Health and Fitness

क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण

Tuesday, March 6 2018

क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण

» क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण क्‍या हर वक्‍त रहते हैं आपके पैर ठंडे? जानें इसके 9 कारण Wellness Published: Tuesday, March 6, 2018, 10:02 कभी कभी लोगों के हाथ पैर ठंडे पड़ जाते हैं जिससे उनका ध्यान भंग होता है और वो किसी काम को ठीक से नहीं कर पाते हैं। कम तापमान के कारण आपके पैर ठंडे पड़ सकते हैं लेकिन इसके और भी दूसरे कारण होते हैं जिनका जिक्र हम इस लेख में करने जा रहें हैं। 1- रेनॉड रोग: जी हाँ यह बात सही है कि कम तापमान के कारण ही हाथ और पैर ठंडे पड़ जाते हैं लेकिन जब आपके पैर सुन्न होते हैं तो इसे रेनॉड रोग कहते हैं। इसमें आपकी धमनियों में ब्लड फ्लो धीमा हो जाता है। लगभग 5% अमेरिकन में यह रोग होता है। 2- हाइपोथायरॉइडिज्म: जब थायरॉइड ग्लैंड थायरॉइड हॉर्मोन को पर्याप्त मात्रा में नहीं बनाती है तो यह समस्या होती है। आपको बता दें कि इसी हॉर्मोन से शरीर का तापमान और ऊर्जा नियंत्रित होती है और पर्याप्त मात्रा में इन होर्मोंस के ना बनने की वजह से आपके हाथ पैर ठंडे पड़ सकते हैं। 3- नर्व डैमेज: खराब ब्लड फ्लो, टॉक्सिक पदार्थों का ज्यादा होना, धमनियों में सूजन होना और विटामिन बी 12 की कमी का होना ही नर्व डैमेज होने के कारण होते हैं। इससे आपके पैर सुन्न पड़ सकते हैं और ठंडे भी हो सकते हैं। 4- एनीमिया: आपका ब्लड आपके शरीर में ऑक्सीजन को पहुंचाने का काम करता है। एक तरह से यह इंधन जैसा काम करता है लेकिन अगर आपको एनीमिया है जिसमें आपका ब्लड ठीक से अपना काम नहीं करता है और आपके हाथ, पैर ठंडे पड़ जाते हैं। 5- ज्यादा पसीना निकलना: पसीने की ग्रंथियों के ज्यादा एक्टिव होने की वजह से आपका अधिक पसीना निकलता है और इस वजह से आपके शरीर का तापमान कम हो जाता है और आपके पैर ठंडे पड़ने लगते हैं। ज्यादा मात्रा में पसीना निकलने की बीमारी को हाइपरहिड्रोसिस कहते हैं। आपको बता दें कि ज्यादा पसीने का निकलना मीनोपॉज और हाइपरथायरॉइडिज्म के लक्षण होते हैं। 6- ज्यादा धूम्रपान और एल्कोहल का सेवन: आमतौर पर आपकी ब्लड वेसल्स आपके नर्व तक न्यूट्रीयेंट्स पहुंचाती है लेकिन जब आप धूम्रपान करते हैं तो ब्लड वेसल्स संकुचित हो जाती है जिससे आपकी नर्व कमजोर होने लगती है। इसी तरह आधे से ज्यादा लोग जो एल्कोहल का सेवन करते हैं उन्हें न्यूरोपैथी की समस्या होती है जिससे उनकी नर्व डैमेज हो जाती है और हाथ, पैर ठंडे पड़ जाते हैं। 7- डायबिटीज: न्यूरोपैथी का डायबिटीज एक बहुत बड़ा कारण है। आपको बता दें कि 26.4% टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों को न्यूरोपैथी की समस्या होती है क्योंकि डायबिटीज की वजह से हार्ट की समस्या होती है जिसमे ब्लड फ्लो ठीक से नहीं होता है और पैर ठंडे पड़ जाते है जिसकी वजह से दर्द भी होता है। हेल्दी लाइफ के माध्यम से आप हाइपरटेंशन और डायबिटीज को नियंत्रित करके पैरो के ठंडे होने को रोक सकते हैं। 8- दवाइयों का इस्तेमाल करना: अगर बहुत ज्यादा समय तक एंटी-बायोटिक का इस्तेमाल करते हैं तो इसके सेवन से आपको कई सारे साइड इफेक्ट्स हो सकते है। ऐसा होने पर आप डॉक्टर से संपर्क जरुर करें नहीं तो आपको न्यूरोपैथी हो सकती है। ऐसे ही जब कैंसर सेल्स को मारने के लिए कीमोथेरेपी की जाती है तो उसमें भी नर्व डैमेज होती है जिससे न्यूरोपैथी की समस्या हो सकती है। इसलिए इस वजह से भी आपके हाथ पैर सुन्न और ठंडे पड़ सकते हैं। 9- विटामिन की कमी: विटामिन B12, B6 और विटामिन B9 (फोलिक एसिड) आपके शरीर में नए ब्लड सेल्स का निर्माण करते हैं। अगर इन विटामिन की कमी होगी तो आपको एनीमिया होने की संभावना हो सकती है और सही मात्रा में ब्लड आपके पैरो तक नहीं पहुँच पाता है जिससे वे ठंडे हो जाते हैं। आपको बता दें कि विटामिन बी खासतौर पर B12 नर्व के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इन विटामिन्स की कमी को पूरा करने के लिए आपको अंडे, मीट, मछली और प्रोटीन युक्त फूड्स का सेवन करना चाहिए। Related Articles

पेट में कीड़े हैं तो होगी अनेक बीमारियां, इन उपचारों से खतम करें इन्‍हें

Tuesday, March 6 2018

पेट में कीड़े हैं तो होगी अनेक बीमारियां, इन उपचारों से खतम करें इन्‍हें

तंदुरुस्‍ती » पेट में कीड़े हैं तो होगी अनेक बीमारियां, इन उपचारों से खतम करें इन्‍हें पेट में कीड़े हैं तो होगी अनेक बीमारियां, इन उपचारों से खतम करें इन्‍हें Wellness Published: Tuesday, March 6, 2018, 12:30 अगर आपका खान-पान गलत है तो आपको पेट के रोग बड़ी जल्‍दी हो जाएंगे। जिनमें से एक है पेट में कीड़ों का पनपना है। जी हां, अशुद्ध भोजन खाने से पेट की आंत में कीड़े पड़ जाते हैं जो वाकई में काफी तकलीफदेह होता है। इन कीड़ों की वजह से पेट में गैस, बदहजमी, पेट में दर्द, बेचैनी और बुखार जैसी कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। पेट में कीड़े कई कारणों से हो सकते हैं जैसे, मैदा खाने से, अधपका या कच्चा खाना, गोश्त (मांस) खाने से, मक्खियों द्वारा दूषित संक्रमित आहार या दूषित पानी पीने से, साफ़ सफाई न रखने से, बाहर के खाने का अत्यधिक सेवन करने से और गंदे हाथो से खाना खाने से आदि। पेट के ये कीड़े करीब 20 प्रकार के होते हैं जो आंतों में घाव तक पैदा कर सकते हैं। यदि आपको पेट में कीड़े के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो उसका इलाज हम आपको बताएंगे जो कि पूरी तरह से नेचुरल है तो देर ना करें और पढ़ें.... 1. नीम के पत्‍ते नीम एक आयुर्वेदिक औषधि मानी जाती है। इसलिए इसको कई तरह के इलाज में प्रयोग किया जाता है। नीम के पत्तों में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो पेट की समस्याओं और कीड़ों की समस्या को दूर करते हैं। इसरो शहद के साध लेने से आपको जल्दी ही आराम मिल जाएगा। 2. खजूर खजूर के पत्तों का काढ़ा बनाकर बासी होने पर शहद के साथ मिलाकर पीने से और खजूर की पत्तियों का रस 40 ग्राम और 40 ग्राम शहद के साथ मिलाकर पीने पेट के सभी कीड़े मर जाते हैं। 3. नारियल नारियल पेट के कीड़ों को जड़ को बाहर निकालने के लिए सबसे प्रभावी उपाय है। नारियल एक anti-parasitic है जिसका उपयोग आंतों के कीड़े को प्रभावी ढंग से मारने के काम आता है। आंतों के कीड़े की समस्या को कम करने के लिए आप नाश्ते के दौरान रोज सुबह नारियल को घिस कर एक बड़ा चम्मच खा सकते हैं। 4. लहसुन लहसुन, दुनिया में सबसे व्यापक रूप से प्रयुक्त मसालों में से एक है। यह एक प्रभावशाली anti-parasitic एजेंट है जो कि आंतों के कीड़े मारता है। इसमें लहसुन में उच्च मात्रा में सल्फर है। सल्फर युक्त अमीनो एसिड में आम तौर पर परजीवी माने के लक्षण होते हैं। लहसुन में रोगाणुरोधी, एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, और मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण है, जो शरीर से रोगाणुओं को खत्म करने में मदद करते हैं। अगर लहसुन के तीन लौंग हर दिन खाए जाते हैं, तो इसकी antifungal property कीड़ों से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। 5. पपीता आयुर्वेद में पपीते को पेट के कीड़े मारने के लिये जाना जाता है। पपीते में papain नाम का enzyme होता है जो कि आंत के कीड़े को मारता है। इसके अलावा इसमें काले रंग के बीज में भी यही गुण होते हैं। पपीते को घिस कर उसके जूस को निकाल कर एक चम्‍मच पिएं। इसमें शहद ओर थोड़ा पानी भी मिला लें। इसे दो घंटे के बाद 250ml दूध के साथ 30 एम एल कैस्‍टर तेल मिला कर पीने से पेट के कीड़े आराम से खतम हो जाएंगे। यह नुस्‍खा बच्‍चों के भी काम आते हैं। 6. करंज करंज की मींगी को भूनकर 3 से 4 दिन तक खाने से कीड़े समाप्त हो जाते हैं। 7. प्याज प्याज के 10 मिलीलीटर रस में थोड़ी-सी मात्रा में सेंधानमक को मिलाकर पिलाने से पेट के कीड़ें मिट जाते हैं। प्याज का रस एक चम्मच की मात्रा में 2-2 घण्टे के अन्तराल के बाद पीने से पेट के कीड़े मरते हैं और पेट का दर्द भी दूर होता है। प्याज का आधा चम्मच रस 2 से 3 दिन तक बच्चों को देने से पेट के कीड़े और दर्द नष्ट होते हैं। 8. कच्‍चे आम की गुठली कच्चे आम की गुठली खाने से पेट के कीड़े मल के रास्ते बाहर निकल जाते हैं। इसके लिए कच्चे आम की गुठली के चूर्ण का दही या पानी के साथ सेवन करना चाहिए। इसका चूरन बनाकर इसी तरह से खाने से आपको तुरंत आराम मिलेगी। 9. अनार के छिलके पेट के कीडों से निजात पाने के लिए सबसे पहले अनार के छिलकों को सुखाकर इसका चूर्ण बना लीजिए. अब इस चूर्ण में से एक चम्मच दिन में तीन बार लेना चाहिए। कुछ दिनों तक इस चूर्ण का सेवन करने से पेट के कीड़े जल्दी ही खत्म होने लगते हैं। ऐसा करने से आपको जल्दी ही आराम मिल जाएगा। Related Articles

अडल्ट फिल्म देखने में सबसे अव्‍वल है इंडिया, जाने इसके 7 बड़े नुकसान

Tuesday, March 6 2018

अडल्ट फिल्म देखने में सबसे अव्‍वल है इंडिया, जाने इसके 7 बड़े नुकसान

तंदुरुस्‍ती » अडल्ट फिल्म देखने में सबसे अव्‍वल है इंडिया, जाने इसके 7 बड़े नुकसान अडल्ट फिल्म देखने में सबसे अव्‍वल है इंडिया, जाने इसके 7 बड़े नुकसान Wellness Published: Tuesday, March 6, 2018, 13:30 अडल्ट फिल्म यानी की पोर्न देखने की आदत आज कल काफी लोंगो में आ गई है। कॉलेज के छात्र - छात्राओं से लेकर ऑफिस तक जाने वाले लोग इससे अपना मन हलका करने लगे हैं। विश्व का हर युवा पोर्न फिल्में कभी ना कभी जरूर देखता है। क्‍या आप जानते हैं कि भारत पिछले दो-तीन सालों में सबसे ज्यादा पोर्न देखने वाले देशों में दसवें से तीसरे स्थान पर आ गया है। एक अमेरिकन रिसर्च में पाया गया की वहां महिलाओ में 30% और पुरुषो में 50% पोर्न मूवी देखने की लत है। कुछ लोग तो इसे सेक्स एजुकेशन के लिए देखते है पर कुछ ने इसे अपना एक कामुक खेल बना लिया है। धीरे धीरे ये खेल एक आदत में बदल जाता है जिससे की आप मुसीबत में पड़ सकते है। अगर आप भी इसे नियमित देखते हैं तो इन संकेतों की और ध्यान दें की कहीं आप इस आदत के शिकार तो नहीं हो रहे हैं। यहाँ हम बात करने वाले है पोर्न देखने की आदत के नुकसान के बारे में... आईये जाने पोर्न देखने से होने वाले 7 बड़े नुक्सान के बारे में :- 'लव हार्मोन' गिरने लगते हैं ऑक्सीटोसिन एक शक्तिशाली 'लव हार्मोन' है जो पुरुष और महिलाओं दोनों को बंधन में बांधने में मदद करता है लेकिन पोर्न फिल्‍मों में जिस तरह से एक्‍टर सैक्‍स करने में अपने किरदार को निभाते हैं। उस निकटतम बंधन से ऑक्‍सीटोसिन कही खो जाता है। मानसिक तनाव पोर्न देखने का सबसे बड़ा नुकसान मस्तिष्क पर पड़ता है। व्यक्ति धीरे धीरे अकेलेपन का शिकार होंने लगता है और धीरे धीरे मानसिक तनाव का शिकार होने लगता है। एक रिसर्च के मुताबिक पोर्न मूवी से शिकार युवा सबसे ज्यादा मानसिक रोगी हो रहे है जिसका उनकी जीवन शैली पर असर पड रहा है। आत्मविश्वास की कमी जब पोर्न मीडिया कोई देखना शुरू करता है तो कुछ समय तो उत्साह बना रहता है लेकिन धीरे धीरे नकारात्मक सोच आने लगती है। ये एक आत्मग्लानी या शर्म के रूप में हो सकती है। ये व्यक्ति के आत्मबल को कमजोर कर उसे मानसिक तनाव की और धकेल सकता है। टूटते रिश्ते और कमजोर सेक्स लाइफ जब आप पोर्न की लत पकड लेते हो तो अपने रिश्ते में उतने अच्छे नहीं रह पाते। आपका स्वयं के द्वारा किये जाने मास्टरबेसन जो की अक्सर पोर्न देखते वक़्त लोग करते है आपको अपने पार्टनर से दूर कर सकता है। आप अपने पार्टनर से अनजाने में ज्यादा की उम्मीद करने लगते है। एक सर्वे में पाया गया की लडको में सेक्स पॉवर पोर्न की लत की वजह से कमजोर हुआ है उनके पार्टनर उनसे खुश नहीं है। पोर्न की लत के चलते अपने पार्टनर की बजाय दूसरों से सेक्स रिलेशन भी बढ़ रहे है जो की रिश्ते टूटने का कारण बन रहा है। घटता व्यवहार पोर्न की लत व्यक्ति विशेष के व्यवहार को इतना गिरा देता है की वो समाज और अपने कार्यस्थल पर गलत हरकते करने लगता है। ये व्यवहार उसके नौकरी के लिए भी खतरा बन सकता है और पैसे की कमी भी आ सकती है। कुछ लोग महंगी साइट्स पर पोर्न काफी मंहगा पैसा देकर भी खरीदते है और इस लत को अंजाम देते है। सेक्स की आदत पोर्न की लत की वजह से कुछ लोग सेक्स के इतने आदि हो जाते है की उनका सेक्स रिलेशन कई लोगों के साथ बन जाता है। ऐसे में कई सेक्स से जुड़े गुप्त रोग हो जाते है। वैवाहिक जीवन का टूटना,काम में पीछे रहना और नकारात्मक सोच का पनपना पोर्न की लत की वजह से हो सकते है। घरेलु हिंसा और रैप जैसी घटनाएं भी कही ना कही सेक्स की आदत के बिगड़े रूप का नतीजा है। दिमाग के विकास पर प्रभाव न्‍यूरोसाइंटिस्‍ट की मानें तो बहुत ज्‍यादा पोर्न देखने से दिमाग के विकास पर प्रभाव पड़ता है और इससे मनोविकार भी हो सकता है। अगर आप ऐसे व्‍यक्ति के साथ रिश्‍ते में हो तो आपको अंतरंगता के लिए नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। Related Articles

अटेंशन जेंटलमेन! जब मिलने लगे ये संकेत तो तुरंत बंद कर दे मास्‍टरबेट

Tuesday, March 6 2018

अटेंशन जेंटलमेन! जब मिलने लगे ये संकेत तो तुरंत बंद कर दे मास्‍टरबेट

» अटेंशन जेंटलमेन! जब मिलने लगे ये संकेत तो तुरंत बंद कर दे मास्‍टरबेट अटेंशन जेंटलमेन! जब मिलने लगे ये संकेत तो तुरंत बंद कर दे मास्‍टरबेट Wellness Published: Tuesday, March 6, 2018, 16:00 हस्तमैथुन करने के फायदे हो सकते हैं पर अगर आप इसे एक लत ना बनाएं तो। विशेषज्ञों का मानना है कि हस्तमैथुन एक स्वस्थ सेक्स जीवन का हिस्सा है। मास्‍टरबेट या हस्‍तमैथुन या मास्‍टरबेट करना गलत है, क्‍या इससे शरीर पर कोई बुरा प्रभाव पड़ता है। हस्‍तमैथुन एक प्रकार की शारीरिक प्रक्रिया है जिसे लड़का हो या लड़की, सभी कर सकते हैं। हालांकि ये एक सामान्‍य प्रक्रिया है फिर भी तमाम स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने इसे एक सामान्य मानवीय व्यवहार माना है, लेकिन हर चीज की एक सीमा होती है। इस सीमा से आगे बढ़ने पर उसके दुष्प्रभाव सामने आने लगते हैं। मास्टरबेशन भी तब तक ही सही है जब तक कि यह आपके लिए एक लत न बन जाए। क्योंकि ऐसा होने के बाद यह आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करना शुरू कर देता है। आइए हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताने वाले हैं जो यह दर्शाते हैं कि आप मास्टरबेशन एडिक्ट हो चुके हैं और अब आपको यह बंद कर देना चाहिए। अगर खुद को पहुंचा दे नुकसान कुछ लोगों को इस तरह से इसकी लत पड़ जाती है कि वह अपने ही अंग को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देते हैं। ऐसे में स्किन रैशेज के साथ साथ पायरोनी बीमारी होने की भी संभावना होती है जो कि एक गंभीर समस्या है। जरुरत से ज्‍यादा हावी अगर आप इसकी वजह से अपनी क्लास छोड़ देते हों या फिर अपने जरूरी काम को टाल दे रहे हों तो यह संकेत है कि आप मास्टरबेशन एडिक्ट हो चुके हैं। ऐसे में आपको इस पर नियंत्रण करना बेहद जरूरी है। मास्टरबेशन तब तक ही ठीक है जब तक कि यह आपके काम को या फिर आपकी पढ़ाई को प्रभावित न करे। अगर आप ऐसी अवस्था में आ गए हैं जब आप दिनभर मास्टरबेशन के बारे में ही सोच रहे हों तो समझ लीजिए कि मामला गंभीर है। मास्टरबेशन को इस गंभीर स्तर न पहुंचने दें। लत सी लग जाएं तो किसी भी चीज को एडिक्शन या लत या फिर नशा तभी कहा जाता है जब आप यह जानते हों कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए बुरा है और फिर भी आप उससे दूर न जा पा रहे हों। अगर चाहकर भी आपको मास्टरबेशन से छुटकारा नहीं मिल पा रहा है तो जरूरी है कि संभल जाएं और किसी एक्सपर्ट से सलाह लें। पार्टनर की जरुरत महसूस ना होना इस संकेत में हस्तमैथुन की इतनी आदत पड़ जाती है कि लोग अपनी पार्टनर के साथ संबन्‍ध बनाने से बेहतर हस्तमैथुन करना ज्‍यादा पसंद करने लगते हैं। आप इसी क्रिया से खुद को सैटिस्‍फाइड़ कर लेते हैं और यह आपको अच्‍छा भी लगता है। शारीरिक संबन्‍ध बनाने में आती है परेशानी यदि आप ज्‍यादा हस्तमैथुन करते हैं तो सेक्‍स करते वक्‍त आपनी अपनी वाइफ को कभी सैडिस्‍फाइड नहीं कर पाएंगे। क्‍योकि आप अपनी बॉडी को पूरी तरह से हस्तमैथुन कर के थका देते हैं जिससे आपके लिंग में उत्‍तेजना बंद हो जाती है। एक पुरुष के लिए इससे शर्मसार बात क्या हो सकती है की उसके लिंग में उत्तेजना होना ही बंद हो जाए। बालों का झड़ना अत्यधिक हस्तमैथुन बालों के झड़ने का कारण बन सकता है। अब, बालों के झड़ने के लिए यही एकमात्र कारण नहीं है, लेकिन अगर आपने अचानक बालों के झड़ने पर ध्यान दिया है, तो आप खुद ही समझ सकते है हस्तमैथुन कुछ ज्‍यादा ही हावी हो गया है। शुक्राणुओं की संख्या कम होना यह बात रिसर्च में भी कही गई है कि जो लोग रोजाना हस्तमैथुन करते है उनके वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बहुत कम हो जाती है। इससे आपको ही नुकसान है क्‍योंकि शादी के बाद आपको पिता बनने में दिक्‍कत आ सकती है। Related Articles

बिना मेकअप के पाइये गुलाबी गाल, पढ़ें कैसे

Monday, March 5 2018

बिना मेकअप के पाइये गुलाबी गाल, पढ़ें कैसे

Published: Monday, March 5, 2018, 10:24 बिना मेकअप अब पाइये गुलाबी गाल | Tips for natural rosy cheeks | Boldsky चेहरे की बनावट चाहे जैसी हो लेकिन अगर उस पर दाग धब्‍बे पड़ें हों और चेहरे पर चमक ना हो तो खुद का कॉन्‍फिडेंस मानों कम हो जाता है। लड़कियां अपने गालों को गुलाबी बनाने के लिये ना जाने कितने तरह के ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स का यूज़ करती हैं, जो कि ना सिर्फ उनके पैसे खर्च करवाता है बल्‍कि धीरे धीरे चेहर की रंगत को भी खींच लेता है। हमारा चेहरा हमारी पहचान है और इसे खूबसूरत और आकर्षक बनाये रखने के लिए हम क्या कुछ नहीं करते हैं। हर लड़की कि यह तमन्‍ना होती है कि उसके गाल गुलाबी हों जिससे उसकी खूबसूरती में चार चाँद लग जायेंगे। गालों के सौन्दर्य, रंगत और कोमलता को बढ़ाना चाहते हैं तो गालों के लिए चुनें प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधन, जो उनकी कुरदरती चमक में और वृद्धि करें। अगर आपको भी लगता है कि आप ज्‍यादा समय तक के लिये ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट पर निर्भर नहीं रह सकती हैं तो आज ही से हमारे बताए गए घरेलू नुस्‍खों का इस्‍तेमाल करना शुरु कर दें। चुकंदर क्‍या आप चाहती हैं कि आपके गाल दिखने में लाल लगें तो चुकंदर चुकंदर से बेहतर कुछ नहीं। पहले 2 से 3 चुकंदर को उबाल कर मैश कर लें, फिर उसमें 3 चम्मच केओलिन पाउडर मिलाएं इसे आपने चहरे और गले में लगाएं और 20 मिनट के लिए छोड़ दें फिर धो लें। मसूर की दाल और दूध का पेस्‍ट घर पर काफी असानी से मसूर की दाल उपलब्‍ध हो जाती है। मसूर की दाल को 30 मिनट के लिए दूध में भिगो दें फिर इसे पीस लें। अब इसमें केओलिन पाउडर मिलाएं और 20 मिनट के लिए छोड़ दें। बेसन, मलाई, चोकर और दही 2-3 चम्मच बेसन लें इसमें एक चमम्च दूध की ​​क्रीम और एक-एक चम्मच गेहूं की भूसी और दही मिलाएं। फिर इसे चहरे पर 15 मिनट के लिए लगाये और धोलें। इससे आपके गाल नरम और मुलायम हो जाएंगे। खीरा अगर आपकी त्‍वचा बेजान लगती है और आप उस पर से डेड स्‍किन हटाना चाहती हैं तो खीरे का गूदा लगाइये। खीरे के गूदे को चहरे पर लगाएं इससे आपकी त्वचा का रंग हल्का होगा साथी ही डार्क सर्किल भी कम होजाएंगे। खीरे, नींबू, दूध और शहद का पेस्ट आप घर पर ही फेस पैक बना सकती हैं। इसके लिए आपको कसा हुआ खीरा, नींबू का रस (1/4 कप), शहद और दूध 5-5 चम्मच मिला लें। फिर इसे 5-6 घंटे के लिए फ्रिज में रख दें। ठंडा होजाने पर इसे लगाये, और 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। नींबू और दूध मालिश करने से आप त्वचा हमेशा जवान और स्वस्थ रहती है। इसके लिए आपको 1/4 कप नींबू का रस और उसमें दूध मिला दें। फिर इससे चहरे पर मालिश करें। इससे आपके चहरे का ब्लड सर्कुलेशन भी अच्छा होगा। बादाम त्वचा में चमक के लिए नमी बहुत जरुरी है और इसे लिए आपको उसे रोज़ मॉइस्चराज़ करने की जरुरत है। थोड़े से बादाम को पीस लें फिर उसमें गुलाब की पंखुड़ी पीस लें अब इसमें पांच-पांच चम्मच पुदीना का रस और शहद मिलाएं अब इसे 5-6 दिनों फ्रिज में रख दें। फिर इसे रात में सोते वक़्त लगाएं। फेस की मसाज करें अपने गालों को चमक देने के लिये आप उन पर फेशियल मसाज भी कर सकती हैं। अपने गालों पर उंगलियों से हल्‍के हल्‍के मसाज करें जिससे ब्‍लड सर्कुलेशन अच्‍छा हो और गालों में एक नेचुरल ग्‍लो आए। एक्‍सरसाइज भी करें जिन लड़कियों के गाल गुलाबी होते हैं, उन्‍हें देख कर ही पता चल जाता है कि उनकी हेल्‍थ अच्‍छी है। तो अगर आप अंदर से अच्‍छा फील नहीं कर रही हैं तो आपके गालों पर भी वह चमक नहीं आएगी। एक्‍सरसाइज करने से शरीर में खून का सर्कुलेशन होता है और शरीर की सारी जमा गंदगी बाहर निकलती है। इससे हमारे खून में ऑक्‍सीजन और न्‍यूट्रियंट्स चेहरे तक पहुंचते हैं। यही नहीं एक्‍सरसाइज से स्‍किन का टोन भी निखरता है। Related Articles

किचन के मसाले अब बनाएंगे बालों को मोटा, जानें कैसे करें यूज़

Monday, March 5 2018

किचन के मसाले अब बनाएंगे बालों को मोटा, जानें कैसे करें यूज़

बालों-की-देखभाल » किचन के मसाले अब बनाएंगे बालों को मोटा, जानें कैसे करें यूज़ किचन के मसाले अब बनाएंगे बालों को मोटा, जानें कैसे करें यूज़ Hair Care Published: 12:30 हमारे भोजन में मसालों की अपनी अलग ही जगह है। ये ना सिर्फ खाने का जायका बढाते हैं बल्‍कि उसमें खुशबू भी बढाते हैं। भारत, मसालों की पैदावार और इस्‍तेमाल, दोनों में ही नंबर 1 है और इसी कारण इसे ''मसालों की भूमि'' कहा जाता है। मसालों को प्राकृतिक दवा भी कहा जाता है क्‍योंकि इनमें वो शक्‍ति होती है जो आपके शरीर के कई रोंगो को दूर कर सकता है। वाकई में मसाले गुणों से भरपूर होते है, ये सौंदर्यता को बढ़ाते है, स्‍वास्‍थ्‍य को सही रखते है, घाव को भरने के काम आते है, यहां तक कि आपके बालों को भी सुंदर और स्‍वस्‍थ बनाते हैं। कुछ मसाले बालों की जड़ों पर अच्‍छा प्रभाव डालते है और उन्‍हे मजबूत व चमकदार बनाते हैं। घरेलू उपचार के तौर पर मसालों का उपयोग बालों को स्‍वस्‍थ, रूसी रहित और सिल्‍की बनाने में किया जाता है। आज कल कम उम्र के लड़के और लड़कियों में बाल झड़ने, टूटने और असमय सफेद होने की समस्‍या काफी ज्‍यादा दिखाई देने लग गई है। भारत जैसे दूश में जहां बालों को सुंदरता का प्रतीक माना गया गया है, वहीं ये सब चीज़ें दिल को दुखी कर देने वाली होती हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि मसाले आपके बालों को बढ़ाने और उनको पतला होने से कैसे बचाते है। आइये जानते हैं कुछ ऐसे मसाले जो आपके बालों को पतला होने से बचा सकते हैं। तेजपत्ता बालों के लिये किसी वरदान से कम नहीं है तेजपत्‍ता। जपत्‍ता के पत्‍तों को बालों की चमक बढ़ाने के लिए भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके कुछ पत्‍तों को लें और उन्‍हें पानी में उबाल दें। इस पानी के ठंडा होने पर इससे बालों को धो लें। ये पानी बालों में कंडीशनर की तरह काम करता है और चिपचिपाहट को दूर कर देता है। बालों को मजबूती देने के लिये आप तेज पत्‍ते के तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं। मीठी नीम दक्षिण भारतीय महिलाओं के लम्‍बे और सुंदर बालों का रहस्‍य करी पत्‍ता के गुणों में छुपा है। करी पत्‍ता भोजन में मुख्‍य मसाला माना जाता है लेकिन अगर आप इसकी पत्तियों को बालों में लगाएं तो बाल लम्‍बे होते है। इसे लगाने के लिए सबसे पहले करी पत्‍ता की पत्तियों को नारियल तेल में उबालें, तेल को काला हो जाने तक उबालते रहें और बाद में बचे काढ़े को बालों की जड़ों में अच्‍छे से लगाकर मसाज कर लें। इसे रात भर लगा रहने दें या 2 - 3 घंटे के लिए लगा लें। इससे बालों की लम्‍बाई अच्‍छी तरह बढ़ती है। मेथी दाना बालों की ग्रोथ बढाने के लिये मेथी दाना बहुत ही अच्‍छा है। रातभर मेथी के दाने को भिगो कर रख दें और फिर सुबह उसके पानी से बालों को धुलें। इससे आपको रूसी से छुटकारा मिलेगा साथ ही पतले बाल मोटे होंगे। काला जीरा काला जीरा, बालों, त्‍वचा और स्‍वास्‍थ्‍य तीनों के लिए लाभकारी होता है। इसमें ऐसे गुण होते है जो बालों को मजबूत बनाते है और नए बालों को निकलने में पोषण प्रदान करते है। इससे बालों का झड़ना भी बंद हो जाता है। धनिया यह बालों की ग्रोथ के लिये काफी अच्‍छा माना जाता है। इसे आपको अपनी डाइट में शामिल करना होगा। यदि आप चाहें तो धनिया के बीज का पावडर बना कर अपने सिर के तेल में मिला लें और फिर उससे मसाज करें। इससे बालों की जड़ों में मजबूती आएगी। हल्‍दी : हल्‍दी एक जादुई मसाला है जो अद्भुत गुणों से भरपूर है। इससे घाव भर जाते है, त्‍वचा के दाग - धब्‍बे दूर हो जाते है और बाल भी लम्‍बे हो जाते है। हल्‍दी पाउडर को लीजिए, उसे पानी में भिगोकर गाढ़ा पेस्‍ट बना लें और बालों की सतह पर लगा लें। 20 से 30 तक लगा रहने दें और उसके बाद धो लें। ज्‍यादा असर डालने के लिए सप्‍ताह में कम से कम दो बार लगाएं। काली मिर्च : ब्‍लैक और रेड पिपर, खाने में तीखापन लाते है लेकिन इसमें ऐसे गुण होते है जिनसे बाल लम्‍बे होते है। काली मिर्च में प्राकृतिक टॉक्सिन होता है जो बालों को मजबूत बनाता है। इसे लगाने से बालों की सतह पर रक्‍त का संचार भी अच्‍छी तरह होता है जिससे बालों की वृद्धि होती है। Related Articles

गर्मियों के लिये ये घरेलू फेस स्‍क्रब हैं सबसे अच्‍छे

Saturday, March 3 2018

गर्मियों के लिये ये घरेलू फेस स्‍क्रब हैं सबसे अच्‍छे

Published: Saturday, March 3, 2018, 12:30 जैसे जैसे गर्मियां आ रही हैं वैसे वैसे चेहरे का बुरा हाल होना शुरु हो जाता है। अब समय आ गया है कि आप सर्दियों में यूज़ किये जाने वाले ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट ना यूज़ कर के गर्मियों के प्रोडक्‍ट यूज़ करना शुरु कर दें। गर्मियों में आप अपनी स्‍किन को लेकर चाहे जितनी भी चौकन्‍नी क्‍यूं ना रहें, लेकिन प्रदूषण आपकी रंगत को छीन ही लेता है। इससे चेहरा डल, रूखा और मुंहासों से भर जाता है। इन सभी चीजों से बचने के लिये आपको अपनी स्‍किन के पोर्स को खोलना चाहिये और अपने शरीर का हाइड्रेशन लेवल बढाना चाहिये। इसके लिये आपको अपनी स्‍किन को स्‍क्रब करना चाहिये। स्‍किन को स्‍क्रब आकपो हफ्ते में एक या दो बार करना चाहिये और वह भी प्राकृतिक चीजों से। ये प्राकृतिक फेस स्क्रब केवल शाम के समय ही लगाने चाहिए और विशेष रूप से तब जब आप घर वापस लौटें। यदि घर के कामों के कारण आपको समय नहीं मिलता तो आप सोने से पहले भी इन स्क्रब का उपयोग कर सकती हैं। स्‍क्रब 1: लेवेंडर Essential Oil, ओटमील और ऑलिव ऑइल 1 चम्‍मच ओट्स, 2 चम्‍मच ऑलिव ऑइल और 3-4 बूंद lavender essential oil को एक कटोरी में मिला लें। आपका स्‍क्रब मटीरियल तैयार है। इसे गीली त्‍वचा पर लगाइये और हाथों को गोल गोल घुमाइये। 5-10 मिनट के बाद चेहरे को साफ पानी से धो लीजिये। स्‍क्रब 2: संतरे के छिलके का पावडर और नारियल तेल एक कटोरी में ½ चम्‍मच संतरे के छिलके का पावडर लें और उसमें 1 चम्‍मच नारियल तेल मिलाएं। फिर चेहरे को हल्‍का गीला कर के उस पर इसे स्‍क्रब करें। स्‍क्रब कुछ मिनट तक के लिये करना है। उसके बाद अपने चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। फिर चेहरे को हल्‍के से पोछे और बाद में टोनर लगा कर मॉइस्‍चराइजर लगा लें। स्‍क्रब 3: शुगर, नींबू का रस और गुलाब जल एक कटोरी में ½ टीस्‍पून दाने दार शक्‍कर मिलाएं, फिर उसमें नींबू का रस और 3-4 बूंद गुलाब जल की मिक्‍स करें। अब इसे मिलाते हुए पेस्‍ट बनाएं और पूरे चेहरे पर लगाएं। कुछ मिनट तक इससे मसाज करें और फिर गुनगुने पानी से चेहरे धो लें। स्‍क्रब 4: चावल का आटा, दूध और गुलाब जल 1 टीस्‍पून चावल का आटा, ½ चम्‍मच दूध और इसी मात्रा में गुलाब जल मिक्‍स करें। फिर इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगाएं और कुछ मिनट इसे सूखने दें। फिर इसे स्‍क्रब कर के निकाल दें और बाद में अपने चेहरे को पानी से धो लें। स्‍क्रब 5: कोकोआ पावडर और शहद ½ टीस्‍पून कोकोआ पावडर ले कर उसमें 1 चम्‍मच शहद मिक्‍स करें और पेस्‍ट बनाएं। चेहरे को गीला करें और उस पर इस स्‍क्रब को लगा कर गोलाई में रगड़ें। फिर अपने चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। बाद में चेहरे को पोछ कर उस पर टोनर लगाएं। स्‍क्रब 6: दानेदार कॉफी और बादाम तेल ½ टीस्‍पून कॉफी और 1 टीस्‍पून बादाम तेल को मिक्‍स करें। फिर चेहरे को गीला करें और उस पर यह स्‍क्रब लगा कर गोलाइ्र में रगड़ें। फिर गुनगुने पानी से चेहरे को धो लें। स्‍क्रब 7: ब्राउन शुगर और शिया बटर ½ टीस्‍पून ब्राउन शुगर के साथ एक चम्‍मच शिया बटर मिलाएं। फिर इसे स्‍क्रब के तौर पर चेहरे पर लगा कर 5-10 मिनट तक लगाएं। जब चेहरे पर अच्‍छी तरह से स्‍क्रब हो जाए तब चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। Related Articles

हफ्तेभर में आएगी दाढ़ी अगर आजमाएंगे ये टिप्‍स

Saturday, March 3 2018

हफ्तेभर में आएगी दाढ़ी अगर आजमाएंगे ये टिप्‍स

» हफ्तेभर में आएगी दाढ़ी अगर आजमाएंगे ये टिप्‍स हफ्तेभर में आएगी दाढ़ी अगर आजमाएंगे ये टिप्‍स Body Care Published: Saturday, March 3, 2018, 10:17 आज कल लंबी दाढ़ी का चलन काफी तेजी से बढ गया है। और वैसे भी ज्यादातर लड़कियों को रफ एंड टफ लड़के ही पसंद होते हैं। भले ही कहने को चिकने लड़कों की मिसाल दी जाती हो, लेकिन असल में लड़को पर हैवी दाढ़ी ही सूट करती है। सबसे बड़ी बात ये है कि आजकल बदलते फैशन के साथ दाढ़ी और मूछें भी स्‍टाइलिश होने लगी हैं। जहां लड़के दाढ़ी के साथ अलग अलग प्रयोग करते हैं वहीं कुछ लड़कों को तो दाढ़ी ही नहीं आती है। दाढ़ी से न केवल पुरुषों की खूबसूरती बढ़ती है बल्‍की साथ ही व्‍यक्तित्‍व को निखारने में अहम भूमिका निभाती है, इसलिए पुरुषों को दाढ़ी पसंद भी आती है। महिलाओं की तरह ही पुरूष भी अपने बालों और दाढ़ी को लेकर हमेशा सजग रहते हैं। दाढ़ी की अच्छी ग्रोथ उनके चेहरे को आर्कषक बना देती है। लेकिन कई बार युवा होते पुरूषों की दाढ़ी ठीक ढंग से नहीं आती। जो उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है। अगर आपको भी दाढ़ी बढ़ाने के टिप्स चाहिए तो इस स्लाइडशो में इसके बारे में विस्तार से जानिये। आपकी डाइट होनी चाहिये अच्‍छी आज जो भी खाएंगे उसका सीधा असर आपकी बॉडी पर होगा यानी की आपकी दाढ़ी पर होगा। इसलिए अपने नियमित आहार में विटामिन बी को शामिल करें। विटामिन बी1, बी6 और बी12 भी बालों को जल्दी बढ़ाने में मदद करता है। विटामिन लें डेड स्किन सेल्स को हटाने से नए बालों के विकास को प्रोत्साहन मिलेगा। आप चाहें तो पुरुषों के त्वचा के लिए तैयार कोई अच्छा एक्सफोलिएट मास्क भी ट्राइ कर सकते हैं। अपने आहार और ब्यूटी प्रोडक्ट में विटामिन बी को शामिल करें। हफ्ते में 2 बार करें मसाज मसाज करने से भी दाढ़ी की ग्रोथ पर असर पड़ता है। दाढ़ी को पोषण देने के लिए और इसे तेजी से बढ़ने में मदद करने के लिए आपको कुछ तेल के जरिए चेहरे की मसाज करनी होगी। इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है। आप आंवले, जैतून और नारियल के तेल से मालिश कर सकते हैं। खुद की लाइफस्टाइल बदलें प्रोटीन शरीर को ऐसे पौष्टिक तत्व उपलब्ध कराता है जो ज्यादा बालों को उगाते हैं और नींद इसलिए जरूरी है, क्योंकि इसी समय पौष्टिक तत्व अपना काम करते है। साथ ही दिन में 7-8 गिलास पानी पीने से भी घने और स्वस्थ बालों के विकास में मदद मिलती है। इसके अलावा बालों को झड़ने से रोकने के लिए तनावमुक्त रहने की कोशिश करें। स्‍मोकिंग से बनाएं दूरी अगर आप स्मोकिंग करते हैं, तो आपका घनी दाढ़ी और मूंछों का सपना पूरा होना मुश्किल हो सकता है। क्‍योंकि इसका असर आपकी फेशल ग्रोथ पर भी पड़ता है। डॉक्टर बताते हैं कि सिगेरट में मौजूद निकोटिन बॉडी को न्यूट्राइंट्स अब्जॉर्ब करने से रोकता है और ब्लड सर्कुलेशन को भी कम कर देता है। यानी स्मोकिंग से हेयर लॉस होता है। बालों को बढ़ने दें शुरुआत में दाढ़ी के बाल अपूर्ण और खराब सी दिखेंगी। जैसे ही बाल बड़े होंगे धीरे-धीरे बढ़ रहे फालिकल्स को खुद के बालों को विकसित करने का समय मिल जाएगा। ऐसे में बालों के बीच दिखने वाला खाली स्थान अपने आप छिप जाएगा इसलिए धैर्य रखें और अपनी दाढ़ी को बढऩे और विकसित होने दें। कंडीशन एक बार जब आप की दाढ़ी बढ़ जाए तो इसे टॉप कंडीशन में रखना भी बेहद जरूरी है। इससे आपको ट्रीम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कैस्टर के तेल को एक बेहतरीन कंडीशनिंग ट्रीटमेंट माना जाता है, जो बालों को बढ़ाने के साथ-साथ आपकी दाढ़ी को सही दिशा में आगे बढ़ाएगा। इसके अलावा जैतून का तेल, नारियल तेल और पिपरमेंट के तेल को भी दाढ़ी के बालों को पोषण देने के लिए अच्छा माना जाता है। Related Articles

होली के बाद हो गया चेहरे का बुरा हाल.. इन फेसपैक से चेहरे का करें ईलाज..

Saturday, March 3 2018

होली के बाद हो गया चेहरे का बुरा हाल.. इन फेसपैक से चेहरे का करें ईलाज..

त्‍वचा-की-देखभाल » होली के बाद हो गया चेहरे का बुरा हाल.. इन फेसपैक से चेहरे का करें ईलाज.. होली के बाद हो गया चेहरे का बुरा हाल.. इन फेसपैक से चेहरे का करें ईलाज.. Skin Care Updated: Saturday, March 3, 2018, 11:14 यकीनन कल आपकी होली बहुत ही शानदार रही होगी, आपके चेहरा का हाल ही बता रहा हैं कि कल किस कदर आपने होली खेली हैं। न रंगने में न रंगाने में अपने कोई कमी छोड़ी। इसलिए आज आपके चेहरे की बैंड बज गई। अब ये जिद्दी कलर है कि चेहरे से चार से पांच दिन तक जाने का नाम ही लेंगे। अब क्‍या किया जाएं, ब्‍यूटी पार्लर जाएंगी? भूल से भी कोई ऐसा कदम न उठाना कि आपके मासूम से चेहरे को आगे चलकर और दिक्‍कतें सहनी पड़े। इसलिए आज हम आपकी मुश्किल हल करने के लिए कुछ ऐसे घरेलू फेसपैक के बारे में बताने जा रहे हैं, जो सिंथेटिक रंगों से होली खेलने के बाद भी आपके चेहरे पर हो रही जलन, खाज और रेशेज से काफी हद तक आराम दिलाने की कोशिश करेंगी। गुलाब की पत्तियों का फेसपैक अगर चेहरे से जलन अभी तक नहीं जा रही हैं तो गुलाब की पत्तियों को पीसकर फेसपैक बना लें और इसे चेहरे पर लगा लें। यकीन मानिए बहुत ही ज्‍यादा ठंडक मिलेगी। नारियल का तेल और कपूर अगर आपके चेहरे पर बहुत ही जलन और रेशेज हो रहे थे, नारियल के तेल में कपूर के कुछ टुकड़े डालकर उसे गर्म कर दीजिए। इसके बाद उसे ठंडा होने के बाद चेहरे पर लगा लें। इससे भी राहत मिलेगी। बेसन का फेसपैक बेसन हर किचन में पाया जाने वाला सामान्य घरेलू उत्पाद है जिसकी मदद से स्किन संबंधी बहुत सी परेशानियों को आसानी से दूर किया जा सकता है। चेहरे से होली के रंग हटाने के लिए बेसन, चोकर, दूध और नींबू के रस की कुछ बूंद को एक साथ मिलाकर मिश्रण बना लें। अब इस पैक का इस्तेमाल अपनी स्किन के हर उस हिस्से पर करें जहां रंग लगा है। लगाने के बाद जब यह पैक हल्का सूखने लगे तो हाथों से हल्का गीला करते हुए पैक को रगड़कर छुड़ाने लगे। जब यह पूरी तरह से हट जाए तो साबुन और पानी से अपना फेस धो लें। मुल्तानी मिटटी बालों से रंग निकालने के लिए पानी में मुल्तानी मिटटी मिलाकर गाढ़ा घोल तैयार कर लें। अब इस पेस्ट को बालों में लगायें। सूखने का इंतजार करें। सुख जाने के बाद बालों को अच्छी तरह से धोकर साफ़ कर लें। फेस से रंग हटाने के लिए मुलतानी मिट्टी में गुलाबजल और दही मिलाकर भी इस्तेमाल कर सकती है। खीरा और गुलाब जल का बना पैक स्किन से होली के कलर को हटाने के लिए आप खीरे, गुलाबजल और एप्पल साइडर विनेगर से बने पैक का भी इस्तेमाल कर सकते है। खीरें के रस में कुछ बूंदे गुलाबजल और एक चम्मच सेब के सिरके के साथ मिक्स कर लें। अच्छे से मिलाने के बाद पेस्ट को अपने चेहरे पर लगायें। कुछ मिनट इन्तजार करने के बाद पानी से साफ़ कर लें। ब्‍यूटी पार्लर न जाएं होली के रंगों में ढे़र सारे केमिकल होते हैं, होली खेलने के एक हफ्ते तक पार्लर को अवॉइड करें, क्‍योंकि कॉस्‍टमेटिक प्रॉडक्‍ट में भी ढे़रों केमिकल होते हैं। ऐसे में ट्रीटमेंट के नाम पर चेहरे की ऐसी तेसी न कराएं। घर पर ही घरेलू उबटन बनाकर लगाएं। Related Articles

कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी

Friday, March 2 2018

कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी

» कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी Recipes Updated: Friday, March 2, 2018, 16:13 खाने के शौकीन लोगों के लिए त्‍योहार बहुत ही खास मौका होता है क्‍यों‍कि इस दौरान कई स्‍वादिष्‍ट डिशेज़ खाने को मिलती हैं। अब होली पर भी आप कुछ टेस्‍टी बनाने और खाने की सोच रहे हैं तो हम आपको बता देते हैं कि इस होली पर आप कुछ नया ट्राई कर सकते हैं जो आपके रंगों के त्‍योहार को और भी ज्‍यादा खास बना देगा। होली पर खूब मिठाईयां बनती हैं और इसीलिए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं केसर पिस्‍ता फिरनी रेसिपी जो अपने खास रंग, स्‍वाद और खुशबु से आपका मन जीत लेगी। केसर पिस्‍ता फिरनी एक अवधी रेसिपी है जोकि लखनऊ की खास डिश है और इसे आप केसर की खुशबु से और स्‍वादिष्‍ट बना सकते हैं। साथ ही इसमें सूखे मेवे डालकर पिस्‍ता से इसे गार्निश भी कर सकते हैं। चावल और दूध से बनी ये डिश बहुत टेस्‍टी लगती है। तो चलिए जानते हैं केसर पिस्‍ता फिरनी की रेसिपी की वीडियो और स्‍टेप बाय स्‍टेप प्रोसीजर। इस त्‍योहार पर आप ये स्‍वादिष्‍ट डिश ट्राई कर सकते हैं। कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी, होली स्‍पेशल डिश केसर पिस्‍ता फिरनी रेसिपी, इंडियन स्‍वीट केसर पिस्‍ता फिरनी रेसिपी, केसर पिस्‍ता फिरनी स्‍टेप बाय स्‍टेप, केसर पिस्‍ता फिरनी वीडियो कैसे बनाएं केसर पिस्‍ता फिरनी, होली स्‍पेशल डिश केसर पिस्‍ता फिरनी रेसिपी, इंडियन स्‍वीट केसर पिस्‍ता फिरनी रेसिपी, केसर पिस्‍ता फिरनी स्‍टेप बाय स्‍टेप, केसर पिस्‍ता फिरनी वीडियो Prep Time Recipe By: मीना भंडारी Recipe Type: डेज़र्ट पिस्‍ता : 2 टेबलस्‍पून चीनी : 4 टेबलस्‍पून बासमती चावल (पीसे हुए) : 2 टेबलस्‍पून केसर : थोड़े से ईलायची पाउडर : 1 टेबलस्‍पून दूध : 350 ग्राम 1. एक कटोरी लें। 2. इसमें चावल डालें। 3. अब इसमें पानी डालकर इसे 10 मिनट तक भीगने के लिए रख दें। 4. एक पैन लें। 5. इसमें दूध डालें। 6. दूध को चलाएं और 5-6 मिनट तक इसे उबलने दें। 7. जब दूध ऊपर आने लगे तो इसमें भीगे हुए चावल डालें। 8. चावल को चलाएं और 3-4 मिनट तक पकने दें। 9. चावलों के मुलायम होने तक पकाएं। 10. पिस्‍ता, ईलायची पाउडर और चीनी डालें और दूध को चलाते रहें। 11. 2-3 मिनट तक चलाएं और ओवन से पैन हटा दें। 12. इसे एक कटोरी में डालें और 2-3 केसर के टुकड़े डालें। 13. गर्म सर्व करें या ठंडा सर्व करने के लिए रेफ्रिजरेटर में रख दें। Instructions 1. फिरनी में किसी तरह की गुठलियां ना पड़ें इसलिए चावलों को पहले भिगो लें। 2. पैन ना जले इसे बीच में से भारी तले वाला पैन लें। Nutritional Information सर्विंग साइज़ - 1 कटोरी कैलोरी - 126.4 कैलोरी फैट - 4.7 ग्राम प्रोटीन - 7.6 ग्राम कार्बोहाइड्रेट - 25.3 ग्राम चीनी - 22 ग्राम फाइबर - 0.3 ग्राम स्‍टेप बाय स्‍टेप : कैसे बनाएं 1. एक कटोरी लें। 2. इसमें चावल डालें। 3. अब इसमें पानी डालकर इसे 10 मिनट तक भीगने के लिए रख दें। 4. एक पैन लें। 5. इसमें दूध डालें। 6. दूध को चलाएं और 5-6 मिनट तक इसे उबलने दें। 7. जब दूध ऊपर आने लगे तो इसमें भीगे हुए चावल डालें। 8. चावल को चलाएं और 3-4 मिनट तक पकने दें। 9. चावलों के मुलायम होने तक पकाएं। 10. पिस्‍ता, ईलायची पाउडर और चीनी डालें और दूध को चलाते रहें। 11. 2-3 मिनट तक चलाएं और ओवन से पैन हटा दें। 12. इसे एक कटोरी में डालें और 2-3 केसर के टुकड़े डालें। 13. गर्म सर्व करें या ठंडा सर्व करने के लिए रेफ्रिजरेटर में रख दें। Related Articles

काशी के इस श्‍मसान घाट पर शिव भक्‍त खेलते हैं \

Thursday, March 1 2018

काशी के इस श्‍मसान घाट पर शिव भक्‍त खेलते हैं \"मसाने की होली\"

Updated: Thursday, March 1, 2018, 11:15 आपने बरसाना की लठ्ठमार और राजस्‍थान की बेंतमार होली के बारे में सुना होगा। लेकिन कभी आपने श्‍मसान में जलती चिता की राख से होली खेलते हुए के बारे मे सुना हैं? सुनकर हैरत हो रही होगी ना कि भला होली जैसा त्‍योहार कोई चिता की राख से कैसे खेल सकता हैं। तो आज हम आपको ऐसी अनोखी होली के बारे में जो बनारस या काशी में चिता की राख के साथ खेली जाती हैं। जी हां वाराणसी कह लो या बनारस चाहे तो काशी के नाम से ही पुकार लो, यहां के सबसे नामचिन्‍ह मर्णिकर्णिका श्‍मसान घाट शिव भक्‍त हर साल रंग एकादशी के मौके पर चिता की राख से होली खेलते हैं। आइए जानते हैं वाराणसी के इस अनोखी होली के बारे में। सदियों से चली आ रही है यह प्रथा.. दरअसल ऐसी मान्यता है कि भगवान शंकर महाश्मशान में चिता भस्म की होली खेलते हैं। ये सदियों पुरानी प्रथा काशी में चली आ रही है। काशी में होली मसाने की होली के नाम से जानी जाती है। इस होली को खेलने वाले शिवगणों को ऐसा प्रतीत होता है कि वह भगवान शिव के साथ होली खेल रहे हैं। इसलिए काशी के साधु संत और आम जनता भी महाश्मशान में चिता भस्म की होली खेलते हैं। यह है मान्‍यता.. यहां होली की शुरुआत एकादशी के बाबा विश्वनाथ के दरबार से होती है। साधु-संत माता पार्वती को गौना कराकर लौटते हैं। अगले दिन बाबा विश्वनाथ काशी में अपने चहेतों या शिवगण के साथ मर्णिकर्णिका घाट पर स्‍नान के लिए आते हैं। अपने चेलों भूत-प्रेत के साथ होली खेलते हैं। महाशिवरात्रि से तैयारी मर्णिकर्णिका घाट पर चिता की राख से होली खेलने की तैयारियां महाशिवरात्रि के समय से ही प्रारम्‍भ हो जाती हैं। इसके लिए चिताओं से भस्‍म अच्‍छी तरह से छानकर इक्‍ट्ठी की जाती है। विधिवत तरीके से खेलते है होली इस पराम्‍परा के तहत रंग एकदशी के दिन सुबह जल्‍दी मर्णिकर्णिका घाट पर साधु और अघोरी लोग जमा हो जाते हैं। जहां डमरुओं की नाद के साथ बाबा मसान नाथ की आरती शुरु होती है। इसमें विधिपूर्वक बाबा मसान नाथ को गुलाल और रंग लगाया जाता है। आरती होने के बाद साधुओं की टोली चिताओं के बीच, मुर्दो के बीच इक्‍ट्ठी होकर हर हर महादेव के साथ ही चिता की भस्‍म के साथ होली खेलना शुरु करते हैं। और होली खेलके मर्णिकर्णिका घाट पर स्‍नान करके लौट जाते हैं। गिरा था शिव का कुंडल काशी के इस श्मशान के बारे में कहा जाता है कि यहां दाह संस्कार करने से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। मर्णिकर्णिका घाट पर शिव के कानों का कुण्डल गिरा था जो फिर कहीं नहीं मिला, जिसकी वजह से यहां मुर्दे के कान में पूछा जाता है कि कहीं उसने शिव का कुंडल तो नही देखा। Related Articles

Two students from DSVV participated in the main Republic Day Parade

Tuesday, February 27 2018

Two students from DSVV participated in the main Republic Day Parade

Home | Two students from DSVV participated in the main Republic Day Parade Two students from DSVV participated in the main Republic Day Parade February 27, 2018 Campus News Comments Off on Two students from DSVV participated in the main Republic Day Parade Two students of the Uttarakhand state were selected for the main republic day parade that took place at Delhi. Among them, Ku. Kamalrani and Ritesh Kumar from the Dev Sanskriti Vishwavidyalay received the training for the parade from 1 st to 25 th of January. Finally they participated in the main republic Day parade on 26 th of January and uplifted the honor of the university. According to the students, it was necessary for them to practice regularly for 6-7 hours. In the evening hours, the students of all the states had to demonstrate special cultural activities of their respective states. The Hon. Chancellor of the University, Dr. Pranav Pandya , congratulated the students for making the university proud. According to Dr. Pandya , the participation of DSVV in the Republic Day Parade consecutively for the 5 th year is a moment of great pride not only for the university but also for the Uttarakhand state. The Pro-Vice-Chancellor of the University, also congratulated both the students. He said that it is only through strict discipline and patience that a person earns such a great achievement. Today, students must cultivate simplicity and understanding in their perspectives, only then will they receive appropriate results. Warm wishes were also extended by the coordinator of the NSS in DSVV, Dr. Arunesh Parashar . Dr. Parashar informed that the students, after participating on 26 th of January, took part in the Beating Retreat Ceremony held on 29 th January, then after touring Delhi they finally departed for the university. Back home the entire DSVV family welcomed the both the students. दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर होने वाले मुख्य परेड में उत्तराखण्ड के दो विद्यार्थियों का चयन हुआ था। इनमें की कु0 कमलरानी एवं रितेश कुमार ने 1 जनवरी से 25 जनवरी के बीच परेड की ट्रेनिंग ली एवं 26 जनवरी को मुख्य परेड का हिस्सा बनकर विश्वविद्यालय का गौरव बढ़ाया। छात्रों के अनुसार परेड की तैयारी हेतु नियमित रूप से छः से सात घंटे का अभ्यास करना पड़ता था। शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सभी राज्यों के विद्यार्थियों को अपने-अपने राज्यों की विशेष गतिविधियों को सांस्कृतिक न्ृत्यों, नाटकों इत्यादि के माध्यम से प्रस्तुत करना पड़ता था। दे.सं.वि.वि. के श्रद्वेय कुलाधिपति डाॅ. प्रणव पण्ड्या ने इन्हें उत्तराखण्ड का नाम रौशन करने के लिए बहुत बधाई दी। डाॅ. पण्डया के अनुसार से लगातार पांचवी बार परेड में भाग लेना साथ-साथ उत्तराखण्ड के लिए भी गौरव का विषय है। मा. ने उत्तराखण्ड की ओर से परेड में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर दोनों छात्र-छात्राओं को शुभकामनाऐं दी। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए मा. प्रतिकुलपति डाॅ0 पण्ड्या ने कहा कि कड़े अनुशासन और धैर्यता की परीक्षा से गुजर कर ही व्यक्ति बड़ी उपलब्धि अर्जित करता है। आज छात्र/छात्राओं को अपनी दृष्टि में सहजता और समझ विकसित करनी होगी तभी उन्हें उचित परिणामों की प्राप्ति होगी। राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डाॅ. अरूणेश पाराशर ने राष्ट्रीय सेवा योजना परिवार की ओर से शुभकामनाऐं दी। उनके अनुसार परेड में प्रतिभाग लेकर छात्रों ने 29 जनवरी को परेड रिट्रीट में भी हिस्सा लिया तत्पश्चात दिल्ली भ्रमण उपरांत गन्तव्य को प्रस्थान किया। दोनों छात्र-छात्राओं के आगमन पर पूरे विश्वविद्यालय परिवार की ओर से इन सभी का स्वागत किया गया।