Health and Fitness

ब्रेस्‍टफीडिंग के बिना निप्‍पल डिस्‍चार्ज क्‍यूं होता है?

Monday, February 19 2018

ब्रेस्‍टफीडिंग के बिना निप्‍पल डिस्‍चार्ज क्‍यूं होता है?

महिलाएं » ब्रेस्‍टफीडिंग के बिना निप्‍पल डिस्‍चार्ज क्‍यूं होता है? ब्रेस्‍टफीडिंग के बिना निप्‍पल डिस्‍चार्ज क्‍यूं होता है? Women Published: 11:30 वो महिलाएं जो ब्रेस्‍टफीड नहीं कराती हैं, अगर उनके निप्‍पल से हल्‍का सा डिस्‍चार्ज होता है तो यह उनके लिए ये कोई संकेत हो सकता है, हालांकि कुछ मामलों में निप्‍पल से स्‍त्राव होना ज्‍यादा गंभीर हो सकता है लेकिन कुछ मामलों में यह सामान्‍य स्थिति हो सकती हैं। अगर आप ब्रेस्‍टफीड नहीं कराती है इसके बावजूद आपके निप्‍पल से डिस्‍चार्ज होता है तो आपको डॉक्‍टर से एक बार जरुर चैक करवा लेना चाहिए। आपके निप्‍पल से होने वाले डिस्‍चार्ज के लक्षणों के आधार पर मालूम चलेगा कि आखिर ये डिस्‍चार्ज किस वजह से हो रहा है। निप्‍पल में होने वाले बदलाव के वजह से मालूम चलता है कि आखिर ये महिलाओं के बीमारियों के किस और इशारा कर रहे हैं, आइए जानते हैं। स्‍तन कई ग्रंथियों से मिलकर बना है स्‍तन दूध निर्माण करने वाली कई ग्रंथियों से मिलकर निर्मित हुआ है। ये ग्रंथियां एक नली द्वारा स्‍तन के निप्‍पल से जुड़े होते हैं, जिससे दूध या अन्‍य द्रव्‍य बाहर आता है। ये ग्रंथियां चर्बीदार ऊतकों से घिरी होती है, जो स्‍तन का मांसल हिस्‍सा होता है। स्‍तनों का सही माप हर लड़की का ब्रेस्‍ट या स्‍तन का माप भिन्‍न-भिन्‍न होता है। किसी के स्‍तन छोटे तो किसी के बड़े और अधिक चर्बीयुक्‍त होते हैं। स्‍तनों का आकार बहुत कुछ लड़कियों या महिलाओं के गुणसूत्र व खानपान पर निर्भर करता है। इंफेक्शन के वजह से निप्पल में दर्द ब्रेस्ट फिडिंग के शुरूआती दौर में निप्पल का फट जाना या सूज जाना आम होता है। अगर ये चीज लगातार निप्‍पल के साथ हो रही है तो सचेत हो जाइएं। अगर आप ब्रेस्टफिड नहीं करवाते हैं हो सकता है ये कैंडीडा यीस्ट के कारण हुए इंफेक्शन के वजह से हो रहा है। पीरियड के समय स्‍तनों में बदलाव हर महीने होने वाले पीरियड या माहवारी के कारण स्‍तनों के आकार-प्रकार में अंतर आ सकता हैा हार्मोन स्तनों को गर्भावस्था के लिए तैयार करते हैं, जिस कारण माहवारी के दिनों में स्तन थोड़े बड़े, कड़े और संवेदनशील हो जाते हैं। इस दौरान छूने से इनमे दर्द भी हो सकता है तो एक सामान्‍य बात है। पीरियड समाप्‍त होने पर स्‍तन फिर से अपने स्‍वाभाविक आकार को ग्रहण कर लेते हैं। शादी के बाद गर्भ ठहरने से रोकने के लिए लिए जाने वाले गर्भनिरोधक गोलियों के वजह से भी स्‍तर के आकार में बदलाव आ सकता है। ऐसा गर्भनिरोधक गोलियों में स्‍त्री हार्मोन होने के कारण होता है। रक्‍त स्‍त्राव होने पर डॉक्‍टर को जरुर दिखाएं निप्पल से डिस्चार्ज ब्रेस्डफीड न करवाने के बावजूद निप्पल से डिस्चार्ज होता है। निप्पल को दबाने पर सफेद, नीला-हरा रंग का लिक्विड निकलता है, जिसको लेकर उतना चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। लेकिन ब्लड निकलने पर तुरन्त डॉक्टर से सलाह लें। इग्‍नोर करना भारी पड़ सकता है। निप्पल से स्राव और कैंसर अधिकतर केस में निप्पल से स्राव का संबंध कैंसर से नहीं होता है। मगर ये कैंसर का संकेत हो भी सकता है अगर- अगर सीने में गांठ है और त्वचा में बदलाव आता है एक निप्पल से रक्त स्राव होना अपने आप स्राव होना 50 की उम्र के बाद स्राव होना English summary Nipple Discharge: What It Could Mean? in Hindi While nipple discharge can be serious, in most cases, it's either normal or due to a minor condition. Story first published: 11:30 [IST]

मोटापा जल्दी से घटाना है?... तो खाइये केवल ये चीज़ें

Monday, February 19 2018

मोटापा जल्दी से घटाना है?... तो खाइये केवल ये चीज़ें

» मोटापा जल्दी से घटाना है?... तो खाइये केवल ये चीज़ें मोटापा जल्दी से घटाना है?... तो खाइये केवल ये चीज़ें Diet Fitness Published: 10:54 मोटापा एक गंभीर रोग है जो खुद से ही अलग अलग रोंगो को जन्‍म देता है। अगर मोटापा को तुरंत ही कम नहीं किया गया तो निकला हुआ पेट दिखने में काफी खराब लगेगा। पेट को अंदर हर कोई करना चाहता है मगर स्‍वादिष्‍ट भोजन के आगे हर कोई अपने घुटने टेक देता है। अगर आप अपनी जुबान पर कंट्रोल कर के कुछ नीचे दिये हुए आहारों का नियमित सेवन करें तो आपका मोटापा काफी हद तक कम किया जा सकता है। आइये देखते हैं कुछ ऐसे फूड जिन्‍हें अपनी डाइट में शामिल करने से मोटापा चुटकियों में दूर हो जाएगा। 1. नट्स- बॉडी फैट बर्न करने के लिए आपको बादाम, अखरोट और पिस्‍ता खाना चाहिये। जब भी आपको कस के भूंख लगे तब इन मेवों को खाएं। यह पौष्‍टिक होते हैं और साथ में पेट भी भरते हैं। ड्राई फ्रूटस खाने से स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा होता है और शरीर का मेटाबोल्जिम अच्‍छा हो जाता है। ड्राई फ्रूटस को खाने से शरीर में भरपूर ऊर्जा भी आ जाती है। अगर आप सिर्फ वजन घटाने के लिए ड्राई फ्रूटस का सेवन करना चाहते है तो हर दिन नियमित मात्रा में नियमित समय पर इन्‍हे खाएं। इससे बॉडी का एक रूटीन बनेगा। साथ ही साथ हर ड्राई फ्रूटस को उसके सही तरीके से खाना चाहिए। जैसे - बादाम को रात में भिगो दें, उसके बाद उसे सुबह छीलकर खाएं। बादाम के सेवन से बॉडी को सबसे ज्‍यादा ऊर्जा मिलती है और मेटाबोल्जिम भी ठीक रहता है। इसी प्रकार किशमिश और अन्‍य प्रकार के ड्राई फ्रूटस को दोपहर की खुराक में शामिल कर लें। 2. अदरक अदरक के सेवन से हमारे शरीर के मेटाबोलिज्म पर इसका सीधा असर पड़ता है जिससे हमारा वजन घटता है। जब शरीर का मेटाबोलिज्म ठीक रहता है तो हमारा पाचन भी सही रहता है और शरीर स्वस्थ रहता है तथा शरीर के कैलोरी को घटाता है जिससे कि हमारा वजन भी कम होता है। कैलोरी रहित होने के कारण अदरक के सेवन से पेट भरा हुआ महसूस होता है हमें ज्यादा भोजन करने की इच्छा नहीं होती है। आप चाहें तो सुबह अदरक, नींबू और शहद का पानी या चाय बना कर खाली पेट पी सकते हैं। इसे नियमित एक हफ्ते तक पीने से शरीर का मोटापा काफी कम हो जाएगा। 3. शकरकंद शकरकंद में बहुत सारा पोषण होता है और यह वजन कम करने में भी लाभप्रद है। यह खाद्य पदार्थ स्‍टार्च से भरा है लेकिन इसमें इतने सारे पौष्टिक गुण है कि यह सूपर फूड की गिनती में आता है। आलू ना रखा कर शकरकंद ही खाएं क्‍योंकि इसमें आलू के मुकाबले 300 कैलोरी कम होती है। इसे आप वजन कम करने के लिये खा सकते हैं। 4. फल शरीर से वजन कम करने के लिए स्ट्रिस फ्रूट पिएं। इनको अपने आहार में जरुर शामिल करना चाहिये क्‍योंकि यह पोषण से भरे हुए होते हैं। आपको नींबू, मुसम्‍मी और संतरे जैसे फल खूब खाने चाहिये। इसके अलावा ब्‍लूबेरी, स्‍ट्रॉबेरी और रसभरी में भी एंटीऑक्‍सीडेंट पाया जाता है, जो शरीर से वसा को कम करती हैं। 5. शहद शहद अन्‍य उत्‍पादों के मुकाबले वजन को कम करके में ज्‍यादा जल्‍दी असर करता है। इसके साथ ही डायटिंग करते वक्‍त यह शरीर को भरपूर पोषण भी देता है। नींबू और शहद एक साथ लेने से वजन कम करने का सबसे अच्‍छा तरीका है। अगर आप रोज़ सुबह नींबू, शहद और गरम पानी मिला कर पिएगें तो आपका वजन तेज़ी से घटेगा। आप चाहें तो सुबह नाश्‍ते के वक्‍त कम फैट वाली दही में शहद मिला कर खाएं। 6. आंवला यह शरीर के मेटाबोल्जिम को अच्‍छा बनाएं रखता है, क्‍योंकि यह प्रोटीन से भरपूर होता है। अगर शरीर का मेटाबोल्जिम अच्‍छा होता है तो शरीर का एक्‍ट्रा फैट घट जाता है और शरीर का प्रोसेस सही बना रहता है। अगर आपको आंवला खाने में कसैला लगता है तो आंवला का जूस निकालकर उसका सेवन करें। आप इसे एक बार निकाल कर फ्रिज में रखकर चार दिन तक सेवन कर सकते हैं। 7. एलोवेरा एलोवेरा को छील कर उसका जैल निकालें और उसे फ्रिज में आगे के इस्‍तमाल के लिये रख दें। आपको इसे सुबह हर खाने के 15 मिनट पहले ½ कप जूस पीना होगा। इस जूस को 1-2 हफ्तों तक पियें। अगर चाहें तो 1 चम्‍मच जैल को दिन में एक बार खा सकते हैं। एलोवेरा की जैली को एक गिलास में निकाल कर उसमें नींबू, पानी और थोड़ी सी शहद मिक्‍स कर के पी लें। नियमित रूप से पीने पर मोटापा कम होता है। English summary Best Fat-Burning Foods in hindi Incorporate these healthy foods into your diet to whittle your waist and bring your midriff back in line. Story first published: 10:54 [IST]

हेयरफॉल हो या घाव के निशान, ये चमत्‍कारी तेल लगाए और फायदें देखिए

Monday, February 19 2018

हेयरफॉल हो या घाव के निशान, ये चमत्‍कारी तेल लगाए और फायदें देखिए

त्‍वचा-की-देखभाल » हेयरफॉल हो या घाव के निशान, ये चमत्‍कारी तेल लगाए और फायदें देखिए हेयरफॉल हो या घाव के निशान, ये चमत्‍कारी तेल लगाए और फायदें देखिए Skin Care Updated: 10:09 वैसे तो कपूर और नारियल दिखने में बहुत ही मामूली सी चीज दिखाई देती है लेकिन इन्‍हें लगाने के फायदे एक से बढ़कर एक हैं। त्वचा और बालों के लिए जितना बेहतर और कारगर नारियल का तेल होता है उतना शायद और कोई नहीं होता। इसी तरह कपूर के बारे में भी आपने सुना होगा जो आमतौर पर हर घर में इस्तेमाल होता है। आपको बता दें की कपूर भी अपने अनेकों औषधिय गुणों के लिए प्रसिद्ध है। तो आज हम आपको बताने वाले इन दो लाभकारी चीजों को एक साथ इस्तेमाल करने पर होने वाले अविश्वसनीय फायदों के बारे में। गोरी त्‍वचा पाने से लेकर ड्रेंडफ हटाने तक नारियल का तेल और कपूर बहुत ही कमाल की औषधी है। सिर्फ सात दिनों तक इन मिश्रण को लगाइए फिर इसके चमत्‍कार देखिएं। आइए जानते है कि नारियल का तेल और कपूर के फायदों के बारे में। बेदाग स्किन के लिए कपूर ऑयली स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है, जिन लोगों का चेहरा तेलीय होता है उन्‍हें कपूर के साथ ग्लिसरीन को मिलाकर लगाना चाह‍िए। उसके बाद उसे कील-मुंहासे वाली जगह पर लगाएं। इससे चेहरा नर्म बने रहने के साथ कील-मुंहासों से निजात मिलेगी। खुजली की समस्या अगर आपको खुजली की समस्‍या है या फिर त्‍वचा जरुरत से ज्‍यादा शुष्‍क है तो उसके लिए आप कपूर को नारियल तेल में मिक्स करके शरीर पर लगाएं, इससे आपको खुजली से जल्द राहत मिलेगी। सर्दी जुकाम सर्दी जुकाम होने पर भी कपूर बेहद फायदेमंद होता है, यदि आपको सर्दी-जुकाम सता रहा है तो उसके लिए आप कपूर का इस्तेमाल करें। आराम मिलेगा। जलने या घाव होने पर जलने-कटने में भी कपूर और नारियल के तेल का इस्तेमाल किया जाता है, नारियल के तेल में कपूर को मिलाकर जले या किसी घाव के निशान पर लगाएं। इससे जलन कम होती है और राहत मिलती है। घुटनों का दर्द घुटनों के दर्द के लिए भी कपूर बेहद फायदेमंद होता है। यदि आपको भी घुटनों के दर्द की शिकायत रहती है तो कपूर में कोई भी तेल मिलाकर मालिश करें, आराम मिलेगा। हेयरफॉल के लिए अगर आप हेयरफॉल की समस्‍या से गुजर रहे हैं तो नारियल तेल में कपूर मिलाकर लगाएं, यह बाल झड़ने की समस्या को कम कर देता है और बाल को जड़ से मजबूत बनाता है। Read more about: skin English summary Amazing Benifits of Camphor (Karpur) & Coconut Oil Mixture in Hindi camphor and coconut oil is an amazing blend of natural ingredients that helps cure various skin problems and much more.

डार्क अंडरआर्म के लिये इस तरह यूज़ करें बेकिंग सोडा

Wednesday, February 21 2018

डार्क अंडरआर्म के लिये इस तरह यूज़ करें बेकिंग सोडा

Published: Wednesday, February 21, 2018, 10:00 अक्‍सर लड़कियां शिकायत करती हैं कि उनके अंडरआर्म काले पड़ गए हैं और ऐसा कोई तरीका उन्‍हें नज़र नहीं आता जिससे वह इस समस्‍या से छुटकारा पा सकें। ये न सिर्फ दिखने में खराब होता है, बल्कि कई लड़कियों के लिए बिना स्‍लीव्‍स वाली ड्रेस पहनना भी मुश्किल हो जाता है। क्यों आता है अंडरआर्म में कालापन? अंडरआर्म को नियमित रूप से शेविंग करने पर स्किन में कालापन आ जाता है। बाजार में मिलने वाले डिओडरंट और परफ्यूम में भी कई ऐसे तत्व होते हैं, जो स्किन पर बुरा असर डालते हैं। एकेनथोसिस निग्रीकेंस नामक त्वचा से जुड़ी समस्या के कारण भी अंडरआर्म काले पड़ने लगते हैं। इस अवस्था में शरीर पर काले निशान बनने लगते हैं। ज्यादा पसीना निकलने से अंडरआर्म की स्किन पर बैक्टीरिआ जन्म लेते हैं। इस कारण उस हिस्से का पिग्मेंटेशन होने लगता है और स्‍किन काली पड़ने लगती है। अगर आप भी अंडरआर्म के कालेपन से परेशान हो चुकी हैं तो बेकिंग सोडा आपके काफी काम आ सकता है। आइये जानते हैं इसे लगाने का तरीका... 1. बेकिंग सोडा पेस्‍ट कैसे करें यूज़- 1 टीस्‍पून बेकिंग सेाडा को 2 चम्‍मच पानी में मिला कर हल्‍के हल्‍के मसाज करें। फिर इसे 15 मिनट तक के लिये छोड़ दीजिये और बाद में गुनगुने पानी से धो लीजिये। कितनी बार प्रयोग करें- इस पेस्‍ट को हफ्ते में कम से कम 3-4 मिनट तक यूज़ करें। 2. बेकिंग सोडा और नारियल तेल 1 चम्‍मच बेकिंग सोडा में 354 चम्‍मच नारियल तेल मिक्‍स करें। फिर इस पेस्‍ट को पूरे अंडर आर्म पर लगाएं। फिर इसे कुछ मिनट तक के लिये हल्‍के हल्‍के रगड़ें और 15 मिनट तक के लिये लगा छोड़ दें। फिर इसे हल्‍के गुनगुने पानी से धो लें। कितनी बार प्रयोग करें- इस पेस्‍ट को हफ्ते में 2 बार जरुर प्रयोग करें जिससे आपको बेस्‍ट रिजल्‍ट दिखे। 3. बेकिंग सोडा और Glycerin कैसे करें प्रयोग- 2 चम्‍मच बेकिंग सोडा के साथ 1 टीस्‍पून ग्‍लीसरीन और 2 चम्‍मच रोज वॉटर मिलाएं। फिर इस मटीरियल को प्रभावित जगह पर लगाएं। इसको 15 मिनट तक सूखने दें और फिर इसे साफ पानी से धो लें। कितनी बार प्रयोग करें- इस मटीरियल को हर हफ्ते लगाएं तभी रिजल्‍ट मिलेगा। 4. बेकिंग सोडा और कॉर्नस्‍टार्च विध विटामिन ई तेल कैसे करें प्रयोग- 1 चम्‍मच बेकिंग सोडा के साथ 1 टीस्‍पून कॉर्न स्‍टार्च और तेल मिलाएं। अब इस मिश्रण को पूरे अंडरआर्म पर लगाएं। फिर कुछ मिनट के बाद धीरे धीरे मसाज करें और 15 मिनट तक लगाएं। उसके बाद गुनगुने पानी से इसे धो लें। कितनी बार प्रयोग करें- इस पेस्‍ट को हफ्ते में दो बार लगाएं और रिजल्‍ट देंखे। 5. बेकिंग सोडा और दूध कैसे करें प्रयोग 2 टीस्‍पून बेकिंग सोडा में 2-3 टीस्‍पून कच्‍चा दूध मिलाएं। इस मटीरियल को अपने अंडरआर्म पर लगाएं। फिर इसे 15 मिनट तक छोड़ दीजिये। कितनी बार करें प्रयोग- इस पेस्‍ट को हफ्ते में दो बार लगाएं और रिजल्‍ट देंखे। 6. बेकिंग सोडा और खीरा कैसे करें प्रयोग- 2 टीस्‍पून बेकिंग सोडा में 2-3 चम्‍मच खीरे का पल्‍प मिलाएं। इस मटीरियल को अपने अंडरआर्म पर लगाएं। इसे कम से कम 15-20 मिनट तक छोड़ दीजिये और फिर साफ पानी से धो लीजिये। कितनी बार करें प्रयोग- आप इस पेस्‍ट को अपने अंडरआर्म पर हर हफ्ते लगा सकती है। English summary Top Ways To Use Baking Soda For Dark Underarms in hindi Baking Soda is that it reduces the dark patches in the underarm and in turn makes the skin smooth and soft. Story first published: Wednesday, February 21, 2018, 10:00 [IST]

पनीर खाओ सेहत बनाओ... जानों पनीर खाने से कौन सी बीमारियां रहती हैं दूर

Tuesday, February 20 2018

पनीर खाओ सेहत बनाओ... जानों पनीर खाने से कौन सी बीमारियां रहती हैं दूर

डाइट-फिटनेस » पनीर खाओ सेहत बनाओ... जानों पनीर खाने से कौन सी बीमारियां रहती हैं दूर पनीर खाओ सेहत बनाओ... जानों पनीर खाने से कौन सी बीमारियां रहती हैं दूर Diet Fitness Published: Tuesday, February 20, 2018, 15:19 घर में अगर पनीर की सब्‍जी बनी हो तो वह झट से खतम हो जाती है। पनीर की बात ही कुछ और होती है जिसे जो एक बार खाए वह बार बार खाता है। पनीर को ज्‍यादातर वो लोग पसंद करते हैं जो नॉन वेज नहीं खाते। पनीर का सेवन पालक पनीर या मटर पनीर की स्‍वादिष्‍ट सब्‍जी के रूप में किया जाना लोगों को ज्‍यादा भाता है। स्‍वस्‍थ्‍य के लिये पनीर अच्‍छी होती है क्‍योंकि इसमें ढेर सारा प्रोटीन, कैल्‍शियम, मैग्‍नीशियम, पोटेशियम, फास्‍फोरस, जिंक और सेलेनियम होता हे। अगर वजन कम करना है तो आपको इसे अपने नियमित डाइट में शामिल करना चाहिये। स्‍वस्‍थ दिल के लिये पनीर काफी हेल्‍दी होती है। 100 ग्राम पनीर में 1.7g जमा फैट और 17mg कोलेस्‍ट्रॉल होता है। 1. कैंसर से बचाए जैसा की आप जानते ही हैं कि पनीर में ढेर सारा प्रोटीन, कैल्‍शियम और विटामिन डी होता है, जो ब्रेस्‍ट कैंसर को होने से रोकता है। विटामिन डी का लेवल कैंसर के खतरे को भी कम करता है। 2. दांतों और हड्डियों को बनाए मजबूती पनीर में मौजूद खनिज जैसे विटामिन ए, कैल्‍शियम और जिंक हमारे शरीर की हड्डियों को मजबूती प्रदान करते हैं। बच्‍चों को तो पनीर जरुर खानी चाहिये जिससे कि उनके दांत मजबूत हों। इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड हड्डियों को ना केवल मजबूत बनाता है बल्‍कि गठिया से होने वाली बीमारी को भी दूर करता है। 3. प्रोटीन से भरी हुई होती है पनीर क्‍या आप जानते हैं कि 100 ग्राम पनीर में 11 ग्राम प्रोटीन होती है? यह उन वेजिटेरियन लोंगो के लिये अच्‍छी है जो नॉन वेज नहीं खाते। 4. प्रेगनेंट महिलाओं के लिये बढियां पनीर में ढेर सारे पोषक तत्‍व होते हैं जो कि प्रगनेंट महिलाओं के लिये अच्‍छा माना जाता है। प्रेगनेंट महिलाओं को कैल्‍शियम की काफी आवश्‍यकता होती है जो कि पनीर में सबसे ज्‍यादा मौजूद होता है। 5. वजन घटाए पनीर, कैल्‍शियम से भरपूर होने के साथ साथ लाइनोलिक एसिड का भी बड़ा स्रोत है। यह एसिड हमारे शरीर से एक्‍सट्रा फैट को बर्न करने में मदद करता है। तो जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्‍हें अपने भोजन में पनीर जरुर शामिल करना चाहिये। 6. ब्‍लड शुगर लेवल को मेंटेन करे पनीर में ढेर सारा magnesium लेवल होता है जो कि ब्‍लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद करता है। इससे दिन की सुरक्षा तो होती ही है साथ में इम्‍यून सिस्‍टम भी अच्‍छी तरह से काम करता है। पनीर में मौजूद प्रोटीन तत्‍व शुगर लेवल को धीमा करता है और उसका लेवल झट से बढने से रोकता है। 7. पाचन शक्‍ती बढाए परीन को रोज खाने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढती है और हमारी पाचन शक्‍ती अच्‍छी बनती है। पनीर में ढेर सारा फॉस्‍फोरस और फाइबर होता है जो कि कमजोर पाचन को मजबूत करता है। इससे पेट हमेशा ठीक रहता है। 8. B-complex Vitamins से भरा हुआ पनीर में ढेर सारा B-complex Vitamins होता है जो कि शरीर को कई काम करने में मदद करता है। B-complex Vitamins में आपको thiamine, niacin, folate, riboflavin and pantothenic एसिड मिलेंगे। 9. दिल के लिये है काफी फायदेमंद पनीर में पोटैशियम होता है जो कि बॉडी में मौजूद तरल पदार्थ को बैलेंस करने में मदद करता है। खून के अदंर पोटैशियम सोडियम को बढने से रोकता है। साथ ही यह ब्‍लड प्रेशर को लो भी करता है जिससे ब्‍लड की धम‍नियां ब्‍लॉक नहीं होती। 10. फोलेट से भरी है पनीर चीनी में फोलेट होता है जो कि प्रेगनेंट महिलाओं के लिये अच्‍छा माना जाता है। यह विटामिन पेट में पल रहे बच्‍चे के विकास के लिये काफी अच्‍छा होता है। यह उनके शरीर में रेड ब्‍लड सेल्‍स भी बनाता है।

जानिए, वजन के अनुसार पूरे दिनभर में कितना पानी पीना चाहिए?

Tuesday, February 20 2018

जानिए, वजन के अनुसार पूरे दिनभर में कितना पानी पीना चाहिए?

Updated: Tuesday, February 20, 2018, 9:47 हमारे शरीर का ज्‍यादात्‍तर हिस्‍सा पानी से बना हुआ है, इसलिए मानव शरीर में पानी की अहमियत बहुत ज्‍यादा होती है। शरीर की हर एक कार्यप्रणाली के लिए पानी सबसे जरुरी तत्‍व है। नियमित रूप से सही मात्रा में पानी पीना आपकी मेटाबॉल्जिम को तेज करने के साथ ज्‍यादा खाने की आदत को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। पानी पीने की मात्रा न सिर्फ आपके स्वास्थ पर असर डालती है बल्कि आपका वज़न घटाने में भी महत्वपूर्ण है। आइए जानते है कि पूरे दिनभर में वजन को संतुलित रखने के लिए हमें कितना पानी पीना चाहिए। वजन के अनुसार पानी डॉक्‍टर रोजाना कम से कम 8 गिलास पानी यानी दिन में लगभग 2 लीटर पानी पीने की सलाह देते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि दिन भर में कितना पानी पीना चाहिए ये पूरी तरह से आपके वजन निर्भर करता है। आइए जानते है कि आपको सेहतमंद रहने के लिए अपने वजन के अनुसार कितनी मात्रा में पानी की आवश्‍यकता होती है। जानिए कैसे अनुमान निकाले आपके शरीर को कितने पानी की जरूरत है, इस‍के लिए सबसे पहले जरूरी है कि आपको अपने वजन की सही जानकारी हो, क्‍योंकि 50 किलो वजन और 80 किलो वजन वाले लोगों की पानी की जरूरत अलग-अलग होती है। पानी शरीर को डिटॉक्‍स करने के अलावा मेटाबॉल्जिम और पाचन जैसी कई चीजों के सही कार्य के लिए जिम्‍मेदार होता है। वजन जानने के बाद ऐसे पीये पानी अपने सही वजन को जानने के बाद वजन को 30 से डिवाइड करें और फिर जितनी मात्रा आए उतना ही पानी दिनभर में पीना शुरू करें। जैसे अगर आपका वजन 60 किलो है तो आपको शरीर को हाइड्रेट रखने और अंगों को ठीक से कार्य करने के लिए दिनभर में 2 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। उम्र के हिसाब से एक से आठ साल तक के बच्चों को लगभग 1.3 से 1.7 लीटर यानी पांच से छह ग्लास तक पानी रोजाना पीना चाहिए। इसके बाद 9 से 17 साल की उम्र तक के किशोरों को 12 ग्लास, यानी ढ़ाई लीटर के लगभग पानी जरूर पीना चाहिए। वहीं 18 वर्ष की युवा आयु से लेकर 60 वर्ष प्रौढ़ा आव्स्था तक के पुरूषों को 14 ग्लास यानी तीन लीटर पानी का सेवन रोज करना चाहिए। जबकि वहीं एक व्यस्क महिला को 2.2 लीटर यानी 10 गिलास के लगभग पानी रोज पीना चाहिए। एक्‍सरसाइज करते हुए जरुर पीएं.. एक्सरसाइज के दौरान शरीर पसीना निकलने की वजह सेपानी की कमी होने लगती है। जिससे शरीर ड्राई होने लगता है और पाचन संबंधी समस्‍याएं शुरू हो जाती है। इससे बचने के लिए एक्सरसाइज करने के बाद हर आधे घंटे में कम से कम एक गिलास पानी जरूर पिएं। साथ ही साथ एक्‍सरसाइज के दौरान हर 15 मिनट के बाद एक दो घूंट जरुर पीएं। खाना खाने से पहले खाना खाने से पहले आधा लीटर पानी जरुर पीएं। खाना खाने से पहले पानी पीने से आपको भूख कम लगती है साथ ही वज़न घटाने में भी मदद मिलती है। अगर आप यही प्रक्रिया पूरे दिन में तीन बार करते हैं यानि नाश्ता, लंच और डिनर तो आप पहले से ही 1.5 लीटर पानी पी चुके होंगे जिससे आपको शरीर का वज़न घटाने में मदद मिलेगी साथ ही पानी की कमी भी महसूस नहीं होगी। फ्लेवर्ड पानी पानी को खाली पीने के बजाए उसमें किसी फल या जड़ी बूटियों को डाल कर पी सकते हैं। इससे आपको पानी में टेस्‍ट आएगा और आप ज्‍यादा पानी पीएंगे। English summary How much water should you drink according to your weight? If you have trouble drinking the amount of water you need, according to your weight, you can prepare water flavored with fruit or teas to make it more appealing for you.

आपकी DIET क्‍यूं नहीं करती काम.. इसके पीछे हैं ये 8 कारण

Tuesday, February 20 2018

आपकी DIET क्‍यूं नहीं करती काम.. इसके पीछे हैं ये 8 कारण

» आपकी DIET क्‍यूं नहीं करती काम.. इसके पीछे हैं ये 8 कारण आपकी DIET क्‍यूं नहीं करती काम.. इसके पीछे हैं ये 8 कारण Diet Fitness Updated: Tuesday, February 20, 2018, 10:45 आज कल वेट लॉस करने का क्रेज काफी चलन में है। जिसको कुछ खाने के लिये पूछो वही बोलता है कि वह डाइट पर है। अपनी जिंदगी में शायद आपने भी कभी ना कभी डायटिंग जरुर की होगी। जब भी कोई डाइट शब्‍द सुनता है, दूसरा व्‍यक्‍ती तुरंत समझ जाता है कि वह वेट लॉस कर लेता है। बहुत से लोग वेट लॉस करने के लिये लो फैट डाइट करते हैं तो बहुत से लोग मसल्‍स बनाने के लिये हाईय प्रोटीन डाइट का उपयोग करते हैं। लेकिन फर्क सिर्फ इतना है कि उन्‍हें डाइट का सही मतलब नहीं मालूम है। खुद को भूंखा रखना डाइट नहीं होती। आज हम आपके मन से डाइट के प्रती बनी गलत धारणा को बाहर निकालेंगे। अगर आप भी गलत सतल डाइट फॉलो करते हैं तो ये आर्टिकल आपके लिये ही है। 1. डाइट जो कुछ ही दिनों की होती हैं बहुत सारी मैगजीन, वेबसाइट और यहां तक कि कुछ लोंगो का यही कहता है कि आपको वजन कम करने के लिये कुछ दिनों के लिये यही केवल डाइट करती पड़ेगी। मगर ऐसा नहीं होता है। अगर आपको वजन कम करना है तो आपको हमेशा के लिये ही कड़ी डाइट का पालन करना पड़ेगा। फिर जैसे ही आप अपनी डाइट से हटेंगे, आप पाएंगे कि आप फिर पहले जैसा ही महसूस कर रहे हैं। 2. वजन घटाने के लिये भूंखे रहना सोसायटी के प्रेशर में आने के बाद कई लड़कियां वजन घटाने के लिये खुद को भूंखा रखना ज्‍यादा पसंद करती हैं। हांलाकि यह तरीका काफी डरावना और खतरनाक है जो कि आपकी सेहत पर काफी भारी पड़ सकता है! इससे वेट लॉस का प्रोसेस बॉडी में धीमा पड़ सकता है। 3. बहुत सारे फल खाना हम सभी जानते हैं कि रेगुलर बेसिस पर फलों का सेवन करना काफी अच्‍छा होता है। लेकिन कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बहुत ज्‍यादा फल खाना भी शरीर के लिये अच्‍छा नहीं होता। अगर आप बहुत ज्‍यादा फलों का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में शुगर और फ्रक्‍टोज़ की मात्रा अधिक हो जाएगी जिससे शुगर होने का चांस बढेगा और वजन नहीं कम होगा। 4. सारी कैलोरीज़ एक ही होती हैं जब लोग वेट लॉस डाइट पर होते हैं तब वे कैलोरी काउंट कर के खाना पंसद करते हैं। रोजाना ध्‍यान में रह कर कैलोरीज़ खानी चाहिये मगर बहुत से लोग इसे समझ ही नहीं पाते। सारी कैलोरीज़ एक नहीं होती यह बात समझनी जरूरी है। अगर आप 100 कैलोरी की आइसक्रीम खाते हैं तो वह मोटापे को बढाएगी ना कि 100 कैलोरी वाली वेजिटेबल सैलेड। 5. फैट को पूरी तरह से काट देना मोटापा कम करने वाले लेाग अक्‍सर यह गलती करते हैं कि वह अपनी डाइट में पूरी तरह से फैट को कट कर देते हैं। उनका मानना होता है कि अगर वह अपनी डाइट में से फैट को पूरी तरह से कट कर देंगे तो वह बहुत जल्‍दी मोटापा कम करेंगे। लेकिन आपकी बॉडी अच्‍छी तहर से काम करे इसके लिये जरुरी है कि आप फैट खाएं। आप अपनी डाइट में नारियल का तेल, घी और अवाकाडो जैसी चीजें शामिल कर सकते हैं जिससे आपके शरीर में न्‍यूट्रीशन की कमी ना हो। 6. रात में 8 बजे के बाद ना खाना बहुत से लोग रात का डिनर 8 बजे के बाद नहीं खाते। लेकिन आपको समझना होगा कि रात का खाना हमेशा आखिरी मील के 3 घंटे के बाद ही खाना चाहिये। जैसे की आप अगर 12 बजे सोते हैं तो आपको 9 बजे तक खा लेना चाहिये। इससे आपकी बॉडी को खाना हजम करने का काफी समय मिल सकता है। 7. खाने के बीच में बार बार पानी पीना बहुत से लोग ये गल्‍ती करते हैं कि वो खाने के बीच में बार बार पानी पीते हैं और सोंचते हैं कि इससे वे खाना थोड़ा कम खाएंगे। मगर ज्‍यादा पानी पीन से खाना हजम करने वाला तरल पदार्थ घुल जाता है और खाना आराम से हजम नहीं हो पाता। 8. एक्‍सरसाइज करने से आप ज्‍यादा खाते हैं बहुत से लोग सोंचते हैं कि एक्‍सरसाइज करने से आप जितना मर्जी उतना खा सकते हैं और इससे वजन नहीं बढेगा। आप अगर बहुत हार्ड एक्‍सरसाइज करने के बाद ढेर सारी कैलोरी वाला खाना खा लेते हैं तो आपका वजन कभी कम नहीं होने वाला। English summary 8 Diet Tips That Don't Work The terms "diet" and "weight loss" have almost become synonymous with each other; however, the fact is that a person can go on a diet for a number of reasons. There are different types of diets, which produce different end results.

क्‍या आप जानते है लवमेकिंग के दौरान भी आप हो सकते है चोटिल?

Tuesday, February 20 2018

क्‍या आप जानते है लवमेकिंग के दौरान भी आप हो सकते है चोटिल?

तंदुरुस्‍ती » क्‍या आप जानते है लवमेकिंग के दौरान भी आप हो सकते है चोटिल? क्‍या आप जानते है लवमेकिंग के दौरान भी आप हो सकते है चोटिल? Wellness Updated: Tuesday, February 20, 2018, 15:13 सेक्‍स, कपल्‍स के बीच न सिर्फ रिश्‍तें को सुखद बनाने का जरिया है बल्कि ये दो लोगों को शारीरिक, मानसिक और आत्‍मीयता से भी जोड़ता हैं। लेकिन कभी कभी होता है कि जब प्‍यार की इस घड़ी में कुछ ऐसा हो जाता है जो कि आपकी सेक्‍सुअल एक्‍सपीरियंस को प्रभावित करता हैं। जैसे कि एक चोट। अब आप सोच रहे होंगे कि सेक्‍स के दौरान चोट कैसे लग सकती है? कभी कभी ऐसा होता है कि उत्‍तेजना में आकर एक छोटी सी भूल के वजह से आप बेड पर भी चोटिल हो सकते हैं। इसलिए इस बारे में आपको मालूम होना चाहिए कि सेक्‍स में किन स्थितियों में आप चोटिल हो सकते हैं और इन स्थितियों में आने से पहले कैसे आप खुद का बचाव कर सकते हैं? बैक इंजरी सेक्‍स के दौरान बैक इंजरी या कमर में चोट लगना बहुत ही सामान्‍य हैं। कई लोग बेड पर सेक्‍स के दौरान अलग अलग मुद्राएं बनाना पसंद करते हैं। इसलिए उतेजना में आकर कभी कभी लव सेशन का अंत लव की जगह दर्द के साथ होता हैं। इस दर्द की जकड़न से बाहर निकलने के लिए आइस क्‍यूब से पीठ की सिंकाई करें और बाद में चाहे तो गर्म चीज से भी सिकाई कर सकते हैं। इससे इस दर्द से राहत मिलेगी। योनि में खरोंच आना सेक्‍स के दौरान योनि में खरोंच या कट जाना, ये महिलाओं की आम समस्‍या हैं। ये तब होता है जब यौन संबंध बनाने के दौरान या बाद में महिलाओं के योनि से रक्‍तस्‍त्राव होता है। और जब आनंद के लिए महिलाएं जरुरत से ज्‍यादा दर्द झेल लेती हैं। ये सामान्‍यता इसलिए ऐसा होता है कि क्‍योंकि महिलाओं का ये हिस्‍सा बहुत ही शुष्‍क या सूखा होता है। इसलिए संबंध बनाने से पहले महिलाओं को लुबिक्रेंट्स को ध्‍यान में रखना चाहिए। अगर इसके बाद भी योनि में कटाव या खरोंच जैसी स्थिति बनती है तो महिलाओं को चाहिए कि वो जाकर डॉक्‍टर से मिलें। यीस्‍ट इंफेक्‍शन और यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन यीस्‍ट इंफेक्‍शन अस्‍वच्‍छता और ओरल सेक्‍स की वजह से भी हो सकता हैं। या जब पुरुषों के लिंग यौन संबंध बनाने के दौरान लार या द्रव्‍य पद्वार्थ रह जाता है। इससे बचाव का सबसे अच्‍छा तरीका है कि सेक्‍स से पहले साफ सफाई पर ध्‍यान दें। यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन ( यू आईटी ) भी साफ सफाई के अभाव की वजह से होती है। इसके अलावा महिलाओं के वजाइना में सूखेपन की वजह से भी होती है। और सेक्‍स से पहले महिलाओं को पेशाब करना चाहिए। इससे यूआईटी बढ़ाने वाले बैक्‍टीरिया से बचने में मदद मिलती हैं। वजाइना में कंडोम का फंस जाना सेक्‍स के दौरान कई बार ऐसी स्थिति बनती है कि योनि में कंडोम या टेम्‍पोन अंदर फंस जाते हैं। सुनने में आपको थोड़ा अजीब लगेगा, लेकिन ये चीज आमतौर पर लोगों के साथ हो सकती हैं। ये चीज बाहर निकलने में थोड़ा समय ले सकती हैं। अगर इसे बाहर निकलने में कुछ समस्‍या हो रही है तो आप डॉक्‍टर की मदद लीजिए। घर्षण या खरोंच आ जाना जब इंटीमेट होते हुए आप अचानक से कुछ एंडवेचर्स करने की चाह में बेड की जगह कोई और स्‍थान चुनते हैं तो अक्‍सर आप चोटिल हो जाते हैं। अक्‍सर लोग फर्श पर भी लव सेशन करना बहुत पसंद करते हैं। घर्षण की वजह से फर्श या कालीन की वजह से अक्‍सर कारपेट बर्न या घर्षण से चोट के निशान बन जाते हैं। इससे निजात पाने के लिए करना कुछ नहीं है बस उस प्रभावित जगह पर एंटी बैक्‍टीरियल साबुन या ठंडे पानी से धोकर जख्‍मी जगह पर एंटीबैक्‍टीरियल या एंटीसेप्टिक क्रीम लगा लें। English summary Five Common lovemaking Injuries You Should Know injury or an awkward slip-up might cost much more than abstaining from sex for a few days.

कैंसर होने से पहले शरीर देता है ये संकेत, बिल्‍कुल भी न करें इग्‍नोर

Thursday, February 22 2018

कैंसर होने से पहले शरीर देता है ये संकेत, बिल्‍कुल भी न करें इग्‍नोर

तंदुरुस्‍ती » कैंसर होने से पहले शरीर देता है ये संकेत, बिल्‍कुल भी न करें इग्‍नोर कैंसर होने से पहले शरीर देता है ये संकेत, बिल्‍कुल भी न करें इग्‍नोर Wellness Updated: 11:35 कैंसर ऐसी बीमारी जिसका नाम सुनते ही लोग जीने की उम्‍मीदे लगाना छोड़ देते हैं, कैंसर हो जाने पर मरीज एक खौफ की जिंदगी निकालता है, पिछले कुछ सालों से यह बीमारी काफी तेजी से बढ़ रही है, अक्सर लोगो को कैंसर का पता उस समय लगता है जब वह कैंसर के लास्ट स्टेज पर पहुंच जाता हैं। उस समय तक काफी देर हो चुकी होती है, लाल और सफेद रक्‍त कोशिकाओं का संतुलन बिगड़ने और सेल्‍स का बनना नियंत्रण से बाहर होने के कारण कैंसर होता है। हालांकि पहले इस बीमारी का कोई ईलाज नहीं था लेकिन अब ईलाज है लेकिन देर से ईलाज मिलने की वजह से कई बार मरीज के बचने की सम्‍भावना बहुत ही कम रहती जाती हैं। इसलिए कैंसर के शुरुआती लक्षणों के बारे में मालूम होना जरुरी हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे लक्षण बताने जा रहे है जिससे आप कैंसर को शुरुआती नब्‍ज ही पकड़ सकते हैं। क्‍लॉटिंग बनना कुछ कैंसर पद्वार्थों का उत्‍पादन करते हैं जो शरीर में रक्‍त के जमने का का कारण बनतें हैं मुख्‍यत: पैरों की नसों में। स्किन में परिवर्तन स्किन कैंसर होने पर त्वचा पर इसके संकेत देखे जा सकते हैं। यह संकेत निम्न हो सकते हैं - त्वचा में कालापन आना, त्वचा और स्किन का पीला पड़ना (पीलिया), त्वचा पर लाल-लाल चकत्ते पड़ना , खुजली होना और स्किन पर अत्यधिक बाल उगना। बुखार रहना कैंसर में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है जिस कारण रागी को बुखार की समस्‍या सबसे अधिक रहती है। ब्‍लड कैंसर में बुखार के लक्षण सबसे अधिक दिखते हैं। आंत में समस्या कैंसर में लगातार आंतो में आपको परेशानी महसूस होती हैं, कोलेन या कोलोरेक्ट्ल कैंसर का शुरूआती लक्षण हो सकता है डायरिया और अपच की समस्या इस लक्षण को दर्शाते है इसके कारण पेट में गैस और दर्द की समस्या भी हो सकती है। रक्‍त स्‍त्राव लगातार खून का बहना भी कैंसर का एक लक्षण हो सकता है अगर कैंसर की संभावना है तो इसके कारण खून मलाशय के द्वारा बाहर निकलता है यह कोलेन कैंसर का एक लक्षण है इसके अलावा अगर मल-मूत्र त्यागने के समय यदि पीड़ा होती है या उस समय खून निकलता है तो ये प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण होते है। महिलाओं में यदि मासिक चक्र के बाद भी रक्त स्त्राव नही रुकता है तो महिलाओं को ध्यान देने की जरूरत है। सोते समय पसीना अगर किसी व्यक्ति को रात को सोते समय अधिक पसीना आता है तो यह शरीर में रिएक्शन का संकेत है, अगर ऐसा लगातार कई हफ़्तों से होता आ रहा है तो जल्द से जल्द डॉ की सलाह लें, ये कैंसर का लक्षण हो सकता है। थकान होना लगातार पीठ में दर्द होना, कोलोरेक्‍टल या प्रोस्‍टेट कैंसर का कारण होता है, कैंसर का शुरुआती लक्षण होता है बिना वजह ही जरूरत से ज्यादा थकान होना वजन कम हो जाना एक दम से वजन कम होना भी कैंसर का शुरूआती लक्षण है. अगर मनुष्य का बिना किसी प्रयत्न के चार-पांच किलो से ज्यादा वजन कम हो जायें तो यह भी कैंसर का एक संकेत है. लगातार सीने में जलन होना और अपच भी चिंता का विषय है। करेला खाएं कैंसर से बचना है तो करेला खाना शुरू कर दें, करेला खाने में कड़वा जरुर होता है लेकिन इसके बड़े फायदे हैं। अगर आप अपने खाने में करेले का सेवन करते हैं, तो कैंसर का इलाज हो सकता है फल, सब्जियां, साबुत अनाज और फलियों से बना संतुलित आहार, आवश्यक विटामिन और मिनरल स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। शराब पीना छोड़ दें कई शोधों से यह पता चला है कि शराब का सेवन करने से कैंसर होने की सम्भावना काफी ज्यादा बढ़ जाती है। इसके आलावा, इसके कारण पेट मलाशय लिवर, स्तन और अंडाशय का कैंसर भी हो सकता है। How to to prevent Cancer; some important ways | Interview | Boldsky एक्‍सरसाइज करें नियमित व्यायाम करने से शरीर की विभिन्न गतिविधियाँ ठीक रहती हैं जिससे दिल की बीमारी, डायबिटीज (मधुमेह) और कैंसर की सम्भावना कम हो जाती English summary Cancer Symptoms Most People Ignore People should not ignore a warning symptom that might lead to early diagnosis and possibly to a cure.

चेहरे पर हो गए गड्डे... लगाएं सेंधा नमक और फिर देखिए मैजिक

Wednesday, March 7 2018

चेहरे पर हो गए गड्डे... लगाएं सेंधा नमक और फिर देखिए मैजिक

» चेहरे पर हो गए गड्डे... लगाएं सेंधा नमक और फिर देखिए मैजिक चेहरे पर हो गए गड्डे... लगाएं सेंधा नमक और फिर देखिए मैजिक Skin Care Updated: Wednesday, March 7, 2018, 11:16 चेहरे पर कील मुंहासों की वजह से अक्‍सर गड्डें पड़ जाते हैं। जो कि चेहरे की शोभा बिगाड़ देते हैं। अगर आप भी चेहरे की इस समस्‍या से गुजर रहे हैं तो हम आपके लिए एक घरेलु नुस्‍खा लाएं है, जिसे अजमाकर आप इस समस्‍या से छुट्टी पा सकती हैं। जी हां अब आपको खूबसूरत त्‍वचा पाने के लिए बाजार में मौजूद महंगे कॉस्‍मेटिक का सहारा लेने की जरूरत नहीं है। बस आपको करना नहीं हैं, किचन में रखे हुए सेंधा नमक से चेहरे को स्‍क्रब कर आप इस समस्‍या से बच सकती हैं। आप सेंधा नमक स्‍क्रब की मदद से खूबसूरत त्‍वचा पा सकते हैं। सेंधा नमक एक बेहतरीन ब्यूटी प्रोडक्ट है। इसके इस्तेमाल से डेड स्क‍िन तो साफ होती है साथ ही ब्लैकहेड्स भी दूर हो जाते हैं और चेहरे के गढ्ढे भी तेजी से भरता है। आइए जानें त्‍वचा के दाग-धब्‍बों को दूर करने के लिए सेंधा नमक का इस्‍तेमाल कैसे किया जाता है। सेंधा नमक और ओटमील सेंधा नमक और ओटमील का स्‍क्रब ऑयली त्‍वचा के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसके लिए आप ओटमील और सेंधा नमक को अच्छी तरह मिला लें और इसमें कुछ बूंदे नींबू के रस और बादाम के तेल की मिक्स कर लें। फिर इस स्‍क्रब से अपने चेहरे पर हल्‍के हाथों से स्‍क्रब करें। सेंधा नमक और नींबू थोड़े से सेंधा नमक में 1-2 बूंद नींबू के रस की डाल लें और इस मिश्रण को चेहरे पर गोलाई से घुमाते हुए लगाएं। इसके बाद पानी से मुंह धो लें। हफ्ते में 2 बार इस स्क्रब के इस्तेमाल से मुंहासे,ब्लैकहैड्स और डैड स्किन की समस्या गायब हो जाएगी। सेंधा नमक और जैतून का तेल कुछ देर स्क्रब करने के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। सेंधा नमक को अगर आप जैतून के तेल में मिलाकर चेहरे पर लगाते हैं तो इससे आपके चेहरे में निखार आता है। जी हां अगर आपकी त्‍वचा ड्राई है तो सॉल्‍ट और ऑयल का यह पेस्‍ट आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। क्‍योंकि यह आपके चेहरे को नमी प्रदान करता है। 10 मिनट तक हल्के हाथों से मसाज करने के बाद चेहरे को पानी से धुल लें। सेंधा नमक और शहद शहद टैनिंग को खत्म करने का सबसे अच्छा उपाय है। सेंधा नमक में थोड़ा सा शहद मिलाकर इससे चेहरे को स्क्रब करें। आप इसका हफ्ते में 2 बार इस्तेमाल कर सकती हैं। सेंधा नमक और बादाम ड्राई स्किन वालों के लिए भी सेंधा नमक का प्रयोग करना काफी फायदेमंद होता है। सेंधा नमक के साथ बादाम का तेल इस्तेमाल करने से ड्राई स्किन में काफी लाभदायक होता है। सेंधा नमक त्वचा के डेड स्किन सेल्स को निकालता है और बादाम का तेल इसे मॉश्चराइज करता है। बादाम के तेल में विटामिन ई होता है जो चेहरे को अंदर से पोषित करता है और चेहरे का रंग निखारता है। इसके प्रयोग के लिए एक चम्मच सेंधा नमक में लगभग आधा चम्मच बादाम का तेल मिलाएं और इससे चेहरे को अच्छी तरह मसाज करें। Related Articles

बालों का सत्‍यानाश करती हैं आपकी ये रोजाना की गलतियां

Wednesday, March 7 2018

बालों का सत्‍यानाश करती हैं आपकी ये रोजाना की गलतियां

Published: Wednesday, March 7, 2018, 16:08 आज कल लड़कियां अपने बालों पर काफी ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स का इस्‍तेमाल करने लगी हैं क्‍योंकि उन्‍हें अपने बालों की काफी चिंता होने लगती है। लेकिन कहीं ना कहीं हमसे अनजाने में गलतियां हो ही जाती है और अपने बालों को नुकसान कर बैठते हैं। कई सारी लड़कियां बालेां में कैमिकल का यूज़ करती हैं और उन्‍हें सीधा करने के लिये स्‍टाइलिंग टूल का यूज़ करती हैं। आइये जानते हैं कि आप रोजाना ऐसी क्‍या गल्‍तियां करती हैं जो आपके बालों को खराब कर रही हैं। गरम पानी से नहाना गरम पानी से नहाने में बड़ा ही मजा आता है लेकिन रोजाना का यह काम आपके बालों को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। अगर आप अपने बालों को गरम पानी से धोती हैं तो यह बालों के नेचुरल ऑइल को चुरा सकता है। इससे बालों का पोषण छिन सकता है। अगर आप शैंपू कर रही हैं तो पानी को हल्‍का गुनगुना रखें। कंडीशनर लगाने के बाद बालों को हमेशा ठंडे पानी से ही धोना चाहिये जिससे रोम छिद्र बंद हो जाएं और फिजिनेस दूर हो सके। बालों को पोछने के लिये गलत तौलिये का प्रयोग करना हम में से बहुत से लोग अपनी बॉडी और बाल को पोछने के लिये एक ही किस्‍म की तौलिया का प्रयोग करते हैं। जो कि बिल्‍कुल गलत है। अगर आप नॉर्मल टेरीक्‍लॉथ की तौलिये का प्रयेाग करती हैं तो वह आपके बालों को काफी ज्‍यादा नुकसान पहुंचा सकती है। अपने बालों को पोछने के लिये माइक्रोफाइबर तौलिये का यूज़ कर सकती हैं जो कि बालों को आराम से बिना नुकसान पहुंचाए ही सूखा देगा। जब तक के लिये आप के पास यह तौलिया नहीं है तब तक के लिये आप मुलायम टी शर्ट का प्रयोग कर सकती हैं। बहुत ज्‍यादा ड्राय शैंपू का प्रयोग करना इसमें कोई शक की बात नहीं है कि जब आपके पास शैंपू करने का समय नहीं होता है तब आप ना चाहते हुए भी ड्राई शैंपू का प्रयोग करती हैं। लेकिन इसका बहुत ज्‍यादा प्रयोग आपके बालों को नुकसान पहुंचा सकता है। बहुत ज्‍यादा ड्राई शैंपू के प्रयोग से यह बालो में धीरे धीरे जमा होने लगता है और पोर्स को बंद कर देता है, जिससे बालों का सारा पोषण निकलना शुरु हो जाता है। बालों को गलत तरह से झाड़ना बाल अगर उलझे हुए हैं तो बहुत से लोग उसे सुलझाने के लिये बालों में तेज तेज कंघी करते हैं जिससे बाल सुलझते तो नहीं है बल्‍कि और भी ज्‍यादा टूट जाते हैं। कंघी हमेशा मुलायम दांतों वाली ही लें और बालों को छोटे छोटे सेक्‍शन में बांट कर ही झाड़ें। सही बैंड ना लगाना इसी तरह से बालों में लगाए जाने वाले बैंड और इलास्‍टिक भी बालों को काफी तोड़ते हैं। बालों में अगर टाइट बैंड लगाया तो वह बालों को और भी ज्‍यादा खींच कर तोड़ देते हैं। इन्‍हें अगली बार जब भी खरीदें तब इन्‍हें स्‍ट्रेच कर के जरुर देख लें। गलत तकिये पर सोना आप किस टाइप की तकिये पर सोती हैं इससे काफी फरक पड़ता है। सोते वक्‍त आप करवट लेती होंगी। एक नॉर्मल कॉटन की तकिये पर आपके बाल काफी ज्‍यादा टूटते होंगे। लेकिन वहीं अगर सिल्‍क का कवर है तो आपके बाल उस पर चिपकेंगे नहीं और आप जिस ओर भी करवट लेंगी वह रसी ओर चले जाएंगे। Related Articles

आयुर्वेदिक टिप्‍स: Pigmentation से पाएं 1 हफ्ते में छुटकारा

Wednesday, March 7 2018

आयुर्वेदिक टिप्‍स: Pigmentation से पाएं 1 हफ्ते में छुटकारा

Published: Wednesday, March 7, 2018, 17:08 चेहरे पर अगर झाइयां हों तो चेहरे की ख़ूबसूरती खराब हो जाती है। यही नहीं यह खराब सेहत की भी निशानी होती है। आप चेहरे पर चाहे जितने क्रीम और लोशन लगा लें, जद्दी झाइयां जाती ही नहीं। कई बार जब तक चेहरे पर झाइयों की क्रीम लगाते रहते है तभी तक असर रहता है, लेकिन फिर कुछ दिनों बाद चेहरा फिर से वैसे ही नजर आने लग जाता है। त्वचा पर झाइयां पड़ना शरीर में अंदरूनी कारणों से हो सकता है। खून की कमी भी एक कारण हो सकती है। खून की जांच करवाएं और खून बढ़ाने वाले फल सब्जियों का सेवन करें। आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस और प्रोटीन युक्त आहार का विशेष रूप से सेवन करना चाहिए। पर यदि ये सब कारण ना हों तो धूप में निकलना थोड़ा कम करें या मुंह पर कपड़ा बांध कर निकलें। धूप में जाने से पहले चेहरे पर सनस्क्रीन का प्रयोग अवश्य करें। सूर्य से निकलने वाली किरणें-यूवीए और यूवीबी त्वचा में समाकर कई तरह की समस्याएं, जैसे- सनबर्न, झुर्रियां, काले धब्बे आदि को पैदा कर देती हैं। आइए, नजर डाले झाइयों को दूर करने के कुछ घरेलू उपायों पर... 1. मलाई ताजी क्रीम ले कर उसमें नींबू का रस मिलाइये और इसे कुछ देर के लिये चेहरे पर लगाने के बाद आप देखेगी की झाइ हल्‍की पड़ चुकी होगी। 2. दूध और चोकर चोकर को रात भर थोड़े से दूध या दही में भिगो दें। सुबह उस गाढ़े पेस्ट में थोड़ा कैलेमाइन पाउडर, चुटकीभर दालचीनी पाउडर मिलाएं और अपने चेहरे पर लगाएं। इस स्क्रब को लगाने से आपको काफी फायदा होगा। 3. तुलसी के पत्ते तुलसी के पत्‍तों को नींबू के रस में थोड़ी देर के लिये भिगोइये और उसे चेहरे पर रखिये। इससे काले घेरे भी गायब होगे और पिगमेंटेशन भी। 4. पिसा कपूर घर पर आप एक और पैक बना सकती हैं। एक चम्मच पानी में मसूर के दाने जितनी रसौंध, चुटकीभर पिसा कपूर डालकर घोल लें। फिर इसमें एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी और कुछ बूंदें शहद की मिलाकर चेहरे पर लगाएं और सूख जाने पर धो दें। रात को सोने से पहले चेहरा अच्छे से साफ कर लें और फिर ए.एच.ए. क्रीम से चेहरे व गर्दन की मालिश करके सो जाएं। 5. जीरा पानी में थोड़ा सा जीरा उबालिये और उस पानी से अपने चेहरे को धोइये। इससे झाइयां कम होने लगेगी। 6. ऑरेंज पील सूखा संतरे का छिलका मिक्‍सी में पीस लें और फिर उसमें पानी मिला कर अपने चेहरे पर लगाएं। इससे पिंपल की भी समस्‍या दूर हो जाएगी। 7. मुल्तानी मिट्टी और चंदन पावडर 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी, आधा चम्मच चंदन पाउडर में एलोवेरा पल्प व खसखस मिलाकर पेस्ट बनाएं और अपने चेहरे पर लगाकर स्क्रब करें। इस स्क्रब में शामिल एलोवेरा से त्वचा से कालापन कम होगा, जिससे दाग-धब्बे भी दूर होंगे। 8. नींबू के छिलके गालों पर झाइयां खत्म करने के लिए घर पर नींबू के छिलके पर नमक और चुटकीभर हल्दी डालकर हल्के-हल्के से प्रभावित स्थान पर मलें। Related Articles