पीरियड्स में होने वाली ऐंठन को पालक के रस से ऐसे करें कम

कल्पना कीजिए कि जब आप अपने पैर के अंगूठे को दरवाजे के खिलाफ लगाए रखेंगे, तो तेज दर्द हो सकता है, है ना? अब, 5 गुना उस दर्द की कल्पना करें जो लगभग 24 घंटे से अधिक समय तक रहता है। ऐसा दर्द मासिक धर्म में ऐंठन की वजह से हो सकता है। हालांकि दर्द का अनुभव हर महिला से महिला के बीच अलग हो सकता है।

ज्यादातर महिलाएं इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकती हैं कि मासिक चक्र की स्थति आपको रुला सकती है। हां, अगर आप हम भाग्यशाली हैं तो आपको कम ऐंठन हो सकती है और अगर आपका लक ख़राब है, तो हर महीने इस स्थिति का अनुभव करना पद सकता है।

आम तौर पर, ज्यादातर लड़कियों को 12 वर्ष की आयु के आसपास पीरियड्स शुरू होते हैं और यह हर महीने जारी रहते हैं, जब तक वह 50 वर्ष की आयु में मेनोपॉज नहीं पाती है। हर महीने, कम से कम 4-5 दिनों के लिए योनि से खून बहता है।
खुद के पीरियड्स से जानें अपने शरीर का हाल, पहचाने बीमारियां
ऐसा गर्भाशय की दीवार के बहाव के कारण होता है, अगर महिला गर्भवती नहीं होती है मासिक धर्म के दौरान, शरीर में बहुत सारे हार्मोनल परिवर्तन होते हैं जो गर्भाशय की दीवारों की सूजन पैदा कर सकता है।

इस प्रकार पेट के निचले हिस्से में बहुत दर्द और असुविधा पैदा होती है। आपको बता दें कि इस दौरान स्ट्रोंग पेनकिल्लर लेने से कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। हम आपको एक प्राकृतिक उपाय बता रहे हैं, जो पीरियड्स के दर्द को कम कर सकता है।
आवश्यक सामग्री: पालक का रस - आधा गिलास शहद - 1 बड़ा चम्मच
मासिक धर्म में होने वाली ऐंठन को कम करने के लिए यह स्वाभाविक रूप से प्रभावी ढंग से काम कर सकता है। हालांकि इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि यदि दर्द बहुत ज्यादा है है और खून बहना असामान्य रूप से भारी है, तो तत्काल डॉक्टर के पास जाना सबसे बेहतर होता है।


इसके अलावा आपको इस उपाय के साथ तेल और मसालेदार भोजन से दूर रहना चाहिए क्योंकि यह चीजें आपके दर्द को बढ़ा सकती हैं। इसके अलावा व्यायाम करना पीरियड की ऐंठन को कम करने के कुछ प्राकृतिक तरीके हैं।
पालक आयरन और विटामिन सी का मुख्य स्रोत है। यह दोनों ही घटक हार्मोनल असंतुलन निर्धारित कर सकते हैं जिससे गर्भाशय की सूजन की वजह से पीरियड की ऐंठन कम हो सकती है। शहद एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है , जो पीरियड के दौरान गर्भाशय के आसपास सूजन को कम कर सकता है।



बनाने की विधि:


पालक रस को गरम करें जब तक कि यह गुनगुना नहीं हो जाता। इसके बाद इस मसालेदार रस के गिलास में शहद जोड़ें। एक मिश्रण बनाने के लिए अच्छी तरह हिलाएं। इस मिश्रण को एक दिन में दो बार पियें, जब तक आपके पीरियड्स जारी रहता हैं।