Different Type Of Body Massage For Couples in hindi

Tuesday, June 5 2018

Different Type Of Body Massage For Couples in hindi

3 Tue, 05 Jun 2018 19:24 IST
शादी के बाद अपने पति के साथ आपको कौन सी मसाज लेनी चाहिए ये जान लें। मसाज हर लड़की को करवानी चाहिए खासकर तब जब आपकी उम्र 30 साल पार कर जाए। आपको महीने में एक या दो बार मसाज जरुर करवानी चाहिए। उम्र के इस पड़ाव में हार्मोन्स में कई बदलाव आते हैं स्पेशली जब आपकी शादी हो चुकी हो तो फिर शरीर में बदलाव कुछ ज्यादा ही आते हैं। हर किसी का शरीर अलग तरह का होता है इसलिए हर किसी के लिए मसाज भी एक जैसी नहीं हो सकती।
आपका शरीर कैसा है और आपको कैसी कपल मसाज की जरुरत है ये आपकी उम्र और शरीर की बनावट पर निर्भर करता है। आप अपने पार्टन या पति के साथ स्वीडिश मसाज, हॉट स्टोन मसाज या डीप टीशू मसाज सब ले सकती हैं। लेकिन कब कौन सी मसाज लेने चाहिए और कपल मसाज लेने से क्या फायदा होता है ये जानिए। खासकर किस उम्र की लड़की को कौन सी मसाज कब करवानी चाहिए ये भी जान लें। सैलून जाकर आप अपनी पसंद की मसाज अपने पार्टनर के साथ आसानी से ले पाएंगी। कपल मसाज
कपल मसाज लड़कियां अपने पति या पार्टनर के साथ लेना पसंद करती हैं। Couples' massage के बाद आप अपने पति के और भी करीब आ जाती हैं। इस मसाज के दौरान मसाज थेरेपिस्ट आप दोनों को अलग-अलग बेड पर पहले लेटा देता है। फिर पहले एक पार्टनर की मसाज शुरु करने के बाद उसे रिलेक्स होने के लिए छोड़ देता है और दूसरे पार्टनर की मसाज करता है। यानि जब आपकी मसाज हो रही होती है तो आपका पार्टनर रिलेक्स हो रहा होता है और आपको देख सकता है ठीक उसी तरह से जब आपकी बॉडी मसाज हो रही होती है तो आपका पार्टनर आपको देखता है। ऐसे में आप दोनों के शरीर में हार्मोंस में बदलाव आता है जिससे आप और भी ज्यादा रिलेक्स महसूस करते हैं। आप एक साथ स्वीडिश मसाज, हॉट स्टोन मसाज या डीप टीशू मसाज कुछ भी करवा सकते हैं। वैसे आप मसाज लेने से पहले थेरेपिस्ट से बात करें और जानें कि आपकी बॉडी के लिए कौन सी मसाज बेहतर होगी।
Read more: Delivery के बाद massage से वजन और स्‍ट्रेच मार्क्‍स दोनों होते हैं गायब डीप टीशू मसाज
इस भागदौड़ भरी लाइफ में जब आप 14 घंटे काम करते हैं सारा दिन ऑफिस में फिर ट्रैफिक में आना-जाना फिर घर के काम करना ऐसे में किसी भी महिला के शरीर पर असर पड़ता है। देर रात जब आप बिस्तर पर जाती हैं तो कमर दर्द से लेकर गले में दर्द पैरों में दर्द और ना जाने क्या-क्या महसूस करती हैं तो ऐसी महिलाओं को महीने में एक बार डीप टीशू मसाज जरुर लेनी चाहिए। इस मसाज के दौरान आपके शरीरे के ज्वाइन्ट्स पर डीप प्रेशर देकर मसाज दी जाती है जिससे शरीर में अकड़न या कड़ापन खत्म होता है और रिलेक्स महसूस करती हैं। मसाज थेरेपिस्ट आपको deep tissue massage अपने पोर और कोहनी से देता है। थेरेपिस्ट को ये पता होता है कि किस प्वाइंट में कितना प्रेशर देने से आपको कितना रिलेक्स मिलेगा। लेकिन डीप टीशू मसाज लेने से पहले आप थेरेपिस्ट से बात जरुर करें और चेक कर लें कि आपका शरीर कितना प्रेशर ले सकता है।
Read more: अगर हील्स पहनने से रहने लगा है तलवों में दर्द तो लें बॉटल मसाज स्पोर्ट्स मसाज
स्पोर्ट्स मसाज वैसे तो आप नाम से ही समझ गई होंगी कि ये खिलाड़ियों के लिए है। लेकिन ऐसा भी नहीं है अगर आप कोई ऐसा बिज़नेस या जॉब करती हैं जिसमें आपको काफी देर खड़ा रहना पड़ता है घूमना पड़ता है या फिर आप बहुत ज्यादा जिम करती हैं तो आपको महीनें में एक या दो बार स्पोर्ट्स मसाज लेने चाहिए। ये मसाज बहुत ही आरामदायक होती है। इसमें आपकी बॉडी के टीशू से लेकर आपके ज्वाइंट और मसल्स सब पर मसाज दी जाती है जिससे ज्यादा प्रेशर लेने से आपके शरीर पर जो थकान आयी है वो दूर हो जाए।
Read more: इंडिया की 5000 साल पुरानी वो थैरेपी जिसके लिए दुनियाभर से आते हैं लोग स्वीडिश मसाज
अगर आप अपने लिए एक पूरा दिन ऐसा निकालना चाहती है जिसमें आपको सिर्फ रिलेक्स ही करना है तो आपको उस दिन स्वीडिश मसाज का मज़ा लेना चाहिए बॉलीवुड के सभी बड़े स्टार्स भी चाहे वो शाहरुख खान हों या फिर सलमान खान या फिर प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण और आलिया भट्ट ये सब भी इसी तरह की मसाज जब भी मौका मिलता है जरुर करवाती हैं। Swedish massage में थेरेपिस्ट सबसे पहले आपकी बॉडी के सारे मसल्स के टेंशन की रिलीज़ करता है। ये मसाज खासकर हाथ उंगलियों और अंगूठे से दी जाती है। धीरे-धीरे आपको मसाज लेते समय इतना रिलेक्स महसूस होता है कि आप मसाज करवाते समय ही सो जाती हैं। वैसे आप अगर पहली बार मसाज करवाने के बारे में सोच रही हैं तो सबसे पहले आप स्वीडिश मसाज ही लें।
Read more: लटकती ब्रेस्ट के कारण अगर मनचाही ड्रेस पहनने से हैं कतराती तो इन 2 तेलों से करें मसाज हॉट स्टोन मसाज
अपनी थकान को दूर भगाने के लिए आप हॉट स्टोन मसाज करवा सकती हैं। जैसा कि आप नाम से ही समझ गई होंगी कि हॉट स्टोन मसाज में खास किस्म के पत्थर को गर्म किया जाता है और बॉडी के उन हिस्सों पर रखा जाता है जहां पर पत्त्थर की गर्माहट से पूरे शरीर को रिलेक्स पहुंचे। पत्त्थर की गर्माहट जैसे ही आपके शरीर को छूती है वैसे ही आपके शरीर की थकान भाग जाती है। फिर आपके शरीर में ताज़गी आनी शुरु होती है और जब मसाज खत्म होती है तो आप नयापन महसूस कर रही होती हैं। लेकिन एक बात ध्यान रखें कि हॉट स्टोन मसाज आप किसी एक्सपर्ट से ही करवाएं। Inna Khosla Her Zindagi Editorial Tags