Health and Fitness

हर तरह की स्‍किन के लिये ऐसे बनाएं बेसन फेस पैक

Tuesday, January 9 2018

हर तरह की स्‍किन के लिये ऐसे बनाएं बेसन फेस पैक

Updated: Tuesday, January 9, 2018, 11:29 [IST] Subscribe to Boldsky Besan packs, बेसन पैक्स, SKIN PROBLEMS के हिसाब से लगाएं बेसन के ये पैक्स | BoldSky घर पर खाए जाने वाले बेसन के फायदे त्‍वचा के लिये काफी हैं। बेसन का फेस पैक एवं मास्क का प्रयोग करके आप अपनी त्‍वचा की काफी सारी समस्‍याएं सुलझा सकती हैं। भले ही आपकी त्वचा सूखी या तैलीय हो, अगर आप इसकी सही प्रकार से देखभाल नहीं करेंगी तो इसपर चमक नहीं आ पाती। बेसन में कई तरह के गुण होते हैं और इसके प्रयोग से त्वचा पर निखार भी आता है। झट से गोरा बनाने वाले 13 फेस पैक सदियों से हमारी नानी और दादी अपनी त्‍वचा की देखभाल बेसन से ही करती आई हैं। सौंदर्य दुकानों पर मिलने वाले उत्पादों के मुकाबले बेसन से बना फेस पैक काफी किफायती साबित होता है। आप बेसन के फेस पैक की मदद से चेहरे की परत पर जमे टॉक्सिन को भी निकाल सकते हैं। हम अपने इस लेख में आपको बेसन के कुछ फेस पैक्‍स बनाना सिखाएंगे जिसे आप किसी भी प्रकार की त्‍वचा के लिये प्रयोग कर सकती हैं। Oatmeal Face Masks जो Dry Skin को बनाए Moisturize आपके पास बेसन में मिलाने के लिये जो कुछ भी घर पर उपलब्‍ध हों, उसे मिला कर एक आसान सा पैक बना सकती हैं। अगर आपके पास ग्रीन टी, हनी, दही, जैतून तेल या फिर अन्‍य घरेलू सामग्रियां हैं तो उसे अपनी स्‍किन टाइप के अनुसार चुन कर पैक में डाल सकती हैं। 1. अगर स्‍किन मिली-जुली है इस पैक को बनाने के लिये ½ चम्‍मच बेसन, 1 टीस्‍पून ऑलिव ऑइल और ½ चम्‍मच नींबू का रस चाहिये होगा। इन सभी सामग्रियों को मिक्‍स कर के चेहरे पर लगाएं। उसके बाद 10-15 मिनट रूक कर चेहरे को धो लें। यह पैक हफ्ते में दो बार जरुर लगाएं। 2. एक्‍ने वाली स्‍किन के लिये इस पैक को बनाने के लिये 1 टीस्‍पून बेसन, 2 टीस्‍पून ग्रीन टी चाहिये होगी। इन दोनों चीजों को मिक्‍स करें और अपने चेहरे पर इसे लगा कर धीरे धीरे मसाज करें। फिर 10 मिनट इसे चेहरे पर लगा कर छोड़ दें और फिर गरम पानी से चेहरे को धो लें। इसे लगाने से आपके चेहरे पर मुंहासे आने कम हो जाएंगे। इस मास्‍क को चेहरे पर वीकली बेसिस पर लगाएं। 3. ड्राई स्‍किन के लिये इस मास्‍क को बनाने के लिये ½ टी स्‍पून बेसन 1 टीस्‍पून एलो वेरा जेल ले कर मिला लें। इन सामग्री को चेहरे पर लगाएं और 10-15 मिनट तक लगा छोड़ दें। बाद में इसे पानी से धो लें। इस मास्‍क को 2-3 बार हफ्ते में यूज़ करें। 4. संवेदनशील त्‍वचा के लिये इस मास्‍क को बनाने के लिये 1 टीस्‍पून बेसन और 1 टीस्‍पून रोज वॉटर मिला लें। एक बार यह मास्‍क तैयार हो जाने के बाद इसे चेहरे पर लगाएं। 15 मिनट के बाद इसे धो लें। इससे चेहरे का ऑइल साफ होगा। आप इस मास्‍क को हर हफ्ते लगा सकती हैं। 5. स्‍किन अगर ऑइली हो इस मास्‍क को बनाने के लिये 1 टी स्‍पून बेसन के साथ 2-3 टीस्‍पून कैमोमाइल टी मिलाएं। फिर इस पेस्‍ट को कुछ देर रख दें और फिर इसे चेहरे पर लगाएं। कुछ मिनट के बाद इसे पानी की सहायता से धो लें। इससे चेहरे का ऑइल और चिपचिपापन जाएगा। इस मास्‍क को हर हफ्ते लगाएं। English summary Incredible Besan Face Masks For Different Skin Types Today we've compiled a list of besan face masks that can be used for different skin types. Pick the one that suits your skin type the best for effective and noticeable results. Take a look at these incredible face masks here: Please Wait while comments are loading...

स्‍किन की हर प्रॉब्लम दूर करे मेयोनेज़ से बने ये 8 फेस मास्‍क

Wednesday, January 10 2018

स्‍किन की हर प्रॉब्लम दूर करे मेयोनेज़ से बने ये 8 फेस मास्‍क

Published: 14:00 मेयोनेज़ का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। इसे सोयाबीन ऑइल और अंडे से तैयार किया जाता है। आज कल महिलाएं इसे सैंडविच में डालने की बजाए स्‍किन पर लगाना ज्‍यादा पसंद करती हैं। और भी क्‍यों ना, यह स्‍किन को खूबसूरत जो बनाती है। अगर स्‍किन में कसाव लाना है तो मेयोनेज़ बड़े काम आ सकता है। पहले इसे सिर्फ बालों के मास्‍क के रूप में प्रयोग किया जाता था। मेयोनेज़ में काफी ज्‍यादा प्रोटीन पाया जाता है जो कि स्‍किन ही हेल्‍थ को निखारने में मदद करता है। स्‍किन की कुछ आम समस्‍याएं जैसे, झुर्रियां, झाइयां, दाग-धब्‍बे, पोर्स का बड़ा होना या फिर रूखी त्‍वचा से छुटकारा पाने में यह काफी असरदार होती है। 1. मेयोनीज़ और ओटमील फेस मास्‍क 1 टीस्‍पून मेयोनीज़ को पके हुए 1 टीस्‍पून ओटमील के साथ मिक्‍स करें। इस मास्‍क को चेहरे पर लगाएं। 10-15 मिनट के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। इस मास्‍क को हफ्ते में एक बार लगाएं जिससे डेड स्‍किन मिट जाए और पोर्स से गंदगी निकल जाए। 2. मेयोनीज़ और ऑरेंज पील पावडर फेस मास्‍क 2 टीस्‍पून मेयो के साथ आधा टीस्‍पून ऑरेंज पील पावडर मिक्‍स करें। इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगा कर 15 मिनट के लिये छोड दें। फिर इसे गुनगुने पानी से धो लें। इस मास्‍क को हर हफ्ते यूज़ करें। इससे आपके हाइपरपिगमेंटेशन दूर होंगे। 3. मेयोनीज़ और बादाम तेल फेस मास्‍क बस एक कटोरी में 1 टीस्‍पून मेयोनीज़ के साथ आधा चम्‍मच बादाम तेल मिक्‍स करें। फिर इसे चेहरे पर लगाएं और 10 मिनट तक रहने दें। फिर एक हल्‍के क्‍लींजर और पानी से चेहरे को धो लें। इस मयोनीज़ मास्‍क को हफ्ते में एक बार यूज करें और रूखी त्‍वचा से छुटकारा पाएं। 4. मेयोनीज़ और चावल का आटा 1 टेबल स्‍पून मेयोनीज़ को 1 चम्‍मच चावल के आटे के साथ मिक्‍स करें। फिर इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगा कर सूखने दें। 10 मिनट के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। इसे सन टैनिंग दूर करने के लिये प्रयोग करें। 5. मेयोनीज़ और एलो वेरा जेल फेस मास्‍क 1 टेबल स्‍पून मेयोनीज़ में 2 टीस्‍पून एलो वेरा जेल मिलाएं। इस मास्‍क को लगाएं और 20 मिनट तक लगा छोड़ दें। बाद में पानी से चेहरा धो लें। इससे स्‍किन को बूस्‍ट मिल जाता है और स्‍किन हाइड्रेट लगने लगती है। इसे आप हर हफ्ते लगा सकती हैं। 6. मेयोनीज़ और बेकिंग सोडा फेस मास्‍क एक कटोरी में 1 टेबलस्‍पून मेयोनीज़ और आधा चम्‍मच बेकिंग सोडा मिलाइये। इन्‍हें मिक्‍स कर के चेहरे पर लगाइये। कुछ मिनट इसे रखने के बाद हाथों से हल्‍के हल्‍के मल कर इसे निकाल लीजिये। बाद में चेहरे को गुनगुने पानी से धो लीजिये। इसे आप ब्‍लैकहेड मिटाने के लिये यूज कर सकती हैं। 7. मेयोनीज़ और ऑलिव ऑइल फेस मास्‍क 1 टी स्‍पून मेयोनीज़ के साथ 1 टी स्‍पून ऑलिव ऑइल मिलाइये। इस मटीरियल को हल्‍के हल्‍के चेहरे पर मसाज कीजिये। एक बार हो जाने के बाद स्‍किन को गुनगुने पानी से धो लीजिये। इस मास्‍क को हफ्ते में एक बार लगाइये और झुर्रियों से निजात पाइये। 8. मेयोनीज़ और लेमन जूस फसे मास्‍क बस 2 टीस्‍पून मेयोनीज़ को 1 टेबल स्‍पून नींबू के रस के साथ मिलाएं और उससे चेहरे की मसाज करें। मसाज करने के बाद इसे चेहरे पर 10-15 मिनट तक लगा छोड़ दें। फिर इसे क्‍लींजर और गुनगुने पानी से धो लें। इस मायोनीज़ फेस मास्‍क को हर हफ्ते लगाएं और स्‍किन टोन को बढाएं। English summary Amazing Mayonnaise Face Mask Recipes You Need For Flawless Skin Today, at Boldsky, we've brought together a list of mayonnaise face mask recipes that can not only treat unsightly skin problems but also help you get a flawless skin that looks gorgeous even without a stitch of makeup. Story first published: 14:00 [IST] Jan 10, 2018 कीअन्यखबरें

घर बैठे इन नुस्‍खों से लौटाएं योनि की कसावट

Thursday, January 11 2018

घर बैठे इन नुस्‍खों से लौटाएं योनि की कसावट

Published: 13:30 अगर आप सोचते है क‍ि सेक्‍स करने से योनि की कसावट चली जाती है तो आप गलत सोचते है। क्‍योंकि सिर्फ सेक्‍स ही नहीं, प्रसव के बाद और बढ़ती उम्र की वजह से भी योनि की मांसपेशियां में खिंचाव होने के वजह से भी योनि की कसावट कम होने लगती है। इसलिए जिन महिलाओं को लगता है कि सिर्फ सेक्‍स ही योनि की कसावट कम होने का एकमात्र कारण है तो आप गलत है। सेक्‍स ही एकमात्र वजह नहीं है बल्कि अन्‍य कारणों से भी ऐसा हो सकता है। इस लेख में हम आपको योनि की मांसपेशियों में कसाव लाने के लिए कुछ घरेलू उपायों के साथ ही व्‍यायामों के बारे में बता रहे आइए जानते है। ऐलोवेरा ऐलोवेरा को योनि की आसपास की जगह पर लगाएं ऐलोवेरा का जेल योनि के आसपास की मांसपेशियों का मजबूत बनाता है। इसमें मौजूद रिजनरेशन के गुण योनि के मांसपेशियों के ढीलेपन को दूर करके उसे मजबूत बनाते है। आंवले के पेड़ की छाल आंवले के पेड़ की छाल भी योनि को टाइट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है आंवले के पेड़ की छाल को 24 घंटे पानी में भिगोकर रखे और फिर उस पानी से योनि को धोएं ऐसा नियमित रूप से करने से योनि टाइट हो जाती है। इसके अलावा आंवले को पूरी रात एक बर्तन पर भिगोकर रखें, सुबह इसे उबाल लें। तब तक उबालिए जब तक कि पानी आधा न रह जाएं। अब इसे ठंडा होने पर छान लें। और रुई की मदद से इसे योनि के आसपास लगाइए। 15 मिनट बाद ठंडे पानी से उस स्‍थान को साफ कर लें। फिटकरी फिटकरी के एक पानी के बर्तन में डालकर गर्म करें। पानी उबलने के बाद इसे थोड़ी देर ठंडा करें। अब इस पानी को योनि के आसपास की जगह पर लगाएं। और इस पानी से योनि में छींटे मारें। 15 मिनट के बाद साफ कपड़े से इस जगह को पोंछ ले। इस प्रकिया से योनि की कसावट वापस लौट आती है। पान के पत्‍ते पान के पत्ते भी योनि को तीग़ करने में काफी हद तक लाभकारी होते है 8-10 पान के पत्तों को आधा लीटर पानी में उबाल ले और जब पानी थोड़ा गुनगुना रह जाये तब कॉटन के टुकड़े को अच्छे से उस पानी में भिगोकर योनि में १५ मिनट तक रखे ऐसा लगातार ७ दिनों तक करने से योनि टाइट हो जाती है भांग का चूर्ण योनि की कसावट लाने के भांग को अच्‍छे से पीसकर इसका पाउडर बना लें। अब आधा चम्‍मच पाउडर को एक मखमल के कपड़े में बांध ले और इसकी पोटली बना लीजिए। इसके अंदर की भांग न गिर जाए इसलिए अच्‍छे से इसमें धागा बांध लें। अब रोजाना सोने से पहले इस कपड़े को हल्‍के गुनगुने पानी में डुबाकर इसकी योनि के अंदर लगा लीजिए। ऐसा करने से आपको रिजल्‍ट जरुर मिलेगा। वरना आप चाहे तो भांग के तेल से भी योनि में मसाज कर सकती है। कीगल एक्‍सरसाइज इस एक्‍सरसाइज की सबसे खास बात यह है कि आप इसे कभी भी कहीं भी कर सकते हैं। और इसके बारे में किसी को पता भी नहीं चलेगा। इसे करने से आपकी पेल्विक की मांसपेशियां मजबूत हो जाती है। इसे दिन में पांच मिनट के लिए करें। लेग रेज़ अपनी पीठ के बल लेट जाएं और एक-एक करके पैर को हवा में उठाएं। ऐसा दस दस बार करें। इससे वेजिना की मांसपेशियों में कसाव आ जाएगा। स्‍कैवट्स यह एक्‍सरसाइज, वेजिना के लिए सबसे अच्‍छी एक्‍सरसाइज है। इसके लिए आप खड़े या आधा बैठकर हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं। इससे बेहतर परिणाम मिलते हैं। पेल्विक व्‍यायाम इसे करने के लिए आपको दस सेट फ्लोर पर हाथ रखकर मारने होंगे। सुनिश्चित कर लें कि आप इस एक्‍सरसाइज को सिर्फ पेल्विक फ्लोर मसल्‍स पर ही करें। इस दौरान पेट और निचले हिस्‍से को कसा न रखें। योगा करें नियमित रुप से योनि की मांसपेशियों टोन करने के लिए योग करना काफी अच्‍छा होता है। योग करने से पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। जैसे सेतुबंधासन और बालासन ये योग आसान पैल्विक मांसपेशियों को कसने के साथ वजाइना को स्‍वस्‍थ बनाए रखता है। English summary Effective Tips On How To Tighten Vagina Naturally At Home let’s explore what factors affect vaginal looseness and what you can do to naturally tighten the skin. Story first published: 13:30 [IST] Jan 11, 2018 कीअन्यखबरें

ठंड में जरूर खाएं ये 9 चीजें, इनसे मिलती है शरीर को गर्मी

Thursday, January 11 2018

ठंड में जरूर खाएं ये 9 चीजें, इनसे मिलती है शरीर को गर्मी

Published: 11:35 भारत में खासतौर पर नॉर्थ इंडिया में ठंड काफी कड़ाके ही होती है। इससे बचने के लिये हम तरह तरह के जतन करते हैं। लेकिन फिर भी हम सभी के लिये बड़ा मुश्‍किल होता है कि हम अपने हाथों और पैरों को ठंड लगने से बचा पाएं। ठंड से बचने के लिए, गर्म कपड़ों के साथ-साथ आपको सर्दियों में अपने भोजन पर ध्यान देने की भी ज़रूरत है। जी हां, कुछ ऐसे फूड उपलब्‍ध हैं, जिसे खाने से आपके शरीर को गर्माहट मिल सकती है। सर्दियों में जिन लोंगो का ब्‍लड प्रेशर कम हो जाता है उन्‍हें यह फूड खाने से काफी राहत मिल सकती है। इन्‍हें खाने से शरीर को गर्माहट तो मिलेगी ही साथ में एनर्जी लेवल भी काफी बढेगा। तो अगर आप एक के बाद एक गर्म कपड़े पहनते हुए भी खुद को ठंड से नहीं बचा पा रहे हैं तो, इन 8 फूड्स को अपनी थाली में जरुर शामिल करें। 1. ओटमील कई लोगों को ओटमील काफी पसंद होता है और वो इसे ब्रेकफास्‍ट में खाना पसंद करते हैं। यह आपको कई घंटों के लिये एनर्जी देता है। अगर साइंस की बात मानें तो यह एनर्जी को ब्रेक डाउन करता है और यही आपके शरीर को गर्म रखने में मदद करती है। 2. प्‍याज ये तो आप जानते ही होंगे कि प्‍याज से कई लोग अपने शरीर का तापमान बढ़ा लेते हैं और बुखार ले आते हैं। क्‍या आपने कभी अपने बगल में प्‍याज के टुकड़े को रखा है? अगर रखा है तो आप जानते ही होंगे कि इसमें कोई झूंठ नहीं है। तो अगर आपको सर्दी से बचना है, तो आज ही प्‍याज का सूप बनाएं या फिर खाने में ढेर सारी प्‍याज का सेवन करें। 3. लहसुन उच्च कोलेस्ट्राल लेवल वाले लोगों को चिकित्सक लहसुन खाने को कहते हैं क्योंकि यह उच्च कोलेस्ट्राल लेवल को कम करता है। लेकिन, लहसुन का एक अन्य महत्वपूर्ण फायदा है कि यह सर्दियों में आपके शरीर को गर्म रखता है। सर्दियों के दौरान आपको फ्लू के कारण खांसी हो सकती है। चूंकि, लहसुन में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं; इसलिए यह बैक्टीरिया और वायरस के कारण फैलने वाले रोगों से बचने में मदद करता है। अगर सर्दी के महीनों में आपके गले में खराश है तो 2-3 लहसुन की कलियाँ चबाने से आराम मिलेगा। 4. अदरक अधिकतर भारतीय रसोइयों में अदरक उपलब्ध रहती है क्योंकि यह उन मसालों में से एक है जो भोजन को स्वादिष्ट बनाते हैं। सर्दियों में भी इसका उपयोग आपके शरीर को गर्म रखने के लिए किया जा सकता है। अदरक में थर्मोजेनिक, जिंजरोल्स और शोगाओल्स जैसे गुण हैं जो आपके शरीर को अंदर से गर्म रखने में सक्षम साबित हुए हैं। अगर आप सूखी या कच्ची अदरक का सेवन नमक के साथ करते हैं तो यह सर्दियों के दौरान आपके शरीर का मेटाबोलिज़्म बढ़ाने में मदद करेगा। अपने शरीर को गर्म रखने के लिए आप दिन में दो या तीन बार अदरक वाली चाय भी पी सकते हैं। 5. ब्राउन राइस ब्राउन राइस एक प्रकार का जटिल कार्बोहाइड्रेट है जो आपके शरीर में धीरे-धीरे टूटता है, जिसके परिणामस्वरूप ऊर्जा की एक विस्तृत रिहाई होती है। जो आपके शरीर को गर्म रखती है। इसके साथ ही इसे खाने से आपका वेट हमेशा मेंटेन भी रहेगा इसलिये सर्दियों में इसे जरुर खाएं। 6. केले यहां तक कि केले आपको गर्म कर सकते हैं। केले विटामिन बी और मैग्नीशियम में समृद्ध होता है, जो कि थायराइड और एडरिनल ग्‍लैंड को ठंडे मौसम के दौरान शरीर के तापमान को विनियमित करने में मदद करता है। 7. नारियल तेल नारियल तेल आपके शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढाता है और शरीर के तापमान को वापस सामान्‍य करता है। यह पेट के लिये भी काफी अच्‍छा माना जाता है। अगर आप इसे खाने में खाएंगे तो आपके शरीर को गर्मी मिलेगी जो कि ठंडक को दूर करने का अच्‍छा रास्‍ता है। 8. शहद सर्दियों में जब भी आपको खांसी और ज़ुकाम होता है तो दादी माँ एक चम्मच शहद खाने की सलाह देती है। यह सर्दी से बचने और उचित इम्युनिटी लेवल बनाने का एक प्राकृतिक तरीका है। अगर आप सर्दियों में हररोज़ एक चम्मच शहद खाते हैं तो यह आपको अत्यधिक ठंड से बचने में मदद करेगा। शहद एक प्राकृतिक स्वीटनर है और चीनी की जगह इसका उपयोग किया जा सकता है क्योंकि अधिक चीनी खाना सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है। शहद की सहायता से आप आसानी से अतिरिक्त कैलोरी कम कर सकते हैं और खुद को अंदर से गर्म कर सकते हैं। 9. बादाम सर्दियों में बादाम का सेवन करने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। बादाम ना ही सिर्फ याददाश्त बढ़ाने में मददगार है, बल्कि शरीर में गर्मी भी प्रदान करता है। English summary 9 Shocking Foods That Will Keep Your Body Warm This Winter! Winter season in North India can get quite chilly. Eat these 9 foods to keep your body warm and feel cozy. Story first published: 11:35 [IST] Jan 11, 2018 कीअन्यखबरें

मोटापा कम करना है तो इन 25 हेल्‍दी चीज़ों को खाइये इस टाइम

Thursday, January 11 2018

मोटापा कम करना है तो इन 25 हेल्‍दी चीज़ों को खाइये इस टाइम

डाइट-फिटनेस » मोटापा कम करना है तो इन 25 हेल्‍दी चीज़ों को खाइये इस टाइम मोटापा कम करना है तो इन 25 हेल्‍दी चीज़ों को खाइये इस टाइम Diet Fitness Published: 10:30 मोटापा आजकल के लाइफस्टाइल में एक बहुत बड़ी समस्या है। इसकी वजह है लोगों का फ़ास्ट फ़ूड और रेडीमेड फूड्स की तरफ ज्यादा रुझान का होना। इस तरह के फूड्स में बहुत ज्यादा कैलोरी होती है। अगर आप इस तरह के फ़ूड का रेगुलर इस्तेमाल करें तो इसका स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। हेल्दी डाइट खाने से ज्यादा महत्वपूर्ण है उसके खाने की सही टाइमिंग का होना। हम आपको कुछ हेल्दी डाइट के बारे में बता रहें हैं जिनका सही समय पर इस्तेमाल करने से आपको अपना वजन घटाने में मदद मिलेगी। आइये ऐसी चीजों के बारे में जानते हैं 1. चावल: कई लोगों को यह कन्फ्यूजन रहता है कि चावल खाने से वजन बढ़ता है लेकिन आपको बता दें कि अगर आप लंच में एक बाउल चावल का सेवन करेंगे तो आपको बहुत फायदा होगा। 2. सब्जियां: हरी सब्जियों में ढेर सारे विटामिन और मिनरल्स पाए जाते है और यह हेल्दी डाइट का एक अहम हिस्सा होता है। सुबह ब्रेकफास्ट में सब्जियों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 3. चाय या कॉफ़ी: चाय या कॉफ़ी का इस्तेमाल नाश्ते के बाद करना ठीक होता है। ऐसे ही ग्रीन टी का भी इस्तेमाल सुबह खाली पेट नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से लीवर पर बुरा असर पड़ता है। 4. दही: दही का सेवन खाली पेट करना ठीक नहीं होता है। बेहतर यह है कि इसे आप दिन में बिना शुगर का इस्तेमाल किये ही खाएं। अगर आप रात में दही खाना चाहते हैं तो इसमें शुगर और मिर्च मिलाकर खाएं। 5. दाल: दाल प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत होता है। इसका इस्तेमाल दिन में दो बार करना चाहिए। आप रोजाना अपनी डाइट में मसूर की दाल का इस्तेमाल करें। 6. मछली: मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है जिससे यह बहुत फायदेमंद होता है लेकिन बहुत मसालेदार मछली नहीं खाना चाहिए। 7. चिकन : चिकन भी प्रोटीन का अच्छा स्रोत होता है। कम मसालेदार चिकन लंच में इस्तेमाल करना चाहिए और शाम के समय इसका सूप पीना चाहिए। 8. ब्रेड: ब्रेड एक पूर्ण ब्रेकफास्ट होता है क्योंकि इसमें कार्बोहाइड्रेट बहुत ज्यादा होता है। इसका इस्तेमाल सुबह नाश्ते में करना चाहिए। 9. फल: फल में ढेर सारे विटामिन पाए जाते हैं। वैसे तो इसका सेवन किसी भी टाइम किया जा सकता है लेकिन शाम के स्नैक्स में इसे लेना चाहिए। 10. नट्स: नट्स साइज़ में तो बहुत छोटे होते हैं लेकिन यह हमें ढेर सारी ऊर्जा देते हैं इसलिए इनका इस्तेमाल सुबह ब्रेकफास्ट के समय करना चाहिए। 11. दूध: दूध रोजाना इस्तेमाल होने वाला फ़ूड होता है। दूध में कैल्शियम जयादा पाया जाता है। इसका इस्तेमाल रात में सोने से पहले करना चाहिए। 12. अंडा: अंडे का इस्तेमाल सुबह ब्रेकफास्ट के समय करना ठीक होता है। रात में अंडे का सेवन करने से आपको परहेज करना चाहिए। 13. संतरे का जूस: संतरे के जूस में ढेर सारे विटामिन सी और एंटी-आक्सीडेंट पाए जाते है। इसका सेवन रात के टाइम नहीं करना चाहिए। 14. पनीर: पनीर सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला फ़ूड होता है। पनीर का इस्तेमाल हमेशा डिनर में करना चाहिए। एक्सरसाइज करने के बाद इसका सेवन नहीं करना चाहिये। 15. सलाद: सलाद में फाइबर और विटामिन पाए जाते हैं। सलाद का इस्तेमाल लंच से पहले करना ठीक होता है जिससे 23% सब्जी की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है। 16. डेजर्ट : बहुत से लोग खाने के बाद डेसर्ट पसंद करते हैं। डिनर करने के बाद डेसर्ट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे वजन बढ़ सकता है। 17 सैंडविच: सैंडविच में खीरा, टमाटर और सलाद मिलाकर ही खाना चाहिए। इसका इस्तेमाल करने से आपको ढेर सारी ऊर्जा मिलती है। 18. चना: चना में फाइबर बहुत अधिक मात्रा में होता है। चने का इस्तेमाल लंच में रोटी या चावल के साथ करना चाहिए या फिर इसे स्नैक्स में करना चाहिए। 19. पास्ता: आज कल के लोगों को पास्ता बहुत पसंद होता है। पास्ते का इस्तेमाल लंच में सब्जियों के साथ ही करना चाहिए। 20. पिज्जा: अगर आप पिज्जा का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो दिन में ही करें, रात में इसका इस्तेमाल करना ठीक नहीं होता है। 21. रवा: रवा से शरीर को ऊर्जा मिलती है और यह शरीर के फैट को कम करता है। इसका इस्तेमाल लंच में या फिर शाम के स्नैक्स में करना चाहिए। 22. पोहा: पोहा में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन और विटामिन बी पाया जाता है। इसका इस्तेमाल ब्रेकफास्ट के समय या शाम के स्नैक्स में करना चाहिए। 23. पफ्ड राइस: यह इंडियन स्नैक्स होता है। इसमें बहुत ही कम कैलोरी होती है। इसका इस्तेमाल दोपहर के बाद करना चाहिए। 24. नूडल्स: नूडल्स एक भारी खाना होता है। नूडल्स को सब्जी के सूप के साथ डिनर में इस्तेमाल करना चाहिए। इसे फ्राई करके नहीं खाना चाहिए। 25. गेंहू की रोटी: कोई भी भारतीय खाना रोटी के बगैर अधूरा है। कई लोगो का मानना है चावल की तुलना में रोटी का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बढ़िया होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। लंच औरडिनर दोनों में 2-2 रोटी खाएं। English summary Best Time To Eat Certain Foods For Weight Loss Want to lose weight? These are the best times to eat certain foods for weight loss. For example, you should avoid having vegetables early in the morning. Story first published: 10:30 [IST] Jan 11, 2018 कीअन्यखबरें

बिना तकिये के सोने से होते हैं 10 कमाल के फायदे

Saturday, January 13 2018

बिना तकिये के सोने से होते हैं 10 कमाल के फायदे

Published: Saturday, January 13, 2018, 10:46 तकिया लगाकर सोने के नुकसान | Benefits of sleeping without pillow | Boldsky आमतौर पर माता पिता अपने बच्चों को तकिये के साथ सोने के लिए प्रेरित करते हैं जिसकी वजह से उन्हें इसकी आदत पड़ जाती है। इंडोनेशिया में तो सोते समय तकिया का इस्तेमाल करना जरुरी माना जाता है। जब कभी हम लोगों से यह पूछा जाता है कि हम इसे क्यों इस्तेमाल करते हैं तो एक सामान्य जवाब होता है कि अपने सिर, गर्दन और स्पाइन को एक दिशा में रखने के लिए इसे इस्तेमाल करते हैं जिससे आराम मिल सके। तकिये के साथ सोने से हमारी गर्दन और स्पाइन की मल्सस पर स्ट्रेस आता है जिसकी वजह से इसमें अकडन आ जाती है इसलिए हमें तकिये की जरुरत होती है जिससे हम अपनी गर्दन और सिर को स्पाइन की सीध में रख सकें। हालांकि गलत तरीके से तकिये को लगाने से गर्दन में दर्द होता है। हालांकि रिसर्च कहते हैं कि बिना तकिये के सोने से हमें कई सारे फायदे होते हैं आइये जानते हैं एक्सपर्ट्स इस बारे में क्या कहते हैं। एक्सपर्ट्स मानते हैं कि बिना तकिये के सोना ज्यादा फायदेमंद होता है इससे हमें ऐसे नींद आती है जैसी कि एक छोटे बच्चे को आती है क्योंकि शरीर एक नेचुरल स्थिति में होता है। एक्सपर्ट्स यह भी मानते हैं कि बिना तकिये के अगर हम जमीन पर सोते हैं तो हमें कई तरह की दिक्कत हो सकती है इसलिए बिना तकिये का सोने के लिए गद्दे का इस्तेमाल करना चाहिए जिससे हमारा शरीर सही स्थिति में रहता है। जब हम बिना तकिये के चित होकर सोते हैं तो हमें गर्दन और पीठ में दर्द नहीं होता है। आइये जानते हैं बिना तकिये के सोने से हमारे स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ता है। 1- मुंहासे नहीं होते हैं: बिना तकिये के सोने से हमें हमारे चेहरे में मुंहासे होने की संभावना कम होती है। क्योंकि जब हम तकिये का इस्तेमाल करते हैं तो हमारा फेस तकिये पर ही रहता है जिस पर धुल होने की वजह से मुंहासे हो सकते हैं। 2- झुर्रियां नहीं होती हैं: तकिये का इस्तेमाल करने से झुर्रियां पड़ती हैं क्योंकि ऐसा करने से चेहरे पर एक दबाव पड़ता है। जो लोग इसका इस्तेमाल नहीं करते हैं उन्हें यह दिक्कत नहीं होती है। 3- पीठ दर्द नहीं होता है: जब हम तकिये का इस्तेमाल करते हैं तो रीढ़ की हड्डी की स्थिति बदल जाती है और हमें पीठ में दर्द होने लगता है। इसलिए बिना तकिये के सोने से हमारी गर्दन स्पाइन की दिशा में रहती है जिसकी वजह से उसमे और पीठ में दर्द नहीं होता है। 4- गर्दन में दर्द नहीं होता है: तकिये का इस्तेमाल करने से हमारी गर्दन में दर्द रहता है और खासकर सुबह के समय जब हम उठते हैं तो यह दर्द ज्यादा रहता है क्योंकि तकिये का इस्तेमाल करने से शरीर की नर्व डैमेज हो जाती है जिससे दर्द होता है। 5- यंग दिखते हैं: तकिये के साथ सोने से हम अच्छी नींद नहीं लेते हैं जिससे हम थका हुआ महसूस करते हैं। तकिये का इस्तेमाल नहीं करने से हमें अच्छी नींद आती है जिसकी वजह से हमारी त्वचा फ्रेश रहती है और हम हमेशा यंग लगते हैं। 6- हड्डियाँ एक सीध में रहती हैं: बिना तकिये के सोने से हमारी हड्डियाँ एक सीध में रहती हैं जिससे हमें कोई दर्द महसूस नहीं होता है और हम स्वस्थ रहते हैं। 7- अच्छी नींद आती है: अध्ययन यह बताते हैं कि बिना तकिये का सोने से हमें नींद अच्छी आती है और कई तरह की दिक्कतें जैसे रात में चलने और सपने आना, नहीं होती हैं। 8- तनाव दूर होता है: जब हम तकिये का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो हमें एक अच्छी नींद आती है और हमारी सारी थकान दूर हो जाती है जिससे हमें तनाव नहीं होता है और हम फ्रेश महसूस करते हैं। 9- अनिद्रा दूर होती है: बिना तकिये का इस्तेमाल किये सोने से हमें अनिद्रा की शिकायत नहीं होती है और हम एक अच्छी नींद लेते हैं जिससे हम दिन भर रिलैक्स रहते हैं। 10- पीठ और गर्दन में दर्द नहीं होता है: तकिये का इस्तेमाल ना करने से हमारी गर्दन स्पाइन के सीध में रहती है और गर्दन पर स्ट्रेस नहीं पड़ता है जिससे पीठ और गर्दन में दर्द महसूस नहीं होता है। English summary health benefits of sleeping without a pillow in hindi Here are some of the few health benefits of sleeping without a pillow. Why dont you take a look as to why you should discard that soft pillow. Saturday, January 13, 2018, 10:46 [IST] Jan 13,

कब्ज का अचूक नुस्खा आज तक आपने नहीं सुना होगा

Saturday, January 13 2018

कब्ज का अचूक नुस्खा आज तक आपने नहीं सुना होगा

Published: Saturday, January 13, 2018, 14:45 एलोवेरा जिसे हिन्‍दी में घृतकुमारी कहा जाता है, एक प्रकार का छोटा सा कटीला पौधा होता है जिसकी पत्तियों में ढेर सारा जेल भरा होता है। एलोवेरा का जूस, बहुत फायदेमंद होता है। इसमें कई प्रकार के प्रोटीन और विटामिन होते है जो शरीर को स्‍वस्‍थ बनाते है। इसके जूस का स्‍वाद थोड़ा कड़वा होता है लेकिन आजकल मार्केट में इसका जूस कई फ्लेवर में मिलता है, जिससे आप आसानी से इसे स्‍वाद लेकर पी सकते है। एलोवेरा जूस में एंटी - ऑक्‍सीडेंट भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर की अधिकांश बीमारियों को ठीक कर देते है। इसे पीने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता और प्रतिरक्षा क्षमता दोनों का ही विकास होता है। एलोवेरा जूस पी कर ऐसे कम करें बढ़ा हुआ मोटापा इसे पीने से शरीर में कम होने पोषक तत्‍वों की भी पूर्ति हो जाती है। क्‍या आप कब्‍ज की बीमारी से परेशान हैं? अगर हां, तो आज हम आपको बताएंगे कि एलो वेरा जेल की मदद से आप ये बीमारी कैसे दूर कर सकते हैं। कब्‍ज के लिये एलो वेरा कब्‍ज एक बहुत ही परेशान कर देने वाली बीमारी है। अगर इसका इलाज समय पर नहीं किया गया तो यह पाइल्‍स का रूप भी ले सकती है। जिन लोंगो का पेट सुबह साफ नहीं होता है उन्‍हें एलो वेरा से काफी ज्‍यादा फायदा मिल सकता है। कब्‍ज होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे, खाने में फाइबर वाले आहार ना होना, पार्याप्‍त पानी ना पीना, हार्मोन में चेंज होना या फिर जंक फूड आदि खूब खाना। कब्‍ज से परेशान लोग खाएं घी, एक ही दिन में दिखेगा असर एलो वेरा नेचर में चिपचिपा होता है इसलिये यह पेट में जाते ही गंदगी को बाहर ढकेलता है। जिससे कब्‍जी की समस्‍या दो या तीन दिन में ही ठीक हो जाती है। बनाने की विधि - इस नुस्‍खे को बनाने से पहले आपको एलो वेरा को धो लेना होगा और फिर उसे बीच से काट कर एक चाकू की मदद से छिलके को उतार लेना होगा। उसके बाद एलो वेरा के बीच भरा जेल निकालें और उसे ब्‍लेंडर में डाल कर ब्‍लेंड कर लें। एलो वेरा हवा के संपर्क में आने से कठोर हो जाता है इसलिये अगर आपको उसे ढीला रखना हो तो ब्‍लेंडर में थोड़ा सा नींबू का रस भी मिक्‍स कर लें। आप इसमें संतरे का भी रस मिक्‍स कर सकती हैं। इस मिश्रण को हफ्ते भर चलाने के लिये फ्रिज में ही रखें। इससे इसके गुण बरकरार रहेंगे। जानें, पाइल्‍स के इलाज में मूली है कैसे नंबर वन कैसे करें इसका सेवन आपको इसे रोजाना दो से तीन चम्‍मच खाली पेट एक गिलास पानी में मिला कर पीना होगा। आप इसे अपनी इच्‍छा अुनसार किसी अन्‍य जूस के साथ मिला कर पी सकते हैं। एलो वेरा को हर रोज पीना चाहिये। सावधानी वे लोग जिन्‍हें मधुमेह या थायराइड या किडनी की बीमारी है या फिर प्रगनेंट महिलाओं को इसे ज्‍यादा पीने से बचना चाहिये। इस केस में आपको अगर कब्‍ज से छुटकारा पाना हो तो अपनी डाइट में फाइबर से जुड़े फल और सब्‍जियां ज्‍यादा से ज्‍यादा शामिल करें। जरुरी बातें पुरुषों को रोजाना अपनी डाइट में 30-38 ग्राम फाइबर लेना चाहिये। वहीं महिलाओं को अपनी डाइट में रोजाना कम से कम 21-25 ग्राम फाइबर प्रति दिन खाना चाहिये। English summary How to Use Aloe Vera for Constipation in Hindi How to Use Aloe Vera for Constipation in Hindi? Aloe vera, is a remedy that is mainly used for constipation. Saturday, January 13, 2018, 14:45 [IST] Jan 13,

अपनी आदतों में थोड़ा बदलाव लाकर स्‍तनों को ढीले होने से बचाएं

Saturday, January 13 2018

अपनी आदतों में थोड़ा बदलाव लाकर स्‍तनों को ढीले होने से बचाएं

महिलाएं » अपनी आदतों में थोड़ा बदलाव लाकर स्‍तनों को ढीले होने से बचाएं अपनी आदतों में थोड़ा बदलाव लाकर स्‍तनों को ढीले होने से बचाएं Women Published: Saturday, January 13, 2018, 17:33 महिलाओं के शरीर में उनके स्‍तन सबसे आकर्षक बॉडी पार्ट लगते है। ब्रेस्‍ट विभिन्न मांसपेशियों और कोशिकाओं से बना होता है जो उम्र के साथ सिकुड़ता है। स्तनों के सिकुड़ने के कारण ये ढ़ीले पड़ने लगते हैं। यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो महिलाओं में पचास वर्ष के बाद शुरू होता है। लेकिन ऐसे कई कारण होते है जिसके कारण कम उम्र की महिलाओं के भी स्तन ढीलें होने लगते हैं। उम्र के अलावा अनुचित वस्त्र पहनावा, जीवनशैली में बदलाव, हार्मोनों में बदलाव और अचानक से वजन में कमी या वृद्धि भी प्रमुख कारण है। गर्भावस्था भी स्तनों के फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। गर्भावस्था के दौरान लिगामेंट में फैलाव के कारण स्तनों के आकार में वृद्धि हो जाती है। कई महिलाएं आकर्षक लुक और सेक्‍सअपील पाने के लिए अलग-अलग तरह की ब्रा पहनना पसंद करती हैं। चाहे वह पैडेड ब्रा हो या फिर अंडरवायर, यह ब्रेस्‍ट को हर तरह का शेप और साइज प्रदान करती है। लेकिन आपको नहीं मालूम आपकी छोटी छोटी गलतियां आपके हेल्‍दी ब्रेस्‍ट पर भारी पड़ सकती है। उम्र के किसी भी दौर में महिलाएं स्‍तन के आकार और साइज की समस्‍या से जूझ सकती हैं। ब्रेस्‍ट फैटी टिशू से बने हुए होते हैं और इन टिशू की प्रवृत्ति होती है कि वह सालभर में शिथिल होने लगते हैं। पर स्‍तन ढीले होने के कई और भी प्रमुख कारण हैं जैसे, ब्रेस्‍टफीडिंग, गलत ब्रा पहनना और बुढ़ापा। अगर आप सही केयर करेंगी तो स्‍तन के ढीलें होने की नौबत कभी नहीं आएगी। फिट ब्रा पहनें हमारे शरीर का कोई भी हिस्सा गुरुत्व गुरुत्वाकर्षण से इतना प्रभावित नहीं होता है जितना कि हमारे स्तन| इसका सबसे मुख्य कारण है सही नाप की ब्रा नहीं पहनना| यह बहुत जरूरी है कि आप सही नाप की ब्रा पहनें जिससे कि स्तन सही शेप में रहें और आपका पूरा लुक अच्छा दिखे| ब्रा का चुनाव करते समय ध्यान रखें कि आपके स्तन उछले नहीं और बाहर की तरफ नहीं निकलें| जब इसकी पट्टियाँ ज्यादा कसी हुई या ज्यादा ढीली होती हैं तो ब्रा बदल लें| यदि आपको अपने ब्रा के आकार के बारे में जानकारी नहीं है, तो किसी प्रॉफेश्नल से सलाह लें ताकि आकार का ठीक नाप हो सके। मसाज स्‍तनों के आकार को सुडौल बनाए रखने के लिए रोजाना मॉइश्‍चर करें। इससे त्वचा कोमल रहेगी और लचीलापन बना रहेगा| अपने स्तनों को ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर की और मसाज करें। इसे रोजाना 10 मिनट तक करें, इससे ऊतकों में रक्त का सही संचार होगा और लचकता बनी रहेगी। इसके लिए आप ग्वारपाठे का जैल, बादाम का तेल या अन्य वनस्पति तेल इस्तेमाल कर सकते है हेल्‍दी खाएं स्वास्थ्यप्रद आहार लें स्तनों को लटकने से बचाने के लिए स्वास्थ्यप्रद आहार बहुत जरूरी है| स्तनों के ऊतकों के निर्माण और स्वस्थ कोशिकाओं के निर्माण के लिए शरीर को स्वास्थ्यप्रद आहार की आवश्यकता है| स्वस्थ त्वचा के लिए विटामिन ई और डी बहुत जरूरी है| इसके साथ ही ब्रेस्ट कैंसर को रोकने के लिए खाने में ओमेगा-3 फैटी एसिड भी लें| अपने खाने में हरी पत्तेदार सब्जियाँ, गाजर, नट्स, टमाटर, अनेक अनाज भी शामिल करें। वजन स्थिर बनाएं रखें वजन स्थिर रखें नियमित व्यायाम और संतुलित आहार से वजन को स्थिर बनाए रखें| वजन के कम या ज्यादा होने से ऊतकों में खिंचाव हो जाता है| यह स्तनों के लचीलेपन को प्रभावित कर सकता है| स्तनों के ढीलेपन और अच्छे स्वास्थ्य के लिए सुझावित वजन ही बरकरार रखें| वजन के कम या ज्यादा होने से स्तनों के ऊतकों में खिंचाव बढ़ सकता है| एक्‍सरसाइज करें आवश्यकता से अधिक व्यायाम हर चीज की अति बेकार होती है, ऐसे ही ज्यादा व्यायाम भी| ऐसा करने से स्तन लचीलापन खो देते हैं। जिनका साइज ज्यादा है उन्हें ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। बड़े स्तनों से स्नायु तंत्र और उससे जुड़े ऊतकों को नुकसान हो सकता है। इसलिए ज्यादा देर तक जोगिंग नहीं करें और व्यायाम करते समय सपोर्टिव या स्पोर्टी ब्रा पहनें, ऐसा कहा जाता है कि अच्छी दिनचर्या से स्तनों को सुडौल रखा जा सकता है| छाती से संबन्धित व्यायाम जैसे पुश अप, चेस्ट प्रैस, आदि भी इसमे मददगार हैं। पानी खूब पीएं जल का सेवन आपके शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पर्याप्त पानी पीये, त्वचा जब निर्जलित होती है तो त्वचा पर झुर्रियां पड़ जाती हैं और लटक जाती है। इसलिए इससे बचने के लिए त्वचा को हाइड्रेटेड और नम रखें| पानी के अलावा आप अन्य तरल पदार्थ और खट्टे फल भी ले सकती हैं। धूम्रपान छोड़ें कुछ महिलाओं को नियमित सिगरेट पीने की आदत होती है। यह कभी सोचा भी नहीं गया था कि कभी नशे की आदतों से पुरूषों को दूर रखने वाली महिलायें आज के समय में नशे के लत की शिकार हो रही है। यह महिलाओं के शरीर में विभिन्न समस्याओं को दे रही है। इनमें से स्तनों का ढ़ीलापन एक है। आपको तुरंत धूम्रपान छोड़ना चाहिये अगर आप स्तनों को ढ़ीला होने से बचना चाहती हैं। ब्रेस्‍ट मास्‍क बनाकर लगाएं यह मास्क विटामिन ई के तेल, दही और अंडे को साथ मिलाकर बनाया जाता है। इन सभी सामग्रियों को मिलाकर स्तन पर लगा लें। 10 मिनट तक लगाये रखने के बाद ठन्डे पानी से धुल दें। बर्फ से मालिश बर्फ, त्वचा और स्तन को रंगत देने में सहायता करता है। कुछ बर्फ के टुकड़े को लेकर स्तन पर मालिश करें। इसको करने के लिये बर्फ को मसल लें और एक ज़िप से बंद होने वाले बैग में भरकर दिन में कई बार स्तनों की मालिश करें जिससे स्तन की त्वचा ठोस हो सकेगी। English summary How to Prevent Sagging Breasts Naturally While you cannot battle against the natural causes, you can prevent excessive and premature breast sagging with the following tips: Saturday, January 13, 2018, 17:33 [IST] Jan 13,

BEAUTY TIPS: सर्दी में ग्लिसरीन को ऐसे लगाएं रात में

Saturday, January 13 2018

BEAUTY TIPS: सर्दी में ग्लिसरीन को ऐसे लगाएं रात में

Published: Saturday, January 13, 2018, 13:00 नॉर्थ इंडिया में कड़ाके की सर्दी हो रही है और ऐसे में स्‍किन की नमी खोने का काफी डर रहता है। अगर अपनी स्‍किन की केयर करना हो तो आपको रात में ही चेहरे पर ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट लगाने चाहिये। इससे रातभर आपकी स्‍किन रिपेयर होती रहेगी और अगली सुबह चेहरे पर अच्‍छा सा ग्‍लो मिलेगा। सर्दियों में जो अधिकतर महिलाएं खुद की ब्‍यूटी किट में रखना पसंद करती हैं, वो है ग्‍लिसरीन। चेहरे के लिए कैसे करें ग्लिसरीन का इस्तेमाल जी हां, ग्‍लिसरीन कोई नया नाम नहीं है बल्‍कि यह खूबसूरती निखारने की देसी दवा है। रात में अगर चेहरे पर ग्‍लिसरीन और नींबू लगा कर सोया जाए तो चेहरे का रूखापन कम होता है और अगर इसे फटी एडियों पर लगाया जाए तो एडियां ठीक हो जाती हैं। ऐसे ही ग्‍लिसरीन के कई ढेर सारे फायदे हैं, जिसे आप उयोग कर सकती हैं। आइये जानते हैं सर्दियों में स्‍किन की नमी को बरकरार रखने के लिये ग्‍लिसरीन को रात में कैसे चेहरे पर लगाएं। 1. स्‍किन बनाए फेयर और दाग रहित ग्लिसरीन को रात में यूज़ करने के लिये आप नींबू का रस, गुलाब जल और ग्लिसरीन की एक मात्रा में मिक्‍स करें। फिर इस पेस्‍ट से अपने चेहरे की कुछ मिनट तक मसाज करें। फिर इसे रातभर के लिये ऐसे ही चेहरे पर लगा छोड़ दें। इस ब्‍यूटी टिप्‍स को आजमा कर आप देंखेगी कि आपकी स्‍किन काफी फेयर हो गई है। अगर आपकी स्‍किन में कोई पिगमेंटेशन है या फिर डार्क स्‍पॉट पड़े हैं तो वह भी धीरे धीरे खतम होने लगेंगे। 2. रूखी त्‍वचा से दिलाए छुटकारा रात को सोने से पहले आप चाहें तो दूध की मलाई में थोड़ी सी ग्लिसरीन मिला कर चेहरे पर 10 मिनट तक लगाएं। फिर चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। यह उपचार उन लोंगो के लिये अच्‍छा है जिनकी स्‍किन काफी रूखी रहती है सर्दियों में। 3. मॉइस्‍चर की तरह यूज़ करें इसे आप ग्लिसरीन को एक मॉइस्‍चर की तरह भी यूज़ कर सकती हैं। इसे अपनी डेली क्रीम के साथ मिला कर रोजाना सोने से पहले चेहरे पर लगाएं। अगर क्रीम नहीं भी है तो भी आप इसे सादे पानी के साथ मिक्‍स कर के लगा सकती हैं। 4. त्‍वचा को बनाए चमकदार और नम ग्लिसरीन को बेसन तथा चंदन पावडर के साथ मिक्‍स कर के पेस्‍ट बनाएं और चेहर पर लगा कर 20 मिनट तक सूखने दें। फिर इसे धो लें। इससे आपकी स्‍किन हाइड्रेट और चमकदार हो जाएगी। इससे आपकी गोराई तुरंत ही दिखेगी। आप इस ब्‍यूटी टिप को हफ्ते में दो बार यूज़़ कर सकती हैं। 5. मुंहासों के दाग हटाने में मदद करे इसमें एंटी बैक्‍टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो कि एक्‍ने और मुंहासों को दूर करने में काफी फास्‍ट होते हैं। आप ग्लिसरीन को डायरेक्‍टली ही चेहरे पर लगा कसती हैं। इसके साथ ही इसे मुंह के अल्‍सर पर भी लगाया जा सकता है। 6. फेस टोनर की तरह करता है काम ग्‍लिसरीन और एप्‍पल साइडर वेनिगर को समान्‍य मात्रा में मिक्‍स करें और साफ चेहरे पर लगाएं। आपको फिर इसे धोने की जरुरत नहीं है। इससे आपके स्‍किन के पोर्स बंद हो जाएंगे। अब तक आप समझ गई होंगी कि ग्‍लिसरीन आपकी त्‍वचा पर कितना अच्‍छा असर डाल सकता है। बस आपको इसे अपने ब्‍यूटी रूटीन में शामिल करना है और इसके फायदे देखने हैं। English summary glycerin for face at night in hindi Glycerin is used mostly to moisturize your skin. Read on to know how to use glycerin for face at night in hindi. Mentioned below are the best skin and beauty benefits of glycerin. Story first published: Saturday, January 13, 2018, 13:00 [IST] Jan 13, 2018 कीअन्यखबरें Please Wait while comments are loading...

लड़कियां अपने हिप्स को सही शेप में लाने के लिए खाएं ये 15 चीजें

Friday, January 12 2018

लड़कियां अपने हिप्स को सही शेप में लाने के लिए खाएं ये 15 चीजें

Published: Friday, January 12, 2018, 10:00 बहुत सी महिलाएं अपने हिप्स को सही आकार में लाने के लिए तरह-तरह के उपाय करती हैं। जब शरीर को फिट और सही शेप में रखने की बात आती है तो ज्यादातर महिलाएं सेलिब्रिटिज को फॉलो करती हैं और जिम जाकर एक्सरसाइज के जरिए अपने शरीर को मनचाहे आकार में लाती हैं। आजकल ज्यादातर महिलाएं अपने शरीर को स्लिम और जीरो साइज में लाने के लिए पसीने बहाती हैं वहीं कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो अपने हिप्स को सही आकार में लाने की कोशिश में लगी रहती हैं। गोल-मटोल हिप्स से महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ता है इसलिए वे हिप्स के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए रोजाना कई तरह के एक्सरसाइज भी करती हैं। लेकिन सही तरीके का आहार लेकर भी हिप्स को गोल-मटोल और सही आकार प्रदान किया जा सकता है। तो आइये हम यहां आपको ऐसे ही 15 खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप अपने हिप्स को सही आकार में ला सकती हैं। 1. टमाटर टमाटर स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फायदेमंद है। यह वजन घटाने के साथ ही उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है। टमाटर में एमीनो एसिड और लाइकोपिन पाया जाता है जो हिप्स की मांसपेशियों को मजबूत करता है और उसे सही आकार प्रदान करता है। 2. स्वीट पोटैटो रोजाना घरों में उपयोग होने वाले आलू की अपेक्षा स्वीट पोटैटो में कैलोरी कम मात्रा में पायी जाती है जो फैट को कम करने में सहायक होती है। स्वीट पोटैटो में प्रोटीन भी पाया जाता है जो महिलाओं में हिप्स के मांसपेशियों के निर्माण करने में मदद करता है। 3. लीन चिकन विशेषरूप से एक्सरसाइज के बाद भोजन के रूप में नियमित लीन चिकन खाने से पैर, ऊपरी जांघों और हिप्स के मांसपेशियों का निर्माण होता है जिससे वे बड़े और अधिक गोल मटोल दिखते है। 4. ब्राउन राइस अगर आप वजन कम करना चाहती हैं और हिप्स के आसपास मांसपेशियां बनाना चाहती हैं तो व्हाइट राइस की अपेक्षा ब्राउन राइस काफी फायदेमंद है। इसमें प्रोटीन और पोटैशियम पाया जाता है जो हिप्स की मांसपेशियों को बढ़ाता है। 5. एवोकैडो एवोकैडो खाने से स्वास्थ्य को कई लाभ होते हैं। विशेषरूप से शरीर के निचले हिस्से की एक्सरसाइज के बाद नियमित एवोकैडो खाने से हिप्स पर मांसपेशियों के ऊतकों का विकास होता है जिससे आपके हिप्स को सही आकार मिलता है। 6. ओट्स ओट्स एक्सरसाइज के पहले या बाद में खाया जा सकता है। इसमें प्रोटीन पाया जाता है जो प्राकृतिक रूप से शरीर को एनर्जी देता है और महिलाओं में हिप्स की मांसपेशियों को बढ़ाता है। 7. चना चने में अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है जो फैट को कम करने के साथ ही मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। जो महिलाएं अपने हिप्स को बढ़ाना चाहती हैं उनके लिए चना काफी उपयोगी साबित होता है। 8. अखरोट रोजाना मुट्ठीभर अखरोट खाने से हृदय रोगों से मुक्ति मिलती है और यादाश्त भी बढ़ती है। लेकिन इसमें मौजूद मिनरल हिप्स के मांसपेशियों के ऊतकों को बढ़ाता है जिससे महिलाओं में हिप्स बढ़ जाता है। 9. पालक हरी पत्तेदार सब्जियों में प्रोटीन और आयरन अधिक मात्रा में पाया जाता है। प्रोटीन हिप्स के मांसपेशियों को बढ़ने में मदद करता है और आयरन इसके रक्त प्रवाह को ठीक रखता है जिससे आपका हिप्स सुंदर दिखता है। 10. मेथी मेथी में प्रोटीन पाया जाता है। मेथी का नियमित सेवन करने से यह हिप्स के आसपास की मांसपेशियों के ऊतकों को बढ़ाने में काफी उपयोगी साबित होता है। मेथी महिलाओं के शरीर में हार्मोन भी पैदा करता है जो हिप्स के मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायक होता है। 11. अंडे रोजाना नाश्ते में अंडा खाने से सिर्फ इम्यूनिटी सिस्टम ही ठीक नहीं रहता बल्कि यह शरीर के फैट को भी कम करता है। लेकिन यह हिप्स के आसपास मांसपेशियों का निर्माण करता है। अगर आप सही तरीके से एक्सरसाइज करें तो हिप्स के आसपास आसानी से मसल्स का निर्माण किया जा सकता है। 12. बादाम बादाम में प्रोटीन पाया जाता है। स्नैक्स में नियमित बादाम का सेवन करने से हिप्स के आसपास के मांसपेशियों का विकास होता है। 13. ग्रीक दही नियमित रूप से ग्रीक दही खाने से पेट में अच्छे बैक्टीरिया की संख्या बढ़ती है जो हमें स्वस्थ रखती है। इसके अलावा दही में प्रोटीन और कैल्शियम मौजूद होने के कारण हिप्स के आसपास मांसपेशियों के निर्माण में भी यह सहायक होता है। 14. मछली मछली में आमतौर पर कैलोरी कम लेकिन मिनरल और ओमेगा-3 फैटी एसिड अधिक पाया जाता है। मछली में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड हिप्स पर मांसपेशियों के ऊतकों को बढ़ाता है जिससे हिप्स अधिक गोल मटोल दिखता है। 15. क्विनोआ क्विनोआ में अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है इसलिए जो लोग अपनी फिटनेस पर अधिक ध्यान देते हैं उन्हें पोषण विशेषज्ञ क्विनोआ खाने की सलाह देते हैं। महिलाओं में यह हिप्स की मांसपेशियों का निर्माण करता है। English summary These 15 Foods Can Give Women Shapely Buttocks In Just 2 Months! To attain shapely buttocks, one must perform lower body exercises such as squats, lunges and reverse planks on a daily basis, to strengthen the muscles in the buttock region and make them firmer. Story first published: Friday, January 12, 2018, 10:00 [IST] Jan 12, 2018 कीअन्यखबरें

लिवर को स्वस्थ रखना है तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये 12 चीजें

Friday, January 12 2018

लिवर को स्वस्थ रखना है तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये 12 चीजें

तंदुरुस्‍ती » लिवर को स्वस्थ रखना है तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये 12 चीजें लिवर को स्वस्थ रखना है तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये 12 चीजें Wellness Published: Friday, January 12, 2018, 11:00 इसमें कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है कि लिवर हमारे शरीर का एक अहम हिस्सा है। इसमें किसी भी तरह का नुकसान होने से पूरे शरीर पर इसका असर पड़ सकता है। इसलिए लिवर संबंधी समस्याओं के शुरूआती लक्षणों को लेकर सावधान रहने की जरुरत है, अगर इसे नजरअंदाज किया गया तो यह बहुत ही खतरनाक हो सकता है। इसके लिए सबसे पहले ये जानने की जरुरत है कि लिवर का काम क्या है? लिवर जोकि आपके शरीर के दाएं हिस्से में होता है, उसका मुख्य काम है पाचन तंत्र से निकलने वाले ब्लड को शरीर के बाकी हिस्सों में जाने से पहले उसको फ़िल्टर करना। इसके अलावा लिवर शरीर के टॉक्सिक पदार्थो और केमिकल्स को डीटॉक्सिफाई करने का काम करता है। आपको बता दें कि लिवर एक प्रोटीन का निर्माण करता है जो ब्लड क्लोटिंग के अलावा और भी क्रियाओं के लिए जरुरी होता है। सिस्टम में किसी तरह का नुकसान आपके लिवर को डैमेज कर सकता है। कुछ ऐसे फूड्स भी होते हैं जिनके इस्तेमाल से आपका लिवर हेल्दी रहता है। इसलिए अपने लिवर को स्वस्थ रखने के लिए आपको ऐसे ही फूड्स का सेवन करना चाहिए। तो आइए हम आपको ऐसे ही कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहें हैं जो आपके लिवर को स्वस्थ रखने में मदद करेंगे। 1. लहसून: लहसून अपने एंटी-ऑक्सीडेंट गुण के कारण जाना जाता है और इसमें एलिसिन नामक एंटी-ऑक्सीडेंट भी पाया जाता है। यह शरीर को ऑक्सीडेटिव डैमेज से बचाता है और लिवर को एक ऐसे एंजाइम को एक्टिवेट करने के लिए प्रेरित करता है जो उन टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालता है जो लिवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 2. हल्दी: हल्दी में एक यौगिक होता है जिसे करक्यूमिन कहते हैं। करक्यूमिन में बहुत अच्छे एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-इन्फ्लामेट्री और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। इसकी वजह से हल्दी इंफ्लामेसन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके लिवर को किसी भी तरह की होने वाली बीमारियों से बचाता है। 3. गाजर: गाजर में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होने के साथ साथ इसमें जरुरी विटामिन, मिनरल्स और डाइटरी फाइबर भी पाये जाते हैं। एक गिलास गाजर का जूस पीने से लिवर से फैटी एसिड और टॉक्सिक पदार्थ की मात्रा कम हो जाती है। 4. ग्रीन टी: ग्रीन टी में एंटी-ऑक्सीडेंट बहुत अधिक मात्रा में होते हैं। इसके अलावा इसमें कैटेचिन्स नामक महत्वपूर्ण पॉलीफीनोल भी होता है जो लिवर से टॉक्सिक चीजों को बाहर निकालकर उसे स्वस्थ रखता है। इसलिए रोजाना 2 से 3 कप ग्रीन टी का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है। 5. ऐवोकैड़ो: इसमें प्रचुर मात्रा में हेल्दी फैट्स होते हैं और यह अपने एंटी-इन्फ्लामेट्री और एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों के कारण जाना जाता है। रोजाना 3 से 4 टुकड़े ऐवोकैड़ो का सेवन करने से लिवर में डैमेज होने की संभावना कम रहती है। 6. ऑलिव ऑयल: ऑलिव ऑयल में अच्छे फैट्स होते हैं। दूसरे कुकिंग ऑयल की तुलना में ओलिव ऑयल लिवर के लिए अच्छा माना जाता है। ऑलिव ऑयल बैड कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसराइड्स को कम करने के साथ साथ इन्सुलिन की संवेदनशीलता और लिपिड ऑक्सीडेशन को बढ़ाता है जिसकी वजह से आपका लिवर स्वस्थ रहता है। 7. हरी पत्तेदार सब्जियां: हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, सलाद और सरसों का साग आदि अपने एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लामेट्री गुण के लिए जानी जाती हैं। इसके अलावा इनमे फाइबर, जरुरी विटामिन और कैल्शियम भी पाए जाते हैं, इसलिए रोजाना हरी सब्जियों का सेवन जरूर करना चाहिए। 8. नट्स: नट्स जैसे अखरोट और बादाम मे अधिक मात्रा में हेल्दी फैट्स और एंटी-इन्फ्लामेट्री गुण होते हैं। इसलिये लिवर को स्वस्थ रखने के लिए रोजाना 8 से 10 बादाम और अखरोट का सेवन करना चाहिए। 9. चुकंदर का जूस: चुकंदर में एंटी-आक्सीडेन्ट गुण होने के कारण यह कैंसर सेल्स द्वारा डीएनए डैमेज और लिवर को नुकसान होने से बचाता है। हफ्ते में 3 से 4 बार रोजाना एक गिलास चुकंदर का जूस पीने से आपका लिवर साफ़ और स्वस्थ रहता है। 10. चकोतरा: चकोतरा में बहुत अधिक ऐंटी-आक्सीडेन्ट गुण होते हैं। रोजाना इसका एक गिलास जूस पीने से आपकी इम्म्युनिटी बढ़ती है और इन्फेक्शन होने की संभावना कम रहती है। इसके अलावा चकोतरा लिवर को डीटोक्सीफाई करता है और उसे स्वस्थ रखता है। 11. संपूर्ण अनाज: ब्राउन राइस, क्विनोआ और बकव्हीट जैसे अनाज में अधिक मात्रा में डाइटरी फाइबर पाये जाते हैं जिसकी वजह से ना केवल यह आपका वजन कम करते हैं बल्कि नॉनऐल्कॉहलिक फैटी लिवर जैसी बीमारी से भी बचाने का काम करते हैं। 12. सेब: जैसा कि कहा जाता है कि रोजाना एक सेब का सेवन डॉक्टर को दूर रखता है, इसलिए ऐसा पाया गया है कि सेब आपके लिवर को डैमेज होने से बचाता है। सेब में मौजूद पॉलीफीनोल लिवर में होने वाले इंफ्लामेसन को रोकता है और लिवर को कई तरह की खतरनाक बीमारियों जैसे हेपेटाइटिस से बचाने का काम करता है। English summary 12 Best Foods To Eat For A Healthy Liver The condition of your liver depends a lot on what you eat. Know about a few foods that helps to keep your liver healthy here on Boldsky. Story first published: Friday, January 12, 2018, 11:00 [IST] Jan 12, 2018 कीअन्यखबरें

जानिए चटनी खाने से होते हैं क्या क्या फायदे

Friday, January 12 2018

जानिए चटनी खाने से होते हैं क्या क्या फायदे

» जानिए चटनी खाने से होते हैं क्या क्या फायदे जानिए चटनी खाने से होते हैं क्या क्या फायदे Diet Fitness Published: Friday, January 12, 2018, 8:00 चटनी ना केवल खाने के स्वाद को बढ़ाती है बल्कि यह आपको कई तरह से स्वास्थ्य लाभ भी देती है। चटनी खाने में तो तीखी लगती है लेकिन बहुत ही लाजवाब होती है और चटनी का भारतीय भोजन में एक अलग ही महत्व है। आपको बता दें कि हमारे यहां कई तरह की चटनी का इस्तेमाल होता है जैसे धनिया, पुदीना आदि की चटनी। चटनी का इस्तेमाल हमारे देश के लगभग सभी घरों में होता है और कई सारे लोगों का मानना है कि हमारे देश में बिना चटनी के भोजन की कल्पना नहीं की जा सकती है। चटनी का सेवन करने से हमारे शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है जिससे कई तरह के इन्फेक्शन से लड़ने में मदद मिलती है। तो आइये हम इस लेख में जरिये आपको कई तरह की चटनी के बारे में बताने जा रहें है कि कैसे इसे बनाते हैं और इससे आपके स्वास्थ्य के लिए क्या उपयोगिता है। 1- पुदीना की चटनी: पुदीने की चटनी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होती है। यह हमारे पाचन क्रिया को बढ़ाता है, इंफ्लामेसन को कम करता है और पेट को भी बहुत आराम देता है। इसके अलावा यह भूख को बढ़ाने का काम करता है और ढेर सारी बीमारियों जैसे मिचली, कब्ज़ और उल्टी आदि को ठीक करने का काम करता है। 2- करी के पत्ते की चटनी: आपको बता दें कि करी का पत्ता आयरन और फॉलिक एसिड का बहुत अच्छा स्रोत होता है। फॉलिक एसिड शरीर में आयरन को अवशोषित करने में भी मदद करता है जिसकी वजह से यह शरीर में खून की कमी को पूरा करता है और इसलिए इसे एनीमिया के लिए एक नैचुरल औषधि माना भी जाता है। 3- आंवले की चटनी: आंवला में विटामिन सी की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है जिसकी वजह से यह शरीर जी इम्युनिटी को बढ़ाने का काम करता है और इसका इस्तेमाल करने से आपको त्वचा संबंधी समस्याएं जैसे दाग धब्बे, कील मुंहासे और झुर्रियां आदि होने की संभावना काम हक जाती है। इसके अलावा यह शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है। आपको बता दें कि आंवला पैंक्रियाज को प्रेरित करता है जिससे इन्सुलिन का स्राव नियंत्रित होता है और डायबिटीज भी कंट्रोल होती है। 4- धनिये के पत्ते की चटनी: धनिया की चटनी सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। आपको बता दें कि धनिया पाचन को बढ़ाने का काम करता है इसलिए इसे परफेक्ट उपचार माना जाता है। इसमें विटामिन सी और विटामिन k की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। यह इन्सुलिन के स्राव को प्रेरित करता है जिससे यह ब्लड शुगर लेवल को कम करके डायबिटीज को नियंत्रित करने का काम करता है। 5- पिरंडई की चटनी: यह चटनी पेट से जुडी समस्याओं जैसे अल्सर, कब्ज़, गैस, बवासीर और एसिडिटी के लिए बहुत महवपूर्ण होती है। चूंकि बच्चों को पिरंडई थोगायल के रूप में खाना मुश्किल होता है इसलिए उन्हें केवल वथल के रूम में खिलाने की कोशिश करनी चाहिए। बच्चों की डाइट में पिरंडई वथल का इस्तेमाल करने से बच्चों के पेट में होने वाली समस्याओं से छुटकारा मिलता है। 6- प्याज और लहसून की चटनी: इस चटनी का इस्तेमाल करने से आपके पेट संबंधी जटिल समस्याएं जैसे कब्ज़, बवासीर आदि को ठीक करने का काम करती है। आपको बता दें कि लहसून में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीइंफ्लामेट्री गुण होनेकी वजह से यह कई सारी बीमारियों के इलाज में सहायक होता है। इसके अलावा यह ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है जिससे डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी होने की संभावना कम होती है। 7- टमाटर की चटनी: टमाटर की चटनी का इस्तेमाल करने से आपको ढेर सारे विटामिन और ग्लूटाथिओन मिलते हैं जिसकी वजह से आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। टमाटर की चटनी का इस्तेमाल करने से लोगों को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में आराम मिलता है और वो एक लंबी और स्वस्थ जीवन व्यतीत करते हैं। English summary Health benefits of chutneys Chutneys not only transform the taste of what we eat but also have a variety of benefits ranging from soothing the tummy to being a detox agent. Story first published: Friday, January 12, 2018, 8:00 [IST] Jan 12, 2018 कीअन्यखबरें