Health and Fitness

पॉप कॉर्न खाने वालों को कभी नहीं होंगी ये बीमारियां, जानें इसके फायदे

Thursday, January 25 2018

पॉप कॉर्न खाने वालों को कभी नहीं होंगी ये बीमारियां, जानें इसके फायदे

डाइट-फिटनेस » पॉप कॉर्न खाने वालों को कभी नहीं होंगी ये बीमारियां, जानें इसके फायदे पॉप कॉर्न खाने वालों को कभी नहीं होंगी ये बीमारियां, जानें इसके फायदे Diet Fitness 11:52 पॉप कॉर्न एक ऐसी चीज़ है जो आपको बिना ढूंढ़े ही सड़क किनारे बिकता हुआ मिल जाएगा। यह खाने में काफी अच्‍छा लगता है और स्‍वास्‍थ्‍य के मामले में भी काफी हेल्‍दी होता है। एक पॉप कॉर्न से भरा कटोरा अगर खाने को मिल जाए तो समझिये कि आपका दिन बन गया। बाहर के मुकाबले अगर आप घर पर ही पॉप कॉर्न बनाएं तो वह ज्‍यादा हेल्‍दी होता है। पॉपकॉर्न यदि सही तरीके से पकाया गया हो तो वह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद है। पॉपर्कार्न में ज्‍यादा तेल या घी का प्रयोग नही करना चाहिए। पॉपकॉर्न पर लहसुन और कालीमिर्च पाउडर डालकर खाने से दिल मजबूत होता है। पॉप कॉर्न में ढेर सारी मात्रा में फाइबर, पॉलीफेनोलिक कंपाउंड, एंटीऑक्‍सीडेंअ, विटामिन बी कॉम्‍पलेक्‍स, मैंगनीज और मैगनीशियम जैसी प्रभावशाली चीज़ें हैं। तो अगर आप अभी तक पॉप कॉर्न नहीं खाते थे, तो अब इसे ऐसे ही ना छोड़ कर इसका सेवन करना शुरु कर दें क्‍योंकि इससे आपके स्‍वास्‍थ्‍य को बड़ा फायदा होने वाला है। 1. कोलेस्‍ट्रॉल कम करे पॉप कार्न में ढेर सारा फाइबर होता है जो कि अत्‍यधिक कोलेस्‍ट्रॉल को कम कर के खून की धमनियों को चौड़ा करता है। इससे आपके हार्ट अटैक का चांस कम होता है और स्‍ट्रोक नहीं होता। 2. पाचन के लिये बढियां पॉप कार्न एक साबुत अनाज है जिसमें चोकर के सभी गुण मौजूद हैं। इसे खाने से पाचन क्रिया दुरुस्‍त रहती है और कब्‍ज जैसी कंडीशन नहीं आ पाती। फाइबर चिकनी आंतों की मासपेशियों के पेस्‍टलेटिक गति को उत्‍तेजित करता है। यह आपके पूरे पाचन तंत्र के लिये अच्‍छा होता है। 3. कैंसर से बचाए पॉप कॉर्न के अंदर भारी मात्रा में पोलीफेनोलिक यौगिक होता है, जो कि सबसे ज्‍यादा शक्‍तीशाली एंटीऑक्‍सीडेंट है, जिसकी आपके शरीर को जरुरत होती है। एंटीऑक्‍सीडेंट कैंसर पैदा करने वाले फ्री रैडिकल्‍स से मुक्‍ती दिलाते हैं। 4. उम्र का बढना भी रोकें इसे खाने से उम्र बढने से होने वाली झुर्रियां, एज स्‍पॉट, अंधापन, मासपेशियोंमें कमजोरी या बाल झडने की समस्‍या आदि दूर होती है। यह आपको हेल्‍दी रखता है। 5. मोटापा घटाए 1 कप पॉप कॉर्न में आपको केवल 30 कैलोरीज़ ही मिलेंगी, जो आलू के चिप्‍स की समान मात्रा से लगभग 5 गुना कम होता है। इसलिये अगर आपको भूंख लगे तो केवल पॉप कॉर्न ही खाएं। पॉप कॉर्न में संतृप्‍त वसा बहुत ही कम होती है और इसका तेल शरीर के लिये काफी जरुरी भी है। 6. मजबूत हड्डियों के लिये खाएं पॉप कॉर्न में मैगनीज़ काफी ज्‍यादा पाया जाता है जो कि हड्डियों को मजबूत बनाने में काफी मदद करता है। यह आपको आगे चल कर osteoporosis, arthritis और osteoarthritis होने से बचाएगा। 7. इसमें होता है ढेर सारा आयरन USDA के अनुसार 28 ग्राम पॉप कॉन में लगभग 0.9 mg आयरन की मात्रा होती है। एक वयस्क पुरुष को पति दिन 8 एम जी आयरन और एक वयस्‍क महिला को प्रति दिन 18 एम जी आयन की जरुर होती है। तो अगर आपको आयरन चाहिये तो आयर की गोलियां नहीं पॉप कॉन खाइये। 8. मधुमेह रोगियों के लिये बढियां पॉप कार्न में फाइबर होता है जो कि शरीर के अंदर ब्‍लड शुगर पर अच्‍छा प्रभाव डालता है। जब शरीर में ढेर सारा फाइबर होता है तो यह ब्‍लड शुगर और इंसुलिन के स्‍तर को नियमित करता है। इसलिये मधुमेह रोगियों को पॉप कार्न खाने की सलाह दी जाती है। English summary Health Benefits Of Eating Popcorn Written in hindi Have you ever thought that popcorn can work wonders for your body? It has several health benefits that will leave you surprised! Learn the health benefits of eating popcorn in this article. 11:52 [IST]

बॉडी बिल्‍डिंग करने वाले क्‍यूं खाते हैं चिकन ब्रेस्‍ट, जानें इसके 10 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

Saturday, January 27 2018

बॉडी बिल्‍डिंग करने वाले क्‍यूं खाते हैं चिकन ब्रेस्‍ट, जानें इसके 10 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

डाइट-फिटनेस » बॉडी बिल्‍डिंग करने वाले क्‍यूं खाते हैं चिकन ब्रेस्‍ट, जानें इसके 10 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ बॉडी बिल्‍डिंग करने वाले क्‍यूं खाते हैं चिकन ब्रेस्‍ट, जानें इसके 10 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ Diet Fitness 11:13 सेहत की फिक्र करने वाले नॉन वेजिटीरियन लोग अपनी डाइट में चिकन को जरूर शामिल करते हैं क्योंकि इसमें खूब प्रोटीन होता है। मगर चिकन का हर पार्ट प्रोटीन से उतना भरा नहीं होता जितना ब्रेस्‍ट। जानिये कैसे इंसान की ताकत को चौगुना बढ़ा सकता है ये बोन सूप सबसे ज्यादा प्रोटीन चिकन ब्रेस्‍ट में होता है। अगर आप बॉडी बिल्डिंग करते हैं, या आपको एक्स्ट्रा प्रोटीन की जरूरत है तो इस पार्ट को अपने खाने में शामिल करें। इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसमें फैट नहीं होता। यह बाकी के मीट की तरह कॉलेस्ट्रॉल बढ़ाने वाला नहीं होता। अगर आप दिनभर में 100 ग्राम चिकन ब्रेस्ट खाते हैं तो आपको उसमें 25 से 30 ग्राम प्रोटीन, 100 से 120 कैलोरी, 0 कार्बोहाइड्रेट और 0 फैट होता है। - चिकन पकाने और खाने का हेल्‍दी तरीका 1. इसमें हाई प्रोटीन होता है चिकन ब्रेस्‍ट में प्रोटीन काफी ज्‍यादा पाया जाता है। अगर आप 100 ग्राम चिकन ब्रेस्ट खाते हैं तो उसमें आपको 25 से 30 ग्राम प्रोटीन मिलेगा। दमदार जिम करने वाले लोगों को ढेर सारे प्रोटीन की जरूरत होती है तो ऐसे में आप खाने के तौर पर चिकन ब्रेस्‍ट खा सकते हैं। 2. मिनरल और विटामिन्‍स चिकन ब्रेस्‍ट में ढेर सारे मिनरल्‍स और विटामिन्‍स भरे हुए हैं। इसमें विटामिन बी होता है जो कि कैट्ररैक्‍ट और अन्‍य स्‍किन की बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। यह शरीर की कमजोरी दूर करता है, इम्‍यूनिटी को बढाता है और पाचन क्रिया को तेज करता है। 3. वजन घटाए वजन घटाना है तो खाने में चिकन ब्रेस्‍ट को जरुर शामिल करें। वेट लॉस डाइट में प्रोटीन रिच फूड को शामिल करना चाहिये क्‍योंकि तभी आप आराम से वजन कम कर पाएंगे। चिकन ब्रेस्‍ट में काफी प्रोटीन होता है जो कि पेट को भरे रखता है। वजन घटाना है तो खाने में चिकन ब्रेस्‍ट को जरुर शामिल करें। वेट लॉस डाइट में प्रोटीन रिच फूड को शामिल करना चाहिये क्‍योंकि तभी आप आराम से वजन कम कर पाएंगे। चिकन ब्रेस्‍ट में काफी प्रोटीन होता है जो कि पेट को भरे रखता है। 4. ब्‍लड प्रेशर क्‍या आप जानते है कि चिकन ब्रेस्‍ट ब्‍लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है। जी हां, यह बात सही है। जिन्‍हें हाई बीपी की समस्‍या है वो चिकन ब्रेस्‍ट को बड़े आराम से खा सकते हैं, उन्‍हें काफी फायदा मिलेगा। 5. कैंसर के रिस्‍क को कम करता है अध्ययनों से पता चला है कि चिकन ब्रेस्‍ट खाने से कैंसर, विशेषकर पेट के कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। लाल मांस की तुलना में अक्सर चिकन ब्रेस्‍ट लेने से कैंसर का खतरा एक निश्चित स्तर तक कम हो सकता है। 6. उच्च कोलेस्ट्रॉल चिकन ब्रेस्‍ट की तुलना में लाल मांस में पाए जाने वाले कोलेस्ट्रॉल और संतृप्त वसा की मात्रा अपेक्षाकृत अधिक है। चिकन ब्रेस्‍ट खाने से उच्च कोलेस्‍ट्रॉल के जोखिम को कम किया जा सकता है और विभिन्न प्रकार के हृदय रोग तथा स्ट्रोक की संभावना को कम किया जा सकता है। 7. तनाव तथा चिंता को कम करे चिकन ब्रेस्‍ट अमीनो एसिड में समृद्ध है, जिसे ट्रिपटोपान कहा जाता है, जो आपके शरीर को तुरन्त आराम देता है। यदि आपका मन उदास या तनाव और स्‍ट्रेस में तो, चिकन ब्रेस्‍ट खाने से आपके मस्तिष्क के सेरोटोनिन के स्तर में वृद्धि होगी, जिससे आपके मनोदशा में सुधार होगा और तनाव दूर होगा। 8. मेटाबॉलिज्‍म बढाए चिकन ब्रेस्‍ट में विटामिन बी 6 होता है जो चयापचय सेलुलर प्रतिक्रियाओं और एंजाइमों को बढ़ावा देता है, जिसका अर्थ है कि चिकन ब्रेस्‍ट खाने से आपकी खून की धमनियां हमेशा स्‍वस्‍थ रहेंगी। यह आपकी ऊर्जा के स्तर को भी उच्च रखेगा और चयापचय को बढ़ावा देगा, ताकि आपका शरीर अधिक कैलोरी बर्न कर सके। 9. मजबूत हड्डियों के लिए बढ़ती उम्र के साथ हड्डियां कमजोर होने लगी हैं। ऐसे में चिकन ब्रेस्‍ट खाने से आपकी हड्डियों में ताकत आएगी। रोजाना अगर आप 100 ग्राम चिकन खाते हैं तो आपको काफी मात्रा में प्रोटीन और फास्फोरस मिलेगा जो कि आपकी हड्डियों, दांतों और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को मजबूत रखने में मदद करेगा 10. टोन्‍ड फिगर पाने के लिये यदि आप भारी हैं और एक टोन्‍ड शरीर पाना चाहती हैं तो चिकन ब्रेस्‍ट खाना शुरु कर दें। चिकन ब्रेस्‍ट में प्रोटीन अधिक होता है जो आपके शरीर की मांसपेशियों को टोन करने में मदद करेगा। हालांकि, इसे अपने आहार में पर्याप्त मैक्रो और सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ संतुलित करना सुनिश्चित करें। English summary 10 Health Benefits Of Skinless Chicken Breast Boneless and skinless chicken breast is lean protein and its tasty once it is cooked. It benefits your health in so many ways. So, learn to know more about the health benefits of the skinless chicken breast here. 11:13 [IST]

Air pollution में ज्‍यादा घूमने से भी हो सकता है अनियमित पीरियड

Saturday, January 27 2018

Air pollution में ज्‍यादा घूमने से भी हो सकता है अनियमित पीरियड

महिलाएं » Air pollution में ज्‍यादा घूमने से भी हो सकता है अनियमित पीरियड Air pollution में ज्‍यादा घूमने से भी हो सकता है अनियमित पीरियड Women 12:49 अगर आपको अपनी बेटी के स्‍वास्‍थ्‍य की चिंता है तो उसके घर से बाहर निकलने से पहले उसे एंटी पॉल्यूशन मास्‍क पहनने को बोल दें। ऐसा इसलिये क्‍योंकि प्रदूषण के बहुत छोटे कणों में ऐसी क्षमता होती है जो लड़कियों में अनियमित माहवारी का कारण बन सकता है, ऐसा एक हालिया अध्ययन में बताया गया है। बोस्टन विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों के अनुसार, वायु प्रदूषण के जोखिम से नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभाव पैदा हो सकते हैं। दिल्‍ली हुई जहरीली: जानें स्‍मॉग से कैसे करें खुद और परिवार का बचाव हम में से ज्‍यादातर लोग समझ नहीं पाते कि बांझपन, मेटाबोलिक सिंड्रोम और पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम होने का कारण वायु प्रदूषण भी हो सकता है। यह स्‍टडी सबसे पहले दावा करती है कि किशोर लड़कियों (14-18 वर्ष की आयु) में वायु प्रदूषण के कारण माहवारी में अनयिमिता होती है। वायु प्रदूषण भी आपके बालों को नुकसान पहुंचा सकता है। अध्ययन की लेखिका श्रुति महालिंग्याह ने कहा, "वायु प्रदूषण के संपर्क में हृदय और पल्‍मोनरी रोग तो जुड़े हुए है हीं, साथ में इस अध्ययन से ये भी पता चलता है कि इससे reproductive endocrine system, भी प्रभावित होता है।" अनियमित पीरियड्स से के और भी हैं कारण - डिप्रेशन या तनाव ज्यादा और डिप्रेशन या थकान की वजह से भी मासिक धर्म के नियमित होने पर भी बुरा असर पड़ता है न केवल वो आपके मासिक धर्म के अनियमित होने के लिए जिम्मेदार है बल्कि साथ ही यह वजन बढ़ने जैसी समस्या से भी दो चार होना पड़ सकता है। GIRLS ध्‍यान दें... आयुर्वेद अनुसार ऐसे पाए‍ हेवी ब्‍लीडिंग से छुटकारा अल्कोहल का सेवन अल्कोहल लेने और धुम्रपान से भी मासिक धर्मं अनियमित हो सकते है। दारू पल भर का नशा ही नहीं बल्कि गहराई से शरीर पर लंबे समय के लिए शरीर पर प्रभाव पड़ता है। अनहेल्दी लाइफस्टाइल होना कई अनियमित पीरियड की प्रॉब्लम हमारी अनियमित और असंतुलित जीवनचर्या की वजह से होती है। सही समय पर खाना ना खाना और जब खाना तो उसमें ज्यादा फैट या टला भुना खाना खाने की वजह से पीरियड्स अनियमित हो सकते हैं। तो ब्रह्मा जी के श्राप की वजह से महिलाओं को शुरु हुआ था मासिक धर्म आना किसी बीमारी की वजह से कभी कभी बीमार होने की वजह से भी ओव्यूलेशन में देरी हो सकती है। तो अगली बार जब आपके पीरियड्स ना हो या देर से हों तो इस बात पर जरूर ध्यान दीजियेगा कि कहीं आप बिमारी तो नहीं थी। ज्‍यादा एक्‍सरसाइज करना शादी के बाद अक्सर महिलाओं का वजन बढ़ जाता है, जिसे कम करने के चक्कर में वे ज्यादा व्यायाम करने लगती हैं। और जिससे आगे चल कर उनके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। पीरियड्स को नियमित करने के लिये अपनाएं ये नेचुरल तरीके - धनिया या सौंफ के बीज का प्रयोग धनिया या सौंफ के बीज का काढा रोज दिन में एक बार पियें। इन सामग्रियों को रात भर पानी में भिगो कर सुबह पानी छान कर खा लेना चाहिये। गाजर और चुकन्‍दर का रस आप अनियमित महावारी को गाजर और चुकन्‍दर के रस को पी कर भी ठीक कर सकती हैं। हर दिन 3 महीने तक इनके जूस को पीजिये और लाभ उठाइये। मेथी के दाने खाएं आप घर पर ऐसा सलाद बना कर खा सकती हैं जिसमें 2 चम्‍मच भिगोई हुई मेथी मिली हो। या फिर आप मेथी को भिगो कर सुबह खाली पेट 1 चम्‍मच खा सकती हैं। English summary Irregular menstrual cycle? Air pollution could be the cause You may need to ask your teenage daughter to put anti-pollution mask before stepping out in open, as extremely small particles of pollution have the potential to cause her irregular menstrual cycle, finds a recent study. 12:49 [IST]

लड़के डार्क सर्कल से ऐसे पा सकते हैं छुटकारा

Saturday, January 27 2018

लड़के डार्क सर्कल से ऐसे पा सकते हैं छुटकारा

Published: Saturday, January 27, 2018, 15:30 [IST] आज कल लड़के भी अपनी सुंदरता पर काफी ध्‍यान देने लगें हैं। अक्‍सर देखा जाता है कि लड़कियों को आंखों के डार्क सर्कल काफी परेशान करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि ये परेशानी केवल लड़कियों को ही होती है बल्‍कि लड़के भी इस परेशानी से काफी परेशान रहते हैं। पुरूषों की आंखों के नीचे होने वाले काले घेरे उनकी खूबसूरती और स्‍मार्टनेस को कम कर सकते है। कई बार, आंखों के नीचे होने वाले काले घेरे, अनहेल्‍दी लाइफस्‍टाइल का परिणाम होते है। बहुत ज्‍यादा काम करने, तनाव लेने, नींद न पूरी हो पाने और अन्‍य कारणों से आंखों के नीचे काले घेरे हो जाते है। लड़कों के लिए गोरा होने की ब्‍यूटी टिप्‍स... 13 Face Packs हैं अंदर!! पर आप को अब परेशान होने की जरुरत नहीं है क्‍योंकि आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्‍खे बताएंगे, जिसको आजमा कर आप डार्क सर्कल से मुक्‍ती पा सकते हैं। आइये देखते हैं क्‍या हैं वो उपाय... 1. नेचुरल ऑइल से ठीक करें पिगमेंटेशन हमारी आंखों के नीचे की स्‍किन काफी संवेदनशील होती है जिसको अच्‍छी तरह से मसाज की जरुरत होती है। आप एवाकाडो ऑइल, सूरजमुखी तेल या विटामिन ई तेल से आंखों के नीचे मसाज कर सकते हैं। आप चाहें तो ठंडी शहद या ठंडी आई क्रीम भी प्रयोग कर सकते हैं। इससे आपको डार्क सर्कल से आराम से छुटकारा मिलेगा। 2. समोकिंग और ड्रिंकिंग को कहें ना लड़कों के डार्क सर्कल का एक आम कारण है बहुत ज्‍यादा स्‍मोकिंग या ड्रिंकिंग की आदत। अगर आप इन कामों को छोड़ दें तो आपको डार्क सर्क से हमेशा के लिये छुटकारा मिल सकता है। 3. रोजवॉटर का प्रयोग करें रोजवॉटर नेचुरल चीज होती है, जिससे स्‍किन को काफी फायदे मिल सकते हैं। अगर आप अपने आंखों के नीचे रोज वॉटर लगाएं तो आपकी स्‍किन को काफी फायदा मिल सकता है। यह आपको आराम से किसी भी मेडिकल शॉप पर मिल सकता है। इसे किसी कॉटन पैड की मदद से लगाएं। 4. कच्‍चा आलू भी कम नहीं आलू हर घर में यूज़ किया जाता है। यह स्‍किन के रंग को काफी हल्‍का कर देता है और यह डार्क सर्कल को भी कम कर देगा। एक ठंडे आलू का रस निकाल कर अपनी आंखों पर लगाएं और ऐसा कई दिनों तक करें। आपको फायदा जरुर देखने को मिलेगा। 5. खीरे का इस्‍तेमाल डार्क सर्कल को ट्रीट करने का सबसे अच्‍छा उपाय खीरा का इस्‍तेमाल करना होता है। खीरा एक अच्‍छा एस्‍ट्रीजेंट होता है और यह बेहतरीन क्‍लींनजर भी होता है जो आंखों के नीचे होने वाले काले घेरों को खत्‍म कर देता है। खीरे के स्‍लाइस काट लें और उन्‍हे आंखों पर रख लें। ऐसा दिन में दो बार करें, लगभग दस दिन में लाभ मिल जाएगा। 6. टी बैग्‍स टी बैग्‍स का यूज करके भी पुरूषों की आंखों के नीचे होने वाले डार्क सर्कल को दूर किया जा सकता है। सुबह की चाय के बाद यूज किए हुए टी बैग्‍स को अपने फ्रीज में रख दें। जब आपको समय मिलें तो उन्‍हे फ्रिज से बाहर निकाल लें और रूम के तापमान पर होने के लिए रख दें। बाद में इन्‍हे अपनी आंखों पर लगा लें। इससे आपको आराम मिलेगा और काले घेरे कम होगें। 7. टमाटर का प्रयोग खट्टा, पल्‍पी टमाटर ना केवल खाने में स्‍वाद बढाता है बल्‍कि यह स्‍किन के रंग को भी निखारने का काम करता है। इसका रस एक ब्‍लीचिंग एजेंट से भरा हुआ है। इसे आप पल्‍प या जूस के रूप में लगा सकते हैं। 8. बादाम का तेल बादाम का तेल कई प्राकृतिक गुणों से भरपूर होता है जो आंखों के आसपास की त्‍वचा को फायदा पहुंचाता है। बादाम के तेल के नियमित उपयोग से त्‍वचा का रंग हल्‍का पड़ जाता है, इसीलिए इसे आंखों के आसपास लगाने से डार्क सर्कल दूर हो जाते है। रात में इसे आंखों के नीचे थोड़ा सा लगाएं और हल्‍के हाथों से मसाज करें। मसाज करने के बाद ऐसा ही छोड़ दें। सुबह उठने के बाद ठंडे पानी से धो लें। आप चाहें तो बादाम के तेल की जगह ऑलिव ऑयल का इस्‍तेमाल भी कर सकते है या इन दोनों ऑयल को मिला सकते है, इससे भी बेहतर परिणाम मिलता है। English summary Home remedies to treat under eyes dark circles for men Dark circles not only strikes the sensitive skin of the women but they also encounters around the eyes of men too. Here are some home remedies to get rid of these dark circles. Story first published: Saturday, January 27, 2018, 15:30 [IST]

बिना दवाईयों के इन नेचुरल तरीकों से कम करें ब्‍लड शुगर

Monday, January 29 2018

बिना दवाईयों के इन नेचुरल तरीकों से कम करें ब्‍लड शुगर

Updated: 9:32 वर्तमान जीवन शैली में डाइबिटीज़ बड़ी तेज़ी से फ़ैल रहा है जिसे जीवन शैली में सुधार करके तथा स्वस्थ आहार लेकर प्रभावी रूप से नियंत्रित किया जा सकता है। इस बीमारी में रक्त में शर्करा का स्तर उच्च हो जाता है जिसके कारण शरीर की इन्सुलिन उत्पादन क्षमता प्रभावित होती है या शरीर प्रभावी रूप से इन्सुलिन का उपयोग नहीं कर पाता। हालाँकि ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं वहीं इसके लिए कई घरेलू उपचार भी उपलब्ध हैं। यहाँ ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने के लिए 10 प्रभावी घरेलू उपचार बताए गए हैं जिनके द्वारा आप डाइबिटीज़ के साथ भी एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं। फैट को करें गुडबाय ट्रांस फैट शरीर में प्रोटीन को ग्रहण करने की छमता को कम करता है। जिसकी वजह से शरीर में इन्सुलिन की कमी हो जाती है। और हमारे शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। कार्बोहाइड्रेट को कट करें यदि आप अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित करना चाहते हैं तो, सफेद चावल, पास्ता, पॉपकॉर्न,राइस पफ और वाइट फ्लौर से बचें। मधुमेह के दौरान शरीर कार्बोहाइड्रेट्स को पचा नहीं पता है। जिस की वजह से शुगर आपके शरीर में तेज़ी से जमा होने लगती है। फाइबर फाइबर युक्त आहार ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है। अवशोषित फाइबर ब्लड में शुगर की अधिक मात्रा को अब्ज़ोर्ब कर लेता है और इन्सुलिन को नार्मल करके मधुमेह को नियंत्रित करता है। प्रोटीन डाइट जो लोग नॉन वेज खाते हैं उन्‍हें अपनी डाइट में लाल मीट शामिल करना चाहिए। उच्‍च प्रोटीन डाइट खाने से शरीर में ताकत बनी रहती है क्‍योंकि मधुमेह रोगियों को कार्बोहाइड्रेड और हाई फैट से दूर रहने के लिए कहा गया है। एक्‍सरसाइज करें हमेशा व्यायाम करना, योग प्राणायाम का नियमित अभ्यास करना, सुबह शाम वॉक करना मधुमेह रोग में शुगर कंट्रोल करने के लिए बहुत लाभदायक है तथा मोटापा नियंत्रण में रहता है जो की डायबिटीज का महत्वपूर्ण कारण है। तनाव से बचें – मधुमेह रोग में तनाव की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है तनाव से बचने की पूरी कोशिश करें। स्ट्रेस या तनाव के कारणों को आपसी बात चीत से हल करें, योगा, प्राणायाम, ध्यान तथा सुबह शाम घूमने से स्ट्रेस कंट्रोल करने में सहायता मिलती है। ताजे फल खाएं फलों में नेचुरल सुगर पाया जाता हैं, फल खाने से आप अपनी विटामिंस और मिनरल्‍स की कमी को पूरा करते रहें और साथ ही यह मधुमेह को कंट्रोल करने में आपकी मदद भी करते हैं। भूख से अधिक न खायें डायबिटीज के रोगियों को ओवरईटिंग से बचना चाहिए। जितनी भूख हो उतना ही खाएं, भूख से अधिक खाने के कारण भी डायबिटीज बढ़ने का खतरा रहता है। इसलिए मधुमेह के रोगी ओवरईटिंग न करें, और न ही फास्‍ट फूड और जंक फूड का सेवन करें। इसमें कोलेस्‍ट्रॉल होता है जिससे मुधमेह रोगियों की स्थिति बदतर हो सकती है। शराब पीएं ज्‍यादा मात्रा में एल्‍कोहल लेने से बचें डायबिटिक होने का मतलब ये नहीं है कि आप अपनी जिंदगी जीना छोड़ दे। लेकिन आपको अपनी शराब पीने की आदत को थोड़ा सीमित करना चाहिए। कुछ खास अवसर पर ही पीएं। स्‍मोकिंग छोड़े अगर आप ब्‍लड शुगर के मरीज है तो इसलिए आपको स्‍मोकिंग छोड़ना बहुत जरुरी है। सिगरेट में मौजूद निकोटिन आपके इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है। जिसकी वजह से ब्‍लड शुगर अनियंत्रित हो जाती है और इस वजह से दिल का खतरा और किडनी प्रॉब्‍लम होने की सम्‍भावना बढ़ जाती है।

पेट नहीं रहता साफ? पिएं ये 3 चमत्‍कारी जूस.... सुबह हो जाएगी एक दम फ्रेश

Monday, January 29 2018

पेट नहीं रहता साफ? पिएं ये 3 चमत्‍कारी जूस.... सुबह हो जाएगी एक दम फ्रेश

डाइट-फिटनेस » पेट नहीं रहता साफ? पिएं ये 3 चमत्‍कारी जूस.... सुबह हो जाएगी एक दम फ्रेश पेट नहीं रहता साफ? पिएं ये 3 चमत्‍कारी जूस.... सुबह हो जाएगी एक दम फ्रेश Diet Fitness Published: 12:00 कब्ज पाचन तंत्र से जुड़ी एक आम समस्या है। जो की किसी भी आयु वर्ग के लोगो को प्रभावित कर सकती है। इस रोग की सबसे अच्छी बात यह है की इससे ग्रसित व्यक्ति अपने दिनचर्या में सुधार करके और कुछ घरलू उपायों से इस पर आसानी से काबू पा सकता है। इससे पीड़ित व्यक्ति का पेट ठीक से साफ नहीं हो पाता, आंतों में तरल पदार्थो के अवशोशण में अधिक समय लगने के कारण उनमे ठंडा और कठोर मल अधिक एकत्रित होने लगता है जिसकी वजह से उस व्यक्ति को मल त्याग करने में काफी परेशानी होती है। रोगी को शौच साफ़ नहीं होता है, मल सूखा और कम मात्रा में निकलता है। शौच के दौरान पेट में बहुत दर्द होता है या घण्टों बैठे रहने पर निकलता है। जहाँ आम तौर पर लोग दिन में कम से कम एक बार शौच करते हैं वहीँ कांस्टीपेशन का मरीज कई दिनों तक मल त्याग नहीं कर पाता। इस कारण से उसका पेट में भरीपन रहता है और भोजन में भी अरुचि हो जाती है। कब्ज के कारण कुछ लोगों को उल्टी भी हो जाती है और सर में दर्द भी बना रहता है। कब्ज़ होने के कई कारण हो सकते हैं अनियमित भोजन, बासी भोजन करना, कम शारीरिक श्रम, मानसिक तनाव, अधिक चिकनाई वाला भोजन करना, और आंतों की कमजोरी। लेकिन इन सब से बचा भी जा सकता है। आइये जानते हैं इसे ठीक करने के कुछ प्राकृतिक उपाए। 1. नींबू कब्ज को दूर करने में नींबू बहुत फायदेमंद है। यदि किसी को कब्ज हो तो रात को सोने से पहले एक नींबू पानी में निचोड़ कर दो चम्मच शक्कर डालकर पीना चाहिए। ऐसा करने से कब्ज धीरे धीरे ठीक होने लगेगा। नींबू शरीर में पाचक रसों के बनने में मदद करता है। 1. नींबू (1) ये पाचन क्रिया को बेहतर रखने में भी मददगार है। नींबू विटामिन सी के गुणों से भरपूर होता है। साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं। जिससे त्वचा के दाग-धब्बे साफ हो जाते हैं और त्वचा पर निखार आता है। 2. अदरक अदरक अपने औषधिये गुणों के लिए जानी जाती है। इसमें बहुत सारे विटामिन के साथ-साथ इसमें आयरन, कैल्शियम, आयोडीन, क्लो‍रीन सहित कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं। साथ ही अदरक एक शक्तिशाली एंटीवायरल भी है। जिनकी शरीर को सुचारु रूप से चलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। 2. अदरक अदरक कई सारे गुणों की खान है और इसे विभिन्न तरीकों से उपयोग में लाया जा सकता है। अदरक पाचन तंत्र को भी अच्छा रखता है। पेट की ऐंठन और अपच को ठीक करता है। अदरक को ताजा और सूखा दोनों प्रकार से प्रयोग किया जा सकता है। 3. सेब रोजाना सेब का सेवन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जिससे शरीर को आसानी से कोई भी रोग नहीं लगता। रोजाना सेब का सेवन आपके दिल को स्वस्थ रखता है। सेब को छिलके सहित खाना चाहिए। इसके साथ ही सेब को हमें सुबह के समय खाना चाहिए। सेब अगर खाली पेट खाया गया तो आपके शरीर का टॉक्सिक (गंदगी) आसानी से बाहर निकल जायेगी। और एनर्जी भी ज्यादा मिलेगी। सुबह खाली पेट सेब खाने से पेक्टिन लैक्टिक एसिड की रक्षा कर, लैक्टिक एसिड बैक्टीरिया के पेट में अच्छी तरह से विकसित होने में मदद करते हैं। बड़ा हुआ लैक्टिक एसिड कब्ज के उपचार और रोकथाम के रूप में कार्य करता है और कार्सिनोजन खत्म करने में मदद करता है। विधि 1. दो बड़ा चम्मच ताजा नींबू का रस 2. 1/2 चम्मच नमक 3. 1 चम्मच अदरक का रस 4. 1/2 कप शुद्ध, सेब का रस 5. 1/2 कप गर्म, शुद्ध पानी। तैयार करने की विधि एक बर्तन में आधा कप पानी को अच्छे से गर्म करे। अब इसे एक गिलास में निकाल कर, इसमें नमक, अदरक का रस, नींबू का रस और सेब का रस मिलाएं और पी जाएँ। तैयार करने की विधि इसे आप दिन में दो से तीन बार पी सकते हैं। जैसे सुबह नाश्ते से पहले, दोपहर के खाने से पहले और शाम को खाने से पहले। इसे आप हफ्ते एक से दो बार पीएं। आप देखेंगे कि आप की पाचन क्रिया में काफी सुधार हो रहा है। English summary The 3 Juice Colon Cleanse To Flush The Toxins Out Of Your System Digestive problems like irritable bowel syndrome, damaged gut, leaky bowel and chronic constipation among others are becoming increasingly common today. Story first published: 12:00 [IST]

रुजुता दिवेकर से जानें कि शाम के नाश्‍ते में क्‍या खाना चाहिये

Monday, January 29 2018

रुजुता दिवेकर से जानें कि शाम के नाश्‍ते में क्‍या खाना चाहिये

Published: 16:12 आमतौर पर, नाश्ते का समय 4 बजे से शाम 6 बजे तक माना जाता है, जिसमें आप अनहेल्‍दी स्‍ट्रीट फूड का अनंद ले सकते हैं। इसका कारण यह है कि 4 से 6 बजे के बीच आप आमतौर पर कार्यालय या कॉलेज में होते हैं और घर के स्‍नैक्‍स तक पहुंच ही नहीं पाते। करीना को स्‍लिम बनाने वाली रुजुता दिवाकर ने बताया गर्मियों में स्‍वस्‍थ रहने के 5 टिप्‍स कई लोग यह भी मानते हैं कि अगर आप दिनभर में हेल्‍दी खाना खा रहे हैं तो नाश्ते के समय थोड़ा चीट कर लेना कोई गलत बात नहीं है। क्‍या आप जानते हैं कि सड़कों पर जो स्‍ट्रीट फूड मिलता है उसमें कितनी ज्‍यादा कैलोरीज़ होती हैं? अगर आप शाम के नाश्‍ते में समोसा, वडा पाव, बिस्‍कुट या फर्सान आदि खाते हैं, तो आपको जरुर पढ़ना चाहिये कि सेलेब nutritionist रुजुता दिवेकर इसके बारे में क्‍या कहती हैं। वह कहती है कि शाम को 4-6 बजे के दौरान आपके पास एक पौष्टिक भोजन होना चाहिए। आइये जानते हैं कि स्‍नैक्‍स के दौरान आपको क्‍या खाना चाहिये। अपने स्‍नैक टाइम में आप अपने पास ये चीज़ें रख सकते हैं- 1. मुट्ठी भर मूंगफली और चना - भूख को नियंत्रित करते हैं, रात के खाने के दौरान ब्‍लोटिंग को रोकता है। अगर आप रात का खाना 8 बजे से पहले खाते हैं तो आपको यह नाश्‍ता जरुर खाना चाहिये। यह नाश्‍ता मधुमेह रोगियों के लिए बहुत अच्छा है। इसके साथ ही अगर पीसीओडी वाले या फिर जिनमें कम ऊर्जा का स्तर होता है वह भी इसे आराम से खा सकते हैं। 2. गुड़, घी और चपाती- यदि आप सक्रिय रहते हैं, या फिर घर से दूर रह कर काम करते हैं और 9 बजे रात के बाद खाना खाते हैं तो फिर यह नाश्‍ता आपके लिये अच्‍छा है। यही नहीं अगर आपको रात की नींद अच्छी नहीं आती या कब्‍ज रहता है तो आप इसे खाएं। यह नाश्‍ता कम हीमोग्लोबिन के स्तर को भी बढाता है। 3. पोहा / उपमा / डोसा / अंडे का टोस्ट / होममेड खाकरा या मठरी / घर का बना गोंद या बेसन लड्डू - यदि शाम के बाद आपका काम का बोझ बढ़ता है या शाम को आपको पार्टी में जाना हो या आप लगातार सिरदर्द, पैर की ऐंठन, कम इम्‍यूनिटी के शिकार हों तो उपरोक्त में से कोई भी चीज़ खा सकते हैं। और अगर इनमें से कोई भी चीज़ संभव नहीं है तो एक ग्रील्ड सब्जी और पनीर वाला सैंडविच भी खा सकते हैं। 4. चाट / समोसा / सड़क के भोजन - आप इनका भी आनंद उठा सकते हैं, लेकिन सप्ताह में केवल एक बार। चाट या सड़क का खाना खाने का सबसे बुरा समय रात का माना जाता है। एक जरुरी बात- अगर आप स्‍वस्‍थ स्‍नैक खाना चाहते हैं तो अपना नाश्‍ते का मील आज से ही प्‍लान कर लें। English summary Rujuta Diwekar says THIS is what you should eat during snack time every day She says that you must have a wholesome meal between 4-6 pm in the evening. Here’s why you need to eat healthy and what you should eat for snacks. Story first published: 16:12 [IST]

सेक्‍स ड्राइव बढ़ाने के लिए ये फल नहीं है किसी वियाग्रा से कम

Monday, January 29 2018

सेक्‍स ड्राइव बढ़ाने के लिए ये फल नहीं है किसी वियाग्रा से कम

डाइट-फिटनेस » सेक्‍स ड्राइव बढ़ाने के लिए ये फल नहीं है किसी वियाग्रा से कम सेक्‍स ड्राइव बढ़ाने के लिए ये फल नहीं है किसी वियाग्रा से कम Diet Fitness Published: 16:30 जब भी वियाग्रा का नाम सुनते है तो दिमाग में सबसे पहले बेड पर पुरुषों की सेक्‍स परफॉर्मेंस और सेक्‍सुअल समस्‍याओं से जुड़ी चीजें दिमाग में घूमने लगती है। वियाग्रा का इस्‍तेमाल पुरुषों में इरेक्टल डिसफंक्शन और नपुंसकता के इलाज के लिए किया जाता है। बढ़ती उम्र में कमजोरी के कारण अक्‍सर पुरुष सेक्‍सुअल समस्‍याओं से जूझते हैं। यह दवा सेक्स हारमोंस को उत्तेजित करके इरेक्शन को बढाती है। लेकिन आप जानते है कि कुछ फल और सब्जियां भी वियाग्रा जितनी शक्तिशाली होती है जो सेक्स की इच्छा को बढ़ाने में सहायक होते हैं। अपनी सेक्स की इच्छा को स्वस्थ तरीके से बढ़ाने से अधिक अच्छा और क्या होगा? आज हम आपको ऐसे फल और हरी सब्जियों के बारे में बता रहे हैं जो वियाग्रा की तरह काम करते हैं। सेक्स की इच्छा बढ़ाने के लिए ये बहुत अधिक प्रभावशाली खाद्य पदार्थ हैं। पढ़ें... अनार वियाग्रा की तरह काम करने के अलावा अनार से स्वास्थ्य को कई लाभ होते हैं। अनार रक्त के प्रवाह को नियमित करता है तथा रक्त के प्रवाह को जननांगों की तरफ ले जाता है। कामोत्तेजक समय के लिए यह एक चमत्कारी खाद्य पदार्थ है। अखरोट मज़बूत इरेक्शन के लिए सूखे मेवे को हमेशा से ही अच्छा माना गया है। इनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड और विटामिन बी 3 होता है जो शुक्राणुओं की गुणवत्ता को बढ़ाता है तथा पुरुषों के जननांगों में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है। तरबूज वर्तमान में किये गए अध्ययनों से पता चला है कि तरबूज वियाग्रा की तरह प्रभावशाली होता है। तरबूजे के टुकड़े में इसके छिलके के ठीक नीचे जो हरे रंग का भाग होता है उसमें सिट्रूलाइन प्रचुर मात्रा में होता है। सिट्रूलाइन शरीर में अर्गिनिन और नाइट्रिक एसिड बनाने में सहायक होता है। नाइट्रिक एसिड एक सिद्ध यौगिक है जो पुरुषों में सेक्स ड्राइव बढ़ाता है और इरेक्शन को मज़बूत बनाने में सहायक होता है। अंडे मज़बूत इरेक्शन के लिए अंडे एक उत्कृष्ट आहार हैं। इनमें विटामिन डी, बी5 और बी6 होते हैं। ये सभी प्रभावी रूप से सेक्स की इच्छा को बढ़ाने और शरीर की सभी रक्त वाहिकाओं को आराम पहुंचाने में सहायक होते हैं जिससे आप अपने साथी के साथ उत्तेजित समय बिता सकें। पालक विटामिनों से समृद्ध होने के कारण पालक को विश्व भर में स्वास्थ्य के लिए उत्कृष्ट खाद्य पदार्थ माना गया है। पालक भी वियाग्रा की तरह कार्य करता है। पालक में आयरन, मैग्नीशियम और कठोर विटामिन ई होता है जिसके कारण यह प्राकृतिक वियाग्रा की तरह कार्य करता है। डार्क चॉकलेट डार्क चॉकलेट मूड को अच्छा बनाती है तथा तनाव को कम करने में सहायक होती है। इसे खाने से आप अच्छा महसूस करते करते हैं तथा यह वासना को भी बढ़ाती है। केला केले में ब्रोमेलिन नामक एंजाइम होता है जो प्राकृतिक रूप से सेक्स की इच्छा को बढ़ाता है। केले में अन्य कई पोषक तत्व भी होते हैं जिनमें पौटेशियम और मैग्नीशियम भी शामिल हैं जो सेक्स की इच्छा को बढ़ाने के साथ साथ और भी कई फायदे पहुंचाते हैं। इलायची प्राकृतिक रूप से वियाग्रा की तरह काम करने वाले खाद्य पदार्थों की सूची में वियाग्रा सबसे ऊपर है। इलायची में सिनेओले नामक एक यौगिक होता है जो जननांगो में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है। यह एक उत्कृष्ट खाद्य पदार्थ होता है जो मज़बूत इरेक्शन में सहायक होता है। किशमिश किशमिश सेक्‍स ड्राइव या लिबिडो बढ़ाता है। किशमश के सेवन से कई तरह के सेक्‍सुअल समस्‍याओं जैसे इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन से निजात पाया जा सकता है। ये एनर्जी लेवल बढ़ाने के साथ ही सेक्‍स परफॉमेंस को भी अच्‍छा करता है। बादाम बादाम मैं मौजूद जरुरी फैटी एसिड पुरुषों के हार्मोन उत्‍पादन के मुख्‍य भूमिका निभाते हैं। कच्‍चे बादाम खाने से यह एनर्जी लेवल बढ़ाता है। English summary Top ten foods that act like viagra Here are 10 best foods that act like viagra. These are highly impressive foods that boost sex drive. Read on... Story first published: 16:30 [IST]

वजन कम नहीं होने के पीछे छिपे है ये असल कारण...

Wednesday, January 31 2018

वजन कम नहीं होने के पीछे छिपे है ये असल कारण...

» वजन कम नहीं होने के पीछे छिपे है ये असल कारण... वजन कम नहीं होने के पीछे छिपे है ये असल कारण... Diet Fitness Published: Wednesday, January 31, 2018, 17:17 [IST] Subscribe to Boldsky वजन घटाने के लिए लाख कोशिश करने के बाद भी आप वजन कम करने में नाकाम हो जाते है। डाइट करके कुछ पाउंड का आपको फर्क जरुर महसूस होता होगा लेकिन सबकुछ करने के बावजूद भी शरीर के कुछ हिस्‍सों का फैट जाने का नाम नहीं लेते है। कभी आपने सोचा ऐसा क्‍यूं? दरअसल हमारी लाइफस्‍टाइल और खाने की वजह से हमारी बॉडी में जिद्दी फैट बन जाता है। जिस वजह से शरीर से यह फैट नहीं जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसी वजहों के बारे में बता रहे है जिसकी वजह से हमारी शरीर में फैट जमा होता है। इन वजहों पर अगर हम ध्‍यान दें तो लापरवाही को दूर करते हुए हम फैट से बच सकते है। कैलोरीज पर ध्‍यान रखें वजन को कंट्रोल करने में सबसे बढ़ी भूमिका सिर्फ केलोरीज की ही होती है। इनके घटने और बढ़ने की वजह से हमारा वजन घटता और बढ़ता है। इसलिए तो अपने डाइट चार्ट के फूड की भी कैलोरीज का हिसाब किताब रखना चाहिए। इसके लिए आप चाहे तो एक हैंडी कैलोरी कैलकुलेटर भी अपने साथ रख सकते हैं। कैलोरी को ट्रेक में रख कर आप बहुत जल्द अपने फिक्स गोल तक आसानी से पहुंच सकते है। खुद पर करें विश्‍वास वजन कम ना होने के पीछे एक कारण यह भी है कई लोग ये मानसिकता बना देते है कि उनसे नहीं होगा। वजन कम करने के लिए जो एक सीधा सा फंडा है, पहले खुद के दिमाग को रिसेट करें और खुद को मैंटली प्रिपेयर करें। मानसिक तौर पर तैयार होने पर आप खुद ही फ्रेश और एनर्जेटिक महसूस करने लगेंगे। प्रोटीन पर दे ध्‍यान.. वजन कम करने के लिए जो लोग डाइटिंग करते है वे प्रोटीन को बिल्‍कुल नजरअंदाज कर देते हैं। अगर आप डाइट में प्रोटीन लेंगे तो यह आपके शरीर के मेटाबॉलिज्‍म को कम कर देगा जिससे आप जल्‍दी वजन कम नहीं कर पाएंगे। अगर प्रोटीन वाली डाइट खानी है तो अपने खाने में दाल, मीट, चना और पालक आदि शामिल करें। अगर दिन में ली गई कैलोरी का 25-30 प्रतिशत भी प्रो​टीन जाता है तो यह प्रोटीन हमारे शरीर के मैटाबोलिज्म को 80-100 कैलोरिज बढ़ा देता है। पूरी नींद लें.. जल्‍दी सोने चली जाइए आपको कम से कम 7 से 8 घंटो तक सोना ही चाहिए। अपनी नींद पूरी कीजिये नींद मोटापे से लड़ती है। रिसर्च के मुताबिक 7 से 8 घंटो से कम की नींद भूख पैदा करती है, जिससे आप जरुरत से ज्‍यदा खा लेते हैं और मोटापा बढ़ जाता है। वर्कआउट के बाद खाना.. अगर आप वर्कआउट के बाद हाई कैलोरी ड्रिंक पीते है और इसके बाद भारी डाइट लेते है तो वजन कम करने का सपना देखना भूल जाइएं। वर्कआउट के बाद कम मात्रा में खाना खाएं और जो भी खाएं हेल्‍दी खाएं। वर्कआउट के बाद शरीर को प्रोटीन की सख्‍त जरुरत होती है। इसलिए प्रोटीनयुक्‍त पद्वार्थ जरुर खाएं। सिर्फ कार्डियों ही करते है आप कुछ लोग सिर्फ वजन घटाने पर ध्‍यान देते है इसलिए वो कैलोरी कम करने के लिए कार्डियो पर ही ध्‍यान देते है। जबकि कैलोरी भी एक निश्चित मात्रा में घटानी चाहिए। कभी कभी ज्‍यादा कार्डियों करने से शरीर का घनत्‍व बढ़ सकता है और जो कि लम्‍बे समय तक के लिए नहीं होता है साथ ही इससे मेटाबोलिक प्रक्रिया पर भी असर पड़ता है। इसलिए वजन घटाने के लिए वेट लिफ्ट पर भी ध्‍यान देना चाहिए। एल्‍कोहल का सेवन अगर आप बहुत ज्‍यादा मात्रा में एल्‍कोहल का सेवन करती है तो आपका वजन बढ़ना निश्चित है इसमें मौजूद एक्‍स्‍ट्रा कैलोरीज आपके वजन को बढ़ाते है और अगर आप ड्रिंक की शौकीन है तो रात को कभी कभी रेडवाइन का सेवन कर सकती है। भूल जाते है आपने कितना खाया.. कई बार लोग आपनी डाइट को लेकर लापरवाह हो जाते हैं। अक्‍सर वो किसी रेस्‍त्रां में जाते है तो भूल जाते है या ऑवरईटिंग कर लेते है। इसलिए अपनी इस भूलने की आदत को सुधारकर आप वजन कम कर सकते हैं। अन हेल्‍दी ब्रेकफास्‍ट क्‍या सुबह सुबह ब्रेकफास्‍ट में नाश्‍ते में नूडल्‍स, बर्गर और कोल्‍ड ड्रिंक्‍स जैसी चीजें खाते है तो आपको तुरंत बंद कर देना चाहिए क्‍योंकि दिन की शुरुआत ही आप एक्‍स्‍ट्रा कार्बोहाइड्रेड और कैलोरीज कर रहे है तो ऐसे में आप चाहकर भी वजन बढ़ने से रोक नहीं सकती है। English summary reason why you are not able to lose weight if you've been working hard to drop those unwanted pounds but the scale still isn't budging, you could be making these mistakes. Story first published: Wednesday, January 31, 2018, 17:17 [IST]

टाइम पर खाएं या भूख लगने पर खाएं? जानें भोजन के नियम

Wednesday, January 31 2018

टाइम पर खाएं या भूख लगने पर खाएं? जानें भोजन के नियम

डाइट-फिटनेस » टाइम पर खाएं या भूख लगने पर खाएं? जानें भोजन के नियम टाइम पर खाएं या भूख लगने पर खाएं? जानें भोजन के नियम Diet Fitness Published: Wednesday, January 31, 2018, 13:00 [IST] Subscribe to Boldsky चूंकि हम सब अलग अलग टाइम पर अलग अलग चीजें खाते हैं इसलिए हर एक आदमी का खाने का एक ख़ास तरीका होता है। कुछ लोग जब भूख लगती है तब खाते हैं और कुछ लोग जब उनका खाने का समय होता है तब खाते हैं। हालांकि ये दोनों तरीके ना तो अच्छे होते हैं और ना ही बुरे होते हैं, सबके अपने अपने लाभ और नुकसान होते हैं। खाना हम सबके लिए जरुरी होता है लेकिन इसे हम सब अलग अलग तरीके खाते हैं। हमारे शरीर को उर्जा के नुकसान और मेटाबोलिज्म को धीरे होने से रोकने के लिए हर 3 से 4 घंटे पर न्यूट्रीशन की जरुरत होती है। यहाँ हम आपको समय पर खाने और भूख लगने पर खाने के फायदों और नुकसान के बारे में बताने जा रहें हैं। भूख लगने पर खाने के फायदे: 1- आपके शरीर की जरूरतें पूरी होती हैं: जब आपको भूख लगती है तब आपका दिमाग ठीक से काम करना बंद कर देता है इसलिए इस समय खाना अच्छा होता है क्योंकि इससे आपके शरीर को जरुरी न्यूट्रीयेंट्स मिल जाते हैं जिनकी उन्हें जरुरत होती है। 2- बॉडी न्यूट्रीयेंट्स को अच्छे से अवशोषित करती है: भूख लगने पर अगर आप संतुलित डाइट खाते है तो उसमे मौजूद विटामिन, मिनरल्स, फाइबर और फैट आसानी से आपके शरीर में अवशोषित होते हैं और आपको ऊर्जा मिलती है। भूख लगने पर खाने के नुकसान: 1- आपको सही न्यूट्रीयेंट्स नहीं मिलते हैं: जब आपको भूख लगती है तो आप ये नहीं सोचते कि आपके लिए क्या सही है और क्या गलत है। आपको जो मिला आप उसे ही खाने लगते है इससे आपको सही न्यूट्रीयेंट्स नहीं मिलते हैं। 2- आप ज्यादा खा लेते हैं: जब आपको भूख लगती है तब आप यह ध्यान नहीं रखते हैं कि आपको कितना खाना है और आप खाते ही जाते हैं। इस वजह से आप बहुत ज्यादा खा लेते हैं जिससे आपको कई सारी दिक्कतें भी हो सकती हैं। 3- तनाव के कारण आप भूखे हो सकते हैं: अगर आपको खाने के एक या दो घंटे के बाद ही भूख लगती है तो इसका कारण आपका तनाव हो सकता है। तनाव आपके खाने के तरीके को प्रभावित करता है। इसलिए आप अपने को तनाव फ्री रखने की कोशिश करें। टाइम पर खाने के फायदे: 1- बॉडी शेड्यूल फॉलो करने के लिए प्रशिक्षित होती है: सही टाइम पर सही चीज खाने से आप ज्यादा नहीं खाते है और आपके पाचन तंत्र पर बहुत ज्यादा स्ट्रेस नहीं पड़ता है और आप स्वस्थ रहते हैं। 2- एसिडिटी और थकान नहीं होती है: अगर आप खाने के लिए शेड्यूल फॉलो नहीं करते हैं तो आपको पेट से जुड़ी कई सारी समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती हैं। इसलिए समय पर खाने से आपको थकान और पेट की समस्यायें नहीं होती हैं जिससे आपको ऊर्जा मिलती है। 3- शरीर को अवशोषण का समय मिलता है: अगर आप अपने समय के अनुसार ही खाते है तो आपके शरीर को न्यूट्रीयेंट्स को सही ढंग से अवशोषण करने का समय मिल जाता है जिससे आपका शरीर स्वस्थ रहता है। शेड्यूल पर खाने के नुकसान: 1- भूख ख़त्म हो जाती है: कभी कभी आपको समय से पहले भूख लगती है और ऐसे में आप अपने टाइम को फॉलो करते है जिससे आपकी भूख ख़त्म हो जाती है और आपको कई सारी पेट की दिक्कतें हो सकती हैं। 2- आप पूरा खाना नहीं खाते हैं: कभी कभी कई कारणों से आपको भूख नहीं होती है और आप अपने टाइम के अनुसार खाने लगते हैं जिससे आप सम्पूर्ण भोजन नहीं कर पाते हैं। इस वजह से आपको पूरे न्यूट्रीयेंट्स नहीं मिलते हैं। 3- आप जल्दी थक जाते हैं: कभी कभी आप हल्का खाना खाते है जोकि जल्दी पच जाता है और आपको भूख लग जाती है लेकिन आप अपने खाने के टाइम का इंतज़ार करते हैं। ऐसे में आपको कमजोरी और थकान हो सकती है। English summary Should You Eat On Time Or When You're Hungry? Having a set schedule of eating can help provide structure for some people to help them lose weight. However, eating at set times, or set snacks in between meals, isn’t best for everyone. Story first published: Wednesday, January 31, 2018, 13:00 [IST]

मैगी खा कर क्रिकेट के लिये पैसे बचाता था, अब बन गया Indian Cricket का Super Star

Wednesday, January 31 2018

मैगी खा कर क्रिकेट के लिये पैसे बचाता था, अब बन गया Indian Cricket का Super Star

Life » मैगी खा कर क्रिकेट के लिये पैसे बचाता था, अब बन गया Indian Cricket का Super Star मैगी खा कर क्रिकेट के लिये पैसे बचाता था, अब बन गया Indian Cricket का Super Star Life Updated: Wednesday, January 31, 2018, 11:24 [IST] Subscribe to Boldsky यह देश 120 करोड़ लोंगो का देश है, लेकिन इन सभी लोंगो की निगाहें उन 11 लोंगो पर रहती हैं, जो इस मैदान में खेल रहे होते हैं। इस मैदान में खेल रहे हर खिलाड़ी की एक अलग कहानी है। ये अलग जिंदगी से निकल कर आए हैं। आज हम आपको इन्‍हीं खिलाड़ी में से एक ऐसे खिलाड़ी की कहानी सुनाएंगे जो मैगी खा कर पला बढ़ा। वह मैगी की बदौलत क्रिकेट को जी रहा था। आप सोंच रहे होंगे भला कैसे? तो यह समझ लीजिये कि वह मैगी खा कर पैसे बचाता था और क्रिकेट का सामान इकठ्ठा करता था। आज हम आपको हार्दिक पांड्या की ऐसी बाते बताने जा रहे है जिन्हें आप शायद ही जानते होंगे। 1. आक्रमकता और आत्‍मविश्‍वास से भरे Hardik Pandya इन्‍हें बल्‍लेबाजी और गेंद बाजी दोंनो में ही महारत हासिल है। क्रिकेट प्रेमी इन्‍हें सिक्‍सर बॉय कहते हैं। चयनकर्ता इनमें All rounder वाली छवि देखते हैं। Hardik Pandya को यह सब ऐसे ही नहीं मिला। इसके पीछे की कहानी काफी प्रेरणादायक भी है और प्रशंसनीय भी। 2. Hardik Pandya का जन्म Hardik Pandya का जन्म 11 अक्टूबर 1993 में सूरत, गुजरात में हुआ था। हार्दिक के पिता क्रिकेट खेल के बड़े प्रेमी थे। वे अक्‍सर हार्दिक को क्रिकेट दिखाने के लिये स्‍टेडियम ले जाया करते थे। हार्दिक की पढ़ाई में बेहद कम रूचि थे। वे 9वी क्‍लास में फेल भी हुए हैं। क्रिकेट के सपनों को पूरा करने के लिये हार्दिक ने बहुत महनत की। 3. Hardik Pandya के साथ Kunal Panya भी बेहतरीन क्रिकेट खेलते थे Hardik Pandya के साथ Kunal Panya भी बेहतरीन क्रिकेट खेलते थे, और पिता ने इन दोंनो को बेहतर क्रिकेटर बनाने के लिये सूरत से अपना व्‍यापार समेट कर बड़ोदरा शिफ्ट हो गए। 4. नहीं थे फीस के पैसे दोंनो भाइयों की प्रतिभा और मालि हालत देखते हुए किरन ने ये फैसला लिया कि इन दोंनो भाइयों की कोई भी फीस नहीं लगेगी। यानी की इन दोंनो को क्रिकेटर बनाने में क्रिकेटर किरन मोरे का बहुत बड़ा हाथ रहा। 5. एक ओर Panya Brothers क्रिकेट सीख रहे थे तो वहीं पिता का बिजनस सिमटने लगा दोंनो भाइयों के घर की हालत खराब होने के नाते किरन मोरे ने उन्‍हें फ्री में क्रिकेट सिखाने को बोल दिया। दोंनो भाई मैदान पर बेहतरीन प्रर्दशन करने लगे। 6. Panya सिर्फ मैगी खा कर मैदान पर practice करते थे आर्थिक तंगी की वजह से वह सिर्फ मैगी खाते थे और भोजन से पैसे बचा कर क्रिकेट के सामान खरीदते थे। 7. क्रिकेट खेलने को नहीं था खुद का बैट 2014 में Hardik Pandya एक क्रिकेट मैच खेल रहे थे, जिसमें उनके पास खुद का बैट ही नहीं था। उस वक्‍त भारतीय क्रिकेट के सूपर स्‍टार क्रिकेटर इरफान पठान ने उन्‍हें दो बैट गिफ्ट में दिये। उस मैच मेंउन्‍होंने 80 रस की शानदार पारी खेली। और उसी मैच के दौरान जॉन राइट जो कि भारतीय कोच थे, उनकी नज़र उन पर पड़ गई। फिर उन्‍होंने इस खिलाड़ी को मुंबई इंडियन के साथ 10 लाख की कीमत में जोड़ लिया। और यहीं से शुरु हुआ हार्दिक पांडया के ऊपर चढ़ने का सिलसिला। 8. Pandya ने चयनकर्ताओं को कभी निराश नहीं किया 2 Man of the Match के साथ पांडया ने सबका ध्‍यान अपनी ओर खींच लिया। इनके क्रिकेट में गजब का ठहराव है। उनके ठहराव में इतिहास बनाने की काबीलियत है। 9. प्रेशर में भी खेलते हैं अच्‍छा साल 2014 में मुंबई इंडियन में हार्दिक पांडया शामिल हुए और उनकी पहली मुलाकात हुई सचिन तेंदुलकर से। सचिन ने इस मुलाकात के बाद कह दिया था कि टीम इंडिया को एक बड़ा सितारा मिलने वाला हे। 10. 2016 में हुए T-20 में शामिल पांडया को पहले ही मैच में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ 2 विकेट मिले। 11. पाकिस्‍तान से हारने के बाद भी Pandy जीते ICC चैंपियन्‍स ट्रॉफी 2016 के फाइनल में भले ही भारत पाकिस्‍तान से हार गया हो लेकिन हर कोई पांडया का दीवाना हो गया। संकट में फसी इस टीम इंडिया को इन बल्‍लेबाज ने अपने बल्‍ले से उबारने की कोशिश की तो लगा जैसे जीत ज्‍यादा दूर नहीं है। 12. ड्रेसिंग रूम में करते हैं काफी मस्‍ती Pandya क्रिकेट रूम से लेकर क्रिकेट की बाहरी दुनिया तक हर चीज़ को इंज्‍वॉय करने की कोशिश करते हैं। English summary Hardik Pandya Life Story, Biography : From Struggle to Roads of Glory Hardik Pandya is an all-rounder in the Indian Cricket Team. Hardik Pandya smashed the fastest ever half-century in ICC Champions Trophy Final.

पलकों को घना और लंबा बनाने के लिये सस्‍ते तरीके

Wednesday, January 31 2018

पलकों को घना और लंबा बनाने के लिये सस्‍ते तरीके

Published: Wednesday, January 31, 2018, 16:00 [IST] Subscribe to Boldsky लड़कियों की आंखें देखने में तभी खूबसूरत लगती हैं जब उनकी पलकें लंबी और घनी हों। घनी पलकें और भौं, आंखों की सुंदरता में चार चांद लगा देते है। लेकिन कई लोगों की ऊपरी और निचली पलकें बहुत हल्‍की होती है जिससे आंखों में कोरापन लगता है। बाजार में ऐसी कोई चीज़ अभी तक उपलब्‍ध नहीं है जो आपकी पलकों को घना बना सके। अगर आप अपनी पतली और कम घनी पलकों से परेशान हैं तो यहां नीचे दिये हुए उपायों को जरुर आजमाएं। पलकों को घना और लंबा बनाने के लिये सस्‍ते तरीके 1. कैस्टर ऑइल और ऑलिव ऑइल पलकों के बाल बढ़ाने के लिए कैस्टर ऑइल के साथ जैतून का तेल बहुत ही आसान और आई लैश बढ़ाने का प्राकृतिक उपाय है। इसके लिए एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव ऑइल और एक्स्ट्रा वर्जिन कैस्टर ऑइल का प्रयोग करें। पलकों के लिए इस उपाय को तैयार करने के लिए जितनी मात्रा में ओलिव ऑइल लिया हो उसकी आधी मात्रा में कैस्टर ऑइल लें और इन दोनों को मिक्स कर के एक बंद शीशी में रख लें। अब रोजाना सोने के पहले रुई के फोहे से इसे अपनी पलकों के बालों पर लगायें। इसे रात भर लगे रहने दें.। आप कुछ हफ़्तों में फरक देंखेगी। 2. पलकों के हिसाब से मस्‍कारा लगाएं अगर आप किसी नाइट पार्टी या डेट पर जा रही हैं तो पलकों पर मसकारा अच्‍छी तरह से लगाएं। इससे पलकों में भारीपन आएगा और वह सुंदर लगेगी। यह तरीका सबसे ज्‍यादा प्रयोग किया जाता है। मार्केट में लम्‍बी और छोटी पलकों के लिए अलग - अलग तरीके के मसकारे मिल जाएंगे। आप अपनी पलकों के हिसाब से खरीद कर सही तरीके से लगाएं। 3. नकली पलकें लगाएं अगर आपकी आंखों में पलकें बिलकुल नहीं है तो नकली पलकों को इस्‍तेमाल भी कर सकती है। ये मार्केट में आसानी से मिल जाती है। इन्‍हे खरीदकर लाएं, अपनी आंखों के हिसाब से सेट कर लें और उन्‍हे लगा लें। इन्‍हे लगाने से असली पलकें छुप जाती है और नकली पलकों से आंखों की सुंदरता बढ़ जाती है। 4. मॉश्‍चराइजर लगाएं पलकों को भारी और घना दिखाने के लिए आप उन पर मॉश्‍चराइजर लगा सकती है इससे वह घनी और डार्क दिखेगी। यह पलकों को भारी और घना करने का सबसे सरल और सस्‍ता तरीका है। 5. अपनी पलकों को ना रगड़ें अगर आपकी पलकें कम घनी है तो उन्‍हे कतई न रगड़ें, इससे वह टूटती है। पलकों को रगड़ना बंद कर दीजिए, इससे वह टूटेगी नहीं और घनी हो जाएगी। इस तरीके से आपको किसी भी ब्‍यूटी टिप्‍स को अपनाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 6. वैसलीन भी है बड़े काम की वैसलीन छोटी पलको की लंबाई बढ़ाने के लिए एक और आसान तरीका है। रात को सोने से पहले अपनी पलकों पर वेसिलीन का एक थपका लगा ले। यह एक अच्छी अवधि में पलको के विकास में सुधार देता है। खैर, वेसिलीन इतनी यह ज़्यादा महँगा नही है इसलिए वेसिलीन खरिदने के लिए भारी खर्च करने की जरूरत नहीं है। 7. विटामिन ई कैप्‍सूल पलकों को लंबा और घना बनाने के तरीके, विटामिन ई बालों को पोषण देने के लिए प्रसिद्ध रूप से जाना जाता है। यह वास्तव में पलको को स्वास्थ्य बना देगा। यह बालों को पूरी तरह से खींचने मे मदद करेगा। तो सीधे अपनी पलको पर विटामिन ई के तेल की एक छोटी सी मात्रा लगाने की कोशिश करे। पलको के विकास के लिए इस उपाय का अभ्यास करते रहे। English summary Home Remedies To Grow Thicker and Longer Eyelashes Are you worried about your thin eyelashes or scanty growth? You can also use some simple home remedies to promote thicker growth. Story first published: Wednesday, January 31, 2018, 16:00 [IST]