्लूटन फ्री होता है, जिन लोगों को ग्लूटन से एलर्जी है उनके लिए बाजरा अधिक फायदेमंद है। बाजरे में अमायनो एसिड्स होते हैं जो कि आसानी से एब्जॉर्व हो जाते हैं। जिन लोगों का डायजेशन बिगड़ा होता है या फिर चीजों को जल्दी एब्जॉर्व नहीं कर पाते, बाजरा उनके लिए भी फायदेमंद है। ऐसे लोग बाजरे की खिचड़ी या रोटी खा सकते हैं, इससे अमायनो एसिड्स बेहतर तरीके से बॉडी में एब्जॉर्व होगा। बाजरे की रोटी या खिचड़ी के सेवन से आप हेल्दी महसूस करेंगे। पेट खराब होने पर भी बाजरे की खिचड़ी खा सकते हैं। इन लोगों को खाना चाहिए बाजरा कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें अनाज डायजेस्ट नहीं होता। लोगों का इस वजह से वजन नहीं बढ़ पाता, कई लोगों को अनाज से एलर्जी भी होती है। यानि कुछ लोग ग्लूटन के लिए सेंसिटव होते हैं, ऐसे लोगों के लिए बाजरा एक बेहतर विकल्प हो सकता है क्योंकि बाजरे में ग्लूटन इंटोलेरेंस होता है। ये तत्‍व होते है बाजरे में बाजरे में कई पौष्टिक तत्‍व जैसे नियासिन, मैग्नीशियम, फास्‍फोरस पाया जाता है, नियासिन की जरूरत नर्व्स के लिए पड़ती है यानि ये नसों के लिए बहुत फायदेमंद है। वहीं फास्फोरस से बॉडी को एनर्जी मिलती है, मैग्नीशियम हार्ट की मसल्स के कॉन्ट्रेक्शन में मदद करता है। बाजरे में मैग्नीशियम अच्छी क्वांटिटी में पाया जाता है, बाजरे के सेवन से इस तरह के न्यूट्रिशंस की कमी को भी आसानी से दूर कर सकती है। कब खाएं बाजरा- यूं तो बाजरे की रोटी या खिचड़ी किसी भी मौसम में फायदेमंद है लेकिन सर्दियों में खाना अधिक फायदेमंद है। सर्दियों में ये शरीर को गर्म रखता है, बाजरे की रोटी को पालक या किसी और सब्जी के साथ भी खाया जा सकता है। अब तो आप समझ ही गए होंगे बाजरा आपके लिए क्यों है जरूरी। मोटापा कम करता है बाजरे का सेवन करने से भूख कम लगती है। अगर आप अपना वज़न कम करना चाहते हैं तो बाजरा आपकी मदद कर सकता है क्योंकि इसके सेवन से लम्बे समय तक भूख नहीं लगती है। बाजरा धीरे-धीरे पचता है जिसकी वजह से पेट भरा-भरा रहता है। इसलिए आप एक्स्ट्रा खाना नहीं खा पाते और आपका वजन कंट्रोल में रहता है। खून की कमी को दूर करता है बाजरे में आयरन भरपूर मात्रा में होता है। खून की कमी या एनीमिया को दूर करने के लिए बाजरे का सेवन करना चाहिए। अगर आपको भी एनीमिया की समस्या है तो आज से ही बाजरे का सेवन शुरु कर दिजिए। डायबिटीज़ से बचाता है डायबिटीज़ के मरीजो़ को बाजरे का सेवन जरुर करना चाहिए। क्योंकि यह ख़ून में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करने में मददगार होता है। इसलिए डायबिटीज़ के मरीजो़ को नियमित रुप से बाजरे के सेवन की सलाह दी जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है बाजरा गर्भवती महिलाओं को बाजरे की खिचड़ी और रोटी का सेवन करना चाहिए। क्योंकि इससे गर्भवती महिलाओं में आयरन और कैल्शियम की कमी दूर होती है। केवल गर्भवती महिलाओं को ही नहीं बल्कि दूध पिलाने वाली महिलाओं में अगर दूध न बनता हो तो बाजरा मां का दूध बढ़ाने में भी मदद करता है। English summary Why Should Eat Bajra During Winter Bajra is also known as pearl millet, not because it looks like a pearl but for its quality like that of pearls. Story first published: Monday, November 13, 2017, 16:00 [IST] Nov 13, 2017 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...

डेंगू से आराम पाने के लिए अपनाएं ये 25 घरेलू उपचार

Monday, November 13 2017

डेंगू से आराम पाने के लिए अपनाएं ये 25 घरेलू उपचार

» डेंगू से आराम पाने के लिए अपनाएं ये 25 घरेलू उपचार डेंगू से आराम पाने के लिए अपनाएं ये 25 घरेलू उपचार Wellness Updated: Monday, November 13, 2017, 14:22 डेंगू एक बहुत ही दर्दनाक बीमारी है जिससे हर साल लाखों लोग प्रभावित होते हैं। डेंगू मच्छरों द्वारा उत्पन्न हई एक बीमारी है जिसमें जोड़ों और मसल्स में बहुत अधिक दर्द होता है। इसी वजह से डेंगू को ब्रेक बोन फिवर भी कहते हैं। सिर दर्द होना, स्किन में चकत्ते पड़ना, अचानक बुखार आना, मिचली और उल्टी, इसके कुछ सामान्य लक्षण है। आपको बता दें कि डेंगू की अभी तक कोई ख़ास दवा नहीं है, इसलिए इसको होने से रोकने के लिए प्राकृतिक और हर्बल उपाय ही बताये जाते हैं। यदि समय पर डेंगू का इलाज नहीं किया गया और सही समय पर सही एहतियात नहीं बरता गया तो यह खतरनाक हो सकता है इसलिए आप तुरंत ही इसके लिए डॉक्टर की सलाह लें। यहाँ हम आपको डेंगू को ठीक करने के कुछ घरेलू प्राकृतिक उपाय बताने जा रहें हैं। 1- पपीते की पत्ती: पपीते की पत्ती डेंगू के इलाज के लिए बहुत ही कारगर है। पपीते की पत्ती को पीसकर इसका जूस बनाकर पीने से डेंगू में जल्दी आराम मिलता है। यह डेंगू के इलाज के लिए सबसे अच्छे घरेलू नुस्खों में से एक है। 2- धनिये की पत्ती: धनिये की पत्ती में मौजूद औषधीय गुण मरीज की इम्युनिटी को बढाने का काम करता है। यह नसों के द्वारा पूरे शरीर में प्रवाहित होकर बैक्टीरिया को मरने का काम करता है। इसकी पत्तियों को काटकर उसका जूस बनाकर इसका सेवन करना चाहिए। 3- विटामिन सी: इम्युनिटी और विटामिन सी एक दूसरे के ही पूरक हैं। विटामिन सी से भरे हुए फलों का सेवन करने से इम्युनिटी बढ़ती है। इसके लिए आप संतरे, रेड पीपर, टमाटर, स्ट्रॉबेरी, स्प्राउट्स आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं। सभी फल समान रूप से फायदेमंद होते हैं। 4- हरी पत्तियों वाली सब्जियां: हरी सब्जियां अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही जरुरी होती हैं। आप इन सब्जियों को अपने रोजाना के डाइट में इस्तेमाल करके अपने आप को डेंगू से बचा सकते हैं। 5- पानी: डेंगू से पीड़ित मरीजों को दिन भर में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीना जरुरी होता है, क्योंकि डेंगू में बहुत ज्यादा पानी शरीर से बाहर निकल जाता है। पानी पीने से शरीर के टॉक्सिक पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते हैं। 6- प्रोटीन युक्त डाइट लें: डेंगू में सारे न्यूट्रीयेंट्स के अलावा प्रोटीन लेना बहुत ज्यादा जरुरी होता है क्योंकि आपकी शरीर डेंगू के दौरान कमजोर हो जाती है। प्रोटीन को लिक्विड या सॉलिड रूप में लेने से जितना भी नुकसान होता है उसकी भरपाई हो जाती है। 7- केला: केला में बहुत अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और फाइबर होता है जो आपके शरीर को फिट और एक्टिव रखता है। रोजाना केले का सेवन करने से आपकी ऊर्जा नियंत्रित रहती है जो आप बीमारी के दौरान खो देते हैं। 8- नारियल पानी: नारियल पानी आपके शरीर को हाइड्रेटेड रखने के साथ ही सारे न्यूट्रीयेंट्स और विटामिन भी प्रदान करता है जिसकी आपके शरीर को इस बीमारी के समय जरुरत होती है। 9- काले अंगूर का जूस: यह डेंगू से बचने के लिए बहुत अच्छा घरेलू उपाय है। इसका जूस लेने से आपके शरीर में ब्लड की मात्रा बढ़ने के साथ ही इम्युनिटी भी बढ़ती है। 10- च्यवनप्राश: च्यवनप्राश का सेवन करने से आपका ब्लड साफ़ होता है और ब्लड सेल्स की संख्या में बढ़ोतरी होती है, इसके अलावा इम्युनिटी भी बढ़ती है। 11- अनानास का जूस: अनानास के जूस का इस्तेमाल करने से डेंगू में बहुत आराम मिलता है क्योंकि यह आपके ब्लड सेल्स को बढाता है। 12- बकाइन के पत्ते: बकाइन के पत्तों का जूस पीने से न केवल आपको डेंगू को ठीक करने में मदद मिलती है बल्कि यह डेंगू वायरस को बढ़ने से भी रोकता है। 13- तुलसी: तुलसी को आप सीधे धोकर ऐसे ही खा सकते हैं या फिर पानी के साथ उबालकर इसको पी सकते हैं। दोनों तरह से यह डेंगू में राहत देता है। 14- कैसिया की जड़ें: यह शरीर के तापमान को कम करने का काम करता है और आपकी इम्युनिटी को बढ़ाकर इन्फेक्शन से बचाता है। आप इसको पानी के साथ मिलाकर या फिर तुलसी के साथ मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। 15- कसूरी मेथी का पत्ता: यह आपको बुखार में आराम देने के अलावा गले में होने वाली खराश में भी आराम देता है। इसका फायदा लेने के लिए आप इसकी पत्तियों को पानी के साथ उबालकर उसमें थोडा नमक डालकर सेवन करें। 16- ग्रीन टी: ग्रीन टी बहुत ही अच्छा एंटी-आक्सीडेंट होता है। रोजाना एक कप ग्रीन टी पीने से न केवल वायरस का बढ़ना रूकता है बल्कि आपके शरीर का वाटर लेवल भी नियंत्रण में रहता है। 17- जौ घास: इसका सेवन करने से आपका ब्लड प्लेटलेट काउंट बढ़ता है। आप इसे सीधे खा सकते हैं या फिर इसकी हर्बल चाय बनाकर पी सकते हैं। 18- गोल्डेनसील: यह डेंगू के इलाज में एक साकारात्मक प्रभाव देता है। यह डेंगू के लक्षणों को ही नहीं बल्कि डेंगू को ही खत्म करता है। 19- हरमल का बीज: हरमल के बीज का काढ़ा पीने से डेंगू के दौरान होने वाले बुखार में आराम मिलता है। 20- चितौन: यह बुखार में आराम देता है। इसका काढा पीने से आपके शरीर का तापमान कम होता है। 21- नीम की पत्ती: नीम एक एक एंटी-फंगल और ऐनल्जेसिक एजेंट होता है जोकि इन्फेक्शन से लड़ने में और दर्द में आराम देता है। यह शरीर से टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालकर व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट को बढाकर इम्मुनुटी को भी बढाता है। 22- काकामाची: काकामाची सिरप को पीने से शरीर के हानिकारक विषैले पदार्थ बाहर निकलते हैं जिससे आपका ब्लड शुद्ध होता है और इन्फेक्शन होने की संभावना कम हो जाती है। 23- करौंदा: करौदा में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जिसके इस्तेमाल से डेंगू के दौरान होने वाले बुखार में बहुत आराम मिलता है। 24- तुलसी की चाय: तुलसी की चाय पीने से आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे आपको इन्फेक्शन से लड़ने में मदद मिलती है। तुलसी डेंगू को ठीक करने के लिए बहुत कारगर उपाय होता है। 25- तवा-तवा: यह सामान्यतः डेंगू के इलाज के लिए प्रयोग होता है। यह ब्लड प्लेटलेट काउंट को बढाने के साथ साथ डेंगू के समय होने वाले बुखार और दर्द से आराम देता है। डेंगू एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। इसमें ब्लड प्लेटलेट काउंट कम हो जाता है जिससे शरीर की इम्मुन्टी कमजोर होने लगती है। इसको रोकने के लिए ऊपर बताये गये उपायों को अपनाने से आपको डेंगू में आराम मिलता है। English summary 25 Natural Home Remedies To Treat Dengue Fever There are no specific vaccinations or treatment modalities for dengue fever, hence it is recommended to go for natural and herbal remedies to cure it. Please Wait while comments are loading...